ताज़ा खबर
Home / कविताये / नटखट बचपन की सुनहरी यांदे

नटखट बचपन की सुनहरी यांदे

बचपन यादों (childhood memory)और उमंग से भरा होता हैं , जब भी मेरे ज़हन(inner soul) में आता हैं दिल खुशियों (happiness) से भर जाता हैं | कितना भोला जीवन(innocent life) था ना दिल में द्वेष था ना कोई चिंता | कल(past and future) का तो कोई नामो निशान न था बस आज(present) में ही जिन्दगी का आनन्द (peace of life) था| ना बीते वक्त (past time )का कोई रोना, ना आपने वाले वक्त (future time) की चिंता | चाँद, सूरज भी साथी थे जो बचपन की कहानियों (childhood stories)में हमेशा हमारे साथ थे | ऐसा प्यारा बचपन जो सदा (always) हमारे साथ होता हैं कभी हम खुद बच्चे (child) होते हैं तो कभी छोटे बच्चो को देख कर वो बचपन हमारे पास लौट आता हैं |

969940_551897771540683_790566101_n

नटखट  बचपन

दिल हँसाता हैं अब उन यादों को जीकर, 
दिल हँसता हैं अब उन यादों को जीकर

जिनमें था अपनों से रूठना,मनाना,
खिलखिलाकर हँसना और हँसाना

चंदा मामा,सूरज चाचा से दुनियाँ सजाना,
तारों को गिन-गिन सो जाना

फिर, एक पंछी की तरह चहचहाना
छोटी सी बात पर मुँह बनाना,

रूठकर नदियों सा आंसू बहाना
चिंता फिक्र का ना था कोई ठिकाना

बस आज में ही था, जिन्दगी का चलते जाना
ऐसा था मेरा बचपन सुहाना, मेरा बचपन सुहाना ||

कर्णिका पाठक

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

bewafa bewafai shayari

बेवफ़ा / बेवफ़ाई पर शायरी

बेवफ़ाई इश्क का एक ऐसा मंजर हैं जो या तो तोड़ देता हैं या जोड़ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *