ताज़ा खबर

वीरेन्द्र सहवाग जीवन परिचय उनका इतिहास

Virendra sehwag biography career records History Jeevan Parichay in hindi वीरेन्द्र सहवाग जीवन परिचय उनका इतिहास पढ़कर जाने कि कैसे सहवाग से सफलता की दिशा में कदम बढ़ाये और कई रिकार्ड्स अपने नाम किये |

वीरेन्द्र सहवाग भारतीय क्रिकेट टीम के हरफनमौला बल्लेबाज, शायद ही कोई ऐसा गेंदबाज हो जो इनसे घबराता ना हो | वीरू अपनी आक्रमक बल्लेबाजी के लिए अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर जाने जाते हैं | शुरुवाती दिनों में जब इन्होने अपने बल्ले का जादू दिखाना शुरू किया था | तब हर कोई इन्हें दूसरा सचिन तेंदुलकर कहता था | बल्लेबाज तो बहुत से हैं लेकिन जो गेंदबाज को एक फुटबाल की तरह खेल डाले, ऐसे कम ही हैं और ये किसी भी देश के लिए खेले इन्हें पसंद सभी खेल प्रेमी करते हैं | उन्ही में से एक हैं भारतीय खेमे के वीरेन्द्र सहवाग |

Virendra sehwag biography career records History hindi jeevan parichay

Virendra Sehwag Biography Career Records History Hindi

वीरेन्द्र सहवाग निजी जीवन परिचय 

भारतीय मूल के वीरेन्द्र सहवाग एक जाट परिवार से ताल्लुक रखते हैं | इनका जीवन एक सामूहिक परिवार में बिता हैं |इनके माता पिता हरियाणा के रहवासी हैं | पिता का नाम कृष्ण एवं माता का नाम कृष्णा सहवाग हैं | इनका जन्म 20 अक्टूबर 1978 में हुआ था | इनके चार भाई बहन हैं जिनमे इनका स्थान तीसरा हैं |इनके पिता ने बताया सहवाग जब सात माह के थे तब उन्हें खिलौने के रूप में एक प्लास्टिक का बेट दिया गया था तब ही से वे एक क्रिकेट प्रेमी हैं | 1990 में उन्हें खेलने के दौरान चोट लग गई और उनका एक दांत टूट गया | तब इनके पिता ने इन्हें खेल छोड़ने का हुक्म दिया लेकिन इस समय उनकी माँ के सपोर्ट के कारण वे अपना खेल अभ्यास जारी रख सके इसलिए हम हमेशा ही देखते हैं सहवाग की लाइफ में उनकी माँ का योगदान ही उनका सबसे बड़ा सहारा हैं |

वीरेंद्र सहवाग शादी (पत्नी का नाम)

वर्ष 2004 में वीरेन्द्र सहवाग की शादी आरती के साथ हुई इनके दो बच्चे भी हैं |

Virendra sehwag Cricket Career

वीरेन्द्र सहवाग क्रिकेट करियर

इन्होने अपने क्रिकेट करियर की शुरुवात 1997- 98 में डेल्ही क्रिकेट टीम से की थी | 1998 में इन्हें नॉर्थन जोन क्रिकेट टीम में  दलीप ट्रॉफी (Duleep Trophy) के लिए सिलेक्ट किया गया | जिसमे अच्छे प्रदर्शन के कारण उन्होंने टॉप स्कोरर में अपना स्थान बनाया | रणजी ट्रॉफी के लिए इन्होने पंजाब के खिलाफ 175 बॉल्स में 187 रन बनाये |इसके बाद वे अंडर 19 की टीम में सिलेक्ट किये गये और अपना पहला अन्तर्राष्ट्रीय दौरा साउथ अफ्रीका से शुरू किया जहाँ उन्होंने दो शतक बना कर अपना स्थान सांतवे नंबर पर दर्ज कराया | उन दिनों सेलेक्टेर्स की नजर इन पर ही टिकी हुई थी जिसका कारण था रनों को तेज रफ़्तार से अपनी झोली में डालना | इन्हें भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा बनाया गया | लेकिन शुरुवात इतनी अच्छी नहीं थी |

Virendra sehwag One Day Cricket History

वन डे क्रिकेट करियर शॉर्ट इन्फोर्मेशन

उन्होंने अप्रैल 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ मोहाली में मैच खेला जिसमे वे शोएब अख्तर की बॉल पर महज एक रन पर आउट हो गये और अपने 3 ओवर में इन्होने 35 रन दे दिये | इसके बाद 20 महीने तक उन्हें कोई मौका नही मिला | फिर 2001 में इन्होने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बैंगलोर में 54 बॉल्स पर 58 रन बनाये और तीन विकेट भी लिए | इस मैच में भारत को जीत हासिल हुई और वीरेन्द्र सहवाग को मैन ऑफ़ द मैच का ख़िताब मिला | वो एतिहासिक पल उनकी जिन्दगी में आ गया जिसके लिए वे मेहनत कर रहे थे | उन्हें 2001 के मध्य में भारतीय क्रिकेट टीम में एक अच्छा स्थान मिल गया और यहाँ शुरू हुआ इनके जीवन का अहम् समय |

अगस्त 2001 में ट्राई सीरीज में सहवाग को भारतीय टीम के लिए ओपनिंग करने का मौका मिला उस वक्त सचिन के पैर में चोट के कारन सहवाग के हाथ में यह कमान आई जिसे उन्होंने अपने हाथ से जाने नहीं दिया और बेहतरीन प्रदर्शन दिया |इन्होने इस सीरीज में 69 बॉल्स पर 100 रन बनाये अपने पहले शतक के साथ इन्होने अजहरुद्दीन का 62 बॉल्स पर 100 एवं युवी का 62 बॉल्स पर शतक बनाने के रिकॉर्ड के साथ अपना नाम तीसरे स्थान पर दर्ज कराया | 2009 में इन्होने 60 बॉल्स पर 100 रन बनाकर रिकॉर्ड ब्रेक किया इसके बाद इन्होने सबसे कम 22 बॉल्स पर अर्द्धशतक बनाने का रिकॉर्ड बनाया यह दुसरे भारतीय बल्लेबाज बने जिन्होंने इतनी तेजी से अर्धशतक बनाया हो |इसके बाद इनका सिलसिला चलता ही गया अब तक पूरी दुनियाँ में इनके लाखो चाहने वाले बन चुके थे | सभी इन्हें अगले सचिन के रूप में देख रहे थे | इनका बैटिंग स्टाइल भी सचिन की तरह ही था जो आकर्षण का केंद्र था |

वीरेन्द्र सहवाग एक आक्रम बल्लेबाज कहे जाते हैं जिनका बल्ला जब बोलता हैं तो अच्छा-अच्छा गेंदबाज डर जाता हैं | इन्हें तेजी से रन बनाने वाला पहला बल्लेबाज का ख़िताब मिला हैं | सहवाग प्रति 100 बॉल पर 103.44 रन बनाने वाले बल्लेबाज माने जाते हैं |सात बार भारतीय वन डे क्रिकेट टीम का नेतृत्व भी किया हैं | दिसंबर, 2011 में सहवाग ने इंदौर में वेस्टइंडीज के खिलाफ 149 बॉल्स में 219 रन बनाए | वनडे में 2 सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर का रिकॉर्ड भी सहवाग के नाम पर दर्ज हैं |

Virendra sehwag Test Cricket Information

टेस्ट क्रिकेट करियर शॉर्ट इन्फोर्मेशन

वर्ष 2001 के अंतिम दौर में सहवाग को एक मध्यक्रम के बल्लेबाज के रूप में Bloemfontein में साउथ अफ्रीका के खिलाफ अपना पहला टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका मिला जिसमे इन्होने 105 रन बनाये इस मैच की विजेता टीम साउथ अफ्रीका थी |इसके बाद उन्हें ओवरअप्पिलिंग के कारण ICC बोर्ड ने मैच से बाहर कर दिया | 2002 इंग्लैंड टूर में इन्हें ओपनर के रूप में उतारा गया इनका प्रदर्शन काबिले तारीफ रहा |अपनी रनों को खाने की भूख इन्होने टेस्ट मैच में भी जारी रखी और इसी तरह खेलते हुए 2004 में इन्होने तिहरा शतक (309)बनाया और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहले भारतीय बल्लेबाज के तौर पर अपना नाम दाखिल किया |वर्ष 2004 में यह मैच पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान में खेला गया था | यह टेस्ट श्रंखला भारत ने जीती और इसमें सहवाग को मैन ऑफ़ द मैच घोषित किया गया | बाद में इन्होने तिहरा शतक बनाने वाले उस बल्ले की नीलामी की जिसमे मिले 70 हजार रूपये उन्होंने हिन्दमहासागर में आये भूकम्प के कारण सुनामी पिढीत लोगो की सहायता के लिए दिए |

इस तरह से सहवाग वन डे और टेस्ट क्रिकेट दोनों में ही हरफनमौला बल्लेबाज की तरह खेलते रहे | उनके क्रिकेट करियर की झलकियाँ इस तालिका के रूप में देखे |

Virendra sehwag Cricket Career History

क्र टाइप तारीख टीम
1 पहला वन डे मैच 1 अप्रैल 1999 पाकिस्तान
2 अंतिम वन डे मैच 3 जनवरी  2013 पाकिस्तान
3 पहला टेस्ट मैच 3  नवंबर 2001 साउथ अफ्रीका
4 अंतिम टेस्ट मैच 2–5 मार्च 2013 ऑस्ट्रेलिया
5 पहला T20 1 दिसम्बर 2006 साउथ अफ्रीका
6 अंतिम T20 2 अक्टूबर 2012 साउथ अफ्रीका

Virendra sehwag Cricket Career Records

वीरेन्द्र सहवाग क्रिकेट करियर रिकॉर्ड

क्र. कम्पटीशन्स टेस्ट वन डे FC LA
1 मैच 104 251 178 324
2 रन रिकार्ड्स 8586 8273 13459 10298
3 एवरेज 49.34 35.05 47.22 34.44
4 शतक / अर्द्धशतक 23/32 15/38 38/51 16/55
5 अधिकतम रन 319 219 319 219
6 बालिंग 3731 4392 8,554 5,997
7 विकेट्स 40 96 105 142
8 बोलिंग एवरेज 47.35 40.13 42.28 36.23
9 बेस्ट बोलिंग 5/104 4/6 5/104 4/6
10 केच/ स्टंप 91/– 93/– 156/– 118/–

इंडियन प्रीमियर लीग IPL:

भारतीय टीम में खेलने के अलावा सहवाग ने IPL में भी अपना स्थान बनाया हैं |सबसे पहले सहवाग डेल्ही डेयरडेविल्स के साथ खेले और ipl 1 2 4 एंड 5 में वे इस कप्तानी के पद पर रहे | आईपीएल 5 में इन्होने ने लगातार 5 अर्द्धशतक बनाकर रिकॉर्ड बनाया |

क्र  टाइप मैच रन अधिकतम शतक अर्द्धशतक एवरेज
1 टी 20 19 394 68 0 2 21.88
2 आईपीएल 96 2629 122 2 16 28.89
3 चैंपियन लीग  टी  20 7 208 66 0 2 34.66

Virendra sehwag Cricket Records

वीरेन्द्र सहवाग द्वारा बनाये गए रिकार्ड्स :

अपने क्रिकेट करियर में वीरेन्द्र सहवाग ने कई कीर्तिमान हासिल किये और देश का गौरव बने |

  • सबसे फ़ास्ट रन रेट से रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी का कीर्तिमान इनके नाम हैं जिसमे इन्होने वर्ष 2010 में 60 बॉल पर अपना शतक पूरा किया था |
  • वन डे क्रिकेट में यह अकेले बल्लेबाज हैं जिन्होंने 219 रन बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया |
  • यह पहले भारतीय क्रिकेटर हैं जिन्होंने टेस्ट मैच में तिहरा शतक बनाया और अपना नाम सर डोनाल्ड ब्रेडमैन और लारा के साथ लिस्ट में डाला |
  • सबसे तेज गति से तिहरा शतक बनाने वाले पहले बल्लेबाज हैं इन्होने ने 278 बॉल्स पर 319 का स्कोर खड़ा किया था |
  • इसके साथ ही यह पहले बल्लेबाज हैं जिन्होंने दो बार तिहरा शतक लगाने के साथ पांच विकेट भी लिए |
  • इनका स्ट्राइक रेट भी विश्व में अव्वल नम्बर पर हैं |
  • सहवाग और द्रविड ने टेस्ट क्रिकेट की सबसे लम्बी साझेदारी का कीर्तिमान भी हासिल किया हैं |

वीरेन्द्र सहवाग जीवन परिचय उनका इतिहास पढ़कर उनके जीवन की उपलब्धियाँ जानने के बाद उनकी कामयाबी की तस्वीर हमारी आँखों में घुमने लगती हैं | सचिन तेंदुलकर की तरह चमकते हुए उन्होंने क्रिकेट की दुनियाँ में कदम रखा था लेकिन अपने स्टाइल में तेजी से रनों का पीछा करते हुए बहुत से कीर्तिमान अपने नाम किये |

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *