ताज़ा खबर
Home / इनफार्मेशनल / मसूरी हिल स्टेशन प्लेस | Mussoorie Tourist points of interest places in hindi

मसूरी हिल स्टेशन प्लेस | Mussoorie Tourist points of interest places in hindi

 Mussoorie Tourist points of interest places in hindi उत्तराखंड के देहरादून जिले में स्थित मसूरी एक बहुत ही सुंदर और फेमस हिल स्टेशन है. यह देहरादून से 35 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. यह हिल स्टेशन गढ़वाल हिमालय पर्वतमाला की तलहटी में स्थित है, इसकी सुन्दरता को देखते हुए इसे ‘दी क्वीन ऑफ़ हिल्स’ (The Queen Of Hills) का नाम दिया गया. मसूरी को गंगोत्री, यमनोत्री के प्रदेश द्वार के रूप में भी जाना जाता है. मसूरी में मंसूर की झाड़ी मुख्य रूप से पाई जाती है, इन्ही झाड़ी पर इसका नाम मसूरी पड़ गया. समुद्र तल से इसकी ऊंचाई लगभग 2000 मीटर उपर है. मसूरी एक लोकप्रिय हिल स्टेशन है, जहाँ विविध वनस्पति व जीव मौजूद है, यहाँ की हरी वादियों को देखने लोग दूर दूर से आते है.

मसूरी हिल स्टेशन प्लेस ( Mussoorie Tourist points of interest places in hindi)

मसूरी उत्तर-पूर्व में हिमालय की बर्फ पर्वतमाला का एक अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है, यहाँ से दून घाटी, रूरकी, सहारनपुर, हरिद्वार, केदारनाथ, बद्रीनाथ, बन्दर पूँछ, श्री कंठा एवं नंदा देवी भी दिखाई देता है. हरिद्वार के दार्शनिक स्थल जानने के लिए पढ़े.

हिल स्टेशन का नाम मसूरी
द्वितीय प्रसिध्य नाम दी क्वीन ऑफ़ हिल्स
प्रदेश उत्तराखंड
जिला देहरादून
ऊंचाई 6579.5 फीट
जनसँख्या (2001 जनगणना) 26 हजार लगभग
भाषा (Local language) गढ़वाली, हिंदी, अंग्रेजी
स्थिति देहरादून से 35 किलोमीटर दूर
पिन नंबर 248179
घुमने योग्य स्थान
  • दी मॉल
  • केम्टी फॉल
  • लाल टिब्बा
  • हैप्पी वैली

मसूरी जाने का सही समय (Best time to visit Mussoorie) –

यहाँ जाने का सही समय मार्च से नवम्बर तक का होता है. ठण्ड में यहाँ अत्याधिक ठण्ड पड़ती है, कई बार बर्फवारी, बारिश भी हो जाती है. ठण्ड में यहाँ दिन का तापमान 7 डिग्री होता है, जबकि रात में तो जीरो भी चला जाता है. यहाँ गर्मी अधिक नहीं होती है, दिन में तापमान 30 रहता है, जबकि रात में ठंडक बढ़ जाती है. तो गर्मी के मौसम में यहाँ आप जाकर अच्छा महसूस करेंगें. मानसून में भी इस हिल स्टेशन की सुन्दरता और बढ़ जाती है. पर्वत में स्थित होने के कारण, मानसून में ऐसा लगता है, मानों आप बादल में रह रहे हो.

Mussoorie

मसूरी कैसे पहुंचे (How to reach Mussoorie)

हवाईजहाज के द्वारा (by air) – मसूरी के पास का सबसे करीबी एअरपोर्ट देहरादून में स्थित जॉली ग्रांट है. जो 35 किलोमीटर दूर है. एअरपोर्ट से मसूरी जाने के लिए आसानी से बस, टैक्सी, कैब मिल जाती है.

ट्रेन के द्वारा (by train) – मसूरी से सबसे करीबी रेलवे स्टेशन देहरादून का ही है. यहाँ दिल्ली, मुंबई, कलकत्ता से रोज ट्रेन का आवागमन होता है.

रोड के द्वारा (by road) – उत्तरप्रदेश की सरकार द्वारा मसूरी के लिए रोज स्पेशल बस चलाई जाती है. ये बस शिमला, हरिद्वार, दिल्ली से देहरादून के लिए चलती है, फिर ये आगे देहरादून से मसूरी तक भी जाती है. दिल्ली से मसूरी 275 किलोमीटर है, यहाँ लोग अपने प्राइवेट वाहन से भी जाते है.

मसूरी में घुमने योग्य जगह  (Tourist attractions in Mussoorie) –

भारत में मसूरी को हनीमून के लिए सबसे बेस्ट कहा जाता है, यहाँ से शिमला भी 255 किलोमीटर दूर है, जो आसानी से घुमा जा सकता है. शिमला के दार्शनिक स्थल जानने के लिए पढ़े. मसूरी में बहुत से बोर्डिंग स्कूल भी बनाये गए है.

केम्टी फॉल (Kempty falls) – यह मसूरी से 15 किलोमीटर दूर स्थित है, और पर्यटकों का मुख्य आकर्षण है. केम्टी फॉल ऊँची पहाड़ियों से घिरा हुआ है, यह समुद्र तल से लगभग 1364 मीटर ऊंचाई पर स्थित है. यहाँ बैठकर फॉल से गिरते पानी को देखना, उसकी आवाज को सुनना, हरियाली को महसूस करना बहुत सुखद होता है.

लाल टिब्बा (Lal tibba) – यह मसूरी के सबसे ऊँची चोटी पर स्थित है, इसकी ऊंचाई समुद्र तल से 2290 मीटर है. यहाँ से ऐसे नज़ारे देखने मिलते है, जो आपने पहले कभी नहीं देखे है. यहाँ से केदारनाथ, बद्रीनाथ भी दिखाई देता है. अपने दर्शकों के सुरम्य वातावरण दिखाने के लिए, यहाँ कुछ लोग जापानी दूरबीन के द्वारा आपको दूर की चोटियाँ दिखाते है.

हैप्पी घाटी (Happy valley) – मसूरी में तिब्बती लोग मुख्य रूप से रहते है, हैप्पी वैली वो जगह है, जहां पर तिब्बति सबसे पहले भारत आये थे. 1959 जब आध्यात्मिक नेता, गुरु दलाई लामा धर्मशाला में रहने चले गए थे, तब कुछ तिब्बती ल्हासा से फरार हो गए थे, और यहाँ मसूरी आ गए थे. इस जगह को बहुत सुंदर तरीके से सजाया गया है. यहाँ काफी हाउस, और खाने के तरह तरह के स्टाल भी है.

कैमल बेक रोड (Camel’s back road) – जैसा की नाम से समझ आता है, यह कैमल के पीछे की आकृति जैसी बनी है. इसे पत्थरों से बनाया गया है, जो कुलरी बाजार से लाइब्रेरी चौक तक 3-4 किलोमीटर तक फैली है. यहाँ की सड़क पर टहलते समय आप घाटी के अद्भुत दृश्य और पहाड़ों के सुंदर नज़ारे देख सकते है. यहाँ फोटो खीचने के लिए बहुत सुंदर सुंदर नज़ारे मौजूद है.

गन हिल (Gun hills) – मसूरी में ये दूसरी सबसे ऊँची जगह है. ब्रिटिश समय में यहाँ गन से अंधाधुंध फायरिंग हुई थी, जिसके बाद इसका नाम गन हिल रख दिया. यह समुद्र तल से 2024 मीटर ऊंचाई पर स्थित है.

मसूरी लेक (Mussoorie lake) – मसूरी-देहरादून रोड पर ये 6 किलोमीटर लम्बा लेक है, जिसे सिटी बोर्ड के द्वारा पिकनिक स्पॉट घोषित किया गया है. यह प्राकतिक लेक, प्राकतिक झरने से बनता है. यहाँ डक पानी में देखे जा सकते है, इसके अलावा पैडल वाली नाव भी चलती है, जिसका लुफ्त पर्यटक यहाँ लेते है.

क्राइस्ट चर्च (Christ church) – क्राइस्ट चर्च का निर्माण 1836 में हुआ था, जिसे भारत में ब्रिटिश के द्वारा बनवाया गया था. ये हिमालय में बहुत पुराने चर्च में से एक है. पत्थरों की डिजाइन, स्थापत्य शैली , चर्च में कांच की खिड़की,  यीशु मसीह के जीवन की घटनाओं को बहुत सुंदर ढंग से प्रस्तुत करते है। यहाँ की दीवारें, सजावट बहुत सुंदर है, जो पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करती है.

ज्वालाजी मंदिर (Jwalaji temple) – यह मंदिर मसूरी से 9 किलोमीटर दूर है. यहं कई सालों पुरानी हिन्दू देवी दुर्गा की प्रतिमा है. जिसकी बहुत मान्यता है.

दी मॉल (The mall) – इसे मॉल रोड भी कहते है. यह मसूरी का मार्किट है, जहाँ सब कुछ मिलता है. यहाँ बहुत सी होटल भी है, और सभी तरह की दुकाने भी यहाँ मौजूद है. यहाँ से टैक्सी आसानी से मिल जाती है, जिससे आप मसूरी में दूर वाले स्थान जा सकते हो.

नागा टिब्बा (Naga tibba) – यह मसूरी से 55 किलोमीटर दूर है, यह ट्रेकिंग के लिए बेस्ट जगह है. यह समुद्र तल से 10 हजार फीट उपर है, जो घने जंगलों से घिरी हुई है.

सुरखंडा देवी (Surkhanda devi) – यह मसूरी से 35 किलोमीटर दूर तेहरी रोड में स्थित है. यहाँ रोप वे द्वारा उपर जाया जाता है, यह मंदिर भी 10 हजार फीट उपर है. यहाँ भगवान् शिव की प्रतिमा है.

नाग देवता मंदिर (Naag devta temple) – मसूरी से 6 किलोमीटर दूर देहरादून के रस्ते में यह मंदिर स्थित है. यहाँ नाग देवता एवं शिव की पूजा अर्चना की जाती है. यहाँ से दून घाटी का भी नजारा देखने को मिलता है.

सर जॉर्ज एवेरेस्ट हाउस (Sir George Everest’s House) – इसका निर्माण महान सर्वेक्षक और भूगोलिक सर जॉर्ज हाउस की याद में 1932 में बनाया गया था. इन्ही के नाम पर दुनिया की सबसे ऊँची चोटी माउन्ट एवरेस्ट का नाम पड़ा. यह पिकनिक स्पॉट है, जो लाइब्रेरी बाजार से 6 किलोमीटर दूर है.

मसूरी एक बहुत सुंदर हिल स्टेशन है, जहाँ आप जाकर प्रकति के करीब अपने आपको महसूस करेंगें. हनीमून एवं फॅमिली ट्रिप दोनों के लिए ये बेस्ट प्लेस है, जहाँ आप जाकर काफी एन्जॉय करेंगें.

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

यह भी देखे

data-scientist-salary-in-india

डेटा वैज्ञानिक का भारत में कमाई| Data Scientist Salary In India In Hindi

Data Scientist Salary In India In Hindi डेटा वैज्ञानिक की मांग आज के समय में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *