ताज़ा खबर
Home / सामान्य ज्ञान / Radio History In India

Radio History In India

8071272-old-fm-radio-icon

Radio से education का भी प्रचार प्रसार किया जाता था इसका motto बहुत ही लोकप्रिय होता था – ‘Bahujan Hitaya Bahujan Sukhaya’ AIR बड़े बड़े  broadcasting organization में से एक है | AIR’s के आज 406 stations है देश भर में  92% area cover करते है |  जब हमारा  देश 1947 को स्वतंत्र हुआ था तब AIR के पास only  six stations के network थे | और 18 transmitters जबकि आज AIR के पास  229 network broadcasting centres है | AIR  24 Languages and 146 dialects में program करती है|

News ,music और साहित्यिक नाटक तीनो ही AIR के मुख्य अंग थे | Music में शास्त्रीय संगीत ,भक्ति गीत, folk और devotional ,फिल्म ,western music सभी program शामिल थे |किसी मूद्दे को लेकर regularly interview भी arrange किये जाते थे |

All India Radio हमारी भारतीय सभ्यता की पहचान बन चुका है जिसमें शास्त्रीय संगीत ,folk song इत्यादि सभी शामिल किये गए | AIR के बहुत सारे stations हिंदी और regional languages में broadcast होते थे | Radio पर  adaptation of classics, novels, short stories और  stage plays broadcast होते थे |इसके अलावा समाज में हो रही बुराईयों  पर कहानियाँ ,नाटक तथा पारिवारिक समस्या पर भी ध्यान दिया जाता था | जैसे की गर्भवती महिलाओं को क्या सावधानी बरतनी चाहिए |

नवजात बच्चे की परवरिश किस तरह की जानी चाहिए क्योंकि आज भी कई ग्रामीण इलाको में जहाँ TV नहीं है और शिक्षा के आभाव में ग्रामीण औरते केवल radio पर ही निर्भर है | Radio जिसे सुनकर सही जानकारी का विकास होता है |  बल्कि आज भी सखी सहेली पर बहुत से ज्ञानवर्धक program आते है कई कहानियो को radio पर  इतना रोचक पूर्ण तरीके से प्रस्तुत किया जाता है आज भी गाँव के लोगो का मनोरंजन का साधन है | आज हम Internet की दुनिया में इतना आगे बढ़ चुके है पर फिर भी radio की अपनी एक महत्वपूर्ण जगह है |  और तो और देश की अर्थव्यवस्था पर भी ख़बरें radio पर broadcast होती है| |  Radio पर National Program जिसे सुनकर लोगों को बहुत जानकारी मिलती थी उस समय radio के अलावा कोई और माधयम नहीं था लोगों तक अपनी बात पहुचाने का बल्कि जब किसी फौजी की मृत्यु हो जाती तो उसके घर तक खबर भी radio के द्वारा ही पहुचाई जाती थी |

आज के समय में जहाँ मनोरंजन के और भी कई साधन है | जो आज की युवा पीढ़ी के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है | TV और Internet  चाहे जो भी हो फिर भी आज भी जब कहीं हम बाहर घुमने जाते है तो radio पर old songs सुनकर जो आनंद आता है मन प्रफुल्लित हो जाता है

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

Indian Folk Dance

भारतीय लोक नृत्य की सूची | List Of Indian Folk Dance In Hindi

Folk Dance Of India In Hindi भारत का नाम आते ही सामने आ जाता है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *