ताज़ा खबर

आवासीय ऋण क्या है आवेदन कैसे करें | Home Loan apply, EMI, interest rate, benefits and loss in hindi

आवासीय ऋण क्या है, आवेदन कैसे करें, ईएमआई, व्याज दर, लाभ और हानि | What is Home Loan, how to apply, EMI, interest rate, benefits and loss in hindi

लोन एक बहुत प्रचलित शब्द है. जिसे हर व्यक्ति किसी ना किसी रूप मे लेता है कोई अपनी जरुरत के लिये तो कोई अपने सपने को पूरा करने के लिये लोन लेता है. लोन एक तरह का ऋण है जोकि, किसी भी बैंक द्वारा या आज कल कुछ प्राइवेट कम्पनी द्वारा भी दिया जाता है जोकि, एक राशि के रूप मे निश्चित ब्याज दर पर एक निश्चित अवधि के लिये लिया जाता है. लोन कई प्रकार का होता है जैसे- होम लोन, एजुकेशन लोन, व्यक्तिगत लोन, वाहन लोन आदि. यहाँ होम लोन के बारे में जानकारी दी जा रही है.

घर एक ऐसा स्थान होता है, जहाँ आप दिन भर के थकान से आराम लेने और अपने परिवार के साथ सुन्दर और सुखद क्षण व्यतीत कर सकते है. खुद का घर किसी भी व्यक्ति के लिए जीवन का सबसे महत्वपूर्ण और आवश्यक जरुरत होती है, और इसको लेने या तैयार करने के लिए आवश्यक वित्त की भी जरुरत पड़ती है. इसे आवासीय ऋण के द्वारा पूरा किया जा सकता है. इसके लिए आवेदन करने और इसके लिए ब्याज दर व लाभ को यहाँ दर्शाया गया है.

होम लोन या आवासीय ऋण क्या है? (What is Home Loan)

वैसे व्यक्ति जो अपना घर लेना चाहते है लेकिन उनके पास उस घर को लेने के लिए पर्याप्त पूंजी नहीं हो, तो वो किसी भी बैंक से ऋण लेकर अपने घर का सपना पूरा कर सकते है. इसके लिए बहुत सारे बैंक अपने ग्राहकों के लिए ऋण को लेने की पेशकश भी करते है, लेकिन व्यक्ति को ऋण देने के बदले में बैंक के द्वारा ऋणदाता की सम्पति ऋण को ब्याज सहित चुकाने तक, सुरक्षा के रूप में गिरवी रखी जाती है. ऐसा इसलिए किया जाता है की जब उधारकर्ता ऋण को नहीं चूका पाता है या चुकाने में असफल रहता है तो बैंकर उस गिरवी सम्पति को बेचकर उधार दिए गए धन की राशि को प्राप्त कर सकते है.  

आवासीय ऋण के प्रकार (Home Loan types)

आवास ऋण कई प्रकार के हो सकते है जिनमे से कुछ इस प्रकार है – घर को खरीदने के लिए लिया जाने वाला ऋण, घर की मरम्मती के लिए लिया गया ऋण, घर के विस्तारीकरण के लिए ऋण, घर के निर्माण के लिए ऋण इत्यादि ये सभी आवासीय ऋण के अंतर्गत आते है.      

आवासीय ऋण के लिए ब्याज दर (Home Loan interest rate)  

सभी बैंक की ब्याज की दर अलग अलग होती है जिनमे से कुछ का विवरण हमने नीचे तालिका के माध्यम से देने की कोशिश की है जो निम्न है :-

बैंक का नाम ऋण की राशि ऋण भुगतान का साल ब्याज की दर
स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया 20 लाख 15 साल 8.35% 
बैंक ऑफ़ बरोदा 30 लाख 20 साल 8.55% 
एक्सिस बैंक 20 लाख 15 साल 8.35% 
यूनियन बैंक ऑफ़ इण्डिया 20 लाख 15 साल 8.75% 
बैंक ऑफ़ इण्डिया 20 लाख 15 साल 8.65% 
कारपोरेशन बैंक 20 लाख से 30 लाख 15 साल से 20 साल 8.85% 
यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इण्डिया 20 से 30 लाख 15 से 20 लाख 8.80% 

home loan

आवासीय ऋण लेने के लिए योग्यता (Home Loan eligibility)

किसी भी बैंक के द्वारा ऋण दिए जाने से पहले ये जरुर देखा जाता है कि आप जितनी धन राशि का ऋण लें रहे है, उसको चुकाने के लिए आपके पास क्षमता है या नही. प्रत्येक बैंक कि अलग अलग ऋण लेने की योग्यता का मानदंड हो सकता है. 

  • वित्तीय स्थिति : बैंक या कोई भी संस्था आपकी आय और सम्पति के विवरण के आधार पर ही आपको ऋण देंगे. इसके लिए आपको आपकी वेतन स्लिप और बैंक स्टेटमेंट दिखाने होंगे.
  • आयु : ऋण लेने के लिए उम्र न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 60 होनी चाहिए.
  • क्रेडिट इतिहास : आवेदक के अच्छे क्रेडिट रिकॉर्ड देखा जाता है. इसमें कुछ भी डिफ़ॉल्ट होने से बैंक, ऋण देने से मना भी कर सकता है.
  • रोजगार स्थिरता : अगर उधारकर्ता वेतनभोगी है, तो वर्तमान में 2 वर्षो तक की सैलिरी का रिकॉर्ड और अगर खुद का रोजगार है, तो 5 साल तक की आय का रिकॉर्ड देखा जाता है.

आवासीय ऋण के लिए आवेदन करने का तरीका (How to apply Home Loan in hindi)

आप आवासीय ऋण के लिए ऑनलाइन या सीधे तौर पर बैंक में भी जाकर आवेदन कर सकते है.

  • सबसे पहले बैंक के लोन एक्सेक्टिव से बात कर सारी जानकारी प्राप्त कर लें फिर आवेदन फॉर्म को भरकर अपने दस्तावेज़ के साथ उसे जमा करना होता है.
  • ऑनलाइन आवेदन के लिए जिस भी बैंक या संस्था के माध्यम से आप ऋण लेने की सोच रहे है, उसके वेबसाइट पर जाकर आप आवास ऋण के फॉर्म को भर सकते है.            
  • फॉर्म के खुलते ही आपको अपना नाम डालना होता है, फिर आपको अपना इ-मेल आईडी और मोबाइल नम्बर डालना होता है, आपके जन्म की तारीख के साथ ही राज्य और शहर का नाम, पता, पिन कोड, ऋण का उद्देश्य, रोजगार की स्थिति, मासिक आय, आपको फोन करने का सही समय, आपको ऋण की जरुरत कितने समय में है ये सभी विवरण भरना होगा, फिर आप इसको जमा कर दे. आवास ऋण जमा करते वक्त एक प्रोसेसिंग शुल्क भी बैंकों के द्वारा लिया जाता है.

बैंक द्वारा उधारकर्ता को आवासीय ऋण देने की जाँच प्रक्रिया (Bank Home Loan checking procedure)

  • बैंक को आपने जो जानकारी या दस्तावेज़ दिए है उनकी जाँच होने के बाद बैंक या संस्था के प्रतिनिधि आपके घर, कार्यालय का सत्यापन करेगे.   
  • बैंक आपकी आय की गणना करते हुए जो भी आपका वेतन या बैंक स्टेटमेंट होगा उसके वे 30% को ही बचत मानते है. जैसे कि अगर आपकी आय 60,000 रुपये है तो बैंक द्वारा आपकी बचत 18,000 रुपये मानी जाएगी और इसी के आधार पर आपको ऋण की पेशकश की जाएगी.
  • गृह ऋण को देने से पहले बैंक वकील के माध्यम से आपकी सम्पति का क़ानूनी सत्यापन कराएँगे. वकील आपके सम्पति की क़ानूनी रिपोर्ट जारी करेगा. यदि उधारकर्ता चाहे तो कुछ पैसों का भुगतान कर रिपोर्ट की कॉपी प्राप्त कर सकता है.
  • उसके बाद बैंक, सम्पति के बाजार मूल्य का निर्धारण करने के लिए एक वैल्युयर की नियुक्ति करेगा. इससे बैंक आपकी ऋण चुकाने की क्षमता को देखेंगे. अगर जो भी संपत्ति का विवरण आपने दिया है वो बैंक के द्वारा पहले से ही अनुमोदित हो तो इस प्रक्रिया को फिर से नहीं किया जायेगा. 
  • पूरा सत्यापन होने के बाद बैंक आपकी संपत्ति के विरुद्ध ऋण की मंजूरी दे देगा. उसके बाद बैंक के द्वारा एक स्वीकृति पत्र जारी किया जायेगा, जिसमे आवास ऋण से सम्बंधित सभी शर्ते और नियम का ब्यौरा होगा. उसके बाद उधारकर्ता को आवास ऋण समझौते पर हस्ताक्षर करना होता है.
  • समझौते पर हस्ताक्षर के बाद बैंक के द्वारा आपको दिए गए तारीख के अनुसार ऋण की प्राप्ति हो जाती है.      

आवासीय ऋण के लिए आवश्यक दस्तावेज (Home Loan required document)

बैंक से या किसी भी संस्था से ऋण को लेने के लिए आपके पास कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरुरत पड़ेगी जो निम्नलिखित है :-

  • 3 कॉपी पासपोर्ट साइज फोटो
  • आवासीय प्रमाण या पते का प्रमाण : घर से सम्बंधित सभी कागजात जैसे गैस बिल, नवीनतम बिजली बिल, टेलीफोन बिल आदि. 
  • पहचान पत्र : वोटर आई डी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, आधार कार्ड या पासपोर्ट इन में से कोई भी एक दस्तावेज़ आपको जमा करने होंगे. यह सुनिश्चित कर लें कि जो भी आप दस्तावेज़ बैंक को दे रहे है, उनमें आपका नाम और पता सही हो और समान हो.     
  • आमदनी के प्रमाण के लिए : आत्म प्रमाणित नवीनतम 3 महीने की वेतन पर्ची, सर्टिफिकेट निश्चित सैलिरी का, 6 महीने का बैंक विवरण के साथ साथ आईटीआर या नवीनतम फॉर्म संख्या 16. अगर आप व्यावसायिक हो तो आपको 3 साल का बैलेंस सीट के साथ लाभ और हानि का दस्तावेज़ देना होगा.      

आवासीय ऋण के लिए ईएमआई कैलकुलेटर (Home Loan EMI calculator)

ईएमआई का भुगतान महीने के निश्चित तारीख तक किया जाता है. आप अपने ईएमआई की गणना पहले से भी कर सकते है, जिससे आपको अपने बजट को बनाने में मदद मिलेगी. ईएमआई में मूलधन और ब्याज की राशि दोनों होती है, जो आपके ऋण को चुकता करने तक के महीनो में विभाजित होती है. ईएमआई की गणना आप इस सूत्र के माध्यम से कर सकते है :-      

E = ईएमआई, P = मूलधन, r = ब्याज की दर, n = समय.    

आवासीय ऋण के लिए हस्तांतरण (How to transfer Home Loan)

अगर आप अपने आवास ऋण देने वाले मौजूदा बैंक से खुश नहीं है, तो आप ऋण का हस्तांतरण दुसरे बैंक में कर सकते है. ऋण का हस्तांतरण तभी संभव है जब आप वर्तमान बैंक में लिए हुए ऋण की चुकौती को नियमित रूप से कर रहे है. इसकी प्रक्रिया बहुत ही सरल है जोकि इस प्रकार है –

  • सबसे पहले आपको ऋण देने वाले वर्तमान बैंक या संस्था स्थानांतरण के लिए अनुरोध स्वरुप एक आवेदन जमा करना होगा.
  • उसके बाद बैंक आपको एनओसी या सहमती पत्र देंगें, साथ ही आपके बकाया राशी का विवरण भी देंगें.
  • इसको लेकर अर्थात इन दस्तावेजों को आपको उस बैंक में जमा करना होगा जिस बैंक मे आप ऋण को हस्तांतरण करना चाहते है. उसके बाद नए बैंक के द्वारा आपके पुराने बैंक की ऋण राशी को रोक दिया जाता है.
  • सभी तरह के लेन देन होने के बाद पुराने बैंक के द्वारा आपके नए बैंक में संपत्ति के पेपर को सौप दिया जायेगा. फिर पोस्ट की गयी चेक को रद्द कर दिया जाता है.
  • जिस भी बैंक में आप हस्तांतरण कर रहे है, उस बैंक के द्वारा फिर नये रुप से सभी प्रक्रियाओं जैसे की क्रेडिट मूल्यांकन, तकनीकी मूल्यांकन और सम्पति का सत्यापन इत्यादि किया जायेगा.
  • हस्तांतरण की सारी प्रक्रिया के लिए आपको नए बैंक या संस्था को प्रोसेसिंग शुल्क देना होगा, जोकि ऋण राशी का 0.5% से 1.5% के बीच तक हो सकता है.             

आवासीय ऋण के लाभ (Home Loan benefits)

आवासीय ऋण एक सुरक्षित ऋण होता है, जिसको लेने से आपको नुकसान की तुलना में फ़ायदा अधिक होता है. आवासीय ऋण लेने के कई फायदे है जो कि निम्नवत है :-

  • मुद्रास्फीति से बचाव का लाभ : अगर आप आवास ऋण ले कर अपने घर का सपना पूरा करते है तो इसका सबसे बड़ा फ़ायदा यह होगा कि लम्बी अवधि की मुद्रास्फीति से बच सकते है, क्योकि हाल के कुछ वर्षों में सम्पत्ति की कीमतों में अधिक उछाल आया है जिसमे फ़्लैट की निर्माण लागत में भी बढ़ोत्तरी हुई है. अगर आप घर के लिए निवेश करते है तो इस तरह के बढ़ते दामों से बचने का लाभ उठा सकते है.
  • कम ब्याज दर का लाभ : आवास ऋण को चुकाने की नीति दीघ्रकालिक होती है इसमें ब्याज की दरे बढ़ती और घटती रहती है, जिस वजह से जब ब्याज की दर कम होगी उस वक्त आपको फ़ायदा होगा. आवास ऋण की ब्याज की दर किसी और तरह की ऋण की तुलना में कम होती है. इसको प्राप्त करना भी बहुत आसान होता है.    
  • ब्याज की दर पर कटौती : अगर आप पहले से आवसीय ऋण के लिए ईएमआई का भुगतान कर रहे है तो आप ब्याज कटौती के लिए दावा कर सकते है. इसके साथ ही आप आयकर को भी देने से बच सकते है. आयकर अधिनियम की धारा 24 के सेक्शन 80 सी के अनुसार आप अपने आवास ऋण पर ब्याज कटौती का दावा कर सकते है. इससे आप 2,00,000 तक के रूपये पर कर छुट पा सकते है. सेक्शन 80 इ इ के तहत जो पहली बार आवास ऋण लेने वाले उपभोक्ता है, उनको ब्याज कटौती की अनुमति तभी मिल सकती है जब उनके द्वारा लिया गया ऋण 35 लाख तक का हो और खरीदी गयी संपत्ति का मूल्य 50 लाख से कम हो. इस कटौती का लाभ ऋण के पुनर्भुगतान तक जारी रहेगा. 

आवासीय ऋण से हानि (Home Loan loss)

बैंक से ऋण लेना लाभकारी होने के साथ ही कुछ नुकसानदायक भी है जो उधारकर्ता को पता होनी चाहिए, जिसे हमने नीचे संदर्भित किया है–

  • आवास ऋण लेने के लिए आपको किसी गारंटर को भी लेना पड़ता है इसके साथ ही अगर आप तीन महीने से अधिक तक के लिए डिफाल्टर या दिवालिया अर्थात भुगतान नहीं कर पाते है तो बैंक अपने पैसों को वापस लेने के लिए संपत्ति की नीलामी कर सकता है.  
  • ब्याज की दर में उतार चढ़ाव आवास ऋण में प्रमुख रूप से हानि पहूँचाता है क्योकि यह अनिश्चित होता है.
  • अगर आप 5 साल के अंदर में अपनी सम्पति को बेचते है तो धारा 80 सी के तहत जो कटौती आपको मिलती थी वो प्राप्त नहीं होगी और उसको आपकी आय में जोड़ा जायेगा.

होम लोन के सम्बन्ध मे महत्वपूर्ण बातें (Home Loan facts)

  • होम लोन लेने से पहले सभी बैंकों मे जाकर, उसकी शर्तो को तथा होम लोन की प्रकिया समझ लेनी चाहिये.
  • सभी बैंकों मे अलग-अलग ब्याज दर होती है, उससे संबंधित पूरी जानकारी बैंक से ले, तथा जिसमे ब्याज दर कम हो उसे देखे.
  • बैंक को स्वयं तथा सम्पति की सही जानकारी दे व समय-समय पर बैंक की नयी शर्तो की भी जानकारी रखे.

अन्य पढ़ें

Priyanka
Follow me

Priyanka

प्रियंका दीपावली वेबसाइट की लेखिका है| जिनकी रूचि बैंकिंग व फाइनेंस के विषयों मे विशेष है| यह दीपावली साईट के लिए कई विषयों मे आर्टिकल लिखती है|
Priyanka
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *