ताज़ा खबर

कंप्यूटर वायरस इतिहास, निबंध व बचने के उपाय | Computer Virus History Essay in hindi

Computer Virus history (itihas) type karan bachane upay essay (nibandh) in hindi एक दशक पूर्व, लोग कम्प्युटर को जानते तक नही थे| परन्तु बदलते समय के साथ, कम्प्युटर का इतना उपयोग होने लगा है, कि आज का युग कम्प्युटर का युग कहा जाने लगा| आज के समय मे, कम्प्युटर व्यक्ति का हाथ या जिन्दगी का एक अहम हिस्सा बन चूका है| जिस तरह से कम्प्यूटर का उपयोग बढ़ रहा है, उसके चलते कम्प्यूटर मे होने वाली समस्याए भी बढ़ रही है| जिसकी सबसे बड़ी समस्या उसमे होने वाला वायरस है|

कंप्यूटर वायरस इतिहास, निबंध व बचने के उपाय

 Computer Virus History Essay in hindi

सामान्य जिंदगी मे, यदि कोई व्यक्ति 2-3 दिन के लिए भी बीमार हो जाता है तो, वह कमजोरी महसूस करने लगता है| ठीक उसी तरह कम्प्यूटर मे वायरस  जोकि, वाइरल की तरह है| कंप्यूटर पर निबंध पढ़ने के लिए क्लिक करें. कम्प्यूटर मे होते ही उसकी गति को धीमा कर, उसके डाटा (Data) को नष्ट करने लगते है| आगे हम इसके बारे मे विस्तार से देखेंगे|

कम्प्यूटर वायरस के सम्बन्ध मे महत्वपूर्ण बिन्दु

  • वायरस  क्या है?
  • वायरस की इतिहास (History)
  • कम्प्यूटर वायरस के प्रकार
  • कम्प्यूटर वायरस के हानिकारक प्रभाव
  • वायरस के कारण
  • वायरस से बचने के उपाय/तरीके

कंप्यूटर वायरस क्या है (What is Computer Virus) ?

बहुत ही प्रचलित शब्द है, आम जिंदगी का| वायरस एक तरह का विषाणु या कीड़ा है जोकि, बहुत तीव्रता से फैलता है| वायरस कई तरीके का होता है जो,किसी भी माध्यम से कम्प्यूटर मे जाकर, उसे नष्ट कर देता है|

कंप्यूटर वायरस की इतिहास (History of Computer Virus)

कम्प्युटर बहुत ही पुराना इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है| अर्थात जब से, कम्प्यूटर बना उससे संबंधित समस्याओं का विकास हुआ| बिल्कुल उसी तरह कम्प्यूटर वाइरस जो कि कम्प्यूटर की सबसे बड़ी समस्या है ,का इतिहास भी बहुत पुराना है|

मैलवेयर (Malware) कम्प्यूटर मे होने वाले वायरस का नाम है, जोकि एक दीमक की तरह कम्प्यूटर के डाटा (Data) को नष्ट कर देता है|

Malware वायरस का संक्षिप्त इतिहास –

बदलते समय के साथ वायरस के नाम परिवर्तित होते चले गये| Malware वायरस के नाम की संक्षिप्त सूची

नंबर वर्ष वायरस का नाम
1 1949 सेल्फ – रिप्रोड्युसिंग ऑटोमेटा
2 1959 कोर वारस
3 1971 क्रीपर
4 1981 एलक क्लोनेर
5 1986 ब्रेन
6 1988 द मोरिस वोर्म
7 1995 कांसेप्ट
8 1998 सी.आई.ऐच वायरस
9 1999 हैप्पी99
10 2000 आई लव यू वायरस
11 2001 ऐना कौर्निकोवा
12 2002 एल.एफ.एम-926
13 2004 मायडूम
14 2006 ओ.एक्स.एस/लीप-A
15 2007 स्टॉर्म वोर्म
16 2010 केंज़ेरो
17 2014 बेकऑफ

इसके आलावा और भी बहुत प्रकार के वायरस होते थे, परन्तु यह कुछ प्रमुख नाम है|

कम्प्यूटर वायरस के प्रकार (Type of Computer Virus)

computer virus history itihas type karan bachane upay essay nibandh in hindi

 

  1. रेसिडेंट वायरस (Resident Virus) – यह वायरस रेम (RAM) मे स्थायी रूप से हो जाते है| यह सिस्टम को ओपरेट करने मे, शट-डाउन करने मे, डाटा को कॉपी-पेस्ट करने मे बाधा उत्पन्न करता है|
  2. ओवर-राइट वायरस (Overwrite Virus) – यह वायरस से इन्फेक्टेड फाइल होती है, जोकि फाइल के ओरिजिनल डाटा को नष्ट कर देती है|
  3. डायरेक्ट एक्शन वायरस (Direct Action Virus) – यह वायरस, हार्ड ड्राइव रूट डायरेक्टरी (Hard Drive’s Root Directory) के अंदर होता है| जो फाइल और फोल्डर को डिलीट (Delete) कर देता है|
  4. फाइल इन्फेक्टोर्स (File Infectors) – यह वायरस बहुत ज्यादा हानि पहुचता है क्यों कि, यह सीधे Running की फाइल पर असर कर डाटा नष्ट कर देता है| आज-कल ये ही वायरस सिस्टम मे होता है, जो डाटा को हटा देता है|
  5. बूट वायरस (Boot Virus) – फ्लॉपी डिस्क (Floppy Disk) और हार्ड ड्राइव (Hard Drive) को सबसे ज्यादा नुकसान पहुचाती है| और इन्हें चलने से रोक देते है|
  6. डायरेक्टरी वायरस (Directory Virus) – यह एक बहुत ही अजीब किस्म का वायरस होता है| यह फाइलों के Path ओर Location चेंज कर देता है| Main Location से ले जाकर कही भी फाइल को छोड़ देता है|
  7. मैक्रो वायरस (Macro Virus) – इस वायरस का असर निश्चित (Particular) प्रोग्राम और एप्लीकेशन पर ही होता है| ये उनकी Speed मे परिवर्तन करता है|
  8. ब्राउज़र हाईजैक वायरस (Browser Highjack Virus) – 2014-2015, अर्थात् यह वर्तमान मे फैला हुआ वायरस है| बढ़ते इंटरनेट उपयोग के चलते ये बहुत आसानी से किसी Website, Games, File के जरिये System मे प्रवेश करती है| और इसकी Speed और अन्य फाइलों पर नष्ट कर देते है|

कम्प्यूटर वायरस के हानिकारक प्रभाव (Disadvantage of Computer Virus)

  • वायरस कम्प्यूटर की गति धीमी कर देता है|
  • वायरस कम्प्यूटर के किसी भी फाइल या प्रोग्राम को नष्ट कर सकता है|
  • वायरस System की Windows के बूट मे समस्या उत्पन्न कर उसे नष्ट कर सकता है|
  • वायरस होने के कारण System की Power Consume (बिजली की खपत) करने की क्षमता बढ़ जाती है|
  • बड़े-बड़े ऑफिस, फर्म, स्कूलों, कालेजों मे जहा भी लेन (LAN) मे कई सिस्टम जुड़े होते है, वहा वायरस तेजी से फैलता है, ओर नुकसान का कारण बनता है|

वायरस के कारण (Computer Virus Cause)

हाईटैक जमाने के अनुसार, कम्प्यूटर और उससे संबंधित उपकणों का उपयोग बहुत बढ़ रहा है| एक छोटे बच्चे से लेकर तो बड़े बुजुर्ग तक कम्प्यूटर व मोबाइल का उपयोग करने लगे है| पर ये लोग कम्प्यूटर वायरस से परिचित नही है| जिसके चलते वह बिना सोंचे, सिस्टम का उपयोग करते है जिससे, सिस्टम मे वायरस आ जाते है| जैसे-

  • पैन ड्राइव को स्कैन किये बिना Use करना|
  • ऑनलाइन गेम, मूवी देखना|
  • कोई भी प्रोग्राम, फाइल, डाटा ऑनलाइन डाउनलोड करना|
  • मोबाईल और अन्य डिवाइस से सिस्टम को जोड़ना|
  • LAN मे कई सिस्टम को चलाना|
  • सिस्टम मे Anti-virus का आउटडेट होजाना|

वायरस से बचने के उपाय/तरीके (Computer Virus bachane upay)

  • System मे , किसी अच्छी कम्पनी का Anti-Virus डाले व उसे रजिस्टर्ड करे|
  • एंटीवायरस की Last Date याद रख उसे अपडेट कराये|
  • जब भी कम्प्यूटर से मोबाईल, पेनड्राइव या कोई भी डिवाइस जोड़ते ही उसे स्कैन करे|
  • ऑनलाइन जब भी कुछ देखे या डाउनलोड करे तो उसे अच्छी और रजिस्टर्ड Site से ही डाउनलोड करे|
  • सिस्टम का डाटा Save कर, उसका बैकअप लेकर System को एक समय के बाद फॉर्मेट कराये|

 अन्य पढ़े:

Priyanka
Follow me

Priyanka

प्रियंका दीपावली वेबसाइट की लेखिका है| जिनकी रूचि बैंकिंग व फाइनेंस के विषयों मे विशेष है| यह दीपावली साईट के लिए कई विषयों मे आर्टिकल लिखती है|
Priyanka
Follow me

यह भी देखे

Activate Increase Jio Sim Speed

जियो सिम कैसे एक्टिवेट करें और स्पीड कैसे बढ़ाएं | How to Activate and Increase Jio Internet Speed in Hindi

How to Activate and Increase Jio internet Speed in Hindi गौरतलब है कि जबसे रिलायंस ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *