ताज़ा खबर
Home / कविताये / हिंदी कविता : दहेज़ प्रथा

हिंदी कविता : दहेज़ प्रथा

Poem On Dowry or Dahej Pratha kavita In hindi यह आर्टिकल हिंदी प्रेमी पाठको के लिए लिखी गई हैं |कविता एक ऐसा माध्यम हैं जो कुछ पंक्तियों के माध्यम से बहुत गहराई की बात कह जाती हैं | यहाँ दहेज प्रथा पर अपने विचार व्यक्त किये हैं |

दहेज़ प्रथा (Dowry) एक ऐसी प्रथा हैं जिसमे शान से समाज एक औरत का व्यापार करता हैं उसके अरमानो को कुचल कर उसे ख़ुशी से बेचने का जश्न मनाता हैं | और यह जीवनपर्यन्त चलता ही रहता हैं | जब इसी तरह का लेन देन समाज में रहेगा और नारि को केवल सामान समझा जायेगा, तो उसकी गर्भ में हत्या करना क्या गलत हैं ? जब उसे एक वस्तु मात्र समझना हैं, जब उसे केवल भोग विलास का सामान समझना हैं, तो महान हैं वो लोग जो उसे आने से पहले ही मार देते हैं |

साथ ही पढ़े  दहेज़ प्रथा पर कहानी 

 

Dowry System (Dahej Pratha) hindi kavita

दहेज़ प्रथा (Dahej Pratha Kavita in Hindi)
(औरत का सामाजिक व्यापार)

काली घटायें कुछ इस कदर छाई,

रूपये पैसों के मोल गूंजी शहनाई|

व्यापारी ने मनचाही बोली लगाई,

देनदार ने ख़ुशी से गर्दन झुकाई|

मोलभाव था यह किसी के सपनों का,

दांव खेला जा रहा था उसके जीवन का|

अरमानो का हुआ कुछ ऐसा व्यापार,

वस्तु का कोई नहीं था उसमे विचार|

जब ऐसा ही देना था जीवन संसार,

तो सही ही है कन्या भ्रूणहत्या का विचार |

By: कर्णिका पाठक

save girl child एक अहम् मुद्दा हैं पर उससे ज्यादा जरुरी हैं समाज में औरतो का स्थान कब तक उस पर अत्याचार होंगे ? कब तक  उसे अबला का दर्जा दिया जायेगा ? पहले इन मुद्दों से लड़ना आवश्यक हैं | कन्या भ्रूण हत्या (Female Foeticide) तथा दहेज़ प्रथा (Dowry System) दोनों ही उच्च समाज की शर्मनाक हार हैं |

हिंदी कविता दहेज प्रथा (Dahej Pratha Hindi) आपको कैसी लगी अपने विचार व्यक्त करे |

पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

bewafa bewafai shayari

बेवफ़ा / बेवफ़ाई पर शायरी

बेवफ़ाई इश्क का एक ऐसा मंजर हैं जो या तो तोड़ देता हैं या जोड़ …

One comment

  1. Dowry is wrong but accepted by everyone in different different ways like gift, blessings and duties

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *