ताज़ा खबर

Balika Vadhu 5th December 2013 Episode 1453 Update

ira

पहला भाग,

मीनू अपने कमरे में बैठी है, आलोक आकर उसे कहता है, अगर वो पहले ही सच बता देते, तो इतना दुःख नहीं होता | मीनू कहती है नहीं अगर पहले बता देते, तो ईरा ने जो प्यार शिव को दिया है ,वो नहीं दे पाती और इस दुःख में वह खुद भी शिव की ठीक परवरिश नहीं कर पाती, इसलिए जो भी हुआ वो सही था | आलोक कहता है शायद ईरा सब accept कर लेगी | मीनू कहती है इतना आसन नहीं जिस बच्चे को वो अब तक अपना मानती थी, वो उसे किसी ने उस पर दया करके दिया है, यह स्वीकार कर पाना आसन बात नहीं है, एक औरत का अपने बच्चे पर एकाधिकार को वो समझती है और वो जितना ईरा को जानती है ईरा कभी भी उसे और अलोक को माफ़ नही कर पायेगी |

शिव अपने कमरे में चुप बैठा है, आनंदी आती है शिव को कहती है कि इस तरह एक ही बात को सोचने से क्या होगा? शिव कहता है कल तक वो अपने आपको इस परिवार का बेटा भी नहीं मान पा रहा था ,पर कम से कम वो इसी परिवार का बेटा है, वो खुशनसीब है जिसे दो माँ मिली, पर उसे हर वक्त ध्यान रखना होगा कि उसकी किसी भी बात का दोनों मे से किसी माँ को बुरा तो नहीं लगे | उसकी माँ को वो माँ नहीं बोल सकता क्यूंकि इससे ईरा को बुरा लगेगा | आनंदी कहती है ध्यान तो रखना होगा और सभी को सम्भालना भी होगा| तभी दादिसा का call आता है वो आनादी से पूछती है ,आज जब उसकी ईरा से बात हुई वो उसे परेशान लगी |आनंदी ने कहा ऐसा कुछ नहीं है उन्हें ग़लतफ़हमी हुई है ,दादिसा कहती है अच्छा है जो कोई बात नहीं और फोन कट कर देती है |

दूसरा भाग

एक ढाबे पर कुछ लोग आते है और मालिक को एक तस्वीर दिखा कर पूछते है कि इस आदमी को देखा है, उसका नाम बादशाह है और उसने एक औरत के साथ बुरा करके उसे मार दिया, इसलिए वो लोग उसे ढूंढ रहे है और वो आदमी को चोट लगी है, जिसे एक जीप वाला अपनी जीप में डालकर लेगया, वो आदमी ढाबे के मालिक को जीप का नंबर भी दिखाते है | मालिक कहता है उसने नहीं देखा किसी ऐसे आदमी को और ना जीप को | वो आदमी पूछता है क्या ढाबे के customer से पूछ सकते है वो मलिका बोलता है पूछ लो | वो पूछते है किसी को कुछ नहीं पता पर वहा बैठा customer उन आदमियों के पास gun देख लेता है और कुछ लोगो को बोलता है ये आदमी कुछ सही नहीं लग रहे | वो सभी आदमी वहाँ से निकल जाते है |

ईरा अपने कमरे में बैठ कर बीते दिन याद करती है और खुद को कोसती है कि वो प्यार में इतनी अंधी हो गई थी कि समझ नही पाई उस वक्त आलोक को पिता बनने की कोई ख़ुशी नहीं थी और मीनू को अपने बच्चे को गले लगा कर कितनी ख़ुशी मिल रही थी | ईरा कहती है उसने इस शादी को सम्भाला पर आलोक ने धोखा दिया | तभी वहा साँची आजाती है और ईरा को गले लगा कर कहती है कि वो ईरा की अपनी है वो उसका ध्यान रखेगी और वो ही है अब ईरा के पास भले घर में कोई हो या न हो |

तीसरा भाग

ईरा कमरे में है आलोक आता है पर ईरा वहा से जाने लगती है ,आलोक उसे समझता है पर वो कहती है इस कमरे में अब वो उसके साथ नहीं रह सकती आलोक कहता है वो बहुत शर्मिंदा और दुखी है | ईरा कहती है वो ज्यादा दुखी है | आलोक खुद कमरे से चला जाता है | यह सब आनंदी देखती है वो मिल्क लेकर आई थी |

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

mungerilal-ke-haseen-sapne

मुंगेरीलाल के हसीन सपने ओल्ड सीरियल | Mungerilal Ke Haseen Sapne Old Serial In Hindi

Mungerilal Ke Haseen Sapne Old Serial In Hindi मुंगेरीलाल के हसीन सपने अपने समय का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *