ताज़ा खबर
Home / मनोरंजन / Taste Of Childhood (Bachpan ke swaad)

Taste Of Childhood (Bachpan ke swaad)

taste of childhood

बचपन सभी का बहुत यादगार और सुंदर होता है| हर कोई चाहता है अपने बचपन में वापस जाना, और जाना भी क्यों ना चाहे इतना tasty हुआ करता था हमारा बचपन वो 25 पैसे की orange candy से ले कर 50 rs की चोकलेट तक सभी स्वादिष्ट होती थी| कितनी चीजें मिलती थी बचपन में जीभ में control करना मुश्किल था लेकिन इतने पैसे भी नहीं हुआ करता थे कि सब खरीद पाएं, आज इतने पैसे है की पूरी shop खरीद लें लेकिन वो चीजें नहीं, वो स्वाद नहीं| बचपन में कोई guest आता तो पहले से ही खुश हो जाते क्युकि पता था guest जाते समय पैसे जो देगा| उन थोड़े से पैसों से सब चीज खरीदने का मन करता| पैसे भले न रहे हो उस समय लेकिन दिल में ख्वाइश, अरमान कभी कम नहीं थे| थोड़े में भी खुश रहा जा सकता है ये हमे अपने बचपन से ही सीखना चाहिए| एक tofee लाते और उसके कई टुकडे कर सब भाई बहनों को भी बांट देते| आज अपार पैसे होते हुए भी कुछ नहीं बाटते| कितने स्वार्थी हो गए है हम| काश बचपन की वो सीख आज भी हमे याद होती| चलो एक बार फिर चख ले वो बचपन के स्वाद को शायद इसी बहाने एक बार फिर जी ले हम अपने बचपन को….

  • बेरकूट – बेर से बना ये बेरकूट बहुत याद आता है| इसके एक packet के लिए आज पूरी दौलत लुटा दे किन्तु आज ये मिलता ही नहीं कहीं| आज के बच्चों को तो पता भी नहीं होगा ये चीज है क्या|
  • गटागट – इमली का बना ये गोल गोल आकृति वाला पदार्थ बड़ा ही स्वादिष्ट हुआ करता था| नाम लेते ही मुंह में पानी आ जाता है| अंदर से खट्टा और बाहर से शक्कर चिपकी होती सो एक दम मीठा, कोई मुलाबला ही नहीं इसका तो|
  • स्वाद एवं पान पराग – 1 rs की 4 आने वाली ये tofee बच्चे क्या बड़ो की भी पहली पसंद हुआ करती थी| स्वाद इमली की बनी हुई खट्टी मीठी गोली और पान पराग गुलाब जल और पान के flavour से बनी मीठी गोली| दोनों एक दम अलग थी किन्तु साथ में मिलती|
  • orange गोली – ये भी 1 rs को 4 आती| orange का flavor लिए हुए खट्टी सी गोली बड़े चटकारे लेते हुए खाते थे| आज भी ये मिलती है लेकिन एक packet में, अब न वो स्वाद है न ही पसंद|
  • उबली बेर – school के बाहर मिलने वाली ये बेर बहुत रसीली और खट्टी मीठी हुआ करती थी| school जाते समय घर से मम्मी से पैसे ले कर जाते ताकि इस बेर का लुफ्त उठा सके| आज भी किसी school के सामने कोई बुड्ढी औरत इसे बेचते हुए दिख जाती है तो बिना खाए मन नहीं मानता|
  • खट्टी मीठी इमली – इमली तो बच्चों बड़ो सबकी पहली पसंद होती है| पेड़ से तोड़कर इसे खाना बहुत ही मजेदार हुआ करता था| खट्टी खट्टी इमली का नाम लेते ही मुंह में पानी आता है| एक मीठी कुछ खट्टी इमली shop पे भी मिला करती थी जिसके लिए तो हर बच्चा पागल हुआ करता था|
  • Maggie – sunday की सुबह का favorite breakfast| maggi आज भी उतनी पसंद की जाती है जितनी 90’s में, 1982 में maggi पहली बार आई थी| किन्तु उस समय रोज maggi का नाश्ता नहीं होता था जैसे की आज होता था| उस समय sunday के sunday maggi बनती थी इसलिए हम बेसब्री से इसका इंतज़ार करते थे| maggi की उस समय tag लाइन थी “बड़ी जोर से भूख लगी है,maggi चाहिए मुझे भी” आज भी ये लाइन सुन कर बचपन में लौट जाने का मन करता है|
  • पेप्सी कोला – 90’s में जब coca cola पहली बार भारत में आया तब सभी वर्ग के लिए इसे खरीद कर पीना आसान नहीं था| तब पेप्सी कोला आया सभी वर्ग के बच्चों के लिए| ये ice और flavored syrup को मिला कर बनता था| 1rs में आने वाला ये पेप्सी कोला गर्मी के दिनों में बड़ी राहत देता था|
  • रसना – सभी की favorite drink| गर्मी के दिनों में घर पे खुद इसे बनाकर पीना बड़ा रोमांचित होता था| ये coca cola पेप्सी जैसी बड़ी company को भी टक्कर देता था| मध्यम वर्ग के परिवार का तो रसना favorite हुआ करता था| रसना का add भी बहुत famous हुआ करता था| सब बच्चे रसना girl को पसंद करते थे और उसकी tag लाइन “I love you rasna” हमेशा दोहराते रहते| रसना 2-3 flavor में आता था उस समय| ये health के लिए भी अच्छा होता था|

 

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

यह भी देखे

hum-paanch

हम पांच जी टीवी सीरियल | Hum Paanch ZEE TV Old Serial In Hindi

Hum Paanch ZEE TV Old Serial In Hindi हम पांच एक ऐसा सीरियल है, जिसे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *