ताज़ा खबर
Home / मूवी रिव्यु / घायल वन्स अगेन फिल्म समीक्षा

घायल वन्स अगेन फिल्म समीक्षा

Deepawali रेटिंग – 2.5 स्टार

Ghayal Once Again Review hindi 25 साल पहले सनी देओल ही घायल आप सभी को याद ही होगी, फिल्म ने अच्छा प्रदर्शन किया था जिसके बाद सनी देओल एक सितारे के रूप मे उभर कर आये थे. इस बार एक बार फिर सनी घायल वन्स अगेन लेकर आये है, जिसे देखकर उनकी पिछली फिल्म को याद किया जा सकता है. सनी ने हमेशा की तरह अपनी इस फिल्म में भी एक्शन, मार धाड़, गुस्सा, जबरन का चिल्लाना दिखाया है, उनके ढाई किलो के मुक्के भी विलेन को पड़े है.

घायल वन्स अगेन फिल्म समीक्षा

Ghayal Once Again Movie Review

सनी 90 के दशक के बहुत अच्छे एक्शन हीरो में से एक रहे है, कुछ साल पहले उन्होंने धर्मेन्द्र जी व बॉबी देओल के साथ यमला पगला दीवाना 1 व 2 लेकर आये थे, फिल्म ठीक ठाक रही परन्तु वे फिल्म कुछ खास नहीं कर पाई थी. इसके अलावा भी सनी की कुछ फ़िल्में आती जाती रहीं, किसी फिल्म ने भी बहुत अच्छा काम नहीं किया. अब फिर से वही जगह  पाने के लिए सनी ने अपनी सबसे हिट फिल्म घायल की सीक्वल बनाई है, जिससे उन्हें बहुत उम्मीद है. सनी जैसे एक्शन हीरो की एक अलग लोकप्रियता (Fan  following) है, जो सनी को आज भी बड़े परदे पर गुस्से में चीखता चिल्लाता देख तालियाँ बजाते है.

घायल वन्स अगेन फिल्म से संबंधित अन्य जानकारी (Ghayal Once Again Cast Details)

कलाकार सनी देओल, सोहा अली खान, ओम पूरी, टिस्का चोपड़ा, नरेंद्र झा,शिवम् पाटिल,डायना खान व आँचल मुन्चाल
निर्माता धर्मेन्द्र
निर्देशक सनी देओल
लेखक सागर पंड्या, शक्तिमान तलवार
संगीत हिमेश रेशमिया
रिलीज़ डेट 5 फ़रवरी 2016

घायल वन्स अगेन फिल्म निर्देशक समीक्षा

डायरेक्टर सनी देओल

सनी ने फिल्म के 2 महत्वपूर्ण हिस्सों में कार्य किया है, एक एक्टिंग व दूसरा निर्देशन. दोनों हिस्सों में तालमेल बिठाने में सनी ठीक रहे है, उन्हें पूरी तरह से कामयाब भी नहीं कह सकते है. सनी ने इससे पहले 1999 की दिल्लगी को डायरेक्ट किया था, जो फ्लॉप रही थी. इस बार सनी पूरी तैयारी के साथ आये है, कहानी में उन्होंने बहुत काम किया है. फिल्म में उनके अलावा बहुत से नए चेहरे है, जो की कहानी की मांग के अनुसार ही रहे है. ये फ्रेश चेहरों से सनी ने कॉलेज स्टूडेंट का अच्छा काम करवाया है. फिल्म का स्क्रीनप्ले कुछ खास नहीं रहा है, हाँ लेकिन फिल्म का एक्शन ठीक रहा है. फिल्म में जब ट्रेन में अजय व बंसल के आदमियों के बीच लड़ाई दिखाई गई है, वह काफी रोमांचित है. फिल्म का एक्शन सीन काफी हद तक रियल दिखा है.

घायल वन्स अगेन फिल्म कहानी की समीक्षा (Ghayal Once Again Story Review)

घायल वन्स अगेन पहली घायल से अलग है. लेकिन फिल्म में कुछ सीन और किरदार को पुरानी फिल्म से जोड़ा गया है, जिससे घायल के दर्शकों की यादें ताजा हो जाएँगी. पुराने व नए दर्शक दोनों ही फिल्म को समझ सकेंगें. फिल्म की शुरुआत घायल से ही होती है, जहाँ अजय मेहरा (सनी देओल) को बलवंत राय और उसके आदमियों को मारने के जुर्म में जेल हो जाती है. अजय अब बाहर आ जाता है और अपना एक न्यूज़ चैनल सत्यकाम नाउ चलाता है. उसका सबसे बड़ा दुश्मन राज बंसल (नरेंद्र झा) है, जो पिछली फिल्म के विलन की तरह नहीं है. इस बार वह एक बहुत बड़ा बिजनेसमैन है, जो आज के लोगों की तरह टेकसेवी है, हाँ लेकिन बलवंत राय की तरह इसकी भी राजनीती में अच्छी पहचान है. बंसल का एक बिगड़ा बेटा कबीर है, जो हर बुरे काम से जुड़ा हुआ है. कबीर एक आदमी का खून कर देता है जिसके सबूत के तौर में विडियो कॉलेज के 4 मासूम विद्यार्थी जोया, वरुण, रोहन व अनुष्का के पास आ जाता है. अजय इस खून की सच्चाई सबके सामने लाने में जुट जाता है, जिसके लिए उसे उन चारों छात्रों की मदद चाहिए होती है. कैसे अजय हत्यारे को सामने लाता है, व कैसे वो 4 कॉलेज स्टूडेंट को बंसल जैसे पावरफुल इंसान से बचाता है, यही कहानी है जिसे देखने के लिए आपको सिनेमाघर तक जाना होगा.

इस बार की घायल पहली वाली घायल से अलग है, हां अब हम 21 वीं सदी में है, 90’s का दौर चला गया है, अब के दर्शक प्रैक्टिकल फ़िल्में पसंद करते है, लेकिन इस बार फिल्म में पहले जैसे दमदार डायलोग नहीं है, जिन्हें याद कर आज भी हम घायल फिल्म को याद करते है. फिल्म में मुख्य रूप से अजय व जोए डिसूजा का ही किरदार है, ये दो फिल्म के साथ पूरी तरह से न्याय नहीं कर पाये है. फिल्म ने बहुत कुछ सिखाने की कोशिश की है, लेकिन दिखाया बहुत कम है. फिल्म के मेकर्स ने औरतों की सुरक्षा पर बहुत अच्छी बात समझाई, लेकिन कुछ ही समय में वो बात हवा हो गई. फिल्म में कुछ बातें और हवा में रही है, जिसे पचा पाना आज की जनता के लिए नामुमकिन है, फिल्म का विलन खुले आम मॉल में आदमी भेज 4 मासूम बच्चों को मरवाता है, जिसे देख कोई कुछ नहीं कहता ना ही पुलिस पता लगाती है. ऐसा पहले की फिल्मों में होता था, लेकिन अब इसे दर्शक देखना पसंद नहीं करते.

अजय का किरदार पहले की तुलना में काफी ठंडा रहा है, फिल्म के कुछ हिस्सों को देख ऐसा लगता है कि विलन को हीरो कहना उचित होगा. फिल्म में सनी पहले की तरह गुस्सा, चिल्लाना, एक्शन करने की भरपूर कोशिश करते है, लेकिन 58 के हो चुके सनी की उम्र आढे आ जाती है. वैसे अपनी उम्र के हिसाब से सनी ने सही किरदार का चयन किया है, लेकिन दौहरी ज़िम्मेदारी निभाने के चक्कर में वे किसी एक के भी साथ पूर्ण न्याय नहीं कर पायें है. सनी को निर्देशन का ज़िम्मा किसी अनुभवी को देना था, तो फिल्म में उनका किरदार भी उभर कर आता और पूरी फिल्म अलग रूप में सामने आती.

ghayal once again

घायल वन्स अगेन फिल्म कलाकारों की समीक्षा

सनी देओल एक्शन सीन में तो ठीक रहे है लेकिन इमोशनल सीन में वे हमेशा की तरह कमजोर नजर आ रहे है.

सोहा अली खान का छोटा किरदार है, उन्हें ज्यादा कुछ करने को ही नहीं मिला है. अजय ने डॉक्टर के रूप में एवरेज परफॉरमेंस दी है.

नरेंद्र झा बंसल के रूप में फिट बैठे है. कुछ जगह तो उन्होंने बहुत अच्छा काम किया है जो उन्हें सनी से ज्यादा उभार देता है.

बेचारी टिस्का चोपड़ा को कुछ करने को ही नहीं मिला. बंसल की पत्नी का किरदार उन्होंने क्यों चुना समझ के परे है. टिस्का एक बेहतरीन कलाकार है, जो अपनी एक्टिंग के लिए जानी जाती है, इस फिल्म में उनका किरदार बहुत सीमित रहा.

चार नए कलाकारों ने कॉलेज स्टूडेंट के रूप में अच्छा काम किया है, उनके कुछ सीन को देखकर उनको काफी सराहना मिली है, जिसकी बदोलत उन्हें आगे भी काम मिलेगा.

ओम पूरी व रमेश देव के बारे में क्या कहें, ये दिग्गज कलाकार एक्टिंग के धनी है. पिछली घायल में भी ये दिखाई दिए थे, सनी के अलावा ये भी वो कड़ी है, जो पुरानी फिल्म को नयी से जोड़ते है.

घायल वन्स अगेन फिल्म संगीत समीक्षा

फिल्म का संगीत हॉलीवुड फिल्म Dark Knight Riders की कॉपी लग रहा है. हमेशा की तरह इस बार भी बॉलीवुड फिल्म हॉलीवुड की परफेक्ट कॉपी नहीं कर पाई है, फिल्म का संगीत प्रभावशाली नहीं रहा है, किसी भी गाने ने फिल्म रिलीज़ से पहले सफलता प्राप्त नहीं की है.

घायल वन्स अगेन ओवरआल परफॉरमेंस

फिल्म का पहला भाग आपको बोरिंग लग सकता है, लेकिन दूसरा भाग अच्छा है. अगर आपने घायल 1 देखी है और वैसी ही धारणा बनाकर जायेंगें तो आपको निराशा हाथ लगेगी. फिल्म का हीरो पहले की तरह ताकतवर नहीं रहा है, उम्र का ठराव उसमें साफ़ झलकता है, यही वजह है सनी ने अपने ढाई किलो हाथ का जोर इस फिल्म में नहीं दिखाया है. सनी के फैन इस फिल्म को देख सकते है, व दुसरे लोग जो फिल्म का प्लान बना रहे है, उन्हें इससे काम चलाना होगा क्यूंकि इस हफ्ते और कोई बड़ी रिलीज़ नहीं हुई है.

अन्य पढ़े:

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

यह भी देखे

baaghi

बाघी : रेबेल्स फॉर लव मूवी प्रीव्यू | Baaghi A Rebel for Love Movie Review hindi

Baaghi A Rebel for Love movie cast review hindi बाघी आने वाली बॉलीवुड फिल्म है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *