महाभारत रामायण कहानी | Mahabharat Ramayan in Hindi

Mahabharat Ramayan in Hindi जब-जब पृथ्वी पर अन्याय का घड़ा  भरने लगता हैं तब तब ईश्वर धर्म की स्थापना के लिये जन्म लेते हैं . और इसी से रचता हैं एक नया पुराण, जो युगों-युगों तक मनुष्य को मार्गदर्शन देता हैं .यह पुराण ही संस्कृति एवम रीति रिवाज का आधार बनते हैं .

mahabharat ramayan

मान्यताओं के आधार पर हिन्दू संकृति में दो पुराणों का विशेष महत्व हैं :

  1. महाभारत
  2. रामायण

महाभारत  कथा (Mahabharat Story in Hindi)

महाभारत एक ऐसा पुराण हैं जिसमे भारत के इतिहास के बारे में विस्तार से लिखा गया हैं जो यह सिद्ध करता हैं कि भारत एक देश नहीं अपितु एक राष्ट्र हैं . एक राष्ट्र जो जन्म नहीं लेता न बनाया जाता हैं वो तो युगों- युगों से यथावत हैं जिसमे संस्कृति बनती हैं, धर्म बनता हैं जिसे हम सनातन धर्म के नाम से सुनते हैं .महाभारत कथा में भारत की सीमाओं का वर्णन हैं जो उसकी भव्यता और विशालता को प्रमाणित करता हैं . सोने की चिड़ियाँ कहलाने वाला हमारा भारत अपने अंदर कई युगों को समाये हुये हैं . और उसी भव्य इतिहास का वर्णन हैं इस महाकाव्य में.

इसी प्रकार भारतीय संस्कृति में महाभारत पुराण का भी महत्व बहुत अधिक हैं जिसकी रचना महर्षि वेदव्यास ने की हैं उन्होंने इसे अपनी वाणी से प्रकट किया था जिसे स्वयं भगवान गणेश ने लिखा . यह महा पुराण ही हमें कलयुग की पहचान करवाता हैं सत्य, असत्य एवम मर्यादा का पाठ सिखाता हैं .

महाभारत संस्कृत में लिखा एक महा ग्रन्थ हैं जिसमे कलयुग के प्रारंभ का विस्तार से वर्णन किया गया हैं. यह ग्रन्थ वास्तव में एक पारिवारिक युद्ध हैं जिसमे भाई-भाई से राज गद्दी और अहम् के लिये लड़ रहा हैं जिसमे वो अपनों पर प्राणघात कर रहा हैं एक स्वहित के लिये अधर्म कर रहा हैं और दूसरा पक्ष धर्म की स्थापना के लिये अधर्म कर रहा हैं . यहाँ व्यक्ति का अवलोकन धर्म या अधर्म के आधार पर नही किया जा सकता क्यूंकि यहाँ हर कोई अधर्मी हैं . यह आज के भारत देश को चरितार्थ करता हैं जहाँ हमारा नेता कम भ्रष्टाचारी हो तो हम उसे सही उम्मीदवार समझते हैं वैसे ही महाभारत युद्ध में कम और अधिक अधर्मी के आधार पर ही उपयुक्त का चयन किया जा सकता था .

इस महा युद्ध के सूत्रधार स्वयम भगवान श्री कृष्ण थे . कलयुग में मनुष्य कैसा होगा ? उसे किस तरह से अपने हक़ के लिए लड़ना होगा ? सच के लिये झूठ भी बोलना होगा . यह सभी बाते इस महा ग्रन्थ का हिस्सा हैं .

महाभारत का यह एक बड़ा ग्रन्थ कई तरह की कथाओं से बना हुआ हैं . यह कथायें हमें आज के जीवन में कठिन से कठिन समस्याओं से बाहर निकलने की प्रेरणा देती हैं .यह कथायें हमें हिन्दू संस्कृति का इतिहास बताती हैं . महाभारत पुराण में हिन्दू मान्यता का आधार छिपा हुआ हैं जो आज के समय में छोटी-छोटी कथाओं के जरिये ही दिखाया जाता हैं . हमने भी कई कथाओं का समावेश किया हैं जिसके जरिये हम आपको महाभारत काल और कलयूग के मध्य के संबंध को बताने जा रहे हैं .

महाभारत से जुडी कुछ रोचक सत्य और कहानियां

S.No Mahabharat kahani
1 वेद व्यास महाभारत के रचियता का रोचक सत्य
 2 भीष्म पितामह के जीवन का इतिहास 
3 कैसे पैदा हुए एक सो दो कौरव ? 
4 शकुनी कौरवों का हितेषी नहीं बल्कि उनका विरोधी था
5 जाने कौरवो एवम पांडवो के नाम
6 युधिष्ठिर एवम भीष्म का अंतिम संवाद
7 क्यूँ दिया युधिष्ठिर ने माता कुंती को श्राप
8 कैसे टुटा पांडवों का अहंकार
9 भीष्म पितामह का जीवन था किसके कर्मो का फल
10 कीचक वध
11 महाभारत पत्रों का पूर्व जन्म रहस्य 
12 एकलव्य की कहानी 
13  महाभारत के कर्ण से जुड़ी रोचक बातें
14  शिशुपाल का वध की कहानी
15  महाभारत कंस वध कहानी
16 महाभारत युद्ध के रहस्य
17 भीम और हिडिम्बा के विवाह की कथा और घटोत्कच का बलिदान
17 भीम और हनुमान की कहानी
17 महाभारत में द्रोपदी का स्वयंवर

महाभारत की कहानी को टीवी पर भी कई बार दिखाया है और हमने उनसे से जो अभी दिखाई गयी महाभारत के हर एपिसोड के बारे मैं लिखा है.

रामायण कहानी (Ramayan Story in Hindi)

हिन्दू धर्म में रामायण का भी विशिष्ठ स्थान हैं . यह कहानी हैं मर्यादा पुरुषोत्तम राम की जिन्होंने में मानव जीवन के धर्म का उदाहरण प्रस्तुत किया हैं . रामायण के रचियता महर्षि वाल्मीकि थे जो कि वास्तविक रूप में एक डाकू थे लेकिन अपनी गलती का अहसास होने के बाद नारद मुनि के परामर्श पर उन्होंने तपस्या की जिसके बाद ब्रह्माजी के आदेश पर उन्होंने रामायण पुराण लिखा . माना जाता हैं वाल्मीकि जी ने ही सबसे पहला श्लोक लिखा था .

रामायण में मनुष्य जाति के जीवन एवम उनके कर्मों का विशेष विवरण हैं . इसमें विवाह जैसे पवित्र बंधन को दो परिवारों की आधारशिला कहा हैं . पति पत्नी के कर्तव्यों का भलीभांति रूप से विवरण किया हैं . कसी तरह पति पत्नी एक दुसरे के जीवन में सुख दुःख के साथी होते हैं ? कैसे एक दुसरे के कर्तव्यों का निर्वाह करते हैं . कैसे एक पत्नी पति की अर्धाग्नि होती हैं ? इन सभी का विशिष्ट एवं मार्मिक विवरण रामायण की कथा में मिलता हैं . प्रभु राम और सीता वास्तव में एक भगवान का अवतार थे लेकिन उन्होंने धरती पर मनुष्य जाति के रूप में जन्म लेकर मनुष्य जाति को जीवन की आधारशिला से अवगत कराया . उन्होंने अपने कर्मो से कर्म की परिभाषा को रचा . इसीलिए जीवन के हर क्षेत्र के उदहारण रामायण में मिलते हैं . साथ ही हर दुविधा का हल भी रामायण महाकाव्य में मिलता हैं .

रामायण कई तरह के भागों में बटा हुआ हैं जिसमे

  1. बाल काण्ड
  2. अयोध्याकाण्ड
  3. अरण्यकाण्ड
  4. किष्किन्धा कांड
  5. सुंदर काण्ड
  6. लंका काण्ड
  7. उत्तरकाण्ड

इन सभी भागों में कई प्रेरक प्रसंग हैं जो हमें ज्ञान देते हैं उन में से कुछ कहानियों का समावेश हमने भी किया हैं .

S.No. Ramayan Kahani
1 महर्षि वाल्मीकि कैसे बने एक डाकू से रचियता ?
2 राम सीता विवाह
3 सीता का अद्भुत स्वयम्वर 
 4  हनुमान के पुत्र मकरध्वज का जन्म कैसे हुआ ?
5 भगवान राम की बहन शांता के जीवन का सच
6 राक्षसी ताड़का वध
7 अहिल्या के उद्धार की कथा 
8 शबरी के बेर 
9 सीता जन्म रहस्य 
 10 विश्वामित्र के क्षत्रिय से ब्राह्मण बनने तक का जीवन एवं मेनका की कथा
11 कुंभकर्ण का वरदान बना अभिशाप
12 श्रवण कुमार कथा
13  राम सुग्रीव मित्रता
14  राम भरत मिलाप की कहानी
15 लंका दहन की कहानी
16 रामायण सीता हरण की कहानी
17 रानी कैकेयी की कहानी और रामायण में उनकी भूमिका
18 वानर राज बाली की कहानी
18 ऋषि दुर्वासा जीवन परिचय कहानियां
18

अगर आप हिंदी की अन्य कहानियों को पढ़ना चाहते है, तो प्रेरणादायक हिंदी कहानी का संग्रह पर क्लिक करें|

3 comments

  1. danveer karn wastav me valmiki jati se sanband rakhata tha

    aor ikalavay bhi valmiki tha

    isliye valmiki jati mahan hai

    aor log kahte hai valmiki jati konsi hai

  2. pata nai kyo mai bachpan se hi danveer karn se kafi parbhavit raha hun.or ab tak mai jab bi danveer karn ki khaniya padta hu.to bahoy imosnal ho jata hu.

    • Mai suryaputra karn ka subsequent bada deewana hu. Mahayodha karn ki kahani sabse alag aur acchi hai.
      Karn ki saari acchaai mujhme sama gai hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *