ताज़ा खबर

हिंदी कविता :शादी

भारत देश परम्पराओं और रीति रिवाजो से भरा हुआ हैं उन में से एक रित हैं शादी | हमारे देश में घर में बेटा या बेटी के जन्म लेते ही उसकी शादी के सपने देखना शुरू कर दिए जाते हैं | और बाकि पूरी जिन्दगी शादी के दायरे के आस पास बुनी जाती हैं | जिस भी व्यक्ति की शादी नहीं होती लोग उसे तरस से देखते हैं हैरानी की बात तो यह हैं कि शादी न होने पर लोग सलमान खान तक का उदहारण देदेते हैं | कहते हैं भाई शादी करले वरना सलमान जैसे कुँवारा ही रह जायेगा |

लड़की के पैदा होते ही उसे शादी के नाम पर  टार्चर किया जाता हैं | जहाँ एक तरफ दुनियाँ चाँद पर जा रही हैं नयी दुनियाँ खोज रही हैं वही दूसरी तरफ कुछ बंधन ऐसे हैं जो पंछी की उड़ान को कैद कर देते हैं | शादी एक बंधन हैं जिसमे कई जिन्दगी जुड़ जाती हैं कम से कम दो जिंदगियों को एक साथ कदम बढ़ाना जरुरी है अगर ऐसा ना हो तो ये प्यार का बंधन बोझ बन जाता हैं | शादी निभाना उसे खुशहाल बनाना आसान नहीं लेकिन जरुरी बहुत हैं | अगर कोई इस बंधन में नहीं बनना चाहता तो लोग उसे बीमार परेशान समझते हैं पर क्या कोई अगर नहीं चाहे तो क्यूँ अकेला नहीं रह सकता |

shadi kavita

बिन शादी सब सुन

हिंदी कविता :शादी

मेरे देश की हैं एक विडम्बना
जीवन हैं भारी शादी बिना

तन पर कपड़ा होना न हो
दो निवाले खाने को हो न हो

पर शादी हैं बहुत जरुरी
इसके बिना जिन्दगी हैं अधूरी

हर वो इंसान अभागा हैं
जिसके जीवन में शहनाई नहीं

हर वो इन्सान नाकारा हैं
जिसके घर सजी बारात नहीं

सलमान भी बैचारा हैं
क्यूंकि वो भी अब तक कुँवारा हैं

घर में बैठी कुँवारी कन्या
पुरे मौहल्ले को खलती हैं

मेरे देश की हैं ये विडम्बना भारी
यहाँ जीवन नहीं हैं बिना शादी 

कर्णिका पाठक

Shadi Kavita Poem In Hindi यह कविता उन विचारो से प्रेरित हैं जिसमे हम सभी कहीं ना कहीं शादी के नाम से ही डर जाते हैं |माना शादी जरुरी हैं बुढ़ापे में एक साथ जरुरी होता हैं पर अगर ना भी हो तो इतना बवंडर क्यूँ मच जाता हैं ? आज तक समझ नहीं आया |

Poem In Hindi यह ब्लॉग हिंदी चाहने वालो के लिए लिखा गया हैं आपको मेरी यह कविता कैसी लगी मुझे लिखे |

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

One comment

  1. आपकी कविता बिल्कुल समसामयिक है.
    बहुत रुचिकर और प्रभावी है.
    आपका और संग्रह भेजें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *