Diya Aur Bati Hum 20 th January 2014 Episode 636 Update In Hindi

Sandya-Raathi-Diya-aur-baati-hum-karnal

First Scene

IPS Singh Sandhya से कहती है कि मैंने आपसे कहा था कि आपके बाल कट जाने चाहिए पर आप को समझ ही नहीं आता है कि आपके ये लंबे बाल आपकी ट्रेनिंग मे कितनी प्रॉब्लम करते है| आप जानती है यह एक पुरुष प्रधान ट्रेनिंग है इसिलिए आपकी सोच आपका रहन सहन और मजबूती भी पुरुष कि ही तरह होनी चाहिए | याद रखिये मेमले यदि शेर कि खाल पहन ले तो कोई शेर नहीं बन जाता है|

Sandhya कहती है अगर आपकी permission हो तो मैं कुछ कहना चाहती हूँ | IPS singh कहती है कहिए इस पर sandhya कहती है कि मैं आपके order को न मानने के लिए माफ़ी चाहती हूँ लेकिन मैं आपका order मानना चाहती थी | आपके order को मानते हुए मैं सलून भी गई वही मुझे अहसास हुआ कि कमी मेरे अन्दर है| आपने सही कहा कि शेर कि खाल पहनने से मेमला शेर नहीं बन जाता है और वही मेमला मेरे अन्दर है सिर्फ अपने बाल कटवा कर मैं आईपीएस ऑफिसर के योग्य नहीं बन सकती हूँ कमी मेरे अन्दर है और मैं अपने नारीत्व को रखते हुआ मैं IPS officer बनना चाहती हूँ आईपीएस मेरा शौक नहीं मेरा सपना है जो मैंने अपने मायके मैं जिया है और ससुराल मैं भी आईपीएस बनने के लिए मैंने बहुत संघर्ष किया है | मैं जब आईपीएस ऑफिसर बनू तो मेरे ससुर कहे देखो मेरी बिन्दनी एक पुलिस ऑफिसर है | मेरे पति कहे कि मेरी पत्नी आईपीएस ऑफिसर है और मुझे अपनी पत्नी पर गर्व है| मैं अपनी पहचान खो कर नहीं बल्कि इसी पहचान को कायम रखते हुआ आईपीएस ऑफिसर बनूगी| आईपीएस सिंह कहती कि मैं सालो से यहाँ ऑफिसर्स को ट्रेनिंग देती आ रही हूँ यह अलग बात है तुम्हे इस सोच को अपनाने में टाइम लगेगा सभी ऑफिसर्स को संबोधित करते हुआ कहती है कि कल से आप लोगो का कम्पटीशन शुरु हो जायेगा सभी ऑफिसर अच्छे से तेयारी कर ले और sandhya आपके पास आखरी मौका है आपको कल जीतना होगा |

Second Scene

भावो mohit से कहती है कि संध्या बिन्दनी का फ़ोन आने वाला है तभी suraj के पास sandhya का message आता है कि मैं ऑनलाइन हूँ आप भी आ जाये फिर वोह पूछती है मैं कैसे लग रही हू दरसल sandhya अपने बाल फोल्ड कर लेती है उसे छेड़ते हुए कहती है सभी को मैं छोटे बालो मै अच्छी लग रही हूँ और छोटे बालो को ज्यादा सम्भालना नहीं पड़ता | सूरज कहता है कि लम्बे बालों कि खूबसूरती कुछ और ही होती है आप पर लम्बे बाल बहुत ही प्यारे लगते है sandhya बोलते बोलते अचानक कुछ अच्छा महसूस नहीं करती है तभी भावो आ जाती है संध्या प्रणाम करती है भावो sandhya के लम्बे बालो को देख कर कहती है कि बिन्दनी जिस माहोल मैं छोड़ के आये थी तो डर लग रहा था हमेशां ऐसे ही रहना किसी के भी कहने पर अपने आप को न बदलना |

Third Scene

सभी ऑफिसर्स कम्पटीशन कि तैयारी करते है sandhya के ग्रुप मे jakir कॉम्पीटिशन के बारे मै प्लानिंग करते है | पर sandhya थोड़ी nervos दिखाई देती है |यह jakir को पसंद नहीं आता है | jakir कहते है तुम आराम से यहाँ खड़ी हो sandhya कहती है कि मैं आपकी सारी बाते धयान से सुन रही हूँ सिर्फ कह देने से ही कुछ नहीं होता इस पर roma कहती है कि sandhya पैन मैं है तोभी sandhya कहती है मैं इस कम्पटीशन मैं पार्ट लूंगी

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

hum-paanch

हम पांच जी टीवी सीरियल | Hum Paanch ZEE TV Old Serial In Hindi

Hum Paanch ZEE TV Old Serial In Hindi हम पांच एक ऐसा सीरियल है, जिसे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *