ताज़ा खबर

सुपर ब्लू ब्लड मून 2018 व इस ग्रहण का समय क्या है | Super Blue Blood Moon Meaning, time in hindi

सुपर ब्लू ब्लड मून 2018 का मतलब क्या है व इस चन्द्र ग्रहण का समय क्या है | Super Blue Blood Moon Meaning kya hai, Eclipse time in hindi

31 जनवरी  को साल 2018 में पहले चंद्रग्रहण होने की खबर को हम सभी जानते है. कल पूर्ण चंद्रग्रहण है, जिसका असर भारत के साथ-साथ विश्व के अन्य इलाकों में भी होगा. 31 जनवरी की शाम में चन्द्र ग्रहण दिखाई देगा, और इस घटना को “सुपर ब्लू ब्लड मून” कहा जा रहा है.

सुपर ब्लू ब्लड मून दिखाई देने का समय (Super Blue Blood Moon Eclipse Timing in hindi):

यह विशेष घटना 31 जनवरी को भारतीय समय के अनुसार शाम 5:18 से रात 9:38 के मध्य दिखाई देगी. भारत के साथ-साथ यह ग्रहण इंडोनेशिया, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया में भी दिखाई देगा. इसे पुरे भारत में साफ़ रूप से देखा जा सकेगा, इसी के साथ यह अमेरिका और कनाड़ा के भी कुछ इलाकों में भी दिखाई देगा. 

सुपर ब्लू ब्लड मून

चन्द्र ग्रहण क्या होता है (What Is Chandra Grahan) :

हम जानते है कि सौरमंडल में उपस्थित सभी गृह अपने अक्ष पर और सूर्य के चारो और परिक्रमा करते है. और जब चंद्रमा और सूर्य के बीच पृथ्वी आ जाती है तो चंद्रग्रहण होता है.

सुपर ब्लू ब्लड मून क्या है (What Is Super Blue Blood Moon):

  • सुपर मून (Super Moon) : चन्द्रमा पृथ्वी के सबसे निकटतम गृह है, सुपरमून के समय चन्द्रमा पृथ्वी से अपेक्षाकृत सबसे नजदीक होता है, और अपने सामान्य आकर से बड़ा और चमकीला दिखाई देता है. कल 31 जनवरी को चन्द्रमा अपने आकार से 14 फीसदी बड़ा और 30 फीसदी ज्यादा चमकीला दिखाई देगा. क्युकि 31 जनवरी को पूर्ण चंद्रग्रहण है, इसलिए इसे ब्लू मून भी कहा जा रहा है.
  • ब्लू मून (Blue Moon): चंद्रग्रहण के समय चन्द्रमा का निचला हिस्सा उपरी हिस्से से ज्यादा चमकीला दिखाई देगा और साथ ही में नीली रोशनी के साथ एक अदभुत घटना घटेगी जिसे ब्लू मून कहा जायेगा.

सुपर ब्लू ब्लड मून से जुड़ी खास बातें (Super Blue Blood Moon important points):

  • सुपर ब्लू ब्लड मून के समय होने वाली चमत्कारी घटना इसके बाद साल 2028 और 2037 में देखने मिलेगी.
  • ऐसी घटना कई सालो में एक बार होती है, और यह तब होति है जब एक महीने में दो पूर्णिमा पड़ती है.
  • चंद्रग्रहण के समय चाँद पृथ्वी के सबसे निकट होगा और अधिक चमकीला और बड़ा दिखाई देगा.

यह घटनाये कई वर्षो में होने वाली है परंतु भारत में अन्धविश्वास के चलते कई लोग इस घटना को देखने से वंचित रह जायेंगे. भारत में चंद्रग्रहण या सूर्यग्रहण का होना अच्छा नहीं माना जाता है, कई जगह तो इसे अशुभ होने का संकेत भी मान लिया जाता है. यहाँ लोगो को चंद्रग्रहण के समय घर में ही रहने और शुभ कार्य ना करने की हिदायते दी जाती  है. आशा करते है, कि इन सबके विपरीत यह ग्रहण सभी के लिए अच्छा होगा और सभी को नया अनुभव देकर जायेगा.

अन्य पढ़े:

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *