ताज़ा खबर

प्रेरणादायक प्रसंग रामकृष्ण परम हँस

हिन्दू मान्यता के अनुसार, ईश्वर को त्रिगुणा स्वामी कहा जाता हैं इसी तरह एक समान्य मनुष्य में भी तीन गुणों का वास होता हैं और इन्ही गुणों के कारण एक मनुष्य का स्वभाव बन जाता हैं | इसके जरिये आपको इन गुणों का महत्व बताते हैं |

तीन चौर थे,जो लूट के इरादे से एक व्यक्ति को पकड़ते हैं और उसका पूरा धन लूट लेते हैं अब तीनों विचार कर रहे हैं कि उस व्यक्ति का क्या करें ? पहला चौर कहता हैं – हमें इस व्यक्ति से क्या लाभ, इसे मार देना चाहिए | दूसरा चौर कहता हैं – नहीं, हमें इसे बाँध कर छोड़ जाना चाहिए | तीसरा चौर कहता हैं हमें जो चाहिए था, वो हमें मिल गया, अब हमें इसे छोड़ देना चाहिए |

Ramkrishana Paramhansa

एक ही परिस्थिति के तीन भाव हैं और यही भाव सांसारिक मनुष्य के व्यवहार को बनाते हैं |

पहला भाव हैं “तमोगुण”- यह भाव ह्रदयहिन हैं जो घृणा और पाप करना जानता हैं |
दूसरा भाव हैं “रजोगुण”, यह एक ऐसा भाव हैं जो मोह में फँसाता हैं |
तीसरा भाव हैं “सतोगुण”, यह सभी बंधनों को काटता हैं, इन्सान में प्रेम,दया और सदभाव भरता हैं और अन्य दोनों भाव का नाश करता हैं |

यह तीन भाव ही जीवन के आधार हैं इस भवसार को पार करने के लिए इन तीनो भावों का उचित मात्रा में पालन करना आवश्यक हैं | एक ही मनुष्य में इन तीनो भावों का समावेश होता हैं उसे सोच समझकर, धैर्य से इस्तेमाल करने वाला ही जीवन में सफल होता हैं |

अन्य हिंदी कहानियाँ एवम प्रेरणादायक प्रसंग के लिए चेक करे हमारा मास्टर पेज

हिंदी कहानी

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

rishi-durvasa

ऋषि दुर्वासा जीवन परिचय कहानियां | Rishi Durvasa Story In Hindi

Rishi Durvasa biography story in hindi हिन्दू पुराणों के अनुसार ऋषि दुर्वासा, जिन्हें दुर्वासस भी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *