ताज़ा खबर

प्रथम विश्व युद्ध के कारण एवं परिणाम | First World War Kyu Hua in Hindi

प्रथम विश्व युद्ध का कारण और उसके बारे में जानकारी | First World War Kyu Hua in Hindi

प्रथम विश्व युद्ध को ग्रेट वार अथवा ग्लोबल वार भी कहा जाता है. उस समय ऐसा माना गया कि इस युद्ध के बाद सारे युद्ध ख़त्म हो जायेंगे, अतः इसे ‘वॉर टू एंड आल वार्स’ भी कहा गया. किन्तु ऐसा कुछ हुआ नहीं और इस युद्ध के कुछ सालों बाद द्वितीय विश्व युद्ध भी हुआ. इसे ग्रेट वार इसलिए कहा गया है कि इस समय तक इससे बड़ा युद्ध नहीं हुआ था. यह लड़ाई 28 जुलाई 1914 से लेकर 11 नवम्बर 1918 तक चली थी, जिसमे मरने वालों की संख्या एक करोड़ सत्तर लाख थी. इस आंकड़े में एक करोड़ दस लाख सिपाही और लगभग 60 लाख आम नागरिक मारे गये. इस युद्ध में ज़ख़्मी लोगों की संख्या 2 करोड़ थी.

प्रथम विश्व युद्ध

 

प्रथम विश्व युद्ध में दो योद्धा दल (First World War Two Powers)

इस युद्ध में एक तरफ अलाइड शक्ति और दूसरी तरफ सेंट्रल शक्ति थे. अलाइड शक्ति में रूस, फ्रांस, ब्रिटेन, संयुक्त राष्ट्र अमेरिका और जापान था. संयुक्त राष्ट्र अमेरिका इस युद्ध में साल 1917- 18  के दौरान संलग्न रहा. सेंट्रल शक्ति में केवल 3 देश मौजूद थे. ये तीन देश ऑस्ट्रो- हंगेरियन, जर्मनी और ओटोमन एम्पायर था. इस समय ऑस्ट्रो- हंगरी में हब्स्बर्ग नामक वंश का शासन था. ओटोमन आज के समय में ओटोमन तुर्की का इलाक़ा है.

प्रथम विश्व युद्ध के कारण (First World War Reason in hindi)

प्रथम विश्व युद्ध के चार मुख्य कारण हैं. इन कारणों को MAIN के रूप में याद रखा जाता है. इस शब्द में M मिलिट्रीज्म, A अलायन्स सिस्टम, I इम्पेरिअलिस्म और N नेशनलिज्म के लिए आया है.

  • मिलिट्रीज्म : मिलिट्रीज्म में हर देश ने ख़ुद को हर तरह के आधुनिक हथियारों से लैस करने का प्रयास किया. इस प्रयास के अंतर्गत सभी देशों ने अपने अपने देश में इस समय आविष्कार होने वाले मशीन गन, टैंक, बन्दुक लगे 3 बड़े जहाज़, बड़ी आर्मी का कांसेप्ट आदि का आविर्भाव हुआ. कई देशों ने भविष्य के युद्धों की तैयारी में बड़े बड़े आर्मी तैयार कर दिए. इन सभी चीज़ों में ब्रिटेन और जर्मनी दोनों काफ़ी आगे थे. इनके आगे होने की वजह इन देशों में औद्योगिक क्रांति का बढ़ना था. औद्योगिक क्रान्ति की वजह से यह देश बहुत अधिक विकसित हुए और अपनी सैन्य क्षमता को बढाया. इन दोनों देशों ने अपने इंडस्ट्रियल कोम्प्लेक्सेस का इस्तेमाल अपनी सैन्य क्षमता को बढाने के लिए किया, जैसे बड़ी बड़ी विभिन्न कम्पनियों में मशीन गन का, टैंक आदि के निर्माण कार्य चलने लगे. इस समय विश्व के अन्य देश चाहते थे कि वे ब्रिटेन और जर्मनी की बराबरी कर लें किन्तु ऐसा होना बहुत मुश्किल था. मिलिट्रीज्म की वजह से कुछ देशों में ये अवधारणा बन गयी कि उनकी सैन्य क्षमता अति उत्कृष्ट है और उन्हें कोई किसी भी तरह से हरा नहीं सकता है. ये एक ग़लत अवधारणा थी और इसी अवधारणा के पीछे कई लोगों ने अपनी मिलिट्री का आकार बड़ा किया. अतः मॉडर्न आर्मी का कांसेप्ट यहीं से शुरू हुआ.
  • विभिन्न संधीयाँ यानि गठबंधन प्रणाली : यूरोप में 19वीं शताब्दी के दौरान शक्ति में संतुलन स्थापित करने के लिए विभिन्न देशों ने अलायन्स अथवा संधियाँ बनानी शुरू की. इस समय कई तरह की संधियाँ गुप्त रूप से हो रही थी. जैसे किसी तीसरे देश को ये पता नहीं चलता था कि उनके सामने के दो देशों के मध्य क्या संधि हुई है. इस समय में मुख्य तौर पर दो संधियाँ हुई, जिसके दूरगामी परिणाम हुए. इन दोनों संधि के विषय में दिया जा रहा है,
  1. साल 1882 का ट्रिपल अलायन्स : साल 1882 में जर्मनी ऑस्ट्रिया- हंगरी और इटली के बीच संधि हुई थी.
  2. साल 1907 का ट्रिपल इंटेंट : साल 1907 में फ्रांस, ब्रिटेन और रूस के बीच ट्रिपल इंटेंट हुआ. साल 1904 में ब्रिटेन और रूस के बीच कोर्दिअल इंटेंट नामक संधि हुई. इसके साथ रूस जुड़ने के बाद ट्रिपल इंटेंट के नाम से जाना गया.

यद्यपि इटली, जर्मनी और ऑस्ट्रिया- हंगरी के साथ था किन्तु युद्ध के दौरान इसने अपना पाला बदल लिया था और फ्रांस एवं ब्रिटेन के साथ लड़ाई लड़नी शुरू की.

  • साम्राज्यवाद : इस समय जितने भी पश्चिमी यूरोप के देश हैं वो चाहते थे, कि उनके कॉलोनिस या विस्तार अफ्रीका और एशिया में भी फैले. इस घटना को ‘स्क्रेम्बल ऑफ़ अफ्रीका’ यानि अफ्रीका की दौड़ भी कहा गया, इसका मतलब ये था कि अफ्रिका अपने जितने अधिक क्षेत्र बचा सकता है बचा ले, क्योंकि इस समय अफ्रीका का क्षेत्र बहुत बड़ा था. यह समय 1880 के बाद का था जब सभी बड़े देश अफ्रीका पर क़ब्ज़ा कर रहे थे. इन देशों में फ्रांस, जर्मनी, होलैंड बेल्जियम आदि थे. इन सभी देशों का नेतृत्व ब्रिटेन कर रहा था. इस नेतृत्व की वजह ये थी कि ब्रिटेन इस समय काफ़ी सफ़ल देश था और बाक़ी देश इसके विकास मॉडल को कॉपी करना चाहते थे. पूरी दुनिया के 25% हिस्से पर एक समय ब्रिटिश शासन का राजस्व था. इस 25% क्षेत्र की वजह से इनके पास बहुत अधिक संसाधन आ गये थे. इसकी वजह से इनकी सैन्य क्षमता में भी खूब वृद्धि हुई. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि भारत से 13 लाख सैनिकों ने प्रथम विश्व युद्ध में लड़ाई लड़ने के लिए भेजे गये. ब्रिटेन आर्मी में जितनी भारतीय सेना थी, उतनी ब्रिटेन सेना नहीं थी. भारतीय सेना द्वारा हुई सर्जिकल स्ट्राइक यहाँ पढ़ें.
  • राष्ट्रवाद : उन्नसवीं शताब्दी मे देश भक्ति की भावना ने पूरे यूरोप को अपने कब्जे में कर लिया. जर्मनी, इटली, अन्य बोल्टिक देश आदि जगह पर राष्ट्रवाद पूरी तरह से फ़ैल चूका था. इस वजह से ये लड़ाई एक ग्लोरिअस लड़ाई के रूप मे भी सामने आई और ये लड़ाई ‘ग्लोरी ऑफ़ वार’ कहलाई. इन देशों को लगने लगा कि कोई भी देश लड़ाई लड़ के और जीत के ही महान बन सकता है. इस तरह से देश की महानता को उसके क्षेत्रफल से जोड़ के देखा जाने लगा.

प्रथम विश्वयुद्ध के पहले एक पोस्टर बना था, जिसमे कई देश एक दुसरे के पीछे से प्रहार करते हुए नज़र आये. इसमें साइबेरिया को सबसे छोते बच्चे के रूप में दिखाया गया. इस पोस्टर में साइबेरिया अपने पीछे खड़े ऑस्ट्रिया को कह रहा था यदि तुम मुझे मारोगे तो रूस तुम्हे मारेगा. इसी तरह यदि रूस ऑस्ट्रिया को मरता है तो जर्मनी रूस को मारेगा. इस तरह सभी एक दुसरे के दुश्मन हो गये, जबकि झगड़ा सिर्फ साइबेरिया और ऑस्ट्रिया के बीच में था.

प्रथम विश्व युद्ध सम्बंधित धारणाये (First World War Immediate Cause)

इस समय यूरोप में युद्ध संबधित धारणाएँ बनी कि तकनीकी विकास होने की वजह से जिस तरह शस्त्र वगैरह तैयार हुए हैं, उनकी वजह से अब यदि युद्ध हुए तो बहुत कम समय में युद्ध ख़त्म हो जाएगा, किन्तु ऐसा हुआ नहीं. इस समय युद्ध को अलग अलग अखबारों, लेखकों ने गौरव से जोड़ना शुरू किया. उनके अनुसार युद्ध किसी भी देश के निर्माण के लिए बहुत ज़रूरी है, बिना किसी युद्ध के न तो कोई देश बन सकता है और न ही किसी तरह से भी महान हो सकता है और न ही तरक्की कर सकता है. अतः युद्ध अनिवार्य है.

प्रथम विश्व युद्ध में यूरोप का पाउडर केग (First World War Europe Balkans)  

बाल्कन को यूरोप का पाउडर केग कहा जाता है. पाउडर केग का मतलब बारूद से भरा कंटेनर होता है, जिसमे कभी भी आग लग सकती है. बाल्कन देशों के बीच साल 1890 से 1912 के बीच वर्चास्व की लड़ाईयां चलीं. इन युद्ध में साइबेरिया, बोस्निया, क्रोएसिया, मॉन्टेंगरो, अल्बानिया, रोमानिया और बल्गारिया आदि देश दिखे थे. ये सभी देश पहले ओटोमन एम्पायर के अंतर्गत आता था, किन्तु उन्नीसवीं सदी के दौरान इन देशों के अन्दर भी `स्वतंत्र होने की भावना जागी और इन्होने ख़ुद को बल्गेरिया से आज़ाद कर लिया. इस वजह से बाल्कन मे हमेशा लड़ाइयाँ जारी रहीं. इस 22 वर्षों में तीन अलग अलग लड़ाईयां लड़ी गयीं.

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान आर्कड्यूक फ्रान्ज़ फर्डीनांड की हत्या (First World War Austrian Prince Death)

आर्कड्यूक फ्रान्ज़ फर्डीनांड ऑस्ट्रिया के प्रिन्स थे और इस राज्य के अगले राजा बनने वाले थे. इस समय ये साराजेवो, जो कि बोस्निया में है, वहाँ अपनी पत्नी के साथ घुमने आये थे. ये समय जून 1914 का था. इन पर यहीं गर्विलो प्रिंसेप नामक आदमी ने हमला किया और इन्हें मार दिया. इनकी हत्या में एक ‘ब्लैक हैण्ड’ नामक संस्था का भी हाथ था. इस हत्या के बाद साइबेरिया को धमकियाँ मिलनी शुरू हुई. ऑस्ट्रिया को ऐसा लगता था कि साइबेरिया जो कि बोस्निया को आज़ादी दिलाने में मदद कर रहा था, इस हत्या में शामिल है.

प्रथम विश्व युद्ध के मुख्य वजह और जुलाई क्राइसिस (First World War July Crisis)

ऑस्ट्रिया ने इस हत्या के बाद साइबेरिया को अल्टीमेटम दिया कि वे जल्द ही आत्मसमर्पण कर दें और साइबेरिया ऑस्ट्रिया के अधीन हो जाए. इस मसले पर साइबेरिया ने रूस से मदद माँगी और रूस को बाल्टिक्स में हस्तक्षेप करने का एक और मौक़ा मिल गया. रूस का साइबेरिया को मदद करने का एक कारण स्लाविक साइबेरिया को सपोर्ट करना भी था. रूस और साइबेरिया दोनों में रहने वाले लोग को स्लाविक कहा जाता है. इसी समय ऑस्ट्रिया हंगरी ने जर्मनी से मदद मांगनी शुरू की. इस पर जर्मनी ने ऑस्ट्रिया हंगरी को एक ‘ब्लेंक चेक’ देने की बात कही और कहा कि आप जो करना चाहते हों करें जर्मनी आपको पूरा सहयोग देगा. जर्मनी का समर्थन पा कर ऑस्ट्रिया हंगरी ने साइबेरिया पर हमला करना शुरू किया. इसके बाद रूस ने जर्मनी से लड़ाई की घोषणा की. फिर कुछ दिन बाद फ्रांस ने भी जर्मनी से लड़ाई की घोषणा कर दी. फ्रांस के लड़ने की वजह ट्रिपल इंटेंट संधि थी. इस समय तक ब्रिटेन इस युद्ध में शामिल नहीं हुआ था तब इटली ने भी युद्ध करने से मना कर दिया था. इटली का कहना था कि ट्रिपल इंटेंट के तहत यदि कोई और हम तीनों में से किसी पर हमला करता है तब हम इकट्ठे होंगे न कि किसी दुसरे देश के लिए.      

प्रथम विश्व युद्ध का समय (First World War Time)

जुलाई क्राइसिस के बाद अगस्त में युद्ध शुरू हो गया. इस समय जर्मनी ने एक योजना बनायी, जिसके तहत उसने पहले फ्रांस को हराने की सोची. इसके लिए उन्होंने बेल्जियम का रास्ता चुना. जैसे ही जर्मनी की मिलिट्री ने बेल्जियम में प्रवेश किया, उधर से ब्रिटेन ने जर्मनी पर हमला कर दिया. इसकी वजह ये थी कि बेल्जियम और ब्रिटेन के बीच सन 1839 में एक समझौता हुआ था. जर्मनी इस समय फ्रांस में घुसने में सफ़ल रहे हालाँकि पेरिस तक नहीं पहुँच पाए. इसके बाद जर्मनी की सेनाओं ने ईस्ट फ्रंट पर रूस को हरा दिया. यहाँ पर लगभग 3 लाख रूसी सैनिक शहीद हुए. इस दौरान ओटोमन एम्पायर ने भी रूस पर हमला कर दिया. इसकी एक वजह ये भी थी कि ओटोमन और रूस दोनों लम्बे समय से एक दुसरे के दुश्मन रहे थे. इसी के साथ ओटोमन ने सुएज कैनाल पर भी हमला कर दिया. इसकी वजह ये थी कि ब्रिटेन आइलैंड को भारत से जोड़ने के लिए एक बहुत बड़ी कड़ी थी. यदि इस सुरंग पर ओटोमन का अधिपत्य हो जाता तो ब्रिटेन प्रथम विश्व युद्ध हार भी सकता था. हालाँकि सुएज कैनाल बचा लिया गया.

प्रथम विश्व युद्ध के समय के ट्रेंच (First World War Trenches)

ट्रेंच युद्ध में वो जगह होती है, जहाँ पर सैनिक रहते हैं, जहाँ से लड़ाई लड़ते हैं, खाना पीना और सोना भी इसी जगह पर होता है. प्रथम विश्व युद्ध में पहली बार इतने लम्बे ट्रेंच बनाए गये. फ्रांस और जर्मनी फ्रंट 3 साल तक ऐसे ही आमने सामने रहे. न तो फ्रांस को आगे बढ़ने का मौक़ा मिला और न ही जर्मनी को. ट्रेंच बनाने का मुख्य कारण आर्टिलरी शेल्लिंग से बचना था. इसकी सहायता से आर्टिलरी गोलों से बचने में मदद मिलती थी, किन्तु बारिश और अन्य मौसमी मार की वजह से कई सारे सैनिक सिर्फ बीमारी से मारे गये. जिस भी समय कोई सैनिक ट्रेंच से बाहर निकलता था, उसी समय दुसरी तरफ से मशीन गन से गोलीबारी शुरू हो जाती और सैनिक मारे जाते. सन 1916 में एक सोम की लड़ाई हुई थी जिसमे एक दिन में 80,000 सैनिक मारे गये. इसमें अधिकतर ब्रिटेन और कनाडा के सैनिक मौजूद थे. कुल मिलाकर इस युद्ध में 3 लाख सैनिक मारे गये.

प्रथम विश्व युद्ध ग्लोबल वार क्यों कहा जाता है (Why was World War One The First Global War)

इस समय लगभग पूरी दुनिया में लड़ाई छिड़ी हुई थी. इस वहज से इसे ग्लोबल वर कहा जाता है. अफ्रीका स्थित जर्मनी की कॉलोनिस जैसे टोगो, तंज़ानिया और कैमरून आदि जगहों पर फ्रांस ने हमला कर दिया. इसके अलावा माइक्रोनेशिया और चीनी जर्मन कॉलोनिस पर जापान ने हमला कर दिया. इस युद्ध में जापान के शामिल होने की वजह ब्रिटेन और जापान के बीच का समझौता था. इसके साथ ही ओटोमन जहाज़ों ने ब्लैक सागर के रूसी बंदरगाहों पर हमले करना शुरू कर दिया. ब्लैक सी में स्थित सेवास्तापोल रूस का सबसे महत्वपूर्ण नवल बेस है. गल्लिपोली टर्की में स्थित एक राज्य है, जहाँ पर अलाइड बलों ने हमले शुरू कर दिए. यहाँ पर ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड के सैन्य बल लड़ रहे थे. इस आर्मी को अन्ज़क आर्मी कहा जाता था. हालाँकि यहाँ पर इस आर्मी को किसी तरह की सफलता नहीं मिली. इस युद्ध की याद में आज भी ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड के बीच अन्ज़क डे मनाया जाता है.

इसी के साथ कई बड़े महासागरों में भी नेवी युद्ध शुरू हुए. इसके बाद जर्मनी ने एक पनडुब्बी तैयार किया था जिसका नाम था यू बोट. इस यू बोट ने सभी अलाइड जहाजों पर हमला करना शुरू कर दिया. शुरू में जर्मन के इस यू बोट ने सिर्फ नेवी जहाज़ों पर हमले किये किन्तु बाद में इस जहाज ने आम नागरिकों के जहाजों पर भी हमला करना शुरू कर दिया. ऐसा ही एक हमला लूसीतानिया नामक एक जहाज़ जो कि अमेरिका से यूरोप के बीच आम लोगों को लाने ले जाने का काम करती थी, उस पर हमला हुआ और लगभग 1200 लोग मारे गये. ये घटना अटलांटिक महासागर में हुई थी. इस हमले के बाद ही अमेरिका साल 1917 में प्रथम विश्व युद्ध में शामिल हो गया और अलाइड शक्तियों का साथ देने लगा. इस समय अमेरिका के राष्ट्रपति वूड्रो विल्सन थे. हालाँकि शुरू में अमेरिका किसी भी तरह से यूरोप की इस लड़ाई में शामिल नहीं होना चाहता था, किन्तु अंततः इसे भी इस युद्ध में शामिल होना पड़ा.

प्रथम विश्व युद्ध में भारत का प्रदर्शन (First World War Indian Army)

प्रथम विश्व युद्ध में लगभग 13 लाख भारतीय ब्रिटिश आर्मी की तरफ़ से लड़ रहे थे. ये भारतीय सैनिक फ्रांस, इराक, ईजिप्ट आदि जगहों पर लडे, जिसमे लगभग 50,000 सैनिकों को शहादत मिली. तीसरे एंग्लो अफ़ग़ान वार और प्रथम विश्व युद्ध में शहीद हुए सैनिकों की याद में इंडिया गेट का निर्माण किया गया.

अन्य पढ़ें –

Surbhi

सुरभिदीपावली वेबसाइट की लेखिका है| जिनको जीवनी व हिंदी के अन्य सभी विषयों मे लिखने का शोक है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *