ताज़ा खबर

ड्राइविंग लाइसेंस ऑनलाइन अप्लाई कैसे करें | How to apply for driving licence document required In Hindi

How to apply for driving licence in hindi अधिकतर लोगो का सोचना होता है कि बिना किसी एजेंट की मदद से हम ड्राइविंग लाइसेन्स नहीं पा सकते, परंतु ऐसा नही है. अगर कोई व्यक्ति लाइसेन्स प्राप्त करने के लिए सही प्रक्रिया अपनाता तथा उसके पास सभी जरूरी कागज उलब्ध हो, तो व्यक्ति अपना लाइसेन्स खुद ही बनवा सकता है. वो भी बिना किसी एजेंट की मदद के, और बिना किसी को अतिरिक्त पैसे दिये. आपके पास ड्राइविंग लाइसेन्स प्राप्त करने के लिए सभी दस्तावेजों की कॉपी तथा ओरिजनल दोनों ही होना आवश्यक है. तथा आवेदन करने वाले को लाइसेन्स प्राप्त करने के लिए लर्निंग लाइसेन्स टेस्ट के लिए भी अप्लाई करना होता है, तथा उसे क्लियर भी करना होता है.

अब हम देखते है कि ड्राइविंग लाइसेन्स कैसे प्राप्त करे वो भी बिना किसी एजेंट की मदद के. सबसे खास बात यह है कि बिना किसी एजेंट की मदद के हम ड्राइविंग लाइसेन्स न सिर्फ 360 रूपय मे पा सकते है, बल्कि अगर हम इसे एजेंट की मदद से प्राप्त करें तो इसका शुल्क 1000 से 1500 रूपये के बीच लग सकता है.

 driving licence

ड्राइविंग लाइसेंस क्या है? (What is driving licence)

ड्राइविंग लाइसेंस भारत सरकार द्वारा जारी किया गया एक अधिकारिक दस्तावेज है, जोकि बिना किसी की मदद के सार्वजानिक सड़क पर मोटर चालित वाहन जैसे कार, मोटरसाईकिल, ट्रक, बस आदि को चलाने या संचालित करने के लिए व्यक्तियों को अनुमति प्रदान करता है. भारत में, उस विशेष राज्य के क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण (RTA) या क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (RTO) द्वारा जारी किया जाता है. मोटर वाहन अधिनियम 1988 के तहत बिना ड्राविंग लाइसेंस के किसी भी व्यक्ति को सार्वजनिक स्थान पर मोटर वाहन चलाने के लिए अनुमति नहीं दी गई है.

इसलिए, यदि आप सड़कों पर कार या स्कूटर जैसे वाहन चलाना चाहते हैं तो इससे पहले आपको एक वैध ड्राइविंग लाइसेंस रखना होगा. यदि आप वाहन चलाने का अभ्यास कर रहे हैं तो सबसे पहले आपको लर्निंग लाइसेंस प्राप्त करना होगा, जोकि एक अनंतिम लाइसेंस के रूप में कार्य करेगा. इसके बाद एक स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस की योग्यता प्राप्त करने के लिए एक परिक्षण देना होगा. ऑनलाइन सुविधाओं का आगमन, उपयोगकर्ता को अपने घरों से आराम से ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन देने की अनुमति देता है. इससे ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करना एक आसान काम बन गया है.

ड्राइविंग लाइसेंस के प्रकार (Types of driving licence in India)

वाहन के वर्ग के आधार पर भारतीय आवेदकों को विभिन्न ड्राइविंग लाइसेंस प्रदान किये जाते है. इसके आलावा पात्रता मानदंड अलग वाहन कक्षाओं से सम्बंधित ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अलग – अलग है. नीचे कुछ लोकप्रिय वाहन कक्षाएं दी जा रही है, जिनके लिए भारत में ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त किया जा सकता है.

  • 50 cc या उससे कम की इंजन क्षमता वाली मोटरसाईकिल
  • गियर वाली मोटरसाईकिल, 50 cc से अधिक क्षमता वाली मोटरसाईकिल, लाइट मोटर वाहन जिसमे कार भी शामिल है.
  • सभी तरह की मोटरसाईकिल जिसमे गियर वाली मोटरसाईकिल भी शामिल हो.
  • किसी भी cc की मोटरसाईकिल लेकिन बिना गियर वाली जैसे स्कूटर और मोपेड्स.
  • गैर परिवहन प्रयोजनों के लिए लाइट मोटर वाहन.
  • वाणिज्यिक प्रयोजनों के लिए लाइट मोटर वाहन.
  • भारी मोटर वाहन
  • भारी माल मोटर वाहन
  • भारी वाहन ड्राइविंग लाइसेंस वाले उम्मीदवार भारी ट्रेलर लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकते हैं.

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए पात्रता मानदंड (Driving licence eligibility in India)

भारत में ड्राइविंग लाइसेंस की पात्रता वाहन के वर्ग और ड्राइविंग लाइसेंस के प्रकार पर निर्भर करती है. भारत में अलग – अलग स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस के प्रकारों के लिए निम्न पात्रता मानदंड है –

क्र.. स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस के प्रकार पात्रता मानदंड
1. गियर के बिना मोटरसाईकिल (50 cc तक की क्षमता वाला) आवेदक को कं से कं 16 साल का होना चाहिए और यदि वह 18 साल से कं उम्र का है तो उसे माता – पिता या अभिभावक की सहमति होनी चाहिए.
2. गियर वाली मोटरसाईकिल आवेदक कम से कम 18 साल का होना चाहिए.
3. वाणिज्यिक भारी वाहन या परिवहन वाहन आवेदक को आठवीं कक्षा का होना चाहिए. आवेदक कम से कम 18 साल का होना चाहिए (कुछ राज्यों में न्यूनतम आयु 20 वर्ष है)
4. सामान्य आवश्यकता आवेदक को यातायात के नियमों और विनियमों से परिचित होना चाहिए. आवेदक के पास वैध आयु प्रमाण और पता प्रमाण दस्तावेज होने चाहिए.

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवश्यक दस्तावेज (Driving licence documents required in India)

जब आप ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन देते हैं तो आपके पास निम्न दस्तावेज होना बहुत जरुरी है –

  • आयु प्रमाण (निम्न में से कोई एक)
  1. जन्म प्रमाणपत्र
  2. पैन कार्ड
  3. पासपोर्ट
  4. 10 वीं कक्षा की अंकसूची
  5. स्थानान्तरण प्रमाणपत्र किसी भी स्कूल का जिसमे जन्मतिथि लिखी हुई हो.
  • ड्राइविंग लाइसेंस के लिए पता का प्रमाण (निम्न में से कोई एक)
  1. स्थायी पते के लिए पासपोर्ट, आधार कार्ड, स्वयं का स्वयं के घर का एग्रीमेंट, बिजली बिल (आवेदक के नाम से जारी वाला), LIC बांड,वोटर आईडी कार्ड, राशन कार्ड आदि में से कोई भी.
  2. अस्थायी पते के लिए किराया अनुबंध और बिजली बिल या किराया अनुबंध और एलपीजी बिल आदि में कोई भी.
  • इन सब के अलावा निम्न दस्तावेज
  1. विधिवत रूप से भरा आवेदन फॉर्म (ड्राइविंगलाइसेंस का आवेदन पत्र प्राप्त करने के लिए, निकटतम RTO पर जाएँ या अपने राज्य के ऑनलाइन पोर्टल से डाउनलोड करें.)
  2. 6 पासपोर्ट आकार की फोटो (लर्निंग लाइसेंस के लिए आवेदन देने समय)
  3. 1 पासपोर्ट आकार की फोटो (स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन देने समय)
  4. आवेदन फीस
  5. यदि आप अन्य शहर में रह रहे हैं तो वर्तमान पता प्रमाण के रूप में, आप एक हालिया उपयोगिता बिल कॉपी के साथ किराया एग्रीमेंट के रूप में पेश कर सकते है यह गैस बिल या बिजली बिल हो सकता है.
  6. मेडिकल सर्टिफिकेट – फॉर्म 1 A और 1 जो प्रमाणित सरकारी डॉक्टर द्वारा जारी किया जाना है.
  7. 40 वर्ष से अधिक आयु के सभी स्वेद्कों के लिए, एक मेडिकल सर्टिफिकेट अनिवार्य है.

ड्राइविंग लाइसेंस का फोर्मेट (Driving licence format in India)

भारत में ड्राइविंग लाइसेंस का एक प्रारूप है. निम्न उदाहण की मदद से हम इस प्रारूप को प्रदर्शित कर रहे है –

मान लीजिये कि आप बैंगलुरू में हते हैं, और आपके पास एक वाहन है जिसका लाइसेंस प्लेट नंबर मान लीजिये कि KA-01–2015-004557 है.

  • पहले दो अक्षर KA राज्य को दर्शाते हैं, जहाँ वाहन पंजीकृत है. ऊपर दिए उदाहरण में कर्नाटक है.
  • 01 शहर का कोड है. अलग – अलग शहरों का अलग – अलग कोड होता है.
  • 2015 वह वर्ष है जब लाइसेंस मुद्रित और उपयोगकर्ता को दिया गया था.
  • इसके बाद दिए गये अंक उपयोगकर्ता के लिए अद्वितीय पहचान संख्या का निर्माण करते हैं.

भारत में इस तरह के फोर्मेट में ड्राइविंग लाइसेंस उपलब्ध किये जाते हैं.

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए ऑनलाइन आवेदन देने का तरीका (Driving licence apply online in India)

लर्निंग लाइसेंस या ड्राइविंग लाइसेंस के लिए ऑनलाइन आवेदन देने की निम्न प्रक्रिया है-

  • सारथी वेबसाइट पर विजिट करें और फिर वहाँ से ड्राइविंग लाइसेंस का आवेदन पत्र डाउनलोड करें.
  • आपकी स्क्रीन पर जो भी जानकारी फॉर्म में भरने को पूछा है उसे भरें और सबमिट कर दें.
  • छोटे आवेदकों के मामले में, फॉर्म को प्रिंट कर भाग डी के निकटतम RTO में अपने माता पिता / अभिभावक द्वारा फॉर्म को भरने और हस्ताक्षरित किया जा सकता है.
  • आवेदन फॉर्म के लिए प्रस्तुत किये जाने वाले दस्तावेज अपलोड करें (उम्र का प्रमाण, पते का प्रमाण और लर्निंग लाइसेंस का नंबर).
  • यह सब प्रस्तुत करने के बाद एक वेब एप्लीकेशन नुम्वर तैयार किया जायेगा, जिसका प्रयोग एप्लीकेशन की स्थिति को चेक करने के लिए किया जा सकता है.
  • एक बार आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद, एक सूचना एसएमएस के जरिये भेजी जाएगी.

ड्राइविंग लाइसेन्स प्राप्त करने का तरीका (How to apply for driving licence In Hindi)

ड्राविंग लाइसेंस को निम्न प्रकार से प्राप्त किया जा सकता है –

  • ड्राइविंग लाइसेन्स प्राप्त करने के लिए सबसे पहले लर्निंग लाइसेन्स प्राप्त करना होता है. लर्निंग लाइसेन्स प्राप्त करने के लिए आपको मोटर ड्राइविंग व्हिकल एक्ट के अनुसार फॉर्म 1 और फॉर्म 2 मे अप्लाई करना होता है.
  • इसके लिए आपको आपकी जन्म तारीख तथा एड्रैस प्रूफ का स्त्यापन करना होता है. पासपोर्ट, आधार कार्ड, LIC पॉलिसी आदि दस्तावेज इसके लिए स्वीकार किए जा सकते है. ध्यान रहे राशन कार्ड, बैंक स्टेट मेंट, मोबाइल बिल, क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट, आदि सत्यापन के लिए  उपयोग नही किए जा सकते हैं.
  • लर्निंग लाइसेन्स के लिए आपके पास आपकी फोटो होना भी अनिवार्य है, तथा ध्यान रहे आप जो भी दस्तावेज दे रहे है, वह ओरिजनल रूप मे आपके पास हो.
  • जब आप यह औपचरिकताए पूरी कर ले, तो आपको अपने शहर के RTO मे विसिट करना चाहिए।
  • फॉर्म को ध्यान से भरना चाहिए, फिर RTO मे अपने दस्तावेजों का सत्यापन कराना चाहिए।
  • एक RTO अधिकारी आपके दस्तावेज का सत्यापन करता है, तथा फिर आपको 60 रूपये भरने होते है, जोकि आपके टेस्ट तथा लर्निंग लाइसेन्स का शुल्क होता है ।
  • जब आप शुल्क जमा कर दें, तो आपका बायोमेट्रिक रेकॉर्ड लिया जाता है. इसके लिए वेबकैम की सहायता से आपकी फोटो तथा आपके अंगूठे का निशान भी लिया जाता है.
  • जब यह सभी प्रक्रिया हो जाये, तब आपको लर्निंग लाइसेन्स टेस्ट के लिए जाना होता है. इसमे आपसे रोड साइन से संबन्धित 10 सवाल किए जाते है.
  • अब आपको सारी जानकारी रजिस्टर मे भरनी होती है, तथा अब आपको आपना फॉर्म जमा करना होता है.
  • टेस्ट क्लियर करने के बाद आप अपना लर्निंग लाइसेन्स दी गयी डेट को प्राप्त कर सकते है.

लर्निंग लाइसेन्स एक फ़ाइनल ड्राइविंग लाइसेन्स नहीं है. लर्निंग लाइसेन्स रखने वाले व्यक्तियों को अपनी गाड़ी के आगे और पीछे बड़े अक्षरो मे L लिखना होता है. तथा यह भी जरूरी है लर्निंग लाइसेन्स रखने वाले व्यक्ति जब ड्राइविंग करते है, तो एक फ़ाइनल ड्राइविंग लाइसेन्स रखने वाला व्यक्ति उसके साथ हो. यह लर्निंग लाइसेन्स केवल 6 महीने के लिए होता है. इन 6 महीनो के अंदर आपको फ़ाइनल ड्राइविंग लाइसेन्स प्राप्त करना होता है. अगर ऐसा नही होता है, तो आपको 30 रूपये देकर आपना लर्निंग लाइसेन्स रीन्यू करना होता है. अगर यह लाइसेन्स समय पर रीन्यू नहीं होता है, तो आपको फिर से लर्निंग लाइसेन्स के लिए आवेदन देना होता है.

लर्निंग लाइसेन्स के साथ वे लोग आपको आपके फॉर्म 1, फॉर्म 2 तथा आपके सभी दस्तावेज भी वापस कर देते है. यह दस्तावेज  आपको अपने स्थायी लाइसेन्स मे देने होते है.

स्थायी लाइसेन्स के लिए कैसे अप्लाई करे (Apply for Final driving licence) 

लर्निंग लाइसेन्स के प्राप्त करने के 1 महीने के बाद आप स्थायी ड्राइविंग लाइसेन्स के लिए आवेदन दे सकते है. इसके लिए आपको फॉर्म 4 के लिए अप्लाई करना होता है, तथा साथ मे फॉर्म 1 और 2 तथा लर्निंग लाइसेन्स भी देना होता है. जब आप ड्राइविंग का टेस्ट देने के लिए तैयार हो, तब आपको यह फॉर्म 300 रूपय फीस के साथ भरना होता है. आपको हर अतिरिक्त कक्षा, जोकि 3 पहिया, 4 पहिया, LMV, HMV आदि है के लिए अतिरिक्त 300 रूपये देने होते है. जब आप फॉर्म जमा कर देते है, तो आपको ड्राइविंग टेस्ट के लिए जाना होता है.

ड्राइविंग टेस्ट के समय कुछ ध्यान रखने योग्य बातें (Driving licence important things)

  • आपके पास अपना खुद का वाहन होना चाहिए, टेस्ट के लिए RTO कोई वाहन नही देता.
  • आपको फॉर्म के ऊपर आपके वाहन का पंजीकरण नंबर तथा गाड़ी का मॉडेल नंबर लिखना होता है.
  • अधिकारी आपसे रोड साइड तथा सुरक्षा के प्रश्न पूछ सकता है. इसके लिए तैयार रहना चाहिए.
  • आप जिस वाहन के लिए आवेदन कर रहे है, आपके पास वह वाहन होना चाहिए.

जब आप टेस्ट क्लियर कर लेते है, तो आपको एक नामित अधिकारी से मिलना चाहिए. आपको मिलते वक़्त फॉर्म 1, 2 और 4 साथ मे रखना चाहिए. तथा इन पर जो ऑफिसर टेस्ट लेता है, उसकी साइन होना चाहिए. इन फॉर्म को चेक करके वह नामित अधिकारी इस पर साइन कर देता है. इसकी एक कॉपी करवाकर काउंटर पर जमा कर देना चाहिए, तथा फिर आपको आपका ड्राइविंग लाइसेन्स आपके घर पर स्पीड पोस्ट के द्वारा मिल जाता है.

ड्राइविंग लाइसेंस खो जाने पर (When driving licence lost)

सभी वाहन चालकों को वाहन चलते समय ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत होती है. बिना इस दस्तावेज के आपको वाहन चलाने की अनुमति नहीं है. ऐसे में यदि आपका ड्राइविंग लाइसेंस खो जाये तो इसका डुप्लीकेट आपको बनवाना बहुत जरुरी है. इसके लिए निम्न प्रक्रिया अपनाये –

  • जहाँ आपने अपना ड्राइविंग लाइसेंस खो दिया है उस क्षेत्र के अधिकार क्षेत्र यानि पुलिस स्टेशन पर जाएँ.
  • यहाँ एक शिकायत दर्ज करायें और सुनिश्चित कर अपने प्रथम सूचना रिपोर्ट (FIR) की कॉपी प्राप्त कर लें.
  • मुद्रित कागज पर एक हलफनामा प्राप्त करने के लिए नोटरी कर्यालय में जाए, वहाँ जाकर एक शपथ पत्र बनवाये जो एक प्रमाण पत्र के रूप में कार्य करेगा कि आपने सम्बंधित अधिकारी (कार्यकारी मजिस्ट्रेट / नोटरी पब्लिक / प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट) से शपथ ली थी कि आपका लाइसेंस खो गया है.

आपको नोटरी सेवा और मुद्रांकित कागज के लिए एक छोटा सा शुल्क भी देना होगा.

भारत में अंतर्राष्ट्रीय ड्राइविंग परमिट (IDP in India)

एक भारतीय निवासी जिसे अंतर्राष्ट्रीय ड्राइविंग लाइसेंस जारी किया गया है वह एक वैध भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस रखता है. एक अंतर्राष्ट्रीय ड्राइविंग परमिट (IDP), एक भारतीय नागरिक को विदेश में मोटर वाहन चलाने की अनुमति देता है. IDP में मौजूद ड्राइविंग लाइसेंस का एकाधिक भाषा अनुवाद है और दिखने में पासपोर्ट जैसा है. हालाँकि IDP प्राप्त करने की प्रक्रिया राज्य में भिन्न होती है. पूरी आवेदन की प्रक्रिया और आवश्यक दस्तावेजों की सूची जानने के लिए निकटतम RTO या आपके राज्य परिवहन विभाग से संपर्क करें.

भारत में ड्राइविंग लाइसेंस आवश्यक क्यों है? (Driving licence importance)

इस तथ्य के अलावा कि एक व्यक्ति को भारत में कानूनी तौर पर मोटर वाहन चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए, इसके कई उपयोग हैं. यहाँ कुछ कारण मौजूद हैं जोकि ये बताते हैं कि भारत में ड्राइविंग लाइसेंस आवश्यक क्यों हैं –

  • आपकी व्यक्तिगत आईडी के लिए आवश्यक दस्तावेज

अक्सर यात्रा करते समय आपसे एक आईडी प्रदर्शित करने को कहा जाता है. इसके लिए हम सबसे पहले ड्राइविंग लाइसेंस दिखने के लिए अपने हाथ जेब में डालते हैं. इसलिए एक अन्य महत्वपूर्ण उद्देश्य जो एक ड्राइविंग लाइसेंस पूरा करता है वह है आपके व्यक्तिगत पहचान पत्र के रूप में. पासपोर्ट, वोटरआईडी कार्ड, पैन कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस आदि जैसे अन्य दस्तावेज भी  आपकी व्यक्तिगत पहचान देने के लिए स्वीकृत हैं.

  • कम्युनिकेशन आसान बनाने के लिए

इन दिनों कूच करना एक बहुत ही तनावपूर्ण गतिविधि है. सार्वजनिक परिवहन का प्रयोग एक कप चाय की तरह होता है. साथ ही, एक वाहन आपको एक मोबाइल की तरह स्वतंत्रता प्रदान करता है जब आपको इसकी जरूरत होती है. यह ध्यान रखते हुए, यदि आप कम्यूट के लिए एक कार या मोटरबाइक खरीदना चाहते हैं, तो आपको ऐसा करने से पहले ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करना होगा.

  • अनिवार्य कानूनी आवश्यकता

यदि आप भारत में या विदेश में ड्राइव करना चाहते हैं, तो ऐसा करने के लिए आपको एक वैध ड्राइविंग लाइसेंस रखने की आवश्यकता हैं. ड्राइविंग लाइसेंस एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है, जो मोटर चालित वाहन को चलाने या उसे चलाने की आपकी क्षमता तो दर्शाता हैं.

इस लिए ड्राइविंग लाइसेंस एक वाहन चालक के पास होना अतिआवश्यक हैं, क्योंकि इसके बिना कानून आपको वाहन चलाने की अनुमति नहीं देता है.

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान | Pradhan Mantri Gramin Digital Saksharta Abhiyan in hindi

Pradhan Mantri Gramin Digital Saksharta Abhiyan in hindi नोटबंदी के बाद देश को डिजिटल बनाने …

4 comments

  1. Aapka post bht achha hi maidam

  2. sir DL ka form ab online fill kiya jata h

    hm pchhna ye chahte h ki kaun si website se form online krna h aur kaise

    please sir btane ki kripa karei

    Thankyou

  3. Apne bhut achaa jankari aise hi jankari dete rahen thank u

  4. बहोत अछि जानकारी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *