ताज़ा खबर
Home / कविताये / “बेटी बचाओं,बेटी पढ़ाओ” हिंदी कविता

“बेटी बचाओं,बेटी पढ़ाओ” हिंदी कविता

बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ (Beti Bachaon,Beti Padhao)यह अभियान मध्य परदेश सरकार द्वारा शुरू किया गया अब यह बेटी बचाओ, बेटी पढाओं (Beti Bachaon, Beti Padhao)के नाम से देशव्यापी स्तर पर शुरू होने जा रहा हैं | वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2014 बजट में बेटी बचाओ बेटी पढाओं को शामिल किया |

सत्यमेव जयते जो कि स्टार प्लस पर प्रसारित हुआ था उसमे भी कन्याभ्रूणहत्या के विषय में जो तथ्य सामने आये वो भयावह थे | एपिसोड के टेलीकास्ट के पहले मेरे घर में इसी विषय पर बात हो रही थी जिसमे हम यही मान रहे थे कि कन्याभ्रूणहत्या केवल छोटे गाँव में होता हैं पढ़े लिखे लोग ऐसा नहीं करते पर जिस दिन सत्यमेव जयते का एपिसोड देखा जिसमे उस परिवार की बात थी जिसमे एक डॉक्टर की दो जुड़वाँ बेटियाँ थी जिन्हें उनकी दादी मारने की कोशिश में सीढ़ियों से फेंक देती हैं यह देख आँखे सन्न थी |

यह बाते छिपा ली जाती हैं पर हर कोई बेटा ही चाहता हैं अगर बेटा इतना ही महान होता तो इतनी बड़ी संख्या में वृद्ध आश्रम ना होते |

क्यूँ होता हैं कन्याभ्रूणहत्या का अपराध वह जाने और उन सामाजिक बुराईयों को ख़त्म करें ना कि बेटी की जान लेकर हत्यारे बने |

Beti Bachaon, Beti Padhaon अभियान का हिस्सा बने

beti bachao hindi kavita poem1

बेटी बचाओं,बेटी पढ़ाओ ( Beti Bachaon,Beti Padhao Kavita) हिंदी कविता

मैं भी लेती श्वास हूँ
 पत्थर नहीं इंसान हूँ

कोमल मन हैं मेरा
वही भोला सा हैं चेहरा

जज़बातों में जीती हूँ
बेटा नहीं, पर बेटी हूँ

कैसे दामन छुड़ा लिया
जीवन के पहले ही मिटा दिया

तुझ से ही बनी हूँ
बस प्यार की भूखी हूँ

जीवन पार लगा दूंगी
अपनालों, मैं बेटा भी बन जाऊँगी

दिया नहीं कोई मौका
बस पराया बनाकर सोचा

एक बार गले से लगा लो
फिर चाहे हर कदम आज़मालो

हर लड़ाई जीत कर दिखाऊंगी
मैं अग्नि में जलकर भी जी जाऊँगी

चंद लोगो की सुन ली तुमने
मेरी पुकार ना सुनी

मैं बोझ नहीं, भविष्य हूँ
बेटा नहीं, पर बेटी हूँ

कर्णिका पाठक

भारत की गरिमा प्रेम और सौहाद्र से हैं इस पवित्र देश में कैसे ऐसा घिनौना अपराध रोज होता हैं यह शर्मनाक हार हैं | बेटियों के जीवन के लिए बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ (Beti Bachaon, Beti Padhaon)जैसे अभियान चलाना गर्व की बात नहीं हैं | शर्म की बात हैं कि माँ बाप को कहना पड़ रहा हैं कि अपने खून की हत्या ना करों |

यूवा वर्ग को इस ओर कदम बढ़ाने की जरुरत हैं बेटी बचाओं, बेटी बढ़ाओ (Beti Bachaon, Beti Padhao) बस एक अभियान नहीं एक देशव्यापी आन्दोलन बनाना चाहिए |

आइये आप और हम इस दिशा में अपने आस पास के लोगो को समझायें जीवन पर बस बेटे का नहीं बेटी का भी अधिकार हैं |

आप अपनी राय हमे दे और इस दिशा में क्या क्या हो सकता हैं लिखे |

Poem In Hindi (Beti Bachaon,Beti Padhao Kavita Poem In Hindi) यह ब्लॉग हिंदी पाठको के लिए लिखा गया हैं आपको कैसा लगा कमेंट बॉक्स में लिखे |

साथ ही अगर आप लिखने के शौक़ीन हैं तब deepawali.add@gmail.com पर सम्पर्क करें आपकी कृति नाम और फोटो के साथ published की जाएगी |

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

bewafa bewafai shayari

बेवफ़ा / बेवफ़ाई पर शायरी

बेवफ़ाई इश्क का एक ऐसा मंजर हैं जो या तो तोड़ देता हैं या जोड़ …

3 comments

  1. ये कविता देश वाशियो के लिए एक जोश भर देने वाली कविता है

  2. दिल को झकझोरने वाली कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *