ताज़ा खबर
Home / कविताये / वुमन डे स्पेशल हिंदी कविता : भारत की नारि

वुमन डे स्पेशल हिंदी कविता : भारत की नारि

औरतो को अबला समझना, ना समझी नहीं, भूल हैं उन कायरों की, जिसने जीवन देने वाली की ताकत को नहीं जाना |भारत की नारि (Bharat Ki Nari Woman’s Day Special Hindi Kavita)हिंदी कविता कुछ पंक्तियाँ हैं जो देश की सभी नारियों को समर्पित हैं |

भारत एक ऐसा देश हैं जिसकी भूमि को माँ का दर्जा दिया गया हैं | यहाँ कई महान नारियों ने प्रेम के लिए बलिदान दिया हैं | बलिदान देने वाली नारि कभी अबला नहीं होती | नारि चुप रहती हैं घर की आबरू के खातिर लेकिन जिस दिन उसने अपना प्रचंड रूप दिखा दिया उस दिन कायरों का बचना नामुमकिन हैं | औरत में अपार सहनशीलता होती हैं इसी कारण पुरुष की कोख नहीं होती एक पुरुष में त्याग औत ममता के वो भाव नहीं होते जो दर्द सहकर किसी को जीवन दें सके |

निर्भया हैं नारि (Nari) जिस दिन भी उसमें माँ काली ने अपना रूप दिखा दिया उस दिन पूरी दुनियाँ को हिला देने की ताकत हैं औरत में | यह बाते फ़िज़ूल की नहीं हैं रानी लक्ष्मी बाई इस बात का सबूत हैं |अपने पति की जान को यमराज से छीन लाने का दम भी एक नारि में ही हैं |

देश में एक नारि के अस्तित्व के लिए आन्दोलन चलाये जा रहे हैं यह इस देश की शर्मनाक हार हैं | नारि (Nari) की गरिमा को नुकसान पहुँचाने वाले कभी चैन से नहीं जी पाएंगे | 

भारत की नारि हिंदी कविता (Woman’s Day Kavita Poem In Hindi)

Bharat Ki Nari Woman's Day kavita Poem In Hindi

हिंदी  कविता:भारत की नारि 

निर्भया हैं तू, नहीं कोई बेचारी,

शक्ति स्वरूप माँ काली |

हर कायर पर तू है भारी,

ऐसी हैं भारत की नारि |

पैरो की धूल ना समझो,

प्यार से भरी हैं नारि |

यमराज को झुकाने का बल हैं जिसमे,

 वो सत्यवती हैं नारि |

फिरंगियों को कर दे तार-तार,

 हैं वो लक्ष्मी बाई|

जिसने बुरी नजर से देखा ,

उसने मुहं की खाई |

By: कर्णिका पाठक

Bharat Ki Nari Kavita Woman’s Day kavita Poem In Hindi सभी युवा को एक होकर देश में बढ़ने वाले अपराधों से लड़ना चाहिए | देश का आधार एक पुरुष नहीं हैं नारि को बराबर का हक़ हैं | एक घर बिना औरत के कभी पूरा नहीं हो सकता हैं बिना प्यार के कोई खुश नहीं रह सकता हैं और ईश्वर ने नारि में अथाह प्रेम का समुंदर दिया हैं | नारि ही हैं जो कई जीवन को बाँधे रखती हैं | सभी जानते हैं बिना पिता के तो बच्चे फिर भी संभल जाते हैं पर बिन माँ के बच्चे अकेले रह जाते हैं | उनके जीवन में प्यार की कमी रह जाती हैं |

Woman’s Day Special  Kavita Poem In Hindi यह ब्लॉग हिंदी पाठको के लिए लिखा गया हैं आपको कैसा लगा कमेंट बॉक्स में लिखे |

साथ ही अगर आप लिखने के शौक़ीन हैं तब deepawali.add@gmail.com पर सम्पर्क करें आपकी कृति नाम और फोटो के साथ published की जाएगी |

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

bewafa bewafai shayari

बेवफ़ा / बेवफ़ाई पर शायरी

बेवफ़ाई इश्क का एक ऐसा मंजर हैं जो या तो तोड़ देता हैं या जोड़ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *