राम नवमी कथा निबंध, बधाई शायरी |Ram Navami Essay Shayari In Hindi

Ram Navami Katha Essay Status Shayari in Hindi
राम नवमी कथा निबंध, बधाई शायरी

राम नवमी भगवान श्री राम का जन्म दिवस हैं. वास्तव में भगवान राम ने पुरुष चरित्र को चरितार्थ किया था . इन्होने अपने कर्म और धर्म को जीवन का आधार बनाया था . भगवान विष्णु ने राम का रूप धरकर धरती वासियों को सदमार्ग दिखाया था . और इसी कारण उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम राम भी कहा जाता हैं.

  • श्री राम चन्द्र जीवन संक्षिप्त विवरण :
नाम श्री राम चन्द्र
अवतार भगवान विष्णु
जन्म चैत्र शुक्ल पक्ष नवमी
माता- पिता दशरथ- कौशल्या
पत्नी सीता (लक्ष्मी अवतार)
भाई भरत, लक्ष्मण(शेष नाग अवतार), शत्रुघ्न
बहन शांता
गुरु वशिष्ठ, विश्वामित्र
सखा, सेवक सुग्रीव और उनकी सेना, हनुमान, विभीषण आदि
संहार ताड़का वध, रावण वध आदि
  • राम अवतार कथा:

जब धरती पर असुरों का आतंक बढ़ गया तब भगवान विष्णु ने मानव के रूप में जन्म लिया और असुरों का संहार कर धरती को पुनः पाप मुक्त किया . कहते हैं जब जब धरा पर बुराई का भार अच्छाई से अधिक होता हैं तब तब भगवान स्वयं धरती पर आकर धरती को संतुलित करते हैं और मनुष्य जाति का उद्धार करते हैं . उसी तरह जब धरती पर रावण और राक्षसी ताड़का जैसे असुरों  का आतंक सीमा पार हो गया, तब भगवान विष्णु एवम माता लक्ष्मी ने राम एवम सीता के रूप में धरती पर  जन्म लिया और असुरों के संहार के साथ-साथ मानव जीवन एवम एक प्रजा पालक की मर्यादा का उदहारण प्रस्तुत किया .

  • राम जन्म :

भगवान श्री राम अयोध्या के महाराज दशरथ एवम महारानी कौशल्या के पुत्र थे . महाराज दशरथ ने अपनी एक मात्र पुत्री शांता को  गोद दे दिया था जिसके बाद उन्हें कई वर्षो तक कोई संतान नहीं हुई जिसके लिए उन्होंने पुत्र कमेक्षी यज्ञ किया जिससे फलस्वरूप उन्हे चार पुत्रो की प्राप्ति हुई जिनमे जेष्ठ पुत्र राम थे और अन्य तीन भरत, लक्ष्मण एवम शत्रुघ्न थे जिनकी माता कैकई और सुमित्रा थी .

राम नवमी के दिन भगवान राम का जन्म हुआ था यह दिन चैत्र माह की शुक्ल पक्ष नवमी के दिन आता हैं जिसे राम जयंती भी कहा जाता हैं . राम नवमी को बड़े हर्षों उल्लास के साथ मनाया जाता हैं . कहते हैं उस दिन दोपहर के 12 बजे राम का जन्म हुआ था . अतः भक्त दोपहर बाद ही अपने नौ दिन के माता के उपवास को खोलते हैं और अन्न ग्रहण करते है .

  • राम के गुरु :

ब्रह्म ऋषि वशिष्ठ भगवान राम के गुरु थे जिन्होंने उन्हें वैदिक ज्ञान के साथ- साथ शस्त्र अस्त्र में निपूर्ण किया . ब्रह्म ऋषि विश्वामित्र ने भी राम को शस्त्र विद्या दी और इन्ही के मार्गदर्शन में राम ने तड़का वध एवम अहिल्या उद्धार किया और सीता स्वयम्वर में हिस्सा लिया और सीता से विवाह किया .

  • राम वनवास :

महाराज दशरथ अपने जेष्ठ पुत्र राम को अपना उत्तराधिकारी बनाना चाहते थे लेकिन उनकी अन्य पत्नी कैकई की मंशा थी कि उनका पुत्र भरत सिंहासन पर बैठे, इसलिए उन्होंने राजा दशरथ से अपने दो वरदान (यह वे वरदान थे जिनका वचन राजा दशरथ ने तब दिया था जब युद्ध के दौरान रानी कैकई ने राजा दशरथ के प्राणों की रक्षा की थी) मांगे जिसमे उन्होंने भरत का राज्य अभिषेक और राम के लिए वनवास माँगा और इस तरह भगवान राम को चौदह वर्षो का वनवास मिला . इस वनवास में सीता एवम भाई लक्ष्मण ने भी अपने भाई के साथ जाना स्वीकार किया . साथ ही भरत ने भी भातृप्रेम को सर्वोपरि रखा और एक वनवासी की तरह ही चौदह वर्षो तक अयोध्या को एक अमानत के रूप में स्वीकार किया .

  • वनवास काल :

इस वनवास में भगवान राम ने कई असुरों का संहार किया . शायद कैकई के वचन केवल आधार थे क्यूंकि नियति कुछ इस प्रकार थी . भगवान राम ने अपने वनवास काल में हनुमान जैसे सेवक, सुग्रीव जैसे मित्र को पाया . नियति ने सीता अपहरण को निम्मित बनाकर रावण का संहार किया . सीता जन्म का उद्देश्य ही रावण संहार था जिसे श्री राम ने पूरा कर मनुष्य जाति का उद्धार किया .

  • राम राज्य :

श्री ने वनवास काल पूर्ण किया और भरत ने अपने बड़े भ्राता को अयोध्या का राज पाठ सौंपा . मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने एक ऐसे राम राज्य की स्थापना की जिसे सदैव आदर्श के रूप में देखा गया . राम ने प्रजा हित के सीता का परित्याग किया . अपने कर्तव्यों के लिए उन्होंने स्वहित को द्वीतीय स्थान दिया और इस तरह राम राज्य की स्थापना की .

  • राम के लव कुश :

सीता ने प्रजाहित के लिए परित्याग स्वीकार किया और अपना जीवन वाल्मीकि आश्रम में बिताया और उस समय सीता ने दो पुत्रो को जन्म दिया जिनका नाम लव कुश था . यह दोनों ही पिता के समान तेजस्वी थे . इन्ही के हाथो राम ने अपने राज्य को सौंपा और स्वयं ने अपने विष्णु अवतार को धारण कर अपने मानव जीवन को छोड़ा .

  • राम नवमी महत्व Ram Navami Mahatva:

राम जन्म को राम नवमी के रूप में पुरे देश में मनाया जाता हैं इनका जन्म अभिजित नक्षत्र में दोपहर बारह बजे चैत्र शुक्ल पक्ष नवमी को हुआ था इस दिन सभी भक्तजन अपना चैत्र नव रात्री का उपवास दोपहर 12 बजे पूरा करते हैं . घरो में खीर पुड़ी और हलवे का भोग बनाया जाता हैं .कई जगहों पर राम स्त्रोत, राम बाण, अखंड रामायण आदि का पाठ होता हैं | रथ यात्रा निकाली जाती हैं, मेला सजाया जाता हैं .

  • अपने सभी संबंधियों एवम मित्र जनो को यह राम नवमी के संदेश भेज कर शुभकामनाये दे.

राम नवमी संदेश शायरी
Ram Navami Wish SMS Shayari In Hindi

  • राम नाम का महत्व न जाने
    वो अज्ञानी अभागा हैं
    जिसके दिल में राम बसा
    वो सुखद जीवन पाता हैं

Ram Navami Wishes SMS In Hindi

_______________________

  • राम नवमी पर जन्म हुआ
    इस मर्यादा पुरुषोत्तम राम का
    जिसने रावण के अहंकार को मिटाकर
    फैराया पताका सच्चाई का

Ram Navami Wishes SMS In Hindi 7

_______________________

अयोध्या के वासी राम
रघुकुल के कहलाये राम
पुरुषो में हैं उत्तम राम
सदा जपों हरी राम का नाम

_______________________

मन राम का मंदिर हैं
यहाँ उसे विराजे रखना
पाप का कोई भाग ना होगा
बस राम को थामे रखना

_______________________

राम नाम का फल हैं मीठा
कोई चख के देख ले
खुल जाते हैं भाग
कोई पुकार के देख ले

_______________________

  • क्रोध को जिसने जीता हैं
    जिनकी भार्या सीता हैं
    जो भरत शत्रुघ्न लक्ष्मण के हैं भ्राता
    जिनके चरणों में हैं हनुमंत लला
    वो पुरुषोत्तम राम हैं
    भक्तो में जिनके प्राण हैं
    ऐसे मर्यादा पुरुषोत्तम राम को
    कोटि कोटि प्रणाम हैं |

Ram Navami Wishes SMS In Hindi 2

_______________________

  • राम न जाने हिन्दू क्या
    राम न जाने मुस्लिम
    राम तो सुनते उन भक्तो की
    जिनके कर्मो में धर्म हैं
    जिनकी वाणी में सत्य हैं
    जिनके कथन से कोई दिल ना दुखे
    जिनके जीवन में पाप ना बसे
    जो सदमार्ग पर चलता हैं
    राम तो बस उसी में मिलता हैं

_______________________

राम नवमी में उपलक्ष में अपनों को बधाई सन्देश भेजे और हमारी तरफ से भी राम नवमी की बधाई शायरी स्वीकार करें . अन्य त्यौहार शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करें .

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

labh-pancham

लाभ पंचमी महत्व | Labh pancham Mahatv In Hindi

Labh pancham Mahatv In Hindi लाभ पंचमी को सौभाग्य लाभ पंचम भी कहते है, जो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *