ताज़ा खबर
Home / सीरियल अपडेट / Ek Hasina Thi Last Episode aired On 20 December

Ek Hasina Thi Last Episode aired On 20 December

Ek Hasina Thi स्टार प्लस पर प्रसारित हो रहे इस सीरियल ने 20 दिसम्बर को अपने दर्शको को अलविदा कह दिया |टेलीविजन के इतिहास में कुछ ही सीरियल होते हैं जो शुरू से अंत तक एक ही ट्रेक पर चलते हैं | Ek Hasina Thi उन में से एक हैं | वैसे शो की TRP बहुत खास नहीं थी क्यूंकि शो को बीच में से पकड़ना मुश्किल हैं इसे जिस दर्शक ने भी फर्स्ट डे से देखा उसने शो का एक एपिसोड भी नहीं छोड़ा |

Ek Hasina Thi कहानी थी दुर्गा ठाकुर की जिसे हर कीमत पर अपना बदला लेना था अपनी बहन पायल को न्याय दिलाना था जिसका सामना कर रही थी शाक्शी गोयनका जिसने दुनियाँ को अपनी मुट्ठी में रखने की ठानी थी |

ek hasina thi in hindi

Ek Hasina Thi अपने मुद्दे से कभी नहीं भटका | पहली बार ही एक ऐसा हिंदी सीरियल देखा जो 9 महीने में ख़त्म हो गया | इसमें कई अच्छे कलाकार थे जिन्होंने अपना काम बहुत अच्छे से निभाया | Ek Hasina Thi अमेरिकन शो Revenge की किसी कहानी से प्रेरित था | इसका पहला एपिसोड 14 अप्रेल 14 को टेलीकास्ट किया गया | निर्देशक थे प्रेम किशन,डायरेक्ट किया था Cinevistaas Limited ने |

Ek Hasina Thi की स्टार कास्ट में संजीदा शेख जिन्होंने दुर्गा ठाकुर का रोल अदा किया |दुर्गा एक हिम्मती लड़की हैं जो गोयनका फेमिली से टक्कर लेने आई हैं जिसे कोई नहीं जानता |

 वत्सल सेठ जो थे शोर्य गोयनका जिसे लड़कियों के साथ खेलना पसंद हैं उसे लगता हैं उसकी माँ के होते हुए उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता  |

आयूबखान थे राजनाथ गोयनका | एक सफल बिज़नस मेन लेकिन बीवी के हाथ की कठपुतली जिसे अपने रुतबे से बहुत प्यार हैं |

सिमोन सिंघ थी शाक्शी गोयनका एक शातिर दिमाग जो एक पल में आने वाले खतरे को भाँप जाती हैं |

टीना चौपडा थी पायल मित्रा | एक खुशमिजाज लड़की जो शोर्य और उसके दोस्तों की गन्दी हरकत का शिकार होती हैं और अपने माँ बाप और बहन को खो देती हैं |

भूपिंदर सिंघ थे दयाल ठाकुर, पेशेवर डॉक्टर जो बिना किसी निजी मतलब के दुर्गा के साथ पायल को इंसाफ दिलाने की इस लड़ाई का हिस्सा बनते हैं |

मिहिर मिश्रा थे आकाश उर्फ़ अकरम खान , गोयनका का वफादार कहलाने वाला जो असल में था दुर्गा का राईट हैण्ड था लेकिन यह भी आया था गोयनका से अपने पिता रहमत खान की मौत का बदला लेने, जिसे शाक्शी ने मारा था |

भुवनेश मन थे देव गोयनका एक सुलझा हुआ दिमाग, जो नित्या से बहुत प्यार करता हैं और नहीं जानता था कि उसके पिता का खून राजनाथ ने किया | देव भी इस लड़ाई में शामिल होता हैं और पायल के लिए लड़ता हैं |

ये थे खास कलाकार जिनके आस पास Ek Hasina Thi ने अपना सफ़र पूरा किया | Ek Hasina Thi के लास्ट एपिसोड में शौर्य ने अपने गुनाह कुबूल किये जिसे कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा दी | आखिर में शौर्य ने अपने इस तरह के बर्ताव के लिए अपनी माँ शाक्शी को जिम्मेदार बताया | दुर्गा ने सभी के सामने जाहिर किया कि वही नित्या हैं | आकाश ने भी शाक्शी को बताया कि वो उसका बेटा अकरम खान हैं | राजनाथ गोयनका ने अपने बड़े भाई अर्नब गोयनका को मारा इसका भी सबूत पेश किया गया | इस तरह दुर्गा ठाकुर का बदला पूरा हुआ |

 पढ़े 

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

kahani-ghar-ghar-ki-serial

कहानी घर घर की ओल्ड स्टार प्लस सीरियल | Kahani Ghar Ghar ki Old Serial In Hindi

Kahani Ghar Ghar ki Old Star Plus Serial In Hindi सन 2000 में भारत के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *