ताज़ा खबर
Home / साहित्यिक मधुशाला / Harivansh Rai Bachchan Ki Lo Din Beeta Lo Raat Gayi

Harivansh Rai Bachchan Ki Lo Din Beeta Lo Raat Gayi

लो दिन बीता, लो रात गई

लो दिन बीता, लो रात गई,
सूरज ढलकर पच्छिम पहुँचा,
डूबा, संध्या आई, छाई,
सौ संध्या-सी वह संध्या थी,
क्यों उठते-उठते सोचा था,
दिन में होगी कुछ बात नई।
लो दिन बीता, लो रात गई।

धीमे-धीमे तारे निकले,
धीरे-धीरे नभ में फैले,
सौ रजनी-सी वह रजनी थी
क्यों संध्या को यह सोचा था,
निशि में होगी कुछ बात नई।
लो दिन बीता, लो रात गई।

चिड़ियाँ चहकीं, कलियाँ महकी,
पूरब से फिर सूरज निकला,
जैसे होती थी सुबह हुई,
क्यों सोते-सोते सोचा था,
होगी प्रातः कुछ बात नई।
लो दिन बीता, लो रात गई,
Harivansh Rai Bachchan

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

Meera Bai Ke Pad Dohe Meaning In Hindi

मीरा के पद/ दोहे हिंदी अर्थ सहित जयंती एवम जीवन परिचय | Meera Bai Ke Pad Dohe Meaning Jeevani Jayanti In Hindi

Meera Bai Ke Pad Dohe Meaning Jeevani Jayanti Date In Hindi मीराबाई के पद दोहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *