ताज़ा खबर

मन की बात प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा संचालित रेडियो शो | Mann ki baat Narendra Modi show on all India radio in hindi

Mann ki baat Narendra Modi show on all India radio in hindi मन की बात एक भारतीय रेडियों कार्यक्रम है जिसको भारत के प्रधानमंत्री के द्वारा होस्ट किया जाता है. इस कार्यक्रम को आप रेडियो के नेशन चैनल पर, डी डी नेशनल पर और साथ ही डी डी न्यूज़ पर भी सुन सकते है. भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2014 में अपने पद को सम्भालने के बाद आम जनता तक रेडियों के माध्यम से अपनी पहुँच बनाने और लोगों को इसके माध्यम से अपनी मन की बात बताने के लिए रेडियों जैसे सरल माध्यम का इस्तेमाल किया. उनके इस कार्यक्रम का नाम ‘मन की बात’ रखा गया है. मन की बात के लिए 15 जगहों का पता दिया गया है, उन पतों पर 61000 विचारों को लोगों द्वारा भेजा गया जिनमें से चुन कर किसी एक विचार को रखा जाता है. इसके लिए 1.43 लाख स्रोताओ के ऑडियो प्रत्येक महीने आते है जिनमे से कुछ चुनिंदे कॉल को ब्रॉडकास्ट किया जाता है. प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय जानने के लिए पढ़े.

मन की बात कार्यक्रम का ब्रॉडकास्ट (Mann ki baat broadcast)

मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत 3 अक्टूबर 2014 को हुई, जिसे एक आम संदेश के रूप में भारत के प्रधानमंत्री की आवाज में प्रस्तुत किया गया. 20 मिनट के इस लम्बे एपिसोड को दूरदर्शन डायरेक्ट टू होम फ्री सेवा के माध्यम से टेलीविजन और रेडियों पर प्रसारित किया गया.  पहला प्रसारण विजय दशमी के दिन शुरू हुआ. दशहरा विजयादशमी महत्व कथा कविता एवम शायरी जानने के लिए पढ़े. इस कार्यक्रम को रेडियों से प्रसारित करने का मकसद ये था कि उनकी आवाज की पहुँच सुदूर गावों तक पंहुचाई जा सके, क्योकि हर स्थान पर टीवी की पहुँच भारत में नहीं है खास कर ग्रामीण और कम विकसित क्षत्रों में अभी भी इन सब सुविधाओं की कमी है. रेडियों एक ऐसा माध्यम है जो 90% तक की आबादी के पहुँच तक है. रेडियो का इतिहास जानने के लिए पढ़े. बहुत सारे गैर सरकारी एफ एम रेडियों स्टेशन को भी इस शो को मेट्रोपोलिटन शहरों में संचालित करने की अनुमति है. इस कार्यक्रम का प्रसारण एम एम रेनबो, डी डी भारती, डी डी किसान के अलावा ए आई आर एंड्राइड मोबाइल एप्प ऑल इंडिया रेडियो लाइव, आईओएस और विड़ोज पर भी सुन सकते है.

मन की बात – प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा संचालित रेडियो शो

Mann ki baat Narendra Modi show on all India radio in hindi

mann ki baat

 

मन की बात कार्यक्रम के सभी एपिसोड की मुख्य बातें (Mann ki baat episodes highlights)

मन की बात को श्रोताओं के लिए हर महीने आयोजित करने का फैसला लिया गया है साथ ही प्रधानमंत्री के द्वारा यह भी कहा गया है कि जब भी उन्हें मौका मिलेगा वो इस माध्यम से अपने श्रोताओं से हमेशा जुड़े रहने की कोशिश करेंगें. अपने हर एपिसोड में प्रधानमंत्री मोदी अपने अलग अलग विचार को लोगों के सामने रखते है जिनका विवरण निम्नलिखित है –

  • 2014 में उनके द्वारा तीन एपिसोड का आयोजन किया गया जो निम्नलिखित है –    
  1. पहले एपिसोड को 3 अक्टूबर को जनता के लिए प्रसारित किया गया. इस एपिसोड के माध्यम से उन्होंने जनता को मंगल मिशन, कौशल विकास और स्वच्छ भारत अभियान के सफलता के बारे में बताया. साथ ही उन्होंने विकलांग बच्चों और MyGov.in वेबसाइट, जो उन्होंने सरकार से सीधे जुड़ने और अपने विचारो को रखने के लिए बनाई है उसके बारे में चर्चा की. रेडियो के माध्यम से उन्होंने इस पहले एपिसोड में लोगों से खादी के कपड़ों की खरीदारी पर जोर देने की अपील की, जिसेसे गरीब लोगों तक रोजगार के अवसर पहुचें और वो भी समृद्ध बने.
  2. 2 नवम्बर को मोदी जी ने अपने मन की बात कार्यक्रम में लोगों से स्वास्थ्य के सुधार में स्वच्छ भारत अभियान की प्रभावशीलता के बारे में बात की और मोदी सरकार द्वारा विकलांग बच्चों के छात्रवृति की पहल और साथ ही बच्चों के शैक्षिक संस्थानों के विकास के लिए, जो बुनियादी सुविधाओं को ठीक करने के लिए सरकार द्वारा अनुदान दिया गया उसके बारे में चर्चा की. इसके अलावा जो उन्होंने दिवाली के समय सियाचिन का दौरा किया था, उसके अनुभव उन्होंने श्रोताओं के साथ बांटे, साथ ही जो भी भारतीय सैनिकों को श्रधांजलि के रूप में भुगतान किया गया उसका बारे में भी उन्होंने चर्चा की.
  3. 14 दिसम्बर को जो ‘मन की बात’ का प्रसारण हुआ, उसमे मोदी ने श्रोताओं से मुखातिब होते हुए नौजवानों से आग्रह करते हुए ड्रग का उपयोग के लिए ना कहने के लिए कहा और इससे बचने की अपील की. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जिस नशीले ड्रग को खरीद कर आप पैसे का दुरुपयोग कर रहे है, अगर उन पैसों को बचाकर हम खतरनाक आतंकवाद जैसी लडाई में सहयोग करने के लिए इस्तेमाल करे तो हम अपने साथ साथ देश की भलाई में भी योगदान दे सकते है. उन्होंने इस बात पर भी चर्चा की कि जल्द ही ऐसी व्यवस्था की जायेगी जिसमे एक टोल फ्री हेल्पलाइन नम्बर होगा, जिसके माध्यम से हम नशे से मुक्ति दिलाने वाली दवा को सीधे उन पीड़ित व्यक्ति या पीड़ित परिवारों तक पंहुचा सकेंगे.
  • 2015 में मन की बात के लिए बहुत सरे एपिसोड का आयोजन हुआ जो निम्म्नवत है-
  1. 27 जनवरी के अपने आयोजन में प्रधानमंत्री ने अमेरिका के राष्टपति बराक ओबामा के साथ शो का आयोजन किया. साथ ही दोनों ने मिलकर भारतीय नागरिको द्वारा भेजे गए सवालों का श्रृंखलाबद्ध उत्तर दिया. ओबामा ने भी जो उनके द्वारा प्रभावशाली नीतियों को यूनाइटेड स्टेट में लागु किया गया है उसके बारे में चर्चा की.
  2. 22 फ़रवरी को मोदी ने छात्रों को संबोधित करते हुए ‘मन की बात’ में उनके लिए अपने विचार रखते हुए कहा कि छात्रों को परीक्षा के तनाव से बचना चाहिए और दूसरों से खुद का आकंलन कभी भी न करे कभी भी दुसरे के साथ प्रतिस्पर्धा से बचे, अगर आपको प्रतिस्पर्धा करनी है तो आप खुद के साथ करे और अपनी जिज्ञाशा को शांत करने के लिए हमेशा अपने शिक्षकों और अभिभावकों से सवाल करते रहना चाहिए इससे आपका ज्ञान बढेगा.
  3. 22 मार्च को मन की बात का मुख्य मुद्दा किसानों और उनसे जुडी समस्याओं पर था, जिसमें उन्होंने स्वस्थ्य मिट्टी, अनाज की ऊपज के सही मूल्य के निर्धारण और भूमि अधिग्रहण जैसे कई मुद्दों पर चर्चा की. इसके साथ ही उन्होंने हाल ही में आये नए भूमि अधिनियम पर आधारित कई गलतफहमियों का स्पष्टीकरण किया और भारत के किसानों से यह कहा कि वो उनकी समस्या के निराकरण पर विचार करते हुए प्रयासरत है, लेकिन वो भी अपने अधिकारों के लिए सवाल करने के लिए पूरी तरह से आजाद है.
  4. 26 अप्रैल को ‘मन की बात’ में मोदी जी ने बोर्ड की परीक्षा की सफलता के लिए छात्रों को बधाई दी और उन्हें एक ऐसे और अच्छे करियर का चुनाव करने की सलाह दी जिससे भारत के विकास में मदद मिले. इसके साथ ही उन्होंने वन रैंक वन पेंशन के मुद्दों का सरकार के द्वारा इस समस्या का हल किये जाने का वादा किया. इसके साथ ही उन्होंने भारत में गरीबी जैसी लंबी लडाई के लिए सरकार द्वारा किये गए पहल की चर्चा की.
  5. 31 मई को अपने मन की बात में मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर 177 देशों का साथ देने की बात कही. इसके साथ उन्होंने किसान टीवी चैनल के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि किस तरह से वो इसके माध्यम से गरीब किसानों की नई तकनीक के बारे में जानकारी प्राप्त करने में मदद करेंगे.
  6. 28 जून को मन की बात में मोदी जी ने भ्रूण हत्या और लडकियों के समग्र विकास के बारे में चर्चा की. साथ ही उन्होंने बेटियों को लोगों से सम्मान देने की अपील करते हुए कहा कि आप अगर अच्छी फोटों अपने फेसबुक पे डालना चाहते है तो सेल्फी विद बेटी की फोटों डाले.
  7. 26 जुलाई को मन की बात के अपने आयोजन में मोदी ने भारतीय सैनिको की प्रशंसा करते हुए 1999 के करगिल युद्ध में उनके साहस और पराक्रम चर्चा की. उन्होंने सभी गावों और शहर के वासियों से देश की प्रगति में उनके योगदान की अपील की. साथ ही उन्होंने अपने द्वारा लाँच की गयी वेवसाइट  https://www.mygov.in/group-issue/give-your-inputs-prime-ministers-mann-ki-baat/  की सफलता का जिक्र किया.
  8. 30 अगस्त के अपने मन की बात कार्यक्रम में मोदी जी ने ओणम के पर्व और रक्षा बंधन की बात से अपने भाषण की शुरुआत की. साथ ही उन्होंने जीवन ज्योति बीमा योजना की सफलता के बारे में भी चर्चा की. उन्होंने जन धन योजना के भी सफलता की चर्चा की साथ ही उन्होंने गरीबों तक इसके लाभ के बारे में चर्चा करते हुए भारतीय अर्थव्यवस्था की भी चर्चा की.
  9. 20 सितम्बर को मन की बात में मोदी जी ने अविश्वसनीय भारत के बारे में चर्चा की. उन्होंने आतंकी हमले में शहीद हुए सैनिकों को अपनी श्रधांजलि दी और साथ ही अपराधियों को दण्डित करने का भी वादा किया. साथ की कश्मीरियों को शांति और सद्भाव के लिए प्रेरित किया. रियो ओलम्पिक के खिलाडियों की प्रशंसा की दीपा मलिक के पदक जीतने पर उनकी सराहना की. फिर उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान के तहत 2.5 करोड़ शौचालयों के निर्माण की भी चर्चा की. इसके साथ ही स्टार्टअप को सफल बनाने के लिए युवाओ का आह्वान किया.
  10. 25 अक्टूबर को मन की बात में मोदी जी ने आम जनता में गरीब बेरोजगारों के लिए खुशखबरी की सौगात के रूप में कहा कि अब से गैर राजपत्र सरकारी नौकरियों में ग्रुप बी, सी और डी पदों को भरने के लिए साक्षात्कार नहीं लिए जायेंगे, अब इनकी बहाली परीक्षा में आये परिणामों के आधार पर होगी. इसके साथ ही उन्होंने सोने के रख रखाव और उसके मुद्रीकरण पर भी चर्चा की.
  11. 29 नवम्बर के मन की बात में प्रधानमंत्री ने हर उत्सव की ख़ुशी के साथ प्राकृतिक आपदा के बारे में चर्चा की. अत्याधिक वर्षा के कारण तमिलनाडु और इस तरह के आपदा से ग्रसित और राज्यों में हुए जान माल की क्षति की चर्चा करते हुए उनके साथ अपनी संवेदना व्यक्त की. नये जीवन के लिए लोगों से अपने अंगदान के लिए अपील की. विकलांगो के हौसले की सराहना करते हुए जावेद अहमद की चर्चा की. इसके अलावा उन्होंने आशा वर्कर के बारे में भी उनकी कामों की सराहना की.
  12. 27 दिसम्बर के अपने मन की बात करते हुए उन्होंने भारतीय त्योहारों की विविधता की चर्चा करते हुए, और समाज में उसके आर्थिक गतिविधि की चर्चा करते हुए नव वर्ष की शुभकामनाएं भारतीय समुदाय को दी. उन्होंने स्वछता और स्टार्ट अप की चर्चा कर नए सोच को विकसित करने की बात कही और 16 जनवरी को स्टार्ट अप के ढांचे के लाँच होने की बात कही.
  • 2016 में मोदी जी के द्वारा मन की बात में आयोजित एपिसोड निम्म्नवत है
  1. 31 जनवरी को मन की बात के 16 वें संस्करण में मोदी ने किसानो से बीज इन्सुरेंस स्कीम के तहत जुड़ने की अपील की. साथ ही उन्होंने खादी को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर तक प्रसारित करने की बात कही. उन्होंने स्टार्ट अप इंडिया के बारे में जानकारी दी.
  2. 28 फ़रवरी को मन की बात के 17 वें संस्करण में नरेन्द्र मोदी ने परीक्षार्थियों को संबोधित किया और कहा कि परीक्षा के तौर तरीका में बदलाव करके हम परीक्षा से चिंता मुक्त हो सकते है. इसके साथ ही उन्होंने महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के सन्देश को अपने आयोजन के माध्यम से सुनाया.
  3. 27 मार्च को मन की बात में मोदी ने ईसाई दिवस के अवसर पर ईस्टर की शुभकामनाएं दी. इसके साथ ही उन्होंने टी 20 के खेल और परीक्षा की भी चर्चा की. साथ ही उन्होंने 2017 में फुटबाल के खेल फीफा वर्ल्ड कप के भारत के द्वारा आयोजन के बारे में बताया.
  4. 24 अप्रैल 2016 के मन की बात के 19 वें संसकरण में मोदी जी ने पानी, शिक्षा और समाज के बुनियादी ढांचे के ऊपर चर्चा करते हुए श्रोताओं के सामने अपने बातों को रखा.
  5. 22 मई के मन की बात के 20 वें संस्करण में मोदी जी ने विधार्थियों की परीक्षा के परिणाम के लिए उन्हें बधाई दी, और ये कहा कि 21 जून को अन्तराष्ट्रीय योग दिवस के चंडीगड़ के एक कार्यक्रम में मै हिस्सा लूँगा. फिर उन्होंने फ़ुटबाल खेल की चर्चा करते हुए खिलाडियों का प्रोत्साहन बढ़ाते हुए कहा कि वो खेल को खेल भावना की तरह ही ले. इसके बाद उन्होंने पानी के महत्व की चर्चा करते हुए पानी बर्बाद न करने की अपील की साथ ही सूखे से बचाव के लिए आंध्रप्रदेश और गुर्जर की सराहना की.
  6. 26 जून के अपने मन की बात के आयोजन में उन्होंने अच्छे मौसम के लाभ से किसानों को होने वाले फायदे के बारे में बताया. साथ ही पुणे में अपनी स्मार्ट सिटी के कार्यक्रम के बारे में बात की. उन्होंने एकेडमिक सेटेलाइट की चर्चा करते हुए भारत के युवाओं की सराहना की.
  7. 31 जुलाई को मन की बात के 22 वें प्रसारण में मोदी जी ने नविन तकनीक की बडाई करते हुए कहा कि भविष्य तकनीको के माध्यम से सुरक्षित होगा इसलिए किसी भी राष्ट्र को नई तकनीक का नेतृत्व करने के लिए आगे बढ़ना चाहिए और इसकी निर्माण प्रक्रिया में नवीनता से ढूढने और भाग लेने की कोशिश करनी चाहिए. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि भविष्य में तकनीकों के माध्यम से ही प्रौधोगिकी का भविष्य संचालित होगा.
  8. 28 अगस्त को रेडियों पर प्रसारित मन की बात के 23 वें संस्करण में मोदी जी ने मेजर ध्यानचंद को श्रधांजलि देते हुए अपनी बात की शुरुआत की. साथ ही उन्होंने रियो ओलम्पिक में भाग लेने वाली सिंधु, दीपा और इन्हीं जैसी खेलों में भाग लेने वाली महिलाओं को प्रोत्साहित करते हुए उनकी सराहना की.
  9. 25 सितम्बर को उन्होंने मन की बात के 24 वें संस्करण में ये कहा ही यूआरआई का जो हमला हुआ, जिसमे 18 सैनिक शहीद हुए है. उन शहीद सैनिकों के योगदान का बदला लिया जायेगा.
  10. 30 अक्टूबर को उन्होंने अपने द्वारा आयोजित कार्यक्रम के 25 वें संस्करण में मन की बात से राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि देश के सभी कोनों से प्रत्येक व्यक्ति से अपने सवाल और सुझाव को रेडियो प्रसारण के पते पर भजने के लिए वो आह्वान करते है. उनके चुनिन्दा सुझाव और सवालों से उन्हें अपनी नीतियों को बनाने में मदद मिलेगी वो इसमें जनता का भी योगदान चाहते है.
  11. 27 नवम्बर के 26 वें संस्करण को संबोधित करते हुए अपनी मन की बात में मोदी ने विमुद्रीकरण के प्रति भारत की प्रतिबद्धता के बारे में बात की. इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि कुछ लोगों ने विमुद्रीकरण से निपटने में किस तरह से तकनीको का इस्तेमाल किया और अपनी रचनात्मकता का परिचय दिया. उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया विमुद्रीकरण अस्थाई है, जल्द ही इस असुविधा से हम उबर जायेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि इससे बचने के लिए हमें कम से कम कैश जमा कर रखने चाहिए. अपने पैसों को रखने के लिए बैंकों का उपयोग ज्यादा करना चाहिए. साथ ही लोगों को उन्होंने इ- बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग जैसी तकनीकों को अपनाने का सुझाव दिया, इसके साथ साथ उन्होंने भारत के उन 65% युवाओं से अनुरोध किया कि वो नई तकनीकों को अशिक्षित और गरीब लोगों तक इनकी जानकारी को पहुचाने में हिस्सा ले, जो इस तकनीक से अंजान है वे सभी देश को सशक्त बनाने में योगदान दे.
  12. 25 दिसम्बर को प्रधानमंत्री ने मन की बात के 27 वें एपिसोड के माध्यम से श्रोताओं को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी हमेशा आपसे पाने वाले विचारों को साझा करने के लिए उत्सुक है. हमेशा की तरह वो आपसे विचारों, विषय और मुद्दों की मांग करते है, जिनके बारे में आप हमसे जानना चाहते है तो आप अपने विचार हमे बताये.
  • 2017  में मोदी जी द्वारा आयोजित मन की बातों के एपिसोड निम्न है –
  1. 29 जनवरी 2017 को 8.51 पर उनके कार्यक्रम के 28 वें संस्करण को प्रसारित किया गया, जिनमे अपने भाषण की शुरुआत में उन्होंने कहा कि 30 जनवरी की सुबह हम अपने शहीदों के लिए 2 मिनट के मौन का पालन करेंगे और उन्हें देश के योगदान के लिए बलिदान होने का सम्मान देंगे. जम्मू कश्मीर के हिमस्खलन में जीवन गवा देने वाले जवानों के लिए अपना शोक व्यक्त किया. साथ ही उन्होंने परीक्षार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि परीक्षा का तनाव न ले ये एक त्यौहार की तरह है आप इसका आनन्द लें. साथ ही उन्होंने बच्चों के माता पिता को भी संबोधित करते हुए कहा कि कुछ लोग धोखा देने के तरीकों को तलाशने में अपना समय बिताते है, अगर वो ऐसा करते है तो अपने बचों को क्या सिखायेंगे. माता पिता को अपने बच्चों को ईमानदारी की शिक्षा देते हुए घर में खुशी का माहौल बनाना चाहिए.
  2. 26 फरवरी के 29 वें एपिसोड में मोदी ने हाल ही में हुए इसरों की उपलब्धियों की सराहना करते हुए कहा कि इस सफलता के माध्यम से दुनिया ने अब भारत की उपलब्धियों को नोटिस किया है. इसरों ने बहुत ही प्रभावी लागत से कुशलता पूर्वक अंतरीक्ष के कार्यक्रम को सफलता पूर्वक किया है वो पुरे विश्व के लिए एक चमत्कार बन गया है. इसके साथ ही मोदी ने भारत में भ्रष्टाचार जैसी फैली महामारी को रोकने के लिए भारत के राष्ट्रिय भुगतान निगम के द्वारा बनाये गए एप्प बीएचआईएम को बढ़ावा देने के लिए लोगों से अपील की है.
  3. 26 मार्च को अपराहन 11 बजे मन की बात का 30 वा संस्करण आयोजित हुआ और उसमे उन्होंने शांति और सुरक्षा के क्षेत्र में अपने पडोसी देश के साथ खड़े रहने की बात कही, इसके साथ ही उन्होंने राष्ट्र हित के योगदान के लिए भगत सिंह के बलिदान की, गाँधी जी के चंपारण सत्याग्रह की भी चर्चा की. फिर उन्होंने डिजिटल यूग की चर्चा करते हुए 125 करोड़ की आबादी वाले भारतीय जनता से भव्य और दिव्य भारत बनाने के लिए योगदान देने का आह्वान किया. इसके साथ ही अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस, मातृत्व बिल, मातृत्व अवकाश, साफ सफाई और खाद्द्य सुरक्षा के लाभों के बारे में भी चर्चा की.
  4. 30 अप्रैल को अपराहन 11 बजे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मन की बात के 31 वें संस्करण में राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए और भारत के युवाओं को निर्देशित करते हुए उनसे जुड़े विभिन्न मुद्बों जैसे की अवसाद, मानसिक स्वास्थ्य, परीक्षा के दबाव इत्यादि के बारे में अपने विचार को श्रोतावों के सामने रखे, और कहा कि हमेशा नया कुछ सीखने की कोशिश करते रहना चाहिए, चाहे तो आप कोई नई भाषा सीख सकते है, या अगर आपको तैराकी सीखने का शौक है तो वो भी सीख सकते है. छुट्टियो में घर में बैठने आराम करने से अच्छा है आप इसका इस्तेमाल अपने शौक को पूरा करने में करे. इसके साथ ही उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन और खाद्य अपव्यय जैसी राष्ट्रीय पहल पर भी अपने विचार रखे. फिर उन्होंने जो भी मन की बात के लिए सुझाव आते है उनका विश्लेषण किया. इसके अलावा कुछ और बाते भी कहीं, जोकि इस प्रकार हैं-
  1. मन की बात में उन्होंने गुजरात और महाराष्ट्र दोनों का जिक्र करते हुए कहा कि इन दोनों राज्यों ने भारत के विकास में बहुत योगदान दिया है. साथ ही उन्होंने जलवायु परिवर्तन के बारे में बात करते हुए कहा कि गर्मी के दिनों में जानवरों और पंछियों की अच्छे से देख भाल करे. साथ ही जो प्यासे पथिक या किसी भी प्यासे को पानी के लिए पूछ कर कर्तव्य का निर्वहन करे.
  2. उन्होंने अपने द्वारा लाँच की गयी भीम एप्प के बारे में चर्चा करते हुए बोला कि लोग डिजिटल एप्प के माध्यम से भी कमा सकते है. सबसे बड़ी और मुख्य बात उन्होंने वीआईपी संस्कृति के बारे में कही जिनमे उन्होंने गाड़ियों पर लगे बीकन्स अर्थात लाल बती वाली जो संकेत लाइट होती है उसको हटाने के बारे में कहा. उन्होंने लोगों से कहा कि वो अपने दिमाग से वी आई पी संस्कृति को बाहर निकालने की कोशिश करे, क्योकीं अब नई भारत की अवधारणा में ईपीआई अर्थात प्रत्येक व्यक्ति की महत्वपूर्णता जैसी संस्कृति को लाने के लिए कोशिश की जा रही है. साथ ही उन्होंने रामानुज चार्य के छुआ छूत और सामाजिक बुराईयों के खिलाफ़ किये गए लडाई के बारे में जिक्र करते हुए कहा कि हमें हमेशा अपने इतिहास और संस्कृति को याद रखना चाहिए इससे हमे उर्जा मिलती है.
  3. प्रधानमंत्री ने भारत दक्षिण एशिया उपग्रह के 5 मई को होने वाले लाँच के बारे में जिक्र किया, साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि श्रीलंका के वेसाक दिवस में शामिल होकर उन्हें ख़ुशी मिलेगी उन्हें बौध विद्वानों से बात करने का मौका मिलेगा.
  4. मजदुर दिवस का जिक्र करते हुए उन्होंने बाबा भीमराव अम्बेडकर के श्रमिक अधिकारों के लिए किये गए योगदान की चर्चा की और इसे याद रखने योग्य बताया.

मन की बात कार्यक्रम का निष्कर्षण (Mann ki baat concept)

उन्होंने अपने अब तक हर एक आयोजन में सरकारी नीति और उसके विकास के साथ लोगों से भी जुड़ने की अपील की. उन्होंने अपने मन की बात में स्वच्छ भारत, विमुद्रीकरण, जन धन योजना, सुकन्या समृधि योजना, जीवन ज्योति योजना, सुरक्षा बीमा योजना, आदर्श ग्राम, सड़क यातायात और सुरक्षा बिल, अटल पेंशन योजना, मुद्रा योजना, मेक इन इंडिया, उजाला योजना के साथ ही उज्जवल योजना पर भी चर्चा की है.                                                                                                                                                                                                                         मन की बात शो का उद्देश्य (Objective of Mann ki baat)

मन की बात का लोगों द्वारा अभिग्रहण या अभिनन्दन बहुत ही सराहनीय रूप में किया गया. इस कार्यक्रम का जो लक्ष्य रखा गया था कि पुरे देश की जनता से जुड़ने का, वह इस कार्यक्रम के माध्यम से पूरा हुआ. पुरे देश की जनता से खास कर महानगरीय शहरों में रहने वाली जनता ने इस कार्यक्रम को सुनने में और अपने विचारों को भेजने में रूचि दिखाई. एक सर्वेक्षण में पाया गया की मुंबई और चेन्नई समेत 6 भारतीय शहरों की लगभग 66.7% आबादी ने भारत के प्रधानमंत्री की मन की बात कार्यक्रम को ट्यून किया. मन की बात कार्यक्रम ने अखिल भारतीय रेडियो (ऑल इंडिया रेडियो) के कमाई के श्रोत को बढ़ा दिया है. पहले सामान्य तौर  पर एआईआर 1500 रुपये तक का भुगतान 10 सेकंड के विज्ञापन के लिए लेता था, लेकिन अब 10 सेकंड के विज्ञापन के लिए 2 लाख रूपये तक की वसूली एआईआर के द्वारा की जाती है.

मन की बात की भाषा संख्या (Mann ki baat broadcast timing)

मन की बात को हर महीने रविवार को 11 बजे से मुख्य रूप से हिंदी में और साथ ही अंग्रेजी में भी प्रसारित किया जाता है, लेकिन देश के कई स्थानीय भाषाओ में इसको ट्रांसलेट कर एआईआर के द्वारा प्रसारित किया जाता है.

मन की बात के लिए हेल्पलाइन (Mann ki baat helpline)

मन की बात में जनता से संपर्क के लिए बहुत तरह की फोन, वेवसाइट, डाक के पते, लाइव ऑडियो पोस्ट जैसी निःशुल्क सेवा शुरू की गयी है. जिनमे शामिल है, मन की बात टोल फ्री नम्बर 18003007800, इसके अलावा आप 1922 पर मिस्ड कॉल करके इसका प्रसारण सुन सकते है. इसके लिए आधिकारिक वेवसाइट को भी लाँच किया गया है जो इस प्रकार से है – http://www.pmindia.gov.in/.

इस वेवसाइट के अलावा आप इस दिए गए लिंक पर जा कर प्रधानमंत्री के ‘मन की बात’ के लिए अपनी जानकारी और विचार दे सकते है.

  1. https://www.mygov.in/group-issue/give-your-inputs-prime-ministers-mann-ki-baat/
  2. http://www.pmindia.gov.in/en/news_updates/pm-urges-people-to-record-voice-messages-for-mann-ki-baat/

ये सारे लिंक आपको इस कार्यक्रम से जुड़ने में मदद करेंगे. इसके साथ ही आप ट्विटर के माध्यम से भी इससे जुड़ सकते है. ट्विटर का पेज है- https://twitter.com/narendramodi.

अन्य पढ़े:

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *