ताज़ा खबर

शानदार फिल्म समीक्षा

शानदार फिल्म की deepawali रेटिंग – 2.5 स्टार

शाहिद कपूर व आलिया भट्ट अपनी फिल्म शानदार को पुरे जानदार तरीके से दशहरा पर लेकर आये है| पिछले साल की सबसे बड़ी हिट फिल्म क्वीन फिल्म के निर्देशक विकास बहल ने इस फिल्म में फिर से निर्देशन किया है| फिल्म की कहानी डेस्टिनेशन वेडिंग पर आधारित है| फिल्म के निर्माता कारण जोहर है तो जाहिर है फिल्म में भव्यता तो देखने मिलेगी| करण जोहर जैसे निर्माता छोटी फिल्म को भी भव्यता देने में माहिर है| आलिया शाहीद पहली बार साथ में आ रहे है, फिल्म का ट्रेलर और गाने को देख लोगों ने फिल्म से बहुत उम्मीद लगाई थी| लेकिन फिल्म का निराशाजनक रही|

शानदार फिल्म समीक्षा

Shaandaar film samiksha review hindi

कलाकार शाहिद कपूर, आलिया भट्ट, पंकज कपूर, संजय कपूर, सना कपूर
निर्माता कारण जोहर, अनुराग कश्यप, विक्रमादित्य मोटवानी, मधु मंतेना
निर्देशक विकास बहल
लेखक अन्विता दत्त गुप्तन
संगीत अमित त्रिवेदी
रिलीज़ डेट 22 अक्टूबर 2015

 

शानदार मूवी निर्देशक समीक्षा (Shaandaar film Nirdeshak samiksha)

डायरेक्टर – विकास बहल

कंगना को बॉलीवुड की क्वीन बनाने वाले विकास एक पूरी तरह से कल्पना से भरी फैरी टेल डिज्नी वर्ल्ड जैसी कहानी सबके सामने लेकर आये है| अपनी पहली फिल्म से ही विकास ने सबको अपना फैन बना दिया था, लेकिन शानदार फिल्म देखने के बाद हम सब सोचने पर मजबूर है कि क्या ये वही निर्देशक है| फिल्म की कहानी दर्शकों से जुड़ ही नहीं पाती है, ऐसा लगता है हम बिहाइंड सीन देख रहे है| मुख्य किरदार शाहिद व आलिया ने काम अच्छा किया, लेकिन दर्शक से वे कनेक्ट नहीं हो पाते| विकास ने उनके हाव भाव पर ध्यान ही नहीं दिया है| बस फिल्म में मुख्य लोकेशन और ताम झाम पर ध्यान दिया गया है| पंकज कपूर जैसे दिग्गज अभिनेता के होते हुए विकास उनसे उनके अनुरूप कार्य नहीं करवा पाए| फिल्म की भव्यता के आगे सारे किरदार दबे हुए से लगते है| किरदारों के अलावा फिल्म में स्टोरी भी कमजोर है| फिल्म की कहानी आगे ही नहीं बढती, वहीँ के वहीँ लगती है| जहाँ कुछ आगे बढ़ने की उम्मीद होती है, तो वहां बोरिंग सा गाना आ जाता है, जो दर्शकों को फिल्म से अलग कर देता है|

Shaandaar film samiksha review hindi

शानदार फिल्म कहानी की समीक्षा (Shaandaar film kahani samiksha)

विपिन अरोरा (पंकज कपूर) की गोद ली हुई लड़की आलिया (आलिया भट्ट) है, जो नयी फॅमिली में धीरे धीरे एडजस्ट करने की कोशिश कर रही है, जहाँ उसकी न्यू मोम व दादी उसे बिल्कुल पसंद नहीं करते है| आलिया को रात को नींद ना आने की बीमारी है, जिसे इंसोमेनिया कहते है| उसके पिता को उम्मीद है कि उसकी यह बीमारी वह आदमी दूर करेगा जो उससे बहुत प्यार करता है| अब फिल्म में एंट्री होती है जगिंदर जोगिन्दर (शाहिद कपूर) की जो वेडिंग प्लानर है| विपिन की माँ चाहती है उसकी पोती ईशा की शादी नामी bussinessman संजय से हो जाये| अब फिल्म की कहानी कैसे कहाँ कनेक्ट होती है, उसके लिए आपको फिल्म देखना होगा क्यूंकि इसके आगे तो मुझे भी कुछ समझ नहीं आया| फिल्म में बस बड़े महल, चमक, सुदर लोकेशन देख सकते है| स्टोरी के नाम पर फिल्म में कुछ नहीं है, डायरेक्टर ने स्टोरी पर ध्यान नहीं दिया, जिसके फलस्वरूप फिल्म बोरिंग हो गई है| कलाकारों की मेहनत कहानी की कमी को पूरा नहीं कर पाई है|

शानदार फिल्म कलाकारों की समीक्षा (Shaandaar film Cast samiksha)

शाहिद कपूर ने फिल्म में ना इम्प्रेस किया है ना निराश किया है| अपने पिता पंकज जी के सामने वे एक्टिंग के मामले में बच्चे ही लगे है| फिल्म में शाहिद का किरदार ही ऐसा था कि वे चाह कर भी उसमें कुछ ज्यादा नहीं कर सकते थे, सिर्फ कुछ funny सीन और हीरो जैसा look दिखाना था| पिछले साल अक्टूबर में ही शाहिद की हैदर आई थी, जिसमें उनकी एक्टिंग की तारीफ आज भी होती है, उसके लिए उन्हें ढेरों अवार्ड भी मिले थे| इस फिल्म में हम ये नहीं बोल सकते शाहिद ने निराश किया, क्यूंकि उन्होंने अपनी प्रतिभा के अनुरूप मस्त एक्टिंग व डांस किया है|

आलिया के रूप में आलिया भट्ट फिट बैठी है| आलिया चेहरे के हाव भाव देने में बहुत अच्छी है, इसी का फायदा उन्होंने उठाया है और वे फिल्म के बहुत से सीन में क्यूट एक्सप्रेशन देकर सीन में जान डाल देती है|

सना कपूर पंकज कपूर की बेटी फिल्म में पहली बार दिखाई दे रही है, फिल्म में उनका कॉंफिडेंट देखते बनता है, लेकिन पहली फिल्म के हिसाब से उनपर कुछ ज्यादा ही भार डाल दिया गया था, जिसे वे संभाल नहीं पाती और कुछ जगह घबराई हुई लगती है|

पंकज कपूर ने हमेशा की तरह अच्छी एक्टिंग की है| बाकि के सहायक कलाकार फिल्म में किसी कार्टून से कम नहीं लगे है| करन की पहले की फिल्मों की तरह डेस्टिनेशन वेडिंग का आईडिया इस बार हिट नहीं हुआ है| डेस्टिनेशन वेडिंग की कहानी में एक ही जगह पर तरह तरह के किरदार देखने को मिलते है, कुछ देसी तो कुछ विदेशी|

शानदार फिल्म संगीत समीक्षा (Shaandaar film Songs review)

फिल्म का संगीत अमित त्रिवेदी ने दिया है| संगीत बहुत सुपर हिट तो नहीं है लेकिन बुरा भी नहीं है| गुलाबो, टाइटल सोंग शानदार पहले से हिट हो चूका है| ये गाने अभी से शादी पार्टी में सुनाई दे रहे है| लेकिन कोई भी दिल को छु लेने वाला सोंग नहीं है|

शानदार फिल्म ओवरआल परफॉरमेंस –

विकास की पहले 2 फ़िल्में चिल्लर पार्टी व क्वीन दोनों बहुत अलग सब्जेक्ट थे| इस बार भी विकास ने अलग सब्जेक्ट चुना है लेकिन इसमें उनका बेस्ट काम नहीं है| फिल्म में जबरजस्ती के कुछ फनी सीन जोड़ने की कोशिश की गई है जो जबरन हंसाने की कोशिश करते है| जैसे पूरी फिल्म में आलिया को कुछ शब्दों के उच्चारण में तकलीफ होती है, डायरेक्टर ने इसे फनी तरह से प्रस्तुत किया है| आलिया छीलो को चीलो बोलती है, पता नहीं इसमें क्या फनी है| निर्देशक आज जी जनता को इतना बेवकूफ कैसे समझ सकता है| अगर आपको शाहिद व आलिया पसंद है तो आप फिल्म देखने जा सकते है, लेकिन अगर आप निर्देशक विकास बहल का बेहतरीन काम देखने की उम्मीद से जाना चाहते है तो मैं आपको बता दूँ, आप निराश होने वाले है| इससे बेहतर होगा आप उनकी पुरानी फिल्म को देखकर एन्जॉय कर लें|

अन्य पढ़े:

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

यह भी देखे

bagum jaan

बेग़म जान फिल्म रिव्यु और उसके प्रसिद्ध डायलोग | Begum Jaan movie Review and famous dialogues in hindi

Begum Jaan movie review and famous dialogues in hindi इन दिनों इस फिल्म के डायलॉग कई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *