ताज़ा खबर

पनामा पेपर लीक क्या है | What is Panama Papers Scandal Leak in hindi

पनामा पेपर लीक क्या है | What is Panama Papers Scandal Leak in hindi

पनामा पेपर एक अंतर्राष्ट्रीय रूप से किया  गया भ्रष्टाचार है, जिसका खुलासा लगभग 11.5 मिलियन डॉक्यूमेंट फाइल के लीक होने से हुआ. यह फाइल पमाना स्थित एक अपतटीय मोस्सक फोंसेका फर्म से सम्बंधित थी. इस कंपनी ने कई देशों के लोगों को टैक्स बचाने में ग़ैर कानूनी रूप से मदद की थी. साथ ही यहाँ से काफी मात्रा में मनी लौन्ड्रिंग भी हुई. इसी वजह से पाकिस्तान के PM नवाज़ शरीज़ को इस्तीफा भी देना पड़ा है. 

 

पनामा पेपर लीक क्या है

What is Panama Papers Leak in hindi

पनामा पेपर किस विषय में है (What is The Subject of Panama Paper)

पनामा पेपर विश्व का सबसे बड़ा अंतर्राष्ट्रीय कोऑपरेशन है. पिछले एक वर्ष में 80 देशों से लगभग 400 से अधिक पत्रकारों ने और लगभग 100 से अधिक मीडिया संस्थानों ने इन लीक दस्तावेजों के शोध में भाग लिया है. यह दस्तावेज़ कैसे लीक हुयें हैं, इसका अनुमान लगाना कठिन हैं. विश्व स्तरीय मीडिया जैसे बीबीसी, गार्डियन, इन्दिंन एक्सप्रेस आदि ने भी इस घटना की जांच पड़ताल में काफी काम किया है. पत्रकारिता के क्षेत्र में इसे अब तक का सबसे बड़ा लीक माना गया है.

ऑफ शोर लॉ फर्म क्या है (What is Offshore Law Firm)

एक ऑफशोर लॉ फर्म एक ऐसा फर्म होता है, जो विश्व के किसी भी आदमी को ऑफशोर कम्पनियां बेचता है. ये शैल कम्पनियां अपने प्रोमोटरों को उनके बिज़नस डीलिंग सम्बंधित सभी जानकारियों को छुपाने का मौक़ा देती है. इस कंपनी के विश्व भर में दर्जन से भी अधिक गुप्त कार्यालय होते हैं. इनका काम ऐसे ऑफशोर कंपनी को बनाना, बेचना और नियंत्रित करना होता है, जिसकी सहायता से इन्हें खूब आर्थिक लाभ प्राप्त होता है और यह लोगों के काले धान को सफ़ेद करने में मदद करता है.

एक शैल कोऑपरेशन ऐसी संसथा है, जिसके अंतर्गत किसी भी तरह का सक्रीय व्यापार नहीं होता और न ही इसके अंतर्गत कोई तय एसेट होता है. यह आवश्यक नहीं है कि कोई शैल कोऑपरेशन ग़ैर कानूनी ही हो. कई बार ये एक स्टार्ट अप के रूप में भी मौजूद होते हैं.

यह लॉ फर्म अपने क्लाइंट को गुप्त रूप से कई अकाउंट बनाने की सुविधा देता है, ताकि उनके पैसे को किसी के द्वारा ट्रैक नहीं किया जा सके. इस तरह से इन अकाउंट का प्रयोग करके लोग मनी लौन्डरिंग की सहायता से अपने काले धन को सफ़ेद कर लेते हैं.

ऐसी ऑफशोरे कम्पनियां किसी व्यक्ति के लिए आसानी से कंपनी शुरू करने, खरीदने और बेचने की सुविधाएं देती हैं. ये बहुत ही कम क़ीमत पर कई तरह की सुविधाएँ अपने क्लाइंट के लिए मुहैया कराती हैं. इसके अंतर्गत महज एक हज़ार डॉलर में कोई व्यक्ति कंपनी ख़रीद सकता है, जिसके डायरेक्टर का नाम भी फेक ही रहेगा. यदि मालिक चाहे तो वो कंपनी के सही शेयर होल्डर का नाम भी दे सकता है.

मोस्सैक फोंसेका क्या है (What is Mosaic Fonseca)

यह पनामा स्थित एक लॉ फर्म है, जो विश्व भर में अपनी शैल कम्पनियां बेचती हैं. आईसीआईजे (इंटरनेशनल कंसोर्सियम ऑफ़ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म) के अनुसार यह संस्था अपने क्लाइंट, ड्रग डीलर, माफिया, भ्रष्ट राजनेता और टैक्स छिपाने वाले लोगों के लिए एक दरवान का काम करती है. जब यह कंपनी ऑफशोर कंपनियों के बेचने के लिए उतरी थी, तब यह विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी कंपनी थी.

लीक किस तरह से हुआ (Leak Paper)

कुछ वर्ष पहले किसी अनजान और गुमनाम व्यक्ति ने एक जर्मन समाचार एसज़ेड से संपर्क बनाया था और इसी ने सभी इस ऑफशोर लॉ फर्म से आतंरिक गोपनीय दस्तावेज़ निकाल कर इस समाचार पत्र के हवाले कर दिया. यहीं से सारी जानकारियाँ विश्व भर की मीडिया में फ़ैल गयी. इसके अंतर्गत देश विदेश के कई बड़े बड़े नाम शामिल हैं, जिसका खुलासा धीरे धीरे हो रहा है.

लीक डाटा का विषय (Leak Data Subject)

इस डेटा में मुख्यतः ईमेल, विभिन्न तरह के पीडीऍफ़, फोटो फाइल तथा कंपनी के आतंरिक डेटाबेस का अंश मौजूद था.

इसमें पाए गये दस्तावेजों के अनुसार यह पता चला कि विभिन्न बड़े बैंकों, लीगल फर्म और एसेट मैनेजमेंट कंपनियों द्वारा संचालित यह ऑफशोर कंपनी कैसे विश्व के बड़े और पैसे वाले नाम जैसे राजनेताओं, फीफा ऑफिसियल, कई ड्रग स्मगलर, खिलाड़ी आदि के कालेधन को अश्रय दे रही थी.

यह लीक कितनी बड़ी थी

यह लीक विश्व इतिहास में हुए किसी भी लीक से बड़ी और अब तक की सबसे बड़ी लीक थी. इसमें कम से कम 11.5 मिलियन डॉक्यूमेंट, जिसकी साइज़ 2.6 टेट्रा बाईट थी मौजूद थी. इसके अंतर्गत कई तरह की लीक जैसे विकिलीक्स, ऑफशोर लीक, लक्स लीक, स्विस लीक आदि भी सम्मिलित है.

  • पनामा पेपर लीक (2016) : 2.6 टीबी
  • ऑफशोर सीक्रेट लीक (2013) : 260 जीबी
  • स्विस लीक (2015) : 3.3 जीबी
  • विकीलीक (2010): 1.7 जीबी

पनामा पेपर लीक में शामिल नाम (Panama Papers Leak List)

पनामा पेपर लीक में विश्व भर के कई नाम सामने आये. हालाँकि यह नाम अभी पूरे नहीं हुए हैं. पनामा पेपर लीक के अंतर्गत निकले विशेष नाम है :

  • अर्जेंटीना के फुटबॉलर लिओनेल मेस्सी
  • हांगकांग के विश्वप्रसिद्ध जैकी चैन.
  • अर्जेंटीना के राष्ट्रपति मौरिसियो मार्की.
  • यूनाइटेड अरब अमिरात के खलीफा बिन ज़ायेद एल नहयान.
  • युक्रेन के पेत्रोपोरोशेनको.
  • चीन के जाने माने नेता जाई जिनपिंग के साले.
  • ब्रिटेन के प्रधानमन्त्री डेविड कैमरन के पिता.

इनके अतिरिक्त भी कई लोगों के नाम अब तक इस लीक्स में आगे आये हैं.

भारत से : भारत से लगभग 500 लोगों के नाम इस लीक्स के अंतर्गत लोगों के सामने आये हैं, जिनमें कुछ प्रमुख नाम निम्नलिखित हैं.

इस तरह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हुए बड़े बड़े भ्रष्टाचारों में ये भी एक शामिल है, जिसमें कई ऐसे लोग शामिल थे, जिसे आम लोग अपना आदर्श मान कर उनके द्वारा बताये गये मार्ग पर चलने की कोशिश करते हैं. इस मनी लौन्डरिंग के अंतर्गत कई बड़ी बड़ी हस्तियों के काले शान को सफ़ेद किया जा रहा था.

अन्य पढ़े:

Surbhi

सुरभिदीपावली वेबसाइट की लेखिका है| जिनको जीवनी व हिंदी के अन्य सभी विषयों मे लिखने का शोक है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *