ताज़ा खबर
Home / कविताये / हिंदी कविता : मासूम (बाल शोषण)

हिंदी कविता : मासूम (बाल शोषण)

मासूम हिंदी कविता (Child Harassment Poem In Hindi) | बाल शोषण (Child Harassment) एक ऐसा अपराध हैं जिसे सुनकर किसी का भी दिल रुआंसा हो जाता हैं | ह्रदय में गुस्से की आग धधक उठती हैं | जिस कोमल बच्चे को देख ममता का भाव जागता हैं उसके साथ जब कोई इस तरह की निर्दयता का व्यव्हार करता हैं तो गुस्सा आता हैं उस कायर पर जिसने अपनी गन्दी हैवानियत का शिकार उस मासूम सी जान को बनाया | ऐसे घिनोने अपराधो को सुनकर इंसानियत  पर से विश्वास उठ जाता हैं | कैसे करें कोई किसी पर यकीन जब चारो तरफ अविश्वास हैं | जब लाखो के यकीन को भगवा ओडे ये पाखंडी भी तोड़ देते हैं तो कैसे कोई अपने मासूम को इस जालिम दुनियाँ में अकेला छोड़े |
Baal Shoshan Kavita Child Harassment Poem In Hindi

मासूम

मासूम की मासूमियत से भी खेल रही है दुनिया,
जंगली जानवर की तरह झंझोड़ रही है दुनिया |
इंसानियत पर कोई विश्वास नहीं रह गया,
आज आदीमानव से ज्यादा विचारहीन मानव हो गया |
किसे सिखाएं इस पढ़ी लिखी दुनियां में,
जब अपना ही लगा गया दाग, मासूम के दामन में |
कोई किसी का नहीं रह गया, यह कलयुग का दौर है,
संत महापुरुष में भी, छिपा यहाँ चौर है ||
 

By: कर्णिका पाठक

Child Harassment Poem In Hindi, बाल शोषण हिंदी कविता, Baal Shoshan Par Kavita

Poem In Hindi यह ब्लॉग कैसा लगा आप हमें कमेंट में लिखे |

साथ ही अगर आप लिखने के शौक़ीन हैं तब deepawali.add@gmail.com पर सम्पर्क करें आपकी कृति नाम और फोटो के साथ published की जाएगी |

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

bewafa bewafai shayari

बेवफ़ा / बेवफ़ाई पर शायरी

बेवफ़ाई इश्क का एक ऐसा मंजर हैं जो या तो तोड़ देता हैं या जोड़ …

One comment

  1. kya love marriage 1 solution hoga
    aur agar hoga tab bhi kya guarantee h

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *