ताज़ा खबर
Home / जीवन परिचय / फ़ख़रुद्दीन अली अहमद जीवन परिचय | Fakhruddin Ali Ahmed biography in hindi

फ़ख़रुद्दीन अली अहमद जीवन परिचय | Fakhruddin Ali Ahmed biography in hindi

Fakhruddin Ali Ahmed biography in hindi  फ़ख़रुद्दीन अली अहमद एक अत्यधिक सफल राजनीतिक नेता थे, जो भारत के राजनीतिक परिदृश्य पर एक स्थायी छाप छोड़ गए है. फखरुद्दीन अली अहमद बहुत लम्बे समय तक नेता रहे है, उन्होंने देश की राजनीती में भी मुख्य भूमिका निभाई थी. राष्ट्रपति बनने का इनका मुख्य उद्देश्य देश की सेवा करना था. महात्मा गाँधी व जवाहरलाल नेहरु जैसे नेता के साथ रहकर फखरुद्दीन अली अहमद ने राजनीती का गुर सिखा. फखरुद्दीन अहमद (Fakhruddin Ali Ahmed) भारत के पांचवें राष्ट्रपति थे.

फ़ख़रुद्दीन अली अहमद जीवन परिचय

Fakhruddin Ali Ahmed biography in hindi

Fakhruddin Ali Ahmed

फखरुद्दीन अहमद जन्म, परिवार एवं शिक्षा –

क्रमांक जीवन परिचय बिंदु फखरुद्दीन अहमद जीवन परिचय
1.       पूरा नाम फखरुद्दीन अली अहमद
2.       जन्म 13 मई 1905
3.       जन्म स्थान पुरानी दिल्ली, भारत
4.       पिता ज़ल्नुर अली अहमद
5.       पत्नी बेगम आबिदा अहमद
6.       बच्चे 3
7.       राजनैतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
8.       मृत्यु 11 फ़रवरी 1977 दिल्ली

 फखरुद्दीन अहमद जन्म 13 मई, 1905 को दिल्ली के हौज़ काज़ी एरिया में हुआ था. उनके पिता का नाम ज़ल्नुर अली अहमद था. वे असम में एक आर्मी डॉक्टर थे. उनके दादा का नाम खलीलुद्दीन अहमद था, जो गोलाघाट शहर के निकट कचारीहाट के काज़ी थे. फखरुद्दीन अली अहमद एक नामी और संपन्न मुस्लिम घराने से ताल्लुख रखते थे. उनका परिवार गैर रूढ़िवादी, धर्मनिरपेक्ष एवं देश भक्ति की भावना रखता था. फखरुद्दीन अहमद की माता जी लाहोर के नबाब की बेटी थी.

फखरुद्दीन अली अहमद (Fakhruddin Ali Ahmed ) की प्रारंभिक शिक्षा उत्तर-प्रदेश के गोंडा जिले के सरकारी हाई स्कूल में शुरू हुई थी. जब वे सातवीं कक्षा में थे, तब उनके पिता का तबादला दिल्ली में हो गया. 1918 में वे दिल्ली आ गये. मैट्रिक की परीक्षा उन्होंने दिल्ली के सरकारी स्कूल से 1921 में उत्तीर्ण की. आगे की पढाई के लिए उन्होंने दिल्ली के प्रसिद्ध सेंट स्टीफन कॉलेज में दाखिला लिया. तत्पश्चात उच्च शिक्षा के लिए उन्होंने भारत को छोड़ दिया और इंग्लैंड चले गए. जहां उन्होंने 1923 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के  अंतर्गत सेंट कैथरीन कॉलेज में दाखिला लिया. 1927 में उन्होंने कानून की शिक्षा पूर्ण कर बैरिस्टर बन गए. 1928 में विधि की शिक्षा संपन्न की. उसके बाद 1928 में वे भारत लौट आए लाहौर हाईकोर्ट में वकालत शुरू कर दी.

फखरुद्दीन अली अहमद राजनैतिक सफर (Fakhruddin Ali Ahmed political career)

फखरुद्दीन अहमद 1925 में इंग्लैंड में जवाहर लाल नेहरु से मिले, वे उनके विचारों से बहुत प्रभावित हुए, तभी से उन्होंने भारत की राजनीती से जुड़ने का फैसला कर लिया था. फखरुद्दीन अहमद नेहरु जी को अपना मेंटर मानते थे, इनके बीच में मित्रता भी अच्छी थी. फखरुद्दीन अहमद (Fakhruddin Ali Ahmed ) के राजनैतिक सफ़र की शुरुवात 1928  में भारत वापस आने के बाद हुई, जब वे  भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य बने. थोड़े  ही समय में वे नेहरूजी, सुभाषचंद्र बोस और भी कांग्रेस नेताओं के करीबी हो गए. इसके साथ ही वे स्वतंत्रता की लड़ाई में कूद पड़े. 1935 में फखरुद्दीन अहमद असम प्रदेश कांग्रेस कमिटी के मुखिया के रूप में नियुक्त हुए. इसके बाद 1937 में वे असम लेजिस्लेटिव असेम्बली में मुस्लिम सीट से निर्वाचित हुए एवं वित्त और राजस्व मंत्री  भी बने. इन्हें असम राज्य की बड़ी ज़िम्मेदारियां दी गईं. कई बार उन्हें जेल यातनाये भी सहन करनी पड़ी. 1940 में महात्मा गाँधी के साथ सत्याग्रह आन्दोलन में इन्होने हिस्सा लिया, जिसके लिए इन्हें जेल भी हुई. 1942 में इन्होने भारत छोड़ो आन्दोलन में भी हिस्सा लिया था, हिसके बाद इन्हें फिर जेल हुई थी.

स्वतंत्रता के बाद फखरुद्दीन अहमद  का राजनैतिक सफ़र –

आजादी के बाद 1952 में फखरुद्दीन अहमद  राज्यसभा के सदस्य बन गए, इसके साथ ही उन्होंने असम के एडवोकेट जनरल का पदभार संभाला, जिस पद पर वे कुछ समय तक रहे.  1957 में उन्होंने यू.एन.ओ में भारतीय शिष्टमंडल का नेतृत्व किया, इसके साथ ही नेहरु जी ने इन्हें कैबिनेट मंत्रिमंडल से जुड़ने को बोला. 1962 में वे  फिर से असम विधानसभा के सदस्य बने, इस दौरान उन्होंने वित्त, कानून और पंचायत विभागों को संभाला. 1964  से 1974 तक वे कांग्रेस कार्य समिति और केन्द्रीय संसदीय बोर्ड में रहे. जनवरी 1966 में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी  ने उन्हें अपने केबिनेट में शामिल किया और उनको  सिंचाई, शिक्षा, औद्योगिक विकास, कृषी एवं ऊर्जा मंत्रालय का कार्यभार दिया गया. इसके बाद असम से  उन्हें राज्यसभा की सीट मिल गई और वे संसद पहुँच गए.  इन्होंने शिक्षा मंत्री के रूप में भी 14 नवम्बर 1966 से 12 मार्च 1967 तक कार्य किया. 1971 में बारपेटा निर्वाचन क्षेत्र से फखरुद्दीन अहमद  को लोकसभा सीट मिल गई और वे   खाद्य मंत्री के  रूप में नियुक्त हुए. 1974 तक उन्होंने इस पद पर कम किया.

राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद (President Fakhruddin Ali Ahmed)

1969 में कांग्रेस के विभाजन के बाद, फखरुद्दीन अहमद ने नेहरू और उनके परिवार के साथ अपने गहरे सहयोग की वजह से इंदिरा गांधी के साथ पार्टी में रहने का निर्णय लिया. इसके बाद इंदिरा जी ने ही 1974 में फखरुद्दीन अली अहमद का नाम राष्ट्रपति पद के लिए घोषित किया. 25 अगस्त, 1974 को फखरुद्दीन अली अहमद (Fakhruddin Ali Ahmed ) को राष्ट्रपति पद से नवोदित किया गया.  वे डॉ जाकिर हुसैन के बाद दुसरे मुस्लिम राष्ट्रपति थे. वे एक गंभीर और अनुकरणीय व्यक्तित्व वाले इंसान थे. वे एक संपन्न परिवार के थे, जिसकी झलक उनके व्यक्तित्व में साफ नजर आती थी. शोषण के खिलाफ फखरुद्दीन अली सबसे आगे होते थे. 1975 में आपातकाल के दौरान , फखरुद्दीन अहमद के विरोधियों ने दावा किया था कि उन्होंने प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के इशारे पर हस्ताक्षर किये थे.

फखरुद्दीन अहमद मृत्यु (Fakhruddin Ali Ahmed death) –

11 फ़रवरी सन 1977, फखरुद्दीन अली अहमद (Fakhruddin Ali Ahmed) का दिल का दौरा पड़ने से उनके ऑफिस में ही निधन हो गया था. भारत के चौथे राष्ट्रपति डॉ जाकिर हुसैन और फखरुद्दीन अली अहमद घनिष्ट मित्र थे. ये संयोग ही है की दोनों राष्ट्रपति थे और दोनों की म्रत्यु राष्ट्रपति भवन में दिल का दौरा पड़ने से ही हुई.

फखरुद्दीन अली अहमद सम्मान (Fakhruddin Ali Ahmed honour) –

फखरुद्दीन अली अहमद (Fakhruddin Ali Ahmed ) की स्मृति में भारत सरकार द्वारा डाक टिकट जारी किया गया. उन्हें कभी किसी एक भाषा को अहमीयत देना सही नहीं लगा, उनके हिसाब से सरकार द्वारा किसी एक भाषा को तव्चो देना गलत है. उनका कहना था, जनता को ये निर्णय लेना चाहिए, वो कौनसी भाषा बोलना चाहती है.  भाषाओं को जबरन थोपना ठीक नहीं. धर्मनिरपेक्ष नीति के लिए फखरुद्दीन अली अहमद को हमेशा याद किया जाएगा.

स्वतंत्र भारत के सभी राष्ट्रपति की लिस्ट एवम उनका विवरण जानने के लिए पढ़े.

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

यह भी देखे

lopamudra-raut

लोपामुद्रा राउत बिग बॉस 10 प्रतिभागी जीवन परिचय व विवाद| Lopamudra Raut Biography Controversy In Hindi

Lopamudra Raut Biography Controversy In Hindi लोपामुद्रा एक भारतीय मॉडल और ब्यूटी क्वीन है. लोपा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *