ताज़ा खबर
Home / मनोरंजन / Balika Vadhu 6th December 2013 Episode 1454 Update

Balika Vadhu 6th December 2013 Episode 1454 Update

Balika-Vadhu

पहला भाग
कुछ लोग एक आदमी से कह रहे है वो लोग बादशाह को ढूंढ नहीं पाए| वो आदमी उन पर गुस्सा करता है उनकी लापरवाही के कारण आज तक वो इस गाँव में पड़े है अगर बादशाह को मार देते तो अपने घर होते तभी एक आदमी आकर कहता है बादशाह जयत्सर के हॉस्पिटल में है और जो उसे वहाँ लेकर गया था वो उस हॉस्पिटल का MD है |
ईरा टिकिट देखती है याद करती है यह उसे शिव ने गिफ्ट में दिया था पर बोलती है आलोक ने उसे धोखा दिया तभी साँची आ जाती है और ईरा से long drive पर चलने को बोलती है ईरा मना कर देती है फिर साँची चाय बनने चली जाती है तभी दद्दु वहां आते है |
जयत्सर में, बादशाह कुछ बनाता है जगदीश उसे कहता है वो बार बार उदयपुर का तालाब की बात करता है क्या वह उदयपुर से है बादशाह उसे कहता है उसे कुछ याद नहीं | जगदीश कहता है शायद बादशाह को लगी चोट के कारण वो सब भूल गया है | तभी गंगा वहा आती है उसका व्रत है वह जगदीश को तिलक लगाती है तभी बादशाह कहता है उसे भी तिलक लगा दे गंगा उसे तिलक लगाती है और जगदीश और गंगा वहाँ से चले जाते है तब बादशाह कहता है वो उसके बारे में सच नही बता सकता वरना उसे वो लोग मार देंदे और वो हॉस्पिटल में सुरक्षित है |
दद्दु, ईरा को समझाते हुए कहते है कि आलोक ने जो किया बहुत गलत है पर उसकी नियत गलत नहीं थी अगर वो सच कहता तो ईरा खुद को सम्भाल नहीं पाती और वो ईरा को खो सकते थे | तब ईरा दद्दु से कहती है फिर वो क्या करे? दद्दु के हिसाब से आलोक को माफ़ कर देना चाहिए |

दूसरा भाग
तभी साँची आ कर कहती है कि उसमे ईरा की क्या गलती ईरा के साथ कितना बुरा हुआ जिसे बेटा समझ कर पला वो उसका है ही नहीं दद्दु कहता है सच्चाई जानने के बाद शिव और ईरा का रिश्ता बदल नहीं जायेगा | साँची कहती है किसने कहा नहीं बदलेगा,ईरा ने इतना प्यार दिया वो उसका है ही नहीं ईरा तो बस शिव की आया ही बन कर रह गई | दद्दु साची को डाटते है और उसे चुप रहने को देते है | ईरा कहती है कि साँची ने कुछ गलत नहीं कहा, वो बस शिव की आया ही रह गई है |दद्दु कहते है तो सच्चाई पता चलने से शिव पर से उसका विशवास कम हो जायेगा |ईरा कहती है उसे विश्वास और प्यार के मायने समझ ही नहीं आरहे |दद्दु कहते है इसका मतलब ईरा अतीत में जीना चाहती है ईरा कहती है मीनू और आलोक ने उससे उसका अतीत छीन लिया | यह सब सुनकर दद्दु निराश हो कर चले जाते है यह सब शिव सुन रहा था |
जयत्सर में ,सुमित्रा भैरव के लिए चाय लाती है और हँस रही है भैरव हंसी का कारण पूछता है ईरा कहती है गहना बता रही थी भैरवी उसके पिता पर गई है कोई बात बुरी लगे तो मुह बना लेती है | इसी तरह उसके मुह से निकल जाता है कि जगदीश और गंगा के बच्चे शरारती होंगे तभी उसे याद आता है गंगा माँ नही बन सकती | भैरव कहता है जब हमे सोच कर बुरा लगता है तो उन दोनों को कितना बुरा लगता होगा पर गंगा के आने से जगदीश और घर में खुशिया आ गई है | सुमित्रा चुप ही बैठी सुनती है |
उदयपुर में , दद्दु,मीनू और आलोक से पूछते है क्या अनूप को पता था कि शिव उसका बेटा है मीनू कहती है अनूप बॉर्डर की लड़ाई में इतना busy था कि उसे बोल नहीं पाए |जब साँची और माही दुनिया में आये तब सोच लिया था कि अनूप को बता देंगे तब वो कभी वापस ही नहीं आ पाए | दद्दू कहते है वो बहुत लाचार होगये है औए कुछ सम्भाल नहीं पा रहे|

तीसरा भाग
आलोक शिव से मिलने उसके कमरे में जाता है जहाँ वो अभी भी बहुत चुप बैठा है | आलोक शिव से माफ़ी मांगता है पर शिव कह देता है वो समझता है जो हुआ क्यु हुआ पर सब इतना जल्दी हुआ कि वो कुछ समझ नहीं पा रहा बस उसे थोडा time चाहिए | पर वो आलोक से अभी भी उतना ही प्यार करता है |

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

hum-paanch

हम पांच जी टीवी सीरियल | Hum Paanch ZEE TV Old Serial In Hindi

Hum Paanch ZEE TV Old Serial In Hindi हम पांच एक ऐसा सीरियल है, जिसे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *