ताज़ा खबर

विजय माल्या का जीवन परिचय और गिरफ़्तारी | Vijay Mallya biography and arrested in uk in hindi

Vijay Mallya biography and arrested in UK in hindi विजय माल्या एक समय में भारतीय उद्योगपतियों में अपना नाम सबसे पहली पंक्ति में दर्ज कराते थे, किन्तु साल 2012 में आर्थिक स्कैंडल में संलग्न होने की वजह से इनकी साख़ भारत में पहले की तरह नहीं रह पायी है. अब भारत की लगभग सभी संस्था मसलन बैंक, देश की क़ानून व्यवस्था सब एक साथ इन्हें ढूंढ रही है. इनके ढूंढे जाने का कारण ये है कि इन्होने देश के कई सरकारी बैंकों से कुल 9000 हज़ार रूपए ऋण के तौर पर लिए और लौटाए नहीं. विजय माल्या भारतीय उद्योगपति के साथ साथ राजनेता भी हैं. इनके पिता विट्टल माल्या भारत के नामी उद्योगपतियों में अपना शुमार रखते थे. विजय माल्या यूनाइटेड स्पिरिट लिमिटेड के भूतपूर्व चेयरमैन रह चुके हैं, जो कि भारत की सबसे बड़ी शराब कंपनी है. इसके बावजूद इस समय विजय यूबी ग्रुप के चेयरमैन के पद पर आसीन हैं. इसके पहले ये सनोफी तथा बाएर क्रॉपसाइंस के भी चेयरमैन रहे.

Kingfisher chairman Vijay Mallya arriving to address a media conference to explain the airline's plans to stay afloat in Mumbai on Tuesday. *** Local Caption *** Kingfisher chairman Vijay Mallya arriving to address a media conference to explain the airline's plans to stay afloat in Mumbai on Tuesday. Express Photo By Dilip[ Kagda.15112011. Mumbai.

विजय माल्या का जीवन परिचय और गिरफ़्तारी

Vijay Mallya biography and arrested in UK in hindi

विजय माल्या का जन्म और शिक्षा (Vijay Mallya born and education)

विजय माल्या का जन्म 18 दिसम्बर सन 1955 को पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में हुआ. विजय माल्या के पिता विट्टल माल्या कर्नाटका के गौड़ सारस्वत ब्राम्हण परिवार से तअल्लुक़ रखते थे. इनकी माता का नाम ललिता रमैया था. विट्टल माल्या अपने समय में यूनाइटेड ब्रेवेरी ग्रुप के चेयरमैन थे. विजय माल्या की शुरूआती पढाई लिखाई कोलकाता के ला मार्टिनियर स्कूल से हुई. इसके बाद इन्होंने सैंट ज़ेवियर कॉलेज से कॉमर्स में होनौर्स के साथ स्नातक की पढाई पूरी की. अपने कॉलेज के दौरान विजय माल्या ने अपने पारिवारिक व्यापार में इंटर्न के तौर पर कार्य किया, तथा कालांतर में Hoechst AG के अमेरीकी विभाग में अमेरिका में रहते हुए इंटर्नशिप की.

विजय माल्या का व्यक्तिगत जीवन (Vijay Mallya personal life)

सन 1986 में विजय माल्या ने एयर इंडिया के अंतर्गत एक एयर होस्टेस समीरा तैयबजी के साथ विवाह किया. इस विवाह से दोनों को एक बेटे की प्राप्ति हुई, जिसका नाम सिद्धार्थ माल्या है. एक बेटे के होने के बाद भी ये रिश्ता टिक नहीं पाया और बहुत जल्द इन दोनों में तलाक़ हो गया. इसके बाद जून 1993 में माल्या ने अपनी तात्कालिक पत्नी रेखा से विवाह किया. रेखा से विजय की पहचान बचपन से रही है. रेखा माल्या के साथ इनकी दो बेटियां हैं. इन दो बेटियों का नाम लेंना माल्या तथा तनया माल्या है. रेखा विजय से शादी करने से पहले दो शादियाँ कर चुकी हैं.

विजय माल्या का व्यापार और करियर (Vijay Mallya business)

एक व्यापारिक परिवार से आने की वजह से माल्या को व्यापार की ख़ूब जानकारी हुई. सन 1983 में सिर्फ 28 वर्ष की अवस्था में विजय माल्या को यूनाइटेड ब्रेवेरिएस ग्रुप का चेयरमैन बनाया गया. इस दौरान ये ग्रुप एक बहुराष्ट्रीय कंपनी के तौर पर अपनी पहचान बना चुका था, जिसमे तात्कालिक समय में कुल 60 कम्पनियां काम कर रही थीं. विजय माल्या की बियर कंपनी किंगफ़िशर भारत में पिए जाने बियर में लगभग आधे की हिस्सेदारी रखता है, तथा साथ ही भारत के बाहर लगभग 52 देशों में किंगफ़िशर बियर पीने वाले लोग मौजूद हैं. सन 2005 में विजय माल्या ने किंगफ़िशर एयर लाइन्स की स्थापना की. ये विजय माल्या के व्यापार का सबसे बड़ा रूप था. हालाँकि जल्द ही इसका दिवालिया निकाल गया था इसे बंद करना पड़ा. सन 2013 के दौरान किंगफिशर अपने कर्मचारियों के 15 महीनों की तनख्वाह देने में असर्थ सिद्ध हुई, तथा इस एयरलाइन कंपनी का लाइसेंस रद्द कर दिया गया.

विजय माल्या का राजनैतिक करियर (Vijay Mallya maharashtra politician)

विजय माल्या सबसे पहले अखिल भारतीय जनता दल में शामिल हुए, जो सुभ्रमंयम स्वामी के साथ सन 2003 में जनता पार्टी में आ गये. सन 2010 में ये पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के अध्यक्ष भी रहे. सन 2002 में कांग्रेस का साथ पाकर ये कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य के रूप में मनोनीत किये गये. दूसरी बार इन्हें भारतीय जनता पार्टी का साथ मिला और ये पुनः राज्यसभा सांसद मनोनीत किये गये.  

विजय माल्या को हुए घाटे (Vijay Mallya business loss)

किंगफिशर एक समय में देश की दूसरी सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी थी, किन्तु बहुत जल्द इसे घाटे में जाना पड़ा. सन 2013 के मार्च के महीने में इस कंपनी को 2142 करोड़ रूपए के घाटे में देखा गया, जिसके पहले ये कम्पनी 1150 करोड़ का घाटा सह चुकी थी. इस साल किन्गफिशर का पिछले घाटों के साथ कुल घाटा 16023 करोड़ रूपए का था. इस आंकड़े में 15000 से 16000 करोड़ रूपए बैंक, एअरपोर्ट समेत अन्य कई जगहों पर भरा जाना था. साल के अंत में इस एयरलाइन का लाइसेंस पूरी तरह रद्द हो गया. माल्या ने यूबी ग्रुप में कई बार शुरूआती फंडिंग के लिए पुनः प्रवर्तन योजना दायर की, किन्तु पिछले आठ सालों में एयर लाइन्स द्वारा एक बार भी लाभ न कमाने की वजह से काम अंजाम नहीं पा सका.

विजय माल्या ने लिया बैंको में ऋण (Vijay Mallya bank loan list)

अपनी आलिशान ज़िन्दगी को बनाए रखने तथा अपने एयरलाइन्स कम्पनी को वजूद में रखने के लिए माल्या ने कई सरकार द्वारा नियंत्रित बैंको से ऋण लेना शुरू किया, ये ऋण अभी तक विजय माल्या द्वारा नहीं भरा जा सका है. कई बार बैंक कर्मियों ने इनके ख़िलाफ़ अपना मोर्चा भी निकाला. नीचे कुछ बैंको के आंकड़े दिए जा रहे हैं, जो विजय माल्या की कंपनी किंगफिशर के नाम पर ऋण के तौर पर दिए गये.

  • स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया -1600 करोड़
  • आईडीबीआई बैंक – 800 करोड़
  • पंजाब नेशनल बैंक – 800 करोड़
  • बैंक ऑफ़ इंडिया – 650 करोड़
  • बैंक ऑफ़ बरोदा – 550 करोड़
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया – 430 करोड़
  • सेंट्रल बैंक – 410 करोड़
  • यूको बैंक – 320 करोड़
  • कारपोरेशन बैंक – 310 करोड़
  • स्टेट बैंक ऑफ़ मैसूर – 150 करोड़
  • इंडियन ओवरसीज बैंक – 140 करोड़
  • फ़ेडरल बैंक -90 करोड़
  • पंजाब और सिंध बैंक – 60 करोड़

इसी तरह कई अन्य बैंकों से भी ऋण लिए गये थे. क्योंकि किंगफ़िशर के पास बैंक को देने के लिए कुछ नहीं बचा है अतः बैंकों को उनके ऋण की भरपाई करने में खूब मुश्किल हो रही है. अतः एक ही रास्ता बचता है कि विजय माल्या अपनी निजी संपत्ति से ये ऋण चुकाएं. सन 2016 में भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने विजय माल्या को देश न छोड़ने का आदेश दिया था, किन्तु ऐसा माना जाता है कि विजय इस आदेश से पहले ही देश छोड़ चुके थे. 13 मार्च में हैदराबाद के एक कोर्ट ने इनके ख़िलाफ़ एक ग़ैर ज़मानती वारंट निकाला था, जिसे माल्या के वकील ने एक उच्च न्यायलय में चुनौती दी है.

विजय माल्या को मिले पुरस्कार एवं सम्मान (Vijay Mallya Awards)

अपने बड़े व्यापार की वजह से विजय माल्या को कई पुरस्कार प्राप्त हुए.

  • उन्हें ‘साउथर्न कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय’ की तरफ़ से वाणिज्य शासन प्रबंध में सन 1997 में मानद उपाधि दी गयी.
  • इसके अतिरिक्त उन्हें फ्रांस से “ऑफिसर डे ला डी’ होंनयूर” पुरस्कार,
  • वर्ल्ड इकॉनमी फोरम की तरफ से ‘ग्लोबल लीडर ऑफ़ टुमारो’,
  • द एशियन अवार्ड 2010 में ‘इंटरप्रेनर ऑफ़ द इयर’ तथा फेडरेशन ऑफ़ मोटरस्पोर्ट स्पोर्ट्स क्लब ऑफ़ इंडिया की तरफ़ से मोटरस्पोर्ट्स में योगदान के लिए ‘लाइफ़टाइम अचीवमेंट अवार्ड’ भी प्राप्त हुआ.

विजय माल्या की गिरफ्तारी (Vijay Mallya arrested in UK)

लन्दन में रह रहे विजय माल्या को स्कॉटलैंड यार्ड ने भारत ऑथोरिटी की तरफ से धोखा धडी के मामले में गिरफ्तार किया. इस केस में उन्हें लन्दन के वेस्टमिस्टर कोर्ट में पेश किया गया, जहाँ उन्हें तीन घंटे के अन्दर ही जमानत मिल गयी. भारत सरकार ने विजय माल्या को पहले से ही देश से भगौड़ा घोषित कर रखा है. विजय माल्या की गिरफ्तारी भारत के ‘सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टीगेशन एंड एन्फोर्समेंट’ की तरफ से किया गया आग्रह पर की गयी थी. हालाँकि भारत सरकार भ्रष्टाचार पर सख्त दिख रही है और सरकार ये उम्मीद बंधा रही है कि जल्द से जल्द विजय माल्या पर कार्यवाही की जायेगी. भारत सरकार के अधीन तमान ऐसी एजेंसियां विजय माल्या के पीछे लगी हुई है.    

अन्य पढ़ें –

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *