ताज़ा खबर

प्रधानमंत्री मोदी ने बंद किये 500 और 1000 रूपए के नोट | 500 And 1000 Notes Banned In Hindi

500 and 1000 notes banned in hindi 10 दिन पहले दिवाली के पटाखों की गूँज अभी शांत भी नहीं हुई थी, कि मोदी जी ने एक बड़ा दिवाली धमाका कर दिया. इस धमाके की गूँज ऐसी हुई की देश का हर एक परिवार, हर एक नागरिक, यहाँ तक की सारी दुनिया के लोगों को बहुत जोरों से सुनाई दी. 8 नवम्बर 2016 को अचानक रात 8 बजे के आसपास मोदी जी ने भारतीय जनता के सामने आकर देश के नाम सन्देश में कहा कि आज रात 12 बजे से 500 और 1000 के नोट बंद हो रहे है, और वे किसी भी रूप में मान्य नहीं रहेंगें.  यह खबर आते ही पूरा देश में जैसे हडकंप ही मच गया, मानों भूकंप आ गया हो. इतने बड़े निर्णय के पीछे का क्या कारण है? ये फैसला अचानक हुआ है या योजना के साथ हुआ? आम जनता को इस बात को कैसे समझना चाहिए? इन सारी बातों का जबाब को इस आर्टिकल में मिल जायेगा.

5001000-ban

प्रधानमंत्री मोदी ने बंद किये 500 और 1000 रूपए के नोट

500 And 1000 Notes Banned In Hindi

क्यूँ बंद हुए 500, 1000 के नोट –

मोदी जी ने 2014 में चुनाव प्रचार से लेकर प्रधानमंत्री बनने के बाद अभी तक, कई बार बोल चुके है कि भ्रष्टाचार, काला धन देश की सबसे बड़ी समस्या है. वैसे इस विषय पर कई नेता  कई सालों से कुछ न कुछ बोलते आ रहे है, लेकिन कभी किसी ने इस विषय पर कड़ा निर्णय नहीं लिया. मोदी जी जिनके पास 56 इंच का सीना है, सारी बातों, आलोचनाओं को पीछे छोड़ते हुए भारत देश में अचानक आधी रात में एक निर्णय जारी कर दिया. 500,1000 के नोट बंद होने से, सबसे ज्यादा नुकसान उन्हें है, जिनके पास छुपा हुआ काला धन है. जिसकी जानकारी, सरकार को या किसी बैंक को नहीं है. इन बड़े नोटों के द्वारा आज सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार फ़ैल रहा है. बड़े नोट लाने ले जाने में आसान होते है, रखना आसान होता है. जितने भी लोगों के पास कालाधन है, उनकी तो रातों की नींद हराम हो गई. जितने अमीर पैसे वाले लोग, जो अपनी ब्लैक मनी पर घमंड किया करते थे, अगर वे ये नोट सरकार से नहीं बदलते है, तो उनके ये नोट सिर्फ कागज का ढेर बनकर ही रह जायेंगें. भ्रष्टाचार, घूसखोरी, काला बाजारी रोकने के लिए भारत सरकार द्वारा ये आज तक का सबसे बड़ा कदम है. कहते है मोदी जी ने इंदिरा गाँधी को भी पीछे छोड़ दिया. इंदिरा गाँधी जीवन परिचय को यहाँ पढ़ें.

500,1000 के नोट बंद होने के फायदे –

  • सरकार के पास देश में किसके पास कितना पैसा है, इसका पूरा ब्यौरा हो जायेगा.
  • सालों से छुआ हुआ काला धन, लोगों को सामने लाना होगा.
  • कोई भी टैक्स चोरी नहीं कर सकेगा.
  • गरीबी कम होगी.
  • दुनिया में रुपया की कीमत बढ़ेगी.
  • भ्रष्टाचार मुक्त भारत का सपना पूरा होगा.
  • बड़े नोट से आतंकवादी हथियार खरीदते है, पुराने नोट बंद होने से आतंकवाद को भी बहुत हद तक रोका जायेगा. आतंकबाद की समस्या पर निबंध यहाँ पढ़ें.

प्रधानमंत्री मोदी की क्या है योजना –

500, 1000 के नोट 8 नवम्बर 2016 रात्रि 12 बजे तक बस लिए जायेंगें, इसके बाद ये नोट आधिकारिक रूप से मान्य नहीं रहेंगें. 9 नवम्बर दिन बुधवार को बैंक बंद रहेगा, साथ ही 9 एवं 10 को सारे एटीएम बंद रहेंगें, जिससे न पैसा जमा होगा न निकाला जा सकेगा. भारत सरकार इन पुराने नोटों के बदले नए 500 और 2000 के नोट लेकर आ रही है. देश के इतने बड़े फैसले से जनता को अधिक परेशानी न हो इसके लिए मोदी जी ने कुछ स्थानों पर छूट भी दी है. कहाँ-कहाँ मान्य होंगें 500, 1000 के नोट –

  • अन्तराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर विदेश से आ रहे या जाने वालों लोगों के पास अगर 500 या 1000 के पुराने नोट है, तो उन्हें 5000 तक की राशी के साथ नए एवं मान्य नोट से बदल दिया जायेगा.
  • देश के सभी निजी, सरकारी पैट्रोल पंप, सीएनजी गैस स्टेशन पर 11 नवम्बर की रात्रि 12 बजे तक पुराने नोट लिए जायेगें.
  • 11 नवम्बर रात्रि 12 बजे तक, देश के सभी रेलवे स्टेशन, सरकारी बस स्टैंड, हवाई अड्डों और टिकट बुकिंग के समय पुराने नोट लिए जायेंगें.
  • इसके अलावा 11 नवम्बर रात्रि 12 बजे तक देश के सभी सरकारी अस्पतालों में भी पुराने 500, 1000 के नोट मान्य होंगें. साथ ही डॉक्टर की पर्ची दिखाकर सभी मेडिकल स्टोर में भी ये नोट मान्य होंगें.

नए नोट किस तरह मिलेंगे –

मोदी जी ने देश के नाम सन्देश में कहा है कि आम जनता को बिलकुल घबराने की की जरूरत नहीं है, जनता का पैसा जनता के पास ही रहेगा. 10 नवम्बर से जब सभी बैंक खुलेंगें तब वहां से नए नोट प्राप्त किये जा सकेंगें.

500,1000 नोट से जुड़ी मुख्य जानकारी –

  • 10 नवम्बर से 30 दिसम्बर तक कोई भी नागरिक अपना पहचान पत्र दिखाकर बैंक या डाकघर से नए नोट प्राप्त कर सकता है.
  • 30 दिसम्बर के बाद भी अगर किसी के पास ये पुराने नोट होंगें तो उन्हें सरकार दूसरा मौका भी देगी. वे लोग भी डिक्लेरेशन के साथ रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया से 31 मार्च 2017 तक मुद्रा बदल सकते है.
  • 500,1000 के पुराने नोटों को बैंक में जमा करा दें, इसके बाद आप वहां से नए नोट प्राप्त कर सकते है.
  • 10 नवम्बर से 24 नवम्बर तक बैंक से अधिकतम 4000 रूपए के नोट की प्राप्त किये जा सकेंगें, और एटीएम से 1 अकाउंट से अधिकतम राशी 2000 ही निकाली जा सकेगी.
  • 25 नवम्बर से इस राशी में बढ़ोतरी की जाएगी.
  • इन्टरनेट बैंकिंग, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, ड्राफ्ट, चेक सब पहले जैसे ही काम करेंगें.
  • मोदी जी ने ये भी कहा कि 100, 50, 20, 10, 5, 2, 1 के नोट एवं सभी सिक्के पहले की तरह ही मान्य रहेंगें इनमें कोई फेर बदल नहीं होगा.

नए 500, 2000 के नोट –

भारत सरकार नए 500 एवं 2000 के नोट 11 नवम्बर 2016 से देश वासियों के सामने ले आएगी. 500 का नोट पुराने नोट से बिलकुल अलग होगा. यह गहरे हरे एवं काले रंग का है, जिसके एक तरफ गाँधी की तस्वीर है, तो दूसरी ओर लाल किला बना हुआ है. इस पर स्वच्छ भारत का लोगो भी है. 2000 का नोट पिंक, पर्पल रंग का है, जिसमें कुछ हरी धारी भी है. इस नोट में एक तरफ गाँधी जी और दूसरी ओर मंगलयान सेटेलाइट की तस्वीर छपी है. इन नए नोट की सबसे खास बात यह है कि इनमें ट्रेकिंग कोड या चिप जैसा भी कुछ होगा. जिसके द्वारा सरकार इन नोट को ट्रैक भी कर सकेगी. अगर कोई इन्सान अधिक मात्रा में इन नोट का संचय करता है तो सरकार उनकी लोकेशन का पता लगा लेगी. इस फीचर की वजह से कोई भी इन्सान बड़ी मात्रा में इनको अपने पास नहीं रख सकेगा. स्वच्छ भारत स्वच्छता अभियान महत्व निबंध कविता नारे स्लोगन पढ़े.

new-500-2000-note

आम जनता की क्या प्रतिक्रिया है?

रात 8 बजे के बाद ये खबर फैलते ही, देश की जनता सड़कों पर आ गई. एटीएम मशीन, पैट्रोल पंप के आगे को लम्बी लाइन लग गई. रोजमर्रा के समान खरीदने के लिए लोग देर रात तक बाजार में रहे, कुछ दुकानदारों, बड़े बड़े स्टोर वालों ने जनता का इसमें सहयोग दिया और देर रात तक अपनी शॉप खुली रखीं. इसके अलावा लोगों ने देर रात तक सोने, चांदी की भी खरीददारी की. इस बात पर देश के हर नागरिक यहाँ तक की विपक्ष दलों ने भी पीएम् मोदी का समर्थन किया और इतने बड़े निर्णय के लियें उन्हें बधाई दी.

ये खब फैलते ही सोशल मीडिया से लेकर मोबाइल फोन पर बस इसी के मेसेज, फोटो आने लगी. लोगों ने इस बात को बड़े ही मजाकिया और पोसिटिव तरीके से लिया. किसी फोटो में 1000, 500 के नोट पर मूंगफली, चिवड़ा रखा रहा, तो कहीं नोट को बकरी के सामने चरने के लिए रखा गया. एक फोटो में इन नोट को टॉयलेट पेपर की तरह भी दिखाया गया. सभी का कहना था मोदी जी देश से काला धन निकलवाना चाहते थे, लेकिन इस खबर से तो घर का काला धन निकल रहा है, जो कई सालों ने गृहणीयां अपने पतियों से छुपा कर रखते आ रही है.

आम जनता का कहना है कि सरकार को इतना बड़ा कदम अचानक उठाने से पहले देश की जनता को समझने, संभलने के लिए थोडा समय देना चाहिए थे. इस पर विशेषज्ञ कहते है कि ये कदम अचानक नहीं उठाया गया है, इस दिन के लिए 1 साल से तैयारी हो रही होगी. ये पूरी तरह से सोची समझी योजना है, जिसे सरकार ने अचानक रात में लागु इसलिए किया है कि भ्रष्टाचारी, कालाधन धारक को संभलने का मौका ही न मिले. जनता को थोड़ी तकलीफ जरुर हो रही है, लेकिन अगर हर बार सिर्फ जनता को ध्यान में रखकर फैसला लिया जायेगा तो इससे हमेशा देश का हित नहीं होगा. विशेषज्ञ कह रहे है सैनिक महीनों बॉर्डर में कम में गुजारा करते है, यहाँ तक की कई बार बिना खाए पिए, तो क्या हम आम नागरिक देश के लिए थोड़े दिन अपने ऐशो आराम कम नहीं कर सकते है.

अगर सरकार पहले से इस बात की भनक भी दे देती तो काला धन वाले अपने हजारों करोड़ की संपत्ति को किसी तरह बचाने में लग जाते. कहते है जिस तरह कई बार किसी चोट के लगने पर इन्सान को प्राथमिक उपचार  दिया जाता है, लेकिन गहरी चोट होने पर सीधे उसका ओपरेशन भी कर दिया जाता है. ठीक उसी तरह मोदी जी ने भ्रष्टाचार जैसे बीमारी को जड़ से हटाने के लिए देश में ओपरेशन कर डाला. जिस तरह पिछले महीने भारत-पक बॉर्डर पर सर्जिकल स्ट्राइक  हुआ था, और रातों रात पाकिस्तान की नींद उड़ा दी थी, ठीक उसी तरह ये भ्रष्टाचार के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक था, जिससे भ्रष्टाचारीयों की नींद उड़ गई. भारतीय सेना द्वारा हुए सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में यहाँ पढ़ें.

कालाधन रखने वाले तो किसी तरह अपने धन को यहाँ वहां ठिकाने लगा रहे है. 8 नवम्बर की रात्रि जब से ये घोषणा हुई है कि 1000, 500 के नोट नहीं चलेंगें, तब से लोगों में अफरा-तफरी मच गई है. 11 नवम्बर तक हवाई अड्डो और रेलवे स्टेशन पर ये नोट मान्य है, जिसके बाद लोगों ने इसी में अपना काला धन व्यय करना शुरू कर दिया. एक न्यूज़ चैनल के अनुसार मुंबई में रेलवे टिकट काउंटर में रोज के मुकाबले कई गुना अधिक भीड़ देखी गई. लोग टिकट बुक कर उसे कैंसिल कर रहे थे, तो कुछ लोग एसी फर्स्ट और सेकंड क्लास की टिकट धड़ल्ले से बुक कर रहे थे. 1 दिन तो रेलवे को समझ ही नहीं आया क्या करे, अगले दिन से रेलवे ने नए नियम चालू कर दिए और टिकट काउंटर से बुक हुई टिकट को कैंसिल करना बंद कर दिया. इसी तरह कई लोग इस खबर के बाद दुनिया की सैर में निकल गए, कई गुना टिकट बुक की गई. इस पर भी टिकट कैंसिल के बदले पैसे देने से मना कर दिया गया.

देश का हाल कुछ जगह ऐसा है कि लोग अपने इस धन को महादान करके पुन्य कमाना चाह रहे है. देश के कई बड़े मंदिरों में आम दिनों के मुकाबले 100 गुना चढ़ावा आया. दान पेटियां इस कदर भर गई की लोगों को दान देने से मना किया गया. कुछ बड़े मंदिरों ने तो दान काउंटर में 500, 1000 के नोट लेने भी बंद कर दिए. लोग अपने इस कालेधन को दान करके सोच रहे है कि वे पुन्य कमा रहे है, लेकिन ये महादान, महापाप है.   एक चैनल में दिखाया गया कि गंगा नदी में 1000 के कई फटे हुए नोट मिले है, जिसे किसी ने बहा दिया है.

इस विषय पर विशेषज्ञ की सलाह –

देश में लिए गए इस बड़े फैसले की घड़ी में सभी देश वासियों को एक साथ मिलकर चलता होगा.   विशेषज्ञ कह रहे है, इस बात पर घबराने की जरूरत नहीं है, आम आदमी को तो बिलकुल भी नहीं डरना चाहिए. डरने, घबराने की जरूरत उनको है जिनके पास छुपा हुआ धन है. इस विषय पर कई लोग जनता को गुमराह करने की भी कोशिश करेंगें, ऐसे में सरकार का कहना है कि किसी की बातों में न आयें. सरकार ने कुछ हेल्पलाइन नंबर भी जारी किये है, जहाँ पर सही सही जानकारी प्राप्त की जा सकेगी. अपना पैसा संभाल कर रखें, उसकी कीमत कम नहीं होगी. समझने योग्य मुख्य बातें –

  • जितना हो सके कार्ड का इस्तेमाल करें, कैश पेमेंट से बचें.
  • 10 तारीख को जब बैंक खुलेगा तो बैंक पर दबाब बढ़ेगा, अत्याधिक भीड़ रहेगी, ऐसे में जनता को संयम से काम लेना होगा. 1-2 दिन में जब भीड़ थोड़ी कम होने लगेगी तब बैंक में जाकर पैसे जमा करें. जनता के पास 50 दिन का पर्याप्त समय है.
  • खर्चों में नियंत्रण रखना होगा, क्यूंकि कैश निकालने की एक लिमिट तय की गई है. सप्ताह में बैंक से 20 हजार से अधिक पैसा नहीं निकाल सकते है. ऐसे में आपको अपने घर के बजट, खर्चों के लिए आपको एक नयी योजना बनानी होगी.
  • गरीबों, बिना पढ़े लिखे लोगों को गुमराह नहीं होना चाहिए. बड़े, मध्यम वर्ग से निवेदन किया जा रहा है कि वे सब्जी वालों, रिक्शा वालों, और भी छोटे छोटे वेंडर से 500, 1000 के नोट ले लें और उन्हें खुल्ले दे दें. घर में काम करने वाली बाई, वर्करों को भी उधार देकर या खुल्ले देकर मदद करें. ये वे लोग है जिनके पास सही जानकारी नहीं है, बैंक अकाउंट भी नहीं है. कई ऐसे लोग होंगें जिनके पास खुल्ले न होने की वजह से उनके घर का चूल्हा न जले. एक अच्छे इन्सान के नाते दूसरों की मदद करें.

एक नजर में –

  आखिरी तारीख कैश लिमिट
डिपाजिट ·         बैंक एवं पोस्ट ऑफिस में 30 दिसम्बर 2016 तक नोट जमा होंगे

·         रिजर्व बैंक में 31 मार्च 2017 तक

कोई लिमिट नहीं
बदले जायेंगे 24 नवम्बर 2016 ·         बैंक से 4000 की लिमिट

·         एटीएम से 2000 रुपय ही निकलेंगें

हेल्पलाइन नंबर 022-22602201, 022-22602944  

 

खाता में जमा करने की लिमिट –

  • गृहणी और महिलाओं को मोदी जी ने थोड़ी राहत दी है. महिलाएं अपने खाते में 2.5 लाख की राशी  बिना किसी नोटिस के जमा कर सकती है. इतनी राशी के लिए उनसे कोई पूछताछ नहीं होगी. इसके उपर की राशी के लिए आयकर विभाग उनसे पूछताछ कर सकता है.
  • अधिक राशी जमा करने पर देश वासियों पर 200% तक का जुर्माना लग सकता है.

कुछ आम जनता का ये भी कहना है कि सरकार को एक राष्ट्रहिट बैंक खोल देना चाहिए, जिसमें कोई भी आकर, जितना चाहे उतना पैसा जमा कर सकता है. उससे किसी भी तरह की कोई जानकारी नहीं मांगी जाएगी. फिर इस पैसों का उपयोग देश हित में कर सकते है. भारत देश की मुद्रा का इस तरह नष्ट होना अच्छा नहीं, इसे सही हाथों तक तो पहुंचना ही चाहिए.

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

यह भी देखे

train information through mobile

मोबाइल के द्वारा रेल से सम्बंधित जानकारी | Check Train Status Through mobile in hindi

Check Train Status information through mobile in hindi मोबाइल के द्वारा रेलवे के बारे में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *