ताज़ा खबर

क्रिकेटर पृथ्वी शॉ का जीवन परिचय एवं रिकार्ड्स | Cricketer Prithvi Shaw Biography and Records in hindi

क्रिकेटर पृथ्वी शॉ का जीवन परिचय एवं रिकार्ड्स | Cricketer Prithvi Shaw Biography and Records in hindi

पृथ्वी शॉ एक भारतीय क्रिकेटर है जो कि एमआईजी क्रिकेट का क्लब के लिए खेलते है. युवा क्रिकेट खिलाड़ी 17 वर्षीय पृथ्वी शॉ ने दलीप ट्रॉफी 2017-18 के लिए पहली बार फाइनल मैच में इंडिया रेड की तरफ से खेलते हुए इंडिया ब्लू के खिलाफ़ 154 रन बनाकर सुर्ख़ियों में है क्योकि भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के बाद दलीप ट्राफी के लिए सौ रन बनाने वाले शॉ दुसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए है. इतने कम उम्र में इस तरह का खेल खेल कर सचिन तेंडुलकर ने भी सबको आश्चर्यचकित किया था और उन्होंने दलीप ट्रॉफी मैच में पहली बार खेलते हुए शतक लगाये थे.

पृथ्वी शॉ का परिचय (Prithvi Shaw Biography in hindi)

वास्तविक नाम पृथ्वी पंकज शॉ
व्यवसाय भारतीय अंडर-19 टीम के क्रिकेटर 
जन्म की तारीख 9 नवम्बर 1999
जन्म स्थान ठाणे, महाराष्ट्र 
वजन 47 किलो ग्राम
ऊँचाई 5 फीट 2 इंच
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
राशि मकर
नागरिकता भारतीय

prithvi shaw

पृथ्वी शॉ का शुरूआती जीवन और शिक्षा (Prithvi Shaw Early Life and Education)

पृथ्वी शॉ दायें हाथ के बल्लेबाज और दायें हाथ के ही वो ऑफ़ स्पिन गेंदबाज भी है. वह एक प्रतिभावान क्रिकेट खिलाडी है. एमआईजी क्लब में क्रिकेट खेलने के लिए उन्हें सुबह 7 बजे पहुंचना होता था, जिसके लिए वो वरार से बांद्रा इस्ट के लिए सुबह 4.30 ट्रेन पकड़ते थे, ये मेहनत उनके क्रिकेट के जूनून को दर्शाती है. स्कूल की शिक्षा इन्होने मुंबई में विरार के ए. वी. एस. विद्यामंदिर से प्राप्त की है.

2010 तक उनकी प्रतिभा सबको दिखने लगी थी जिसके बाद शॉ को पूर्व भारतीय स्पिनर निलेश कुलकर्णी के खेल प्रबंधन कंपनी द्वारा 3 लाख रूपये की छात्रवृति दी थी. इससे शॉ और उनके पिता सांताक्रुज जो कि एमआईजी क्लब के नजदीक है वहाँ पर एक छोटा सा अपार्टमेन्ट ले कर रहने लगे. इस वक्त पृथ्वी की उम्र मात्र 11 वर्ष की थी.   

पृथ्वी शॉ का पारिवारिक जीवन (Prithvi Shaw Family)

शॉ जब तीन साल के थे तभी उनके पिता ने उनका दाखिला विरार क्रिकेट अकादमी में करा दिया था, विरार पश्चिमी रेलवे लाइन पर स्थित सबसे अंतिम स्टेशन है. शॉ के माता जी की मृत्यु जब वह 4 वर्ष के थे तभी हो चुकी थी, जिसके बाद उनके पिता ने उनकी देखभाल और करियर में सहयोग करने के लिए अपना व्यवसाय छोड़ दिया. वह कपड़े का व्यवसाय करते थे.  

पृथ्वी शॉ का करियर (Prithvi Shaw Career)

शॉ, रिजवी स्प्रिंगफील्ड हाई स्कूल मुम्बई के लिए खेलते है जो कि मुम्बई के सबसे बड़े स्कूल टीमों में से एक है. शॉ ने हैरिश शिल्ड जो की भारतीय युवा क्रिकेट में सबसे बड़ी प्रतिष्ठित ट्राफी है, उसके लिए 2012 और 2013 में स्प्रिंगफील्ड की तरफ़ से खेलते हुए सेमीफाइनल में 155 और अंतिम मैच में 174 रन की पारी को खेले थे. शॉ मुम्बई में एमआईजी (मध्य आय समूह) क्रिकेट क्लब के लिए खेलते है, उनके कोच राजीव पाठक है.      

क्रिकेट के प्रशिक्षण के लिए उन्हें दो बार इंग्लैंड जाने के लिए चुना गया था. शॉ और एसजी जो कि क्रिकेट उपकरण निर्माता कंपनी है के बीच 36 लाख रूपये का सौदा हुआ है, इस कंपनी के ब्रांड के समर्थक क्रिकेटर सुनील गावस्कर, राहुल द्रविड़ और वीरेंद्र सहवाग जैसे दिग्गज खिलाडी भी करते है. इस तरह से पृथ्वी खेल के साथ अपनी वित्तीय सुरक्षा को भी मजबूत कर रहे है. राहुल द्रविड़ : एक दीवार का सफरनामा यहाँ पढ़ें.

अप्रैल 2012 में शॉ को मैनचेस्टर में चिडले हुलेम स्कूल के लिए खेलने के लिए आमंत्रित किया गया था, जिसमे दो महीने के अपने प्रवास के दौरान शॉ ने 84 के औसत स्कोर से 1446 रन बनाये और 68 विकेट भी लिए थे. उसके बाद 2013 में शॉ ने ऑक्सफ़ोर्डशायर में क्रिप्टइक्स और मिडिलटन स्टोनी क्रिकेट क्लब के लिया भी खेला है. शॉ मुम्बई अंडर-16 टीम के कप्तान है. तीन सालों में 4000 रन बनाया है जिसमें स्कूल की क्रिकेट प्रतियोगिता में बनाये गए रनों की भी संख्या जुडी है.

शॉ ने अपने प्रथम श्रेणी की मैच की शुरुआत 1 जनवरी 2017 को मुम्बई के लिए रणजी ट्रॉफी मैच के सेमीफाइनल से की. इस मैच की दूसरी पारी में उन्होंने शतक बनाया और मैन ऑफ़ द मैच बने थे. शॉ की वीरता और अच्छे खेल ने तमिलनाडु को 6 विकेट से हराते हुए मुम्बई को फाइनल में पहुँचाने में मदद की. शॉ शतक लगाने वाले मुम्बई से दुसरे खिलाडी बन गए है. उन्होंने 85 चौके और पांच छक्के लगाये. इंदौर में रणजी फाइनल में गुजरात और मुम्बई के बीच हुए मैच में उन्होंने अर्द्धशतक जड़ा था. मुम्बई के बल्लेबाज ने अब तक दो प्रथम श्रेणी के मैचों में 59.75 के औसत से 239 रन बनाये है. जिसमे उन्होंने एक शतक और एक अर्द्धशतक लगाया है.

शॉ ने हाल ही में इंग्लैण्ड के दौरे में अच्छा प्रदर्शन किया जिसमे उन्होंने भारत के अंडर-19 टीम का प्रतिनिधित्व किया. पांच युवा एकदिवसीय मैच में उन्होंने 21, 48, 26, 13 और 52 रनों की पारी खेली. 25 सितम्बर 2017 को हुए मैच में दिनेश कार्तिक की कप्तानी में भारत रेड टीम ने भारत ब्लू के खिलाफ़ खेलते हुए पहले बल्लेबाजी करने का फ़ैसला किया था और इस मैच में शॉ ने अच्छी बल्लेबाजी का परिचय देते हुए अपनी शतकीय पारी से टीम को जीत दिला कर इतिहास रच डाला.  

पृथ्वी शॉ के रिकॉर्ड (Prithvi Shaw Records)

नवंबर 2013 में मुंबई के एक स्कूल के लिए मैच खेलते हुए, शॉ ने हैरिस शील्ड क्रिकेट मैच में रिजवी स्प्रिंगफील्ड स्कूल का प्रतिनिधित्व किया और 330 गेंदों में 546 रन की बनाकर एक नया रिकॉर्ड कायम कर दिया. इस क्रिकेट मैच को शॉ ने सेंट फ्रांसिस स्कूल के विरोध में खेला था, यह मैच शानदार प्रदर्शन के लिए यादगार बन गया. वतर्मान में यह रिकॉर्ड किसी भी भारतीय बल्लेबाज के लिए यह सर्वोच्च उच्चतम स्कोर है. यह पृथ्वी शॉ की सबसे बड़ी राष्ट्रीय उपलब्धि है.

अन्य पढ़ें –

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *