ताज़ा खबर

Tarun Tejpal

tarun_tejpal

तरुन तेजपाल केस

तरुन तेजपाल तहलका समाचार के प्रमुख संपादक थे. एक महिला पत्रकार ने तेजपाल पर बदसलूकी का आरोप लगाया था, जिस बात को स्वीकार करते हुए तेजपाल ने अपने पद से छह महीने के लिए हटने की पेशकश की थी|महिला पत्रकार कर्मचारी ने योन उत्पीड़न का आरोप लगाया था, तेजपाल ने गोवा कि एक होटल मे सप्ताहिक समाचार द्वारा आयोजित सभा के दौरान ऐसा किया. तहलका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी को लिखे पत्र में तेजपाल ने कहा था “क्योंकि इसमें तहलका का नाम जुड़ा है और एक उत्कृष्ट परंपरा की बात है, इसलिए मैं महसूस करता हूं कि केवल शब्दों से प्रायश्चित नहीं होगा। मुझे ऐसा प्रायश्चित करना चाहिए जो मुझे सबक दे। इसलिए मैं तहलका के संपादक पद से और तहलका के दफ्तर से अगले छह महीने के लिए खुद को दूर करने की पेशकश कर रहा हूं।’वहीं आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार का कहना था कि उसे पूरे मामले पर ‘तहलका’ की प्रतिक्रिया से ‘बेहद निराशा’ हुई है। दूसरी ओर, महिला अधिकारों के लिए काम करने वाली कार्यकर्ताओं ने ‘तहलका’ के सम्पादक पद, तथा कार्यालय से छह माह के लिए खुद को अलग कर लेने के निर्णय को अनुचित बताया था।

गोवा पुलिस ने जांच शुरू कर दी थी इस योन उत्पीड़न केस की. ये केस धारा ३५४ और ३७६ के अंतर्गत आता है. गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने एनडीटीवी से कहा था, हमने प्रारंभिक जांच के आदेश दिए हैं और अगर आरोप सही पाए गए तो पुलिस केस दर्ज करेगी। शुक्रवार 22/11/2013 को गोवा पुलिस ने तेजपाल के खिलाफ यौन उत्पीडन का केस दर्ज कर लिया था। होटल के सीसीटीवी फुटेज और पत्रिका की प्रबंध संपादक सोमा चौधरी को की गई पीड़िता की शिकायत की लीक हुई प्रति के आधार पर मामला दर्ज किया गया था। दुष्कर्म का मामला दर्ज होने के बाद अपनी चुप्पी तोड़ते हुए तेजपाल ने कहा था कि वह जांच में पुलिस को पूरा सहयोग करेंगे। दूसरी ओर गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर और राज्य के पुलिस प्रमुख दोनों ने यह आरोप लगाया था कि समाचार साप्ताहिक पत्रिका तहलका के संपादक तरुण तेजपाल के विरुद्ध दाखिल मामले की जांच में समाचार की प्रबंध संपादक सोमा चौधरी बाधा उत्पन्न कर रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा वे इस केस मे पर्दा डालने की कोशिश कर रही है।

वहीं पत्रिका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी ने कहा था कि वह पुलिस से मिलेंगी और उन्होंने जो भी जानकारियां मांगी थीं, उसे मुहैया कराने को तैयार हैं।

२५ नवम्बर को पीढित महिला ने तहलका पत्रिका से इस्तीफा दे दिया था.
तेजपाल ने दिल्ली high court मे अपनी जमानत के लिए याचिका दर्ज की थी जिसकी सुनवाई २९ नवम्बरः को होनी थी उससे पहले २८ नवम्बरः को ही अपनी अग्रिम जमानत याचिका वापस ले ली थी और उसे गोवा में फाइल कर दिया था।
२५ नवम्बर को पीढत महिला ने तहलका पत्रिका से इस्तीफा दे दिया था|

वहीं इस पुरे मामले को राजनिति से जोड़ते हुए काँग्रेस भाजपा के बीच आरोप प्रत्यारोप शुरू हो गया था. सुषमा स्वराज ने ट्वीट किया था “केन्द्रीय मंत्री जो कि तहलका के संस्थापक और पैट्रन हैं तरुण तेजपाल का बचाव कर रहे हैं” इस पर केन्द्रीय मंत्री सिब्बल ने कहा था कि इस मामले में मेरा नाम घसीटा जा रहा है। तेजपाल मेरा भांजा नहीं है और न ही तहलका में मेरे शेयर हैं। बीजेपी राजनीति कर रही है।सुषमा स्वराज ने कहा भाजपा तेजपाल को फंसा नहीं रही, काँग्रेस बचा रही है.

28 november को फुटेज की जांच कर रही टीम में शामिल एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि जिस लिफ्ट में कथित रूप से यौन उत्पीड़न की घटना हुई थी, उसके बाहर की सीसीटीवी फुटेज पीड़िता के बयान की पुष्टि करती है।गोवा पुलिस ने तेजपाल के खिलाफ बलात्कार और शील भंग करने का मामला दर्ज किया था।

30 november को गोवा की स्थानीय अदालत ने तेजपाल की अर्जी ख़ारिज कर दी थी जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. रविवार को उन्हें छह दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था। जज ने कहा तेजपाल द्वारा किया गया कृत न सिर्फ पीड़िता की गरिमा को आहत किया, बल्कि उसके भरोसे को तोड़ा और शारीरिक शोषण किया।
28 november को तहलका की प्रमुख संपादक शोमा चौधरी ने इस्तीफा दे दिया था अपने पद से. 4 decemeber को गोवा पुलिस ने उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था.

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

kulbhushan yadav

कुलभूषण जाधव कौन है | Who is Kulbhushan Jadhav in hindi

Who is Kulbhushan Jadhav in hindi कथित तौर पर जासूस बता कर पकिस्तानी सरकार ने कुलभूषण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *