ताज़ा खबर
Home / साहित्यिक मधुशाला / Makhan Lal Chaturvedi ki ‘Utha Mahaan’

Makhan Lal Chaturvedi ki ‘Utha Mahaan’

उठ महान

उठ महान ! तूने अपना स्वर
यों क्यों बेंच दिया?
प्रज्ञा दिग्वसना, कि प्राण् का
पट क्यों खेंच दिया?

वे गाये, अनगाये स्वर सब
वे आये, बन आये वर सब
जीत-जीत कर, हार गये से
प्रलय बुद्धिबल के वे घर सब!

तुम बोले, युग बोला अहरह
गंगा थकी नहीं प्रिय बह-बह
इस घुमाव पर, उस बनाव पर
कैसे क्षण थक गये, असह-सह!

पानी बरसा
बाग ऊग आये अनमोले
रंग-रँगी पंखुड़ियों ने
अन्तर तर खोले;

पर बरसा पानी ही था
वह रक्त न निकला!
सिर दे पाता, क्या
कोई अनुरक्त न निकला?

प्रज्ञा दिग्वसना? कि प्राण का पट क्यों खेंच दिया!
उठ महान् तूने अपना स्वर यों क्यों बेंच दिया!
-माखनलाल चतुर्वेदी

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

Meera Bai Ke Pad Dohe Meaning In Hindi

मीरा के पद/ दोहे हिंदी अर्थ सहित जयंती एवम जीवन परिचय | Meera Bai Ke Pad Dohe Meaning Jeevani Jayanti In Hindi

Meera Bai Ke Pad Dohe Meaning Jeevani Jayanti Date In Hindi मीराबाई के पद दोहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *