ताज़ा खबर

अल हिजरा इस्लामिक नया साल शायरी | Al Hijra Islamic New Year Shayari In Hindi

अल हिजरा इस्लामिक नया साल शायरी | Al Hijra Islamic New Year Date Shayari In Hindi

इस्लामिक नए साल के लिए मुबारकबाद. इस्लामिक नया साल जिसे हिजरी नया साल भी कहते है, इस्लामिक नया वर्ष पाक महीने मुहर्रम के दिन शुरू होता है. पहले इस्लामिक साल की शुरुवात 622 AD में तब हुई थी, जब मक्का से मदीना में पैगम्बर मोहम्मद आये थे, इसे हिजरा कहा गया था. वे अपने मित्र अबू बकर के साथ ऊँठ में सऊदी अरब के मदीना भाग कर आये थे. मदीना में पैगम्बर साहब को अपना समुदाय और धर्म बढ़ाने की अनुमति मिल गई थी. वैसे तो भारत देश ब्रिटिश कैंलेंडर के हिसाब से चलता है, जिसमे जनवरी पहला महिना होता है, लेकिन सभी धर्मों का अपना कैलेंडर होता है, जो कि सूर्य अथवा चन्द्रमा की गति एवम स्थिती के अनुसार निर्धारित किया जाता हैं.

इस्लामिक न्यू इयर नया साल (Islamic New Year 2017 Date):

2017 में इस्लामिक नया साल 22 सितम्बर से शुरू हो रहा है. यह मुहर्रम का पहला दिन होगा. इस दिन कई देशो में पब्लिक हॉलिडे और कई देशों में नेशनल हॉलिडे दिया जाता हैं.

Al Hijra Islamic

इस्लामिक कैलेंडर  (Islamic Calendar):

इसमें पहला महिना मुहर्रम का होता हैं एक साल में 354 दिन होते हैं और इसमें 12 महीने होते हैं, जिनमे मुहर्रम एवम रमज़ान  खास माने जाते हैं. इस्लामिक कैलंडर को हिजरी भी कहा जाता हैं.

क्र इस्लामिक महिना
1 मुहर्रम
2 सफ़र
3 रबी अल-अव्वल
4 रबी अल-थानी
5 जमाद अल-उला
6 जमाद अल-थानी
7 रजब
8 शआबान
9 रमज़ान
10 शव्वाल
11 ज़ुल क़ादा
12 ज़ुल हज्जा

इस्लाम में पहला महिना मुहर्रम का होता है, जिसे कुर्बानी का महिना कहते हैं. यह पहला महीना तकलीफों के मंज़र को सामने ला खड़ा करता हैं वहीँ हौसलों की ताकत बयाँ कर जाता हैं.

लुनार इस्लामिक कैलंडर में मुहर्रम का पहला महिना होता हैं जिसे सभी अपने मान्यतानुसार मनाते हैं. इसमें रोजा रखा जाता हैं. इसे खुदा की इबादत का महिना कहा जाता हैं. इसके अलावा इस्लाम कैलंडर में रमजान को भी पाक महिना मानते हैं, जिसे पूरा महिना रोजा रख के निभाया जाता हैं. कई दान पुण्य किये जाते हैं.

इस्लाम धर्म भी दो हिस्सों में बटा हुआ हैं उन्ही के अनुसार उनके अपने रीतिरिवाज हैं शिया और सुन्नी. मुहर्रम के समय कई मुस्लिम आशुरा मतलब मुहर्रम के दसवे दिन रोजा रखते हैं इस दिन प्रॉफिट मोहम्मद के पौते हुसैन इमाम अली को मारा गया था. कुछ मुस्लिम मुहर्रम के नौवे औत ग्यारहवे दिन भोजन बाँटते हैं जिसे नजर करना कहा जाता हैं.

मुस्लिम देशो में यह बहुत बड़े स्तर पर मनाया जाता हैं. बड़े-बड़े थियेटर में कर्बला की कहानी को पेश किया जाता हैं. हुसैन अली की कब्र पर जाया जाता हैं. ताजिया निकाले जाते हैं जो उस दिन की घटना को दिखाते चलता हैं.कई इस्लामिक देशों में इसे कई तरह से दिखाया जाता हैं|

इस्लाम को शिया और सुन्नी में बट गया जिसमे सुन्नी की इस्लाम में अधिक संख्या हैं. इन दोनों ही सब कास्ट के विचारों में एवम रिवाजों में बहुत ज्यादा अंतर हैं. यह दोनों सब कास्ट कर्बला की उस भयानक लड़ाई के दौरान जन्मी. प्रॉफिट मोहम्मद के इस दुनियाँ से रुक्सत हो जाने के बाद उनकी जगह के लिए लोगो में मतभेद आ गया. कुछ मुस्लिम इमाम के पक्ष में तो कुछ याजिद के पक्ष में आ खड़े हुए और वही से ये इस्लामिक धर्म शिया सुन्नी में तब्दील हो गया.

मुहर्रम में मौत का वो खेल रचा गया था जिसमे इमाम ने अपने पुरे परिवार को खो दिया था फिर भी उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ पाया था उसने अपना सर नहीं झुकाया. आखिर कार यजीद और उसके सिपाहियों ने इमाम को धोके से नमाज अदा करते वक्त मार दिया. और वहीँ सिया सुन्नी की लड़ाई का जो आलम सामने आया उसे आज भी कई मुस्लिम देश देख रहे हैं.

इस्लामिक नए साल से जुड़ी कुछ बातें –

  • मुस्लिमों का पहला महिना मुहर्रम को रामदान के बाद सबसे पवित्र माना जाता है. मुहम्मद साहब ने इस महीने को उपवास और आराधना के लिए सबसे पवित्र कहा है.
  • मुहम्मद के करीबी मित्र उमर इब्न अल-खत्ताब ने तारीख की इस्लामिक विधि इजात की थी. ये दुसरे इस्लामी खलीफा (शासक) थे, सन 638 में इन्होंने अरेबियन के अनुसार बहुत से कैलेंडरों का मानकीकरण किया था. अभी कुछ सालों में उमर इब्न अल-खत्ताब के कैलेंडर में कई बार फेर बादल किया गया है.
  • इस्लामी कैलेंडर चंद्र चक्र पर आधारित है, जिसमें बारह महीने में 354 दिन होते है. ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार इस्लाम कैलेंडर में 10 दिन कम होते है, इसलिए हर साल इस्लामिक नया साल 10-11 दिन पहले शुरू हो जाता है.
  • इस्लामिक कैलंडर की पहली तारीख 1,1, मुहर्रम AH होती है, ये 16 जुलाई साल 622 से शुरू हुई है.
  • अभी जो इस्लाम की तारीख की स्कीम चल रही है, उसे 1423 AH (15 मार्च 2002) को अपनाया गया था.
  • इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार नए साल के दिन की शुरुवात सूर्यास्त के समय से होती है.

मुस्लिम न्यू इयर सेलिब्रेशन –

  • मुस्लिम अभिभावक अपने बच्चों को बताते है कि किस तरह उस रात मोहम्मद मक्का से मदीना के लिए छिपकर भागे थे.
  • इण्डोनेशिया में वहां की सरकार इस्लाम नए साल को बड़ी धूमधाम से बड़े रूप में मनाती है. वहां परेड, मार्च फ़ास्ट, सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होता है. इसके साथ ही गाने गए जाते है, जिसे किदुंग कहते है.

अल हिजरा इस्लामिक नया साल शायरी (Al Hijra Islamic New Year Shayari In Hindi)

कर्बला की कहानी में कत्लेआम था
लेकिन हौसलों के आगे हर कोई गुलाम था
खुदा के बन्दे ने शहीद की कुर्बानी दी
इसलिए उसका नाम इबादत का पैगाम बना

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *