बुरी नजर वाले तेरा मुँह काला कहानी | Buri Nazar Wale Tera Muh Kala Story In Hindi

Buri Nazar Wale Tera Muh Kala Story (Kahani) In Hindi बुरी नजर वाले तेरा मुँह काला, यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ होता है जब कोई किसी पर बुरी नजर डालता है या किसी का बुरा करता है तो उसके खुद के साथ बुरा हो जाता है. दोस्तों आज के समय में स्त्रियों पर बुरी नजर डाले जाने की खबरें बहुत सामने आ रहीं है, किन्तु स्त्रियों पर पुरुषों द्वारा बुरी नजर डाले जाना या उनके साथ दुर्व्यवहार करना यह आज के समय से नहीं बल्कि सदियों से चला आ रहा है. अब आप देवी अहिल्या, देवी सीता और द्रोपदी की ही बात ले लीजिये इन सभी स्त्रियों पर पुरुषों द्वारा दुर्व्यवहार किया गया, किन्तु यह भी सत्य है कि स्त्रियों पर दुर्व्यवहार करने वालों का हमेशा मुंह काला हुआ है, अर्थात उनके साथ हमेशा बुरा हुआ है. ऐसी ही एक स्त्री की कहानी आज मैं आपके सामने प्रस्तुत कर रहीं हूँ, जिसमें उसके साथ दुर्व्यवहार करने वाले का खुद का मुंह काला हो गया.

बुरी नजर वाले तेरा मुँह काला कहानी 

Buri Nazar Wale Tera Muh Kala Story In Hindi

एक बार की बात है एक बहुत ही गरीब परिवार की लड़की थी. जिसका नाम कोमल था. उसके पिता ऑटो चलाते थे और माँ गृहणी थी. जब कोमल छोटी थी तब उसके पिता ने उसकी पढ़ाई की फीस के लिए ऑटो चलाना शुरू किया. उसके बाद, कोमल के पढ़ाई में होशियार होने के कारण उसे स्कूल से स्कॉलरशिप मिलने लगी, तब वह अपनी स्कूल की फीस खुद ही भरने लगी. वह बहुत ही होशियार और प्रतिभाशाली लड़की थी, अपने स्कूल में वह हमेशा अव्वल आती थी इसलिए उसके माता – पिता को उस पर बहुत गर्व होता था. यहाँ तक कि उसके स्कूल के शिक्षक भी उसकी बहुत तारीफ करते और हमेशा कहते रहते कि कोमल में कुछ कर दिखाने का जूनून है और वह अपने माता – पिता का नाम जरूर रोशन करेगी. कोमल ने स्कूल की पढ़ाई खत्म करने के बाद कॉलेज में दाखिला लिया और उसने वहाँ भी अपनी प्रतिभा दिखाई. उसके प्रतिभाशाली होने कारण ही कॉलेज की पढ़ाई करते – करते ही उसकी जॉब लग गई और वह कॉलेज की पढ़ाई ख़त्म कर जॉब करने लगी.

buri-nazar-wale-tera-muh-kala

जॉब की शुरुआत में उसकी तनख्वाह कम थी. फिर ऑफिस में भी उसने धीरे – धीरे अपनी जगह बना ली और देखते ही देखते उसकी तरक्की होती चली गई. कोमल की इतनी जल्दी तरक्की होने के कारण उसके ऑफिस के और लोग उससे जलने लगे. उसे हमेशा नीचा दिखाने की कोशिश करते और उससे कहते कि तुम्हारी इतनी औकात नहीं है. किन्तु वह बिना डरे अपना काम करती रहती और उसके काम को देखते हुए उसकी तरक्की होती रहती. कोमल के ऑफिस के एक अन्य कर्मचारी जिसका नाम राकेश था, को उससे बहुत ईर्ष्या होने लगी थी, क्यूकि वह उस कंपनी में पहले से था और उसकी उतनी तरक्की नहीं हुई थी और उसकी जगह कोमल की तरक्की हो रही थी. राकेश किसी भी हाल में कोमल को ऑफिस से निकालना चाहता था. इसके लिए उसने कई हथकण्डे भी अपनाये किन्तु हर बार वह असफल रहा.

एक दिन कोमल ऑफिस में देर रात तक काम कर रही थी, उसके ऑफिस के सभी लोग एक – एक कर घर जाने लगे और वह अकेले ही ऑफिस में काम कर रही थी. कोमल को अकेले ऑफिस में काम करते देख राकेश ने सोचा यही अच्छा मौका है और वह कोमल के पास जा कर बतमीजी करने लगा. कोमल ने उसे मना करने की बहुत कोशिश की, किन्तु वह उसकी बात न सुनता. उस समय तो कोमल वहां से चली गई, परन्तु इन सब से वह डरी और सहमी हुई हालत में घर पहुंची, घर पहुँचते ही उसने अपने आप को कमरे में बंद कर लिया. दूसरी तरफ राकेश यह सोचने लगा कि कोमल अब डर के कारण ऑफिस नहीं आयेगी और जिससे उसको इस जॉब से निकाल दिया जायेगा. राकेश ऐसा पहले भी कई लड़कियों के साथ कर चूका था और वे सारी लड़कियाँ अपनी बदनामी के डर से कुछ ना कहते हुए जॉब छोड़ कर चली जातीं.

अगले दिन कोमल सुबह उठी और ऑफिस जाने से मना करने लगी, तब उसकी माँ द्वारा पूछे जाने पर उसने सारी कहानी अपनी माँ को बताई और कहने लगी कि वह यह जॉब छोड़ देगी. कोमल की माँ ने उसे समझाते हुए कहा कि –“तुम तो इतनी होशियार और साहसी लड़की हो, यदि तुम ही डर के कारण यह जॉब छोड़ दोगी तो इससे कुछ नहीं बदलेगा, क्यूकि ऐसा आज तुम्हारे साथ हुआ है कल कोई और लड़की आयेगी और उसके साथ भी वही हुआ, तब वह भी तुम्हारी तरह डर के कारण जॉब छोड़ने के लिए कहेगी. लेकिन इससे राकेश जैसे लोगों को बढ़ावा मिलता रहेगा और वे लड़कियों को अपने हाथों की कतपुतली समझते रहेंगे”. कोमल की माँ ने कोमल को ऑफिस जाने के लिए हिम्मत देते हुए कहा कि -“तुम्हें ऑफिस जाना चाहिए और उस आदमी का सामना कर उसके खिलाफ लड़ना चाहिए, ताकि तुम्हारे जैसी कोई और लड़की को इस मुश्किल का सामना न करना पड़े”.

कोमल की माँ द्वारा समझाये जाने पर कोमल ने हिम्मत करते हुए ऑफिस जाने का फैसला किया और वह ऑफिस चली गई. कोमल के ऑफिस पहुँचने के बाद राकेश उसे वहाँ देखकर चौंक गया. लेकिन फिर भी वह कोमल को डराते हुए कहने लगा कि “तुम यहाँ आ तो गई हो लेकिन मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकती”. तब कोमल ने हिम्मत करते हुए अपने बॉस को उनके कैबिन में जाकर राकेश के बारे में सब कुछ बता दिया. कोमल की बात सुनकर उसके बॉस ने राकेश को अपने ऑफिस से निकालकर पुलिस के हवाले करने का फैसला किया. राकेश ने अपने बॉस को बहुत सफाई देने की कोशिश करते हुए कहा कि -“कोमल झूठ बोल रही है वह मुझसे जलती है इसलिए वह मुझे बदनाम कर रही है” किन्तु उसके बॉस ने कहा कि –“कोमल नहीं तुम झूठ बोल रहे हो” और उसकी एक ना सुनते हुए उसे तुरंत पुलिस के हवाले कर दिया. इस तरह राकेश कोमल को ऑफिस से निकलवाने के चक्कर में खुद ही अपनी जॉब से हाथ धो बैठा.

इस कहानी की शिक्षा (Moral of the story) –

इस कहानी ये यह शिक्षा मिलती है कि जब राकेश ने कोमल को ऑफिस से निकलवाने के लिए उसके साथ दुर्व्यवहार करने की कोशिश की, तब राकेश को ही ऑफिस छोड़ कर जेल जाना पड़ा. उसी प्रकार कभी किसी पर बुरी नजर नहीं डालनी चाहिए, क्यूकि इससे खुद का ही बुरा होता है. इसलिए कहा जाता है कि “बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला”.

अगर आप हिंदी की अन्य कहानियों को पढ़ना चाहते है, तो प्रेरणादायक हिंदी कहानी का संग्रह पर क्लिक करें और रामायण महाभारत से जुडी कनियों को पढने के लिए  महाभारत व रामायण की कहानी पर क्लिक करें|

Surbhi

सुरभिदीपावली वेबसाइट की लेखिका है| जिनको जीवनी व हिंदी के अन्य सभी विषयों मे लिखने का शोक है|

यह भी देखे

rishi-durvasa

ऋषि दुर्वासा जीवन परिचय कहानियां | Rishi Durvasa Story In Hindi

Rishi Durvasa biography story in hindi हिन्दू पुराणों के अनुसार ऋषि दुर्वासा, जिन्हें दुर्वासस भी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *