ताज़ा खबर

एच डी कुमारस्वामी जीवन परिचय | HD Kumaraswamy Biography in Hindi

एच डी कुमारस्वामी जीवन परिचय (HD Kumaraswamy Biography in Hindi)([Family Caste Wife)

सम्भव हैं कि एच डी कुमारस्वामी की पहचान राष्ट्रीय स्तर पर देश के पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगोड़ा के बेटे के रूप में हों, लेकिन कुमारस्वामी कर्नाटक के वो कद्दावर नेता हैं, जो ना केवल अपनी जनता पार्टी को सम्भाल रहे हैं बल्कि राष्ट्रीय स्तर की दोनों बड़ी पार्टियाँ भी काफी हद तक कर्नाटक की राजनीती में बने रहने के लिए  कुमारस्वामी के सपोर्ट पर निर्भर रहती आई हैं. और यही बात कुमारस्वामी को अन्य क्षेत्रीय दलों के प्रतिनिधियों से अलग करती हैं. कर्नाटक  के पूर्व और 18 वें मुख्यमंत्री होने के अलावा कुमारस्वामी एक कृषि विशेषज्ञ, कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री में फिल्म प्रोडूसर और सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं.

एच डी कुमारस्वामी | HD Kumar Aswamy

एच डी कुमारस्वामी जीवन परिचय (HD Kumaraswamy Short Biography in Hindi)

नाम एच डी कुमारस्वामी
पिता एच दी देवेगोड़ा
माता चेन्नमा देवेगोड़ा
पत्नी राधिका
पुत्र निखिल
पेशा जनता दल के नेता,फिल्म प्रोडूसर
ट्विटर अकाउंट

 

https://twitter.com/KumaraswamyJDS
 पहचान कर्नाटक के 18 वे मुख्य्मंत्री, जनता दल के कर्नाटक राज्य के अध्यक्ष
हार 1996 के आम चुनाव, 1998 में होने वाले पुन:चुनाव में कनकपुरा लोकसभा सीट से हारे. 1999 के चुनावों में भी वो सथानुर असेंबली की सीट पर भी हार गये.
जीत 2008 में हुए असेंबली इलेक्शन में कुमारस्वामी ने अपने निकट प्रतिध्वन्धी को 40000 से ज्यादा वोट्स से हराकर रामनगरम की सीट जीती.
फिल्म निर्देशन सूर्य वंशा, गलते एलीअंद्रू, चन्द्र चकोरी और जैगुआर
विवाद बीजेपी को सत्ता हस्तानतरण नहीं करने के कारण अगले चुनावों में हार गए जिससे काफी निंदा का सामना करना पड़ा. कन्नड़ अभिनेत्री के साथ एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर के कारण भी चर्चा में.

 एच डी कुमारस्वामी:जन्म और परिवार (Birth and Family)

16 दिसम्बर 1959 को कर्नाटक के हराडानाहाली, हस्सन में जन्में कूमारस्वामी का पूरा नाम हरडानाहल्ली देवेगोड़ा कुमारस्वामी हैं जबकि इनका निकनेम “मन्निना मोम्मागा हैं. उनके फोलोअर और मित्र उन्हें एना कहकर बुलाते हैं.

इनके पिता देश के पूर्व प्रधानमंत्री और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एच दी देवेगोड़ा हैं जबकि इनकी माता का नाम चेन्नम्मा देवेगोड़ा हैं. कुमारस्वामी ने 13 मार्च 1996 को अनीथा से शादी की.

कुमारस्वामी के बेटे का नाम निखिल कुमारस्वामी हैं, जो कि  2013 में 5 करोड़ की लम्बोरगिनी खरीदने के लिए चर्चा में रह चुके हैं.

कुमारस्वामी: शिक्षा (Kumarswami: Education)

एचडी कुमारस्वामी ने अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई होलेनारासिपुरा से की थी. इसके बाद कुमारस्वामी ने पीयूसी के पढ़ाई विजया कॉलेज,बेंगलोर से की.

कुमारस्वामी अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों से एक सामन्य छात्र थे, उन्हें मूवी देखना पसंद था. कॉलेज के दिनों में कुमारस्वामी क्लासेज को बंक करके मूवी देखने जाते थे. कुमारस्वामी का अपने गृहनगर होलेनारासिपुरा में खुदा का एक फिल्म थिएटर भी हैं. कुमारस्वामी ने बीएससी की डिग्री नेशनल कॉलेज बसवानागुडी बैंगलोर से की.

कुमारस्वामी का राजनीतिक करियर (Kumarswami’s Political Carrier)

शुरू में कुमारस्वामी को राजनीती में कोई रूचि नहीं थी, लेकिन घर पर एक बार बहस होने पर सबने कहा कि वो कभी राजनेता नही बन सकते तो कुमारस्वामी ने इस चैलेंज के तौर पर लिया और वो राजनीती में आ गये. और कालान्तर में एचडी रेवन्ना के जनता दल पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देते ही कुमारस्वामी को इस पद के लिए चुन लिया गया.

उनका राजनीतिक जीवन 1996 के आम चुनावों के साथ शुरू हुआ था. उन चुनावों में उनका भाग्य इतना अच्छा नहीं रहा और उसके बाद 1998 में होने वाले पुन:चुनावों में उन्होंने कनकपुरा लोकसभा सीट से पर्चा भरा, लेकिन वो फिर हार गये और लोकसभा में जगह नहीं बना सके. उनकी हार सिलिसिला यही खत्म नहीं हुआ,1999 के चुनावों में भी वो सथानुर असेंबली की सीट पर भी हार गये. 2004 में कुमारस्वामी ने रामनगर असेम्बली सेगमेंट की सीट जीती.

28 जनवरी 2006 को धर्म सिंह के इस्तीफे के बाद कर्नाटक के राज्यपाल टी.एन.चतुर्वेदी ने उन्हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया. कुमारस्वामी ने 1 नवम्बर 2006 को राज्य के 50 साल पूरे होने की ख़ुशी में एक साल तक चलने वाले कार्यक्रम सुवर्णा कर्नाटक का उद्घाटन किया. कर्नाटक के सांस्कृतिक उत्सव को सेलिब्रेट करने के लिए हम्पी उत्सव का उद्घाटन भी कुमारस्वामी ने तत्कालीन राज्यपाल  टी.एन चतुर्वेदी के साथ मिलकर किया. 

3 फरवरी 2006 को भारतीय जनता पार्टी के पॉवर शेयरिंग के अग्रीमेंट के साथ उन्होंने कर्णाटक के मुख्यमत्री का पद मिला. 27 सितम्बर 2007 को कुमारस्वामी ने कहा कि वो 3 अक्टूबर को जनता दल और बीजेपी के मध्य हुए समझौते के तहत गद्दी छोड़ देंगे. लेकिन 4 अक्टूबर को उन्होंने ये कहते हुए मना कर दिया कि वो लोक अदालत में जायेंगे.

कुमारस्वामी के पास तब 42 विधायक थे और पॉवर शेयरिंग अग्रीमेंट के तहत उन्हें 3 अक्टूबर 2007 को पॉवर बीजेपी को देनी थी, लेकिन कुमारस्वामी ने बीजेपी को सत्ता देने से मना कर दिया और तत्कालीन गवर्नर रामेश्वर ठाकुर को अपना इस्तीफा सौप दिया, उनकी इस कारण बहुत नींदा भी हुई. 9 अक्टूबर से लेकर 8 नवम्बर 2007 तक कर्नाटक में केंद्र का शासन रहा.

19 दिसम्बर 2007 को उनके हार्ट का ऑपरेशन हुआ. 2008 को उन्हें मुख्मंत्री के कैंडिडेट  के लिए जनता दल का प्रतिनिधित्व मिला.

फिर 2008 में हुए असेंबली इलेक्शन में कुमारस्वामी ने अपने निकट प्रतिध्वन्धी को 40000 से ज्यादा वोट्स से हराकर रामनगरम की सीट जीती. और जनता दल के  28 विधायकों से समर्थन प्राप्त करने में कामयाब रहे.

2008 में जीतकर भी वो अपनी पार्टी की इमेज नहीं बचा सके, क्यूंकि तब उनकी पार्टी को कुल 28 सीट्स ही मिली थी और इसका कारण उनका पूर्व में 20 महीने की सरकार  चलाने के बाद बीजेपी के साथ धोखा करना माना गया था. 2009 में वो बेंगलुरु लोक सभा से जनता दल के कैंडिडेट थे. इसके आलावा 2009 में मेराजुद्दीन पटेल के मरने के बाद से कुमारस्वामी कर्नाटक राज्य के जनता दल के अध्यक्ष भी हैं. कुमारस्वामी ग्रामीण क्षेत्रों में जनता दर्शन और गरमा वास्तव्या कार्यक्रम चलाकर बहुत प्रसिद्द हो गये हैं.

2018 के विधानसभा चुनावों में कुमारस्वामी ने ये ऐलान किया था कि “वो किंग मेकर नहीं किंग बनेगे” जिससे कुमारस्वामी की सत्ता की महत्वाकांक्षा को साफ़ समझा जा सकता हैं. हालांकि डॉक्टर्स की सलाह पर कुमार स्वामी इस चुनाव के परिणाम वाले दिन सिंगापूर चले गये, क्योंकि उन्हें अंदेशा था कि बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही उन्हें समर्थन के लिए सम्पर्क करेगी, इस कारण ज्यादा  लोगों से ना मिलना पड़े, ये सोचकर उनके डॉक्टर्स ने उन्हें बाहर जाने की सलाह दी हैं. 

कुमारस्वामी और फिल्म प्रोडक्शन (Kumarswami and Film Production)

राजनीति के आलावा कुमारस्वामी की फिल्म बनाने में भी बहुत रूचि हैं. उन्होंने कई सफल कन्नड़ फ़िल्में बनाई हैं. उनका फिल्म मेकिंग में रुझान उनके पसंदीदा कन्नड़ एक्टर राजकुमार के कारण हुआ.

उन्होंने कुछ फ़िल्में जैसे सूर्य वंशा, गलते एलीअंद्रू, चन्द्र चकोरी और जैगुआर भी बनाई, जिनमें चन्द्र चकोरी के अलावा सभी ने एवरेज प्रदर्शन किया. चन्द्र चकोरी ने 365 दिनों तक थिएटर में लगे रहने का रिकॉर्ड भी बनाया था.

कुमार स्वामी और विवाद (kumarswami and Controversy)

कुमारस्वामी का नाम कन्नड़ फिल्म अभिनेत्री राधिका के साथ भी जोड़ा जाता हैं. और कुमारस्वामी के राधिका के साथ दूसरी शादी करने की भी खबर हैं.

HD Kumaraswamy Wife

HD Kumaraswamy Wife

अन्य पढ़े:

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *