ताज़ा खबर

IT Section 66A Freedom of Speech in Hindi

आज सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम् फैसला लिया जिसके तहत IT Section 66A को ख़त्म किया गया | इस फैसले से सरकार नाखुश हैं लेकिन सोशल मीडिया से जुड़े लोग बेहद खुश हैं और आज के दिन को आजादी का नाम दे रहे हैं |
IT Section 66A Freedom of speech in Hindi

क्या हैं आईटी एक्ट 66 की धारा  What Is IT Section 66A In Hindi :

इस एक्ट के अनुसार कोई भी व्यक्ति अगर अपने कंप्यूटर, लेप टॉप या मोबाइल के जरिये सोशल साइट्स पर कुछ ऐसे पोस्ट डालता हैं जिनके कारण अन्य कोई नाखुश हैं तो डालने वाले को IT Section 66A के तहत तुरंत गिरफ्तार करने का प्रावधान हैं | इसके लिए पुलिस को वरिष्ठ अधिकारीयों से बात किये बिना तुरंत एक्शन लेने की स्वतंत्रता दी गई थी |

लेकिन जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमें अपने देश के बोलने की, अपने विचार व्यक्त करने की पूर्ण स्वतंत्रता हैं यह हक़ हमें संविधान के अनुच्छेद 19(1) A के तहत मिले हैं | अतः Act 66 सीधे-सीधे मौलिक अधिकारों का हनन कर रहा हैं |सुप्रीम कोर्ट में IT Section 66A के तहत कई याचिकाये डाली गई जिनमे यह स्पष्ट था कि IT Section 66A से सभी नाखुश हैं यह नागरिको के अधिकारों का हनन हैं | जिसके बाद सरकार ने पुलिस को वरिष्ठ अधिकारीयों की अनुमति लेने के लिए बाध्य किया लेकिन फिर भी IT Section 66A का विरोध जारी यहाँ और कई याचिकाएँ सुप्रीम कोर्ट में डाली गई  |

लेकिन सरकार के कई लोगो का मानना हैं कि इस तरह से सोशल साइट्स पर होने वाली गतिविधियों को खुला छोड़ देना सही नहीं हैं | कई दिनों की चर्चा के बाद IT Section 66A को रद्द कर दिया गया |

Purpose Of IT 66A In Hindi

IT 66A का मुख्य उद्देश्य सोशल मीडिया पर फ़ैल रही अफवाहे एवं भड़काऊ मेसेज को रोकना था लेकिन इस तरह से किसी को अपनी भावनाए व्यक्त करने से रोकना मौलिक अधिक के विरुद्ध हैं |

क्यूँ हुआ विरोध IT Section 66A In Hindi

बाल साहेब ठाकरे के निधन के समय मुंबई बंद पर सोशल मीडिया पर एक लड़की ने कुछ पोस्ट किया और दूसरी लड़की ने उसे लाइक किया जिस पर शिव सेना की भावना को आघात हुआ और उन दोनों को गिरफ्तार किया गया |

हाल ही में,उत्तरप्रदेश मंत्री आजम खान के विरुध्द ग्यारहवी के एक छात्र ने कुछ अपशब्द लिखे जो आजम खान को पसंद नहीं आये और उस छात्र को गिरफ्तार कर लिया गया |

Freedom of speech in Hindi

आज सभी जनता खुश हैं क्यूंकि उन्हें उनका मौलिक अधिकार प्राप्त हुआ हैं | भारत देश के संविधान में स्पष्ट लिखा हैं नागरिक को बोलने का अधिकार हैं | इस तरह से संविधान के विरुध्द एक्ट बनाना गलत था | इस तरह हमे फिर से अपनी भावनाएं व्यक्त करने की स्वतंत्रता मिली हैं |

IT Section 66A Freedom of speech in Hindi आज 24 मार्च 2015 को हमें हमारा अधिकार पुनह प्राप्त हुआ | लेकिन एक अच्छे नागरिक होने का कर्तव्य हैं कि हम अपनी मर्यादा में रहे एवं किसी के दिल को दुखाने वाली बाते ना करे | साथ समाज में अशांति फैले ऐसे काम ना करे | देश हमारा घर हैं और हमें अपने घर को गंदा नहीं करना हैं |

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

shagun-scheme

विवाह शगुन योजना | Shagun Yojana in hindi

Shagun Yojana (Scheme) in hindi शगुन योजना, देश के विभिन्न राज्यों की सरकार द्वारा शुरू …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *