ताज़ा खबर

रेसलर कविता देवी (दलाल) का जीवन परिचय | Wrestler Kavita Devi Dalal Biography in hindi

रेसलर कविता देवी (दलाल) का जीवन परिचय | Wrestler Kavita Devi Dalal Biography in hindi

कविता देवी एक पहली भारतीय पेशेवर बेहद मजबूत महिला पहलवान है जो इस खेल की बुनयादी समझ रखती है, साथ ही जीतने का जूनून भी रखती है. कविता को यंग क्लासिक में प्रतिस्पर्धा करने के लिए चुना गया है, जोकि पहली बार एक भारतीय महिला के लिए एक एतिहासिक डब्ल्यूडब्ल्यूई टूर्नामेंट साबित हो सकता है.

कविता देवी का परिचय एवं व्यक्तिगत जानकारी (Kavita Devi Profile and Personal Details)

वास्तविक नाम कविता देवी दलाल
उपनाम हार्ड केडी
जन्म सन 1983 में
भाई का नाम संदीप दलाल
पति का नाम गौरव तोमर (वॉलीबॉल खिलाड़ी)
व्यवसाय रेसलर
वजन 63 किलोग्राम
नागरिकता भारतीय
धर्म हिन्दू
वैवाहिक स्थिति विवाहित
बालों का रंग काला
आँखों का रंग गहरा भूरा
राशि वृश्चिक
ऊँचाई 5 फीट 9 इंच
शारीरिक बनावट सीना- 35 इंच, कमर- 30 इंच, हिप्स- 34 इंच     
पसंदीदा भोजन  दुग्ध उत्पाद

kavita devi

कविता देवी का शुरूआती जीवन (Kavita Devi Early Life)

कविता देवी जिनका वास्तविक नाम कविता दलाल है उनका जन्म हरियाणा के एक छोटे से जिले जिंद के एक गांव जिसका नाम मालवी (जुलाना) है में हुआ था. 2011 की भारतीय जनगणना के मुताबिक इस गांव की जनसंख्या 6000 से भी कम थी, इस गांव में महिला एथलीटों के प्रतिभा को उभारने के लिए कोई सुविधा नहीं है. हरियाणा भारत का दूसरा सबसे ख़राब राज्य है जहां कन्या भ्रूण हत्या का अपराध एक प्रमुख मुद्दा है. जिस तरह से उन्होंने कामयाबी हासिल की है वह सभी के लिए प्रेरणादायक है.      

कविता देवी का पारिवारिक जीवन (Kavita Devi Family Life)  

कविता के पिता एक पूर्व पुलिस अधिकारी थे. कविता के अनुसार उनके बड़े भाई संदीप दलाल ने ही उन्हें उच्च शिक्षा लेने और भारत्तोलन के लिए प्रोत्साहित किया है. जिस वजह से आज वे कामयाब हुई है वे इस कार्य के लिए अपने भाई को श्रेय देती है. कविता के पति गौरव तोमर वॉलीबॉल खिलाड़ी है साथ ही वे सशस्त्र सेना बल में भी काम करते है. उन्होंने 2009 में शादी की था. अपनी पत्नी को समर्थन प्रदान करने के लिए उन्होंने अपने खेल करियर को छोड़ दिया. गौरव उत्तर प्रदेश के बागपत से है. इस दम्पत्ति को अभिजीत नाम का एक 5 वर्षीय बेटा भी है, जो कि 2012 में पैदा हुआ था. कविता ने एक इंटरव्यू में कहा था, कि उन्होंने काफ़ी संघर्ष करने के बाद अपने परिवार के समर्थन की बदौलत ही कामयाबी हासिल की है.             

कविता देवी की शिक्षा (Kavita Devi Education)

कविता गांव में ही पली बड़ी है और जुलाना के गर्ल्स सीनियर सेकेंड्री स्कूल से अपनी पढाई पूरी की है. उन्होंने ला मार्टिनियर लखनऊ नामक विश्वविद्यालय से 2004 में स्नातक की डिग्री प्राप्त की.   

कविता देवी का करियर (Kavita Devi Career)

कविता वेटलिफ्टिंग, विशु और मिश्रित मार्शल आर्ट में राष्ट्रीय स्तर की चैम्पियन रही है. लेकिन उनका आकर्षण हमेशा वेटलिफ्टिंग की तरफ ही रहा है. कविता 20 वर्ष की उम्र में ही अपने भाई की सलाह पर गृह नगर में स्थित एक भारत्तोलन अकादमी में भारत्तोलन का प्रशिक्षण लेने के लिए शामिल हो गयी थी. उसके बाद हरियाणा के फरीदाबाद में 2002 में उन्होंने प्रशिक्षण लिया. 2007 में वे कई बार राष्ट्रीय वरिष्ठ भारत्तोलन चैम्पियन रही. उन्होंने खेल कोटा के तहत 2008 में सशस्त्र सीमा बल में कांस्टेबल के पद को प्राप्त किया था. दलाल को पदोन्नति के लिए आश्वासन मिला था, लेकिन केंद्र सरकार ने इसे बढ़ावा नहीं दिया. कविता ने एसएसबी में उप निरीक्षक के पद के लिए 2010 के भारत्तोलन में भाग न लेने का फैसला किया था, क्योकि उन्हें सरकार द्वारा कई टूर्नामेंटों में प्रतिस्पर्धा करने की अनुमति नहीं दी गयी थी यहाँ तक कि रूस में एक अन्तर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट में भी शामिल नहीं होने दिया गया था.  

कविता वर्तमान में द ग्रेट खली कंपनी कॉन्टिनेंटल रेसलिंग एंटरटेनमेंट, जोकि पंजाब के जालंधर में है उसके लिए काम करती है. यहाँ वे रिंग में हार्ड केडी नाम से लडती है और उन्होंने सीडब्ल्यूई में रहने के दौरान ही पेशेवर महिला पहलवान बीबी बुल बुल को गिरा दिया. कविता 2016 में एक पूर्व भारतीय पॉवरलिफ्टर और स्वर्ण पदक विजेता रह चुकी है. उन्होंने इस साल असम के गुवाहटी में दक्षिण एशियाई खेलों में अच्छा प्रदर्शन किया था. 2017 की शुरुआत में डब्ल्यूडब्ल्यूई के टूर्नामेंट जो कि दुबई में हुआ था, में भाग लेकर अपने मजबूत प्रदर्शन के साथ प्रतिभा स्काउट का ध्यान आकर्षित किया था. इसके बाद टैलेंट डेवलपमेंट के उपाध्यक्ष कैन्यन सीमन ने कविता देवी के मजबूत प्रदर्शन की तारीफें की थी.      

कविता देवी की उपलब्धियां और अवार्ड (Kavita Devi Achievements and Awards in hindi)

कविता देवी ने दक्षिण एशियाई खेलों की 75 किलोग्राम भार के टूर्नामेंट में गोल्ड मेडल जीती थी. उन्होंने 50 किलोग्राम की मार्जिन से रजत पदक विजेता विक्रम सिंधे को हराया था. डब्ल्यूडब्ल्यूई प्रतियोगिता में लड़ने वाली पहली भारतीय महिला होने की उपलब्धि कविता देवी दलाल ने प्राप्त की है. कविता ने द ग्रेट खली (दिलीप सिंह राना) से प्रशिक्षण लिया है.      

कविता देवी का विवाद (Kavita Devi Controversy)

2016 में आये एक वीडियो के बाद से वे काफ़ी चर्चा में रही थी क्योकि उनका और बुल बुल के विवाद का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, जिसमे दिखाया गया था कि बुल बुल के चुनौती देने पर वह पारंपरिक कपडे सलवार और कमीज में ही लड़ने के लिए तैयार हो गयी थी और बुल बुल को पीट दी थी.

अन्य पढ़ें –

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *