ताज़ा खबर

संस्कृत के श्लोको के अर्थ हिन्दीमें | Prayers With Meaning in hindi

Prayers With Meaning in hindi प्रार्थना वह है जिससे हम अपनी असहायता व्यक्त करते हैं, और कार्य करने के लिए भगवान को निपुण करते हैं. प्रार्थना, कार्यवाही, विचार और दृष्टिकोण के स्तर पर हमे लाभ देती है. यह अध्यात्मिक अभ्यास में एक आधार है क्योकि यह भगवान के नाम का जप करने की शक्ति को बढ़ाता है. हमे बुरी आत्माओं से दिव्य संरक्षण देता है और पूर्वजों को मुक्ति देता है, अहंकार को कम करता है और हमारा विश्वास बढ़ाता है. समय के साथ, लगातार प्रार्थनायें हमारे मन और बुद्धि को भंग करती है और उसके माध्यम से हम उच्च सार्वभौमिक मन और बौद्धिकता तक पहुँच प्राप्त करते हैं. यह हमारी अध्यात्मिक भावनाओं को जागृत करने का एक प्रभावी साधन है और इसमें भगवान और आनंद के साथ भोज का अनुभव है जो इसका परिणाम है. यह खंड अध्यात्मिक अनुसन्धान के माध्यम से प्रार्थना की हमारी समझ को बढ़ाने के लिए समर्पित है और हमे लगातार और ईमानदारी से प्रार्थना करने के लिए प्रेरणा देने के लिए समर्पित है ताकि हम आज ही अपने लाभों का अनुभव कर सकें. संस्कृत में प्रार्थना हिंदी अर्थ के साथ यहाँ पढ़ें. 

प्रार्थना क्या है? (What is Prayer)

प्रेयर या प्रार्थना शब्द दो भागों में विभाजित हैं ‘प्रा’ और ‘अर्थ’ जिसका मतलब होता है, ईमानदारी से आग्रह करना. दूसरे शब्दों में कहें तो ईश्वर से मांगना. प्रार्थना में सम्मान, प्रेम, समर्पण और विश्वास शामिल है. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि किस धर्म की प्रार्थना है, सभी प्रार्थनाओं में एक निश्चित शक्ति है, लकिन कुछ तकनीक दूसरों की तुलना में अधिक शक्तिशाली हो सकती है. प्रार्थना ऊर्जा का संचार एवं संचारण करने का एक तरीका है. यह ख़ुशी, प्रेरणा, उपचार, शांति, उत्साह यहाँ तक कि आनंद भी ला सकती है. प्रार्थना कुछ रहस्यमयी प्रक्रिया नहीं है जिसके द्वारा हम किसी बल को बुलाते हैं. न ही यह एक ऐसी शक्ति है जिसके साथ हम चीजें बनाते है या उन्हें अस्तित्व में लाते है. प्रार्थना भगवान के बारे में जानने और अध्यात्मिक रूप से बढ़ने के लिए जरूरी है क्योकि यह हमारी श्वास और स्वास्थ्य के लिए है. प्रार्थना भगवान से बात करने और उन्हें सुनने के लिए है. सच्ची प्रार्थना वह है कि जब हमारी इच्छा ईश्वर की इच्छा से जुडी होती है और हम उसके अनुसार प्रार्थना करते है. प्रार्थना हमारे स्वर्ग और स्वर्ग से हमारे संबंधों के लिए कनेक्शन है. यही कारण है कि हमे हमेशा प्रार्थना करती रहनी चाहिए. विश्वास की शक्ति कहानी यहाँ पढ़ें.

प्रार्थना का महत्व (Prayer importance)

हमारी अध्यात्मिक प्रगति के निर्धारण में एक महत्वपूर्ण मापदंड हमारे मन, बुद्धि और अहंकार के विघटन की सीमा है. इसका मतलब यह है कि जब हम जन्म से सामना करते हैं अर्थात जब हम जन्म लेते है, तब से हमारे माता – पिता, शिक्षक और मित्र हमारे पांच इन्द्रियों, मन और बुद्धि को बढाते है. वर्तमान विश्व में पांच इन्द्रियों, मन और बुद्धि से सम्बंधित चीजों को बहुत अधिक जोर दिया गया है, जैसे बाहरी सौन्दर्य, हमारा वेतन, मित्रों के हमारे मंडल आदि. किसी भी समय हम ये नहीं कह सकते हैं कि हमारे जीवन का उद्देश्य खुद से बाहर जाने के लिए भगवान के अंदर प्रवेश करना है. इसलिए जब हम अध्यात्मिक अभ्यास शुरू करते हैं, तो हमें कंडीशनिंग के वर्षों को उजागर करना पड़ता है, जो हमें हमारे पांच इन्द्रियों, मन और बुद्धि पर ध्यान केन्द्रित करना सिखाता है. इन सभी के लिए प्रार्थना एक महत्वपूर्ण उपकरण है.

prayers with meaning


प्रार्थना का तात्पर्य यह दर्शाता है कि जो व्यक्ति प्रार्थना कर रहा है, वह उस शक्ति को समझता है, जिसे आप स्वयं से श्रेष्ठ के रूप में देखते हैं. अतः एक व्यक्ति प्रार्थना करके अपनी असहायता और आत्मसमर्पण के लिए उच्च शक्ति और मदद की अपील करता है. यह प्रार्थना के रूप में व्यक्ति के अहंकार को झटका है, जिसका अर्थ है कि अपने मन की तुलना में उच्च मन और बुद्धि से मदद की तलाश हैं. इस प्रकार अक्सर प्रार्थना करके हम अपने सीमित मन और बुद्धि को पार करते हैं, उच्च सार्वभौमिक मन और बुद्धि का उपयोग करते हैं. समय की अवधि में यह हमारे मन और बुद्धि के विघटन के लिए योगदान देता है. इस प्रकार प्रार्थना अध्यात्मिक विकास के लिए लगातार और ईमानदारी से सहायता करती है.     

प्रार्थना कैसे करना चाहिए (How do Pray)

भगवान ने यह वादा किया है कि वे ईश्वर पर भरोसा रखने वाले हर व्यक्तियों की प्रार्थनाओं को सुनकर जवाब देंगे. प्रार्थना के लिए कोई नियम नहीं है. यहाँ भगवान की प्रार्थना करने के लिए कुछ दिशा निर्देश दिए जा रहे हैं.

  • अपने प्यार करने वाले पिता के रूप में भगवान पर विश्वास करें.
  • स्वाभाविक रूप से प्रार्थना करें, और भगवान पर निर्भरता व्यक्त करें.
  • ईश्वर पर भरोसा रखते हुए बस प्रार्थना करें, और याद रखें ईश्वर हमारी प्रार्थनाओं का उन तरीकों से उत्तर देगा जो हमारे लिए सर्वोत्तम है.
  • बाइबल, क़ुरान, रामायण, भगवद्गीता आदि पढ़ें, पर भगवान् की इच्छा के अनुरूप प्रार्थना करें.
  • याद रखें, कोई समस्या बड़ी हो या छोटी इसके बारे में प्रार्थना जरुर करें.
  • अच्छे इरादों के साथ अर्थात ईमानदारी से और सच्चे मन से प्रार्थना करें. ईमानदारी सर्वोच्च नीति है यहाँ पढ़ें.
  • यदि आप उलझन में और प्रार्थना करना नहीं जानते है तो भगवान को बतायें कि आप प्रार्थना करना नहीं जानते हैं. भगवान की पवित्र आत्मा आपको समझेगी और आपकी सहायता करेगी.

इस तरह आपको प्रार्थना करना चाहिए.

प्रार्थना से लाभ (Prayer benefits)

  • आध्यात्मिक अभ्यास में सुधार : प्रार्थना तीन स्तरों क्रिया, विचार और दृष्टिकोण पर हमारे अध्यात्मिक अभ्यास को प्रभावित करती है.
  1. क्रिया : आध्यात्मिक कार्यों के लिए प्रार्थना से पहले आने वाली क्रियाएं आध्यात्मिक भावनाओं के साथ होती है, इसलिए कम त्रुटियाँ प्रतिबद्ध है.
  2. विचार : जब तक मन सक्रीय है, तब तक विचार जारी रहेगा. वे दिमाग के विघटन के लिए बाधा डालते है. बेकार विचारों से ऊर्जा का अपव्यय भी हो सकता है. इस अपव्यय को रोकने के लिए प्रार्थना सबसे अच्छा उपयोगी उपकरण है. प्रार्थना चिंता कम कर देती है और चिंतन को बढ़ाती है.
  3. दृष्टिकोण : अध्यात्मिक भावनाओं के साथ की गई प्रार्थना एक साधक के भीतर चिन्तन की प्रक्रिया को शुरू करती है और यह अन्तर्मुखी बनने में सहायता करती है.
  • भगवान के नाम का जप करने की ताकत को बढ़ाता है : ईश्वर को समझने के उद्देश्य से एक साधक ईश्वर का नाम बदलता है. यदि केवल भगवान दर्शन और अध्यात्मिक भावना के लिए तीव्र प्रेरणा के साथ नाम दोहराया जाए तो यह वास्तव में प्रभावी हो जायेगा.
  • अध्यात्मिक अभ्यास में ईश्वरीय सहायता : जब कोई साधक अपने अध्यात्मिक अभ्यास से सम्बंधित एक विषय क्रिया / विचार / रवैया प्राप्त करने के लिए, जो उसके माध्यम से किया जाता है, ईश्वर से प्रार्थना करता है, तो ऐसा असंभव काम गुरु की कृपा से किया जा सकता है.
  • गलतियों के लिए क्षमा प्राप्त करना : एक गलती करने के बाद यदि कोई प्रार्थना करता है और भगवान या गुरु को समर्पण करता है, तो भगवान या गुरु उस गलती के लिए उसे मांफ कर देते है. हालाँकि, गलती की प्रतिबधता के साथ तीव्रता से प्रार्थना और आत्मसमर्पण होना चाहिए.
  • अहंकार को कम करना : प्रार्थना करते समय हम ईश्वर से पहले विनती करते हैं, इसलिए यहाँ गर्व छोड़ दिया जाता है और हम नम्रता के साथ भगवान पर निर्भरता स्वीकार करते हैं. इससे अहंकार को कम करने में तेजी से मदद मिलती है.
  • बुरी आत्माओं से संरक्षण : प्रार्थना एक शक्तिशाली उपकरण है जो भूतों अर्थात राक्षसों, शैतानों और नकारात्मक ऊर्जा आदि से बचाने में मदद करता है और अपने आप में एक कवच बनाता है.
  • विश्वास में वृद्धी : जब एक प्रार्थना का जवाब मिलता है, तो भगवान या गुरु पर विश्वास बढ़ता है. विश्वास हमारी अध्यात्मिक यात्रा पर एक मात्र मुद्रा है.

भगवान की प्रार्थना और उसके अर्थ (Prayers and its meanings in hindi)

ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यम्, भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्.|.|

अर्थात:-

 ॐ के उच्चारण में ही तीनो शक्तियों का समावेश हैं.

 हे. माँ भगवती जिसने सभी शक्तियों का सर्जन किया ऐसी प्राणदायिनी, दुःख हरणी, सुख करणी, समस्त रोगों का निवारण करने वाली, प्रज्ञावान माँ भगवती जो सभी देवों की देवी हैं उसकी में उपासना करती हूँ, जिसने मुझे संरक्षण दिया और सभी प्रकार के ज्ञान से समृद्ध बनाया.|

 

2. वक्रतुंड महाकाय सूर्य कोटिसमप्रभ|
 निर्विघ्नम कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा.|

अर्थात 

हे हाथी के जैसे विशालकाय जिसका तेज सूर्य की सहस्त्र किरणों के सामान हैं. बिना विघ्न के मेरा कार्य पूर्ण हो और सदा ही मेरे लिए शुभ हो. ऐसी कामना करते हैं.

 

3. शांताकारं भुजगशयनं पद्मनाभम सुरेशं
विश्वाधारं गगनसदृशं मेघ वर्णम शुभांगम

लक्ष्मीकान्तं कमल नयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम्
वन्दे विष्णु भवभयहरम सर्वलोककनथम

 

अर्थात

हे देवता ! जो शान्त स्वभाव लिए शेषनाग पर विराजित हैं जिनकी नाभि में कमल का पुष्प विद्यमान हैं
जिनका रंग घने बादलों की छाव हैं, जिसकी सुन्दरता पुरे विश्व में विख्यात हैं| यह सम्पूर्ण विश्व का आधार हैं. माँ लक्ष्मी के जीवन साथी, जिनके नयनो में कमल की कोमलता हैं, जिनका सभी योगि निःस्वार्थ भाव से ध्यान करते हैं ऐसे विष्णु का वंदन जिसने सभी भय को हरा जो पुरे विश्व के राजा हैं.

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *