ताज़ा खबर
Home / बॉलीवुड मसाला / की एंड का फिल्म एवम कास्ट समीक्षा| Ki & Ka Movie Cast Review hindi

की एंड का फिल्म एवम कास्ट समीक्षा| Ki & Ka Movie Cast Review hindi

Ki and ka movie cast review hindi की एंड का आने वाली रोमेंटिक ड्रामा कॉमेडी बॉलीवुड फिल्म है, जिसे लिखा, डायरेक्ट व प्रोडूस सब आर बाल्की ने किया है. फिल्म में करीना व अर्जुन कपूर है, जिन्होंने पहली बार साथ काम किया है. फिल्म में दोनों पति पत्नी के रूप में है. फिल्म का ट्रेलर आते ही, दोनों की केमिस्ट्री पर जोरों से चर्चा होने लगी, फिल्म में करीना व अर्जुन के बीच बहुत से लव सीन है, जिसमें दोनों काफी सहज लग रहे है.

की एंड का फिल्म एवम कास्ट समीक्षा

Ki and ka movie cast review hindi

कलाकार करीना कपूर, अर्जुन कपूर, स्वरुप संपत, अमिताभ बच्चन, जया बच्चन (cameo)
निर्माता सुनील लुल्ला, राकेश झुंझुनवाला, आर बाल्की
निर्देशक आर बाल्की
लेखक आर बाल्की
संगीत मिथुन, मीत ब्रोस
रिलीज़ डेट 1 अप्रैल 2016

आर बाल्की पहली बार ऐसी रोमेंटिक फिल्म लेकर आ रहे है. इससे पहले उन्होंने चीनी कम, पा, शमिताभ जैसी फिल्म बनाई थी, इन सब में उन्होंने अभिताभ बच्चन को लिया था. अमिताभ को वो अपना लकी चार्म मानते है, यही वजह है की एंड का में भी बाल्की साहब ने अमिताभ बच्चन को कैमीओ में लिया है. बाल्की साहब की फिल्मों में कहानी, किरदार सब अनूठे ढंग से गूथे रहते है, पा उनकी अभी तक की सबसे बड़ी हिट रही है. लास्ट फिल्म शमिताभ ने लोगों को निराश किया था, दरअसल ये अलग किस्म की स्लो फिल्म थी, जिसे आज के दर्शक जल्दी पसंद नहीं करते है.

ki and ka

 

फिल्म में क्या अच्छा है whats good :

अर्जुन व् करीना के बीच एक मॉडर्न सुंदर केमिस्ट्री दिखाई गई है| फिल्म की कहानी नई तरीके की है, इससे पहले इस सब्जेक्ट पर कोई भी हिंदी फिल्म नहीं बनी है| फिल्म सालों से चली आ रही हिन्दू सभ्यता की सोच के विपरीत है, फिल्म में नयापन भी है| कहानी के साथ साथ कलाकारों की जोड़ी भी नई है, जिन्होंने फिल्म में बेहतरीन काम करके दर्शकों का काफी मनोरंजन किया है|

फिल्म में क्या बुरा है whats bad :

फिल्म के कांसेप्ट में जबरदस्ती कुछ और इशू जोड़े गए है, जिससे फिल्म दिशाहीन हो जाती है| फिल्म की कहानी का ध्यान अपने मुख्य सब्जेक्ट से हट कर कही और ही चला जाता है, जिससे वो पूरी तरह बिखरती नजर आती है|

देखें या नहीं ?

वैसे मेरे हिसाब से मैं आपको इसे देखने के लिए नहीं बोलूंगी| हाँ लेकिन मॉडर्न दुनिया के लिए फिल्म का ये सब्जेक्ट नया है पर फिल्म ने कहानी के साथ पूरा न्याय नहीं किया है|

की एंड का फिल्म की कहानी की समीक्षा (Ki and ka movie Story Review)–

किया(करीना कपूर) एक खुले विचार वाली पढ़ी लिखी मॉडर्न लड़की है, जिसका सपना एक कंपनी का सीईओ बनने का है| वो हमेशा अपने काम में बिजी रहती है, उसके हिसाब से औरतों को स्वतंत्र रहना चाहिए, किसी मर्द के नीचे दब के नहीं रहना चाहिए|

कबीर (अर्जुन कपूर) दिल्ली के मशहूर बिजनेसमैन का एकलोता बेटा है| कबीर आईआईएम् का टोपर है, लेकिन उसे विरासत में मिले अपने पिता के बिजनेस कोई इंटरेस्ट नहीं है, वो एकदम अलग सोच रखने वाला लड़का है| उसे बाकि मर्दों की तरह बाहर जाकर मेहनत कर के पैसा कमाने में इंटरेस्ट नहीं है, वो अपनी मरी हुई माँ की तरह बनना चाहता है| उसकी माँ जिस तरह से घर संभालती थी, घर के सब कार्य अच्छे से करती थी वैसा ही वो बनना चाहता है| उसकी सोच है कि घर के कार्य भी ऑफिस के कार्य जितने महत्वपूर्ण होते है| कबीर को लगता है कि करियर के नाम पर हमें अपनी ज़िन्दगी बर्बाद नहीं करनी चाहिए|

दो अलग सोच रखने वाले की एंड का एक प्लेन में मिलते है, जल्दी दोनों में प्यार हो जाता है और वे शादी कर लेते है| दोनों के बीच लम्बी बातचीत व् विवाद के बाद ये डीसाइड होता है कि कबीर घर संभालेगा जैसा वो हमेशा चाहता था, किया बाहर जाकर पैसा कमाएगी और करियर बनाएगी| लेकिन इस भूमिका के लिंग परिवर्तन में बहुत सी परेशानीयां भी आती है| समाज जी सोच, दोनों के बीच मतभेद, ग़लतफहमी व् लोगों की धारणा  कैसे उनके इरादों पर असर डालेगी ये देखने के लिए सिनेमाघर जाना होगा|

फिल्म की कहानी की शुरुवात बहुत अच्छे ढंग से होती है, की एंड का के बीच प्यार का अच्छा कनेक्शन दिखाई देता है| पहला भाग दर्शकों के बीच उत्सुकता भी बनाये रखता है, लेकिन फिल्म एक सीन में जब हाउस पार्टी के दौरान लिंग भूमिका पर बहस होती है तब निर्देशक के पास अच्छा मौका होता है कि वह अपनी कहानी को अच्छे ढंग से सब तक पहुंचा सके, लेकिन डायरेक्टर ने इस सीन का फायदा नहीं उठाया, यही से फिल्म का ग्राफ नीचे आना शुरू हो जाता है|

फिल्म का दूसरा भाग फिल्म की कहानी को पूरी तरह से अपंग बना देता है, इस भाग में जबरजस्ती के सीन जोड़े गए है, जो दर्शको को मुख्य कहानी से दूर ले जाते है| ये तो हम सब जानते है कि अगर इस तरह की सोच रखने वाले इन्सान हमारे समाज में होते, तो उसे बहुत सी आलोचना व् विरोध का सामना करना पड़ता| लेकिन इस बात के विरुद्ध फिल्म में इस तरह की कुछ भी आलोचना नहीं दिखाई दी है, सिर्फ परिवार के कुछ सदस्य ही इस बात का विरोध करते नजर आये है| किया के ऑफिस वालों को भी जब उसके हाउस हस्बैंड के बारे में पता चलता है, तब वे भी इस बात बिलकुल नार्मल तरीके से लेते है, ये बहुत ही आश्चर्यजनक बात है| सोचने वाली बात है हमारा समाज अभी इतना भी मॉडर्न नहीं हुआ है, कि इस तरह की पश्चिमी सभ्यता को इतनी आसानी से मान ले| फिल्म की एंड का के आपसी मतभेद, जलन, लड़ाई को ही दिखाती रह जाती है, उसकी जड़ तक पहुँचने की कोशिश भी नहीं की गई है|

की एंड का मूवी कास्ट की समीक्षा (Ki and ka movie cast Review)–

करीना कपूर लम्बे समय के बाद बॉलीवुड में किसी दमदार किरदार के रूप में नजर आई है, इससे पहले बजरंगी भाईजान में उनके रोल को किसी ने नहीं सराहा था| किया के रूप में पावरफुल लगी है, वे बेहद सुंदर व् फनी लगी है| करीना एक अच्छी कलाकार है उनके डायलोग बोलने के तरीके ने इस रोल को निखर दिया है|

कबीर के रूप में अर्जुन कपूर फबे है, उनमें प्रशंनीय निखार आया है| अगर अर्जुन अपनी एक्टिंग में और अधिक तीव्रता व् प्रभाव डालते है, तो उनका किरदार और दमदार हो जाता| लेकिन ओवरआल उन्होंने अच्छा काम किया है|

निर्देशक समीक्षा –

 आर बाल्की एक अच्छे निर्देशक है, उन्होंने चीनी कम जैसी मास्टरपीस फिल्म हमारी फिल्म इंडस्ट्री को दी है| उस फिल्म में भी उन्होंने एक अलग सब्जेक्ट दिखाया था| लेकिन की एंड का के साथ वे कामयाबी के इतिहास को नहीं दोहरा पाए है| बाल्की ने फिल्म के मुख्य किरदार की एंड का बहुत अच्छे से लिखा है| करीना का लुक, एक्सप्रेशन बहुत अच्छे है, अर्जुन स्मार्ट लगे है|

संगीत –

फिल्म का संगीत अच्छा है, बैकग्राउंड म्यूजिक ने भी इम्प्रेस किया है| कुछ सोंग काफी फनी है, जो सही समय में फिल्म फिल्माए गए है| हाई हील्स, जी हुजूरी गाने पहले से काफी हिट हो गए है| हाई हील्स हनी सिंह के एल्बम का सोंग है जिसे नए ढंग से अर्जुन व् करीना पर फिल्माया गया है| अर्जुन इसमें रेड कलर की हाई हील्स में डांस करते नजर आ रहे है, व् करीना ब्लैक बूट्स में ठुमके लगा रही है|

लास्ट वर्ड –

की एंड का एक अच्छा अटेम्ट है, लिंग अदला बदली की ये फिल्म नयी तरह की है, लेकिन कहानी आपकी रूचि बनाये रखने में विफल रहेगी| फिल्म निष्कर्ष तक नहीं पहुँचती है, व् दर्शकों का ध्यान यहाँ वहां भटक जाता है| कलाकारों के अच्छे काम के बावजूद फिल्म निराश कर देती है|

अन्य पढ़े:

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

यह भी देखे

dangal

महावीर सिंह फोगट बायोग्राफी व् दंगल फिल्म की कहानी

Mahavir Singh Phogat biography dangal movie review hindi महावीर सिंह फोगट एक फेमस रेसलर व …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *