ताज़ा खबर

महिला सशक्तिकरण का अर्थ क्या है | what is women’s empowerment definition, principles, activities in Hindi

महिला सशक्तिकरण का अर्थ व उद्देश्य क्या है | what is women’s empowerment, Nari sashaktikaran definition, principles, activities, theme in Hindi

महिला सशक्तिकरण मुद्दे पर कई तरह की चर्चाएं और कई तरह की राय लोगों द्वारा दी जाती है. अक्सर कहा जाता है कि किसी भी देश की तरक्की तभी हो सकती है. जब उस देश की महिलाओं का विकास सही से किया जाए. वहीं इस वक्त महिलाओं के विकास के लिए पूरी दुनिया में कई तरह के कार्य भी किए जा रहे हैं. ताकि नारी शक्ति को हर क्षेत्र में बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहन किया जा सके. वहीं इस सदी में भी महिला सशक्तिकरण करने के मुद्दे का जिक्र करना, इस बात को साबित करता है कि अभी भी महिलाओं का विकास पूरी तरह से नहीं किया जा सका है.

वहीं अगर आप लोगों को ऐसा लगता है कि केवल भारत ही ऐसा देश है. जहां पर महिलाएं अभी भी केवल एक गृहणी के रूप में जानी जाती हैं, तो ऐसा बिल्कुल नहीं है. भारत के अलावा अभी भी दुनिया के नक्शे में ऐसे कई देश मौजूद हैं. जहां पर महिलाओं का विकास ना के बराबर है.

women empowerment

महिला सशक्तिकरण में संयुक्त राष्ट्र की भूमिका (women’s empowerment role)

संयुक्त राष्ट्र के द्वारा कई कार्यक्रमों का आयोजन दुनिया भर में हर साल किया जाता है. जिसके जरिए नारी शाक्ति को अपनी पहचान बनाने के लिए प्रेरित किया जा सके. वहीं ये काफी दुख की बात है कि अभी तक हम लोगों को महिलाओं और पुरुषों को समान पहचान और अधिकार देने के लिए इतनी मेहनत करनी पड़ रही है.

भारत में महिलाओं की स्थिति (condition of women’s in India)

हमारे देश में नारियों की क्या परिस्थिति है, इस बात का अंदाजा इस चीज से ही लगाया जा सकता है, कि अभी भी भारत में ऐसे कई गांव हैं. जहां की महिलाओं का जीवन घर की चार दीवारों तक ही सीमित है. इतना ही नहीं हमारे देश में काम (नौकरी) करने वाली महिलाओं की संख्या भी अन्य देशों के मुकाबले कम हैं. हमारे देश की ज्यादातर पढ़ी-लिखी महिलाएं भी इस वक्त अपने हक के लिए कुछ भी नहीं कर पा रही हैं. उनको ना चाहते हुए भी ऐसा जीवन जीना पड़ रहा है, जिसके वो विरूद्ध हैं.

भारत का महिला आरक्षण बिल (Women’s Reservation Bill)

किसी भी देश को चलाने के लिए सभी महत्वपूर्ण फैसले उसकी संसद में ही लिए जाते हैं. वहीं हमारी संसद में अगर महिला सांसदों की संख्या देखी जाए, तो वो ना के सामान ही है. हमारे देश की महिलाओं की भूमिका देश को चलाने में ज्यादा खास नहीं है. वहीं संसद में महिलाओं की इतनी कम संख्या को देखते हुए भारत की सरकार ने साल 2010 में महिला आरक्षण बिल का संसद में सबके सामने प्रस्ताव रखा. इस बिल के मुताबिक संसद की 33 % सीटों को महिलाओं के लिए आरक्षित करने के नियम का प्रस्ताव रखा गया था. लेकिन उस समय कांग्रेस सरकार केवल राज्यसभा से ही इस बिल को पास करवाने में कामयाब रही थी. लोकसभा में इस बिल को पूर्ण बहुमत न मिलने के कारण इसे पास नहीं किया जा सका था.

वहीं साल 1993 में भारत सरकार ने एक संवैधानिक संशोधन पारित किया गया था.  जिसमें ग्रामीण परिषद स्तर के होने वाले चुनावों में एक तिहाई सीटे महिलाओं के लिए आरक्षित थी. जिसकी वजह से आज हर गांव में होने वाले चुनाव में महिला चुनाव लड़ती हैं.

महिला सशक्तिकरण का महत्व (women empowerment importance and principles in hindi)

आप लोगों के मन में ये सवाल जरूर आया होगा कि आखिर क्यों महिला सशक्तिकरण के मुद्दे को विश्व के कई संगठनों द्वारा इतना महत्व दिया जाता है. वहीं इन सब सवालों के जवाब आपको नीचे दिए गए हैं.

  • समाज का विकास (development of society)

महिला सशक्तिकरण का मुख्य लाभ समाज से जुड़ा हुआ है. अगर हम लोगों को अपने देश को एक शक्तिशाली देश बनाना है, तो उसके लिए हम लोगों को समाज की महिला को भी शक्तिशाली बनाने की जरूरत है. महिलाओं के विकास का मतलब होता है कि आप एक परिवार का विकास का कार्य कर रहे हैं. अगर महिला शिक्षित होगी तो वो अपने परिवार को भी पढ़ा-लिखा बनाने की कोशिश करेगी. जिसके चलते हमारे देश को पढ़े-लिखे नौजवान मिलेंगे. जो कि देश की तरक्की में अपनी योगदान दे सकेंगे.

  • घरेलू हिंसा में कमी: (violence against women in India)

घरेलू हिंसा एक ऐसी चीज है जो कि किसी भी महिला के साथ हो सकती है. ये जरूरी नहीं है कि घरेलू हिंसा केवल अनपढ़ महिलाओं के साथ ही होती है. शिक्षित महिलाएं भी इस तरह की हिंसा का शिकार होती हैं. बस फर्क इतना होता है कि जहां पढ़ी-लिखी महिलाएं इसके खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत रखती हैं. वहीं अनपढ महिलाएं ऐसी हिंसा के विरुद्ध अपनी आवाज उठाने से डरती हैं. वहीं अगर महिलाओं का विकास किया जा सके तो हमारे देश में होने वाली घरेलू हिंसा में ना केवल कमी आएगी. बल्कि महिलाएं घरेलू हिंसा करने वाले आदमी को सजा भी दिलावाने के लिए आगे आएंगी.

  • आत्म निर्भर बनाना– (campaign for female education)

हमारे देश में लड़कियों को बचपन से ही सिखाया जाता है कि उन्हें आगे जाकर केवल घर की ही देखभाल करनी हैं. अभी भी गांव में पढ़ाई करने से ज्यादा लड़कियों को घर के काम सिखाए जाते हैं. जो ना सिर्फ लड़कियों के भविष्य के लिए गलत हैं. बल्कि देश के लिए भी नुकसानदेह है. देश में अशिक्षित लड़कियां होने का मतलब है कि देश की करीब 40% आबादी का अशिक्षित होना. अगर हम अपने देश की लड़कियों को आत्म निर्भर नहीं बननें देंगे तो हमारे देश की महिलाएं केवल रसोई तक ही समिति रह जाएंगी.

  • गरीबी कम करने (family structure its effect on women’s role in India)

महिला सशक्तिकरण का जो अगला सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य है वो गरीबी से जुड़ा हुआ है. अक्सर देखा गया है कि इतनी महंगाई के जमाने में कभी-कभी, परिवार के पुरुष सदस्य द्वारा अर्जित धन परिवार की मांगों को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं होता है. वहीं महिलाओं की अतिरिक्त आय परिवार को गरीबी के रास्ते से बाहर आने में मदद करता है. इसलिए गरीबी को कम करने के लिए भी महिलाओं का शिक्षित होने के साथ-साथ कामकाजी होना भी जरूरी है.

  • प्रतिभाशाली (empowering women through skill development challenges and opportunities):

कई ऐसी लड़कियां होती है जिनमें कई प्रतिभा होती हैं. लेकिन सही मागर्दशन और शिक्षा ना मिल पाने के चलते वो अपनी प्रतिभा का इस्तेमाल नहीं कर पाती हैं. इसलिए अगर महिलाओं का सहीं से सशक्तिकरण कर दिया जाए तो महिला अपने हुनर की पहचान कर सकेंगी. जिससे देश को भी प्रतिभाशाली महिलाएं मिलेंगे. जो कि देश के विकास के लिए कार्य करेंगी.

समाज में समानता मिलना (what is the importance of gender equality)

महिला सशक्तिकरण करने का जो सबसे बड़ा लक्ष्य है. वो महिलाओं को पुरुष के समान इस समाज में समानता देना है. अभी भी दुनिया में ऐसे कई देश हैं जहां पर महिला को पुरुषों की तरह अधिकार नहीं दिए गए हैं. महिलाएं अभी भी केवल गुलामों की तरह कार्य करती हैं. उनको ना अपनी बात कहने की और ना कुछ निर्णय लेनी की आजादी दी गई है. वहीं महिला सशक्तिकरण के जरिए ऐसी महिलाओं का विकास करने पर ही जोर दिया जाता है. ताकि ये महिलाएं बोलने की आजादी का लाभ उठा सकेंगी. अपनी राय खुलकर समाज के सामने रख सकें.

भारत में महिलाओं के लिए चलाई गई योजना (women empowerment schemes in India)

भारत सरकार ने देश की महिलाओं के विकास के लिए कई सारी योजनाएं चलाई हैं. इन योजनाओं की मदद से सरकार महिलाओं की मदद कर उनका सशक्तिकरण करना चाहती हैं. वहीं इन योजना का बारे में नीचे जानकारी दी गई है.

  1. नेशनल मिशन फॉर इम्पॉवरमेंट ऑफ वूमन (National Mission for Empowerment of Women)

इस मिशन को महिलाओं का सशक्तिकरण करने के लक्ष्य से भारत सरकार ने शुरू किया था. 15 अगस्त 2011 को शुरू किए गए इस मिशन को राष्ट्रीय और राज्य दोनों लेवल पर शुरू किया गया था. इस मिशन की मदद से महिलाओं को आत्म निर्भर बनाया जा रहा है.

  1. स्वाधार गृह योजना (SWADHAR Greh Scheme)

इस योजना के अंतर्गत 18 वर्ष के ऊपर की आयु वाली लड़कियों को रहने के लिए आवास दिए जाते हैं. ये योजना उन लड़कियों के लिए चलाई गई है जो कि बेघर हो गई हैं. आवास के अलावा इस योजना के अंतर्गत भोजन, कपड़े, स्वास्थ्य सुविधाएं और उनकी आर्थिक व सामाजिक सुरक्षा भी सुनिश्चित की जाती है.

  1. वन स्टॉप सेंटर योजना (One Stop Centre Scheme)

इस योजना की मदद से घरेलू हिंसा का सामना कर रही महिलाओं को सहायता प्रदान की जाती है. इतना ही नहीं इस हिंसा से ग्रस्त महिलाओं को चिकित्सा, कानूनी, मनोवैज्ञानिक और परामर्श सहित अन्य सहायता भी दी जाती हैं. ये योजना महिलाओं के लिए किसी वरदान से कम नहीं है.

  1. बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ योजना (Beti Padhao, Beti Bachao Scheme)

लड़कियों के कल्याण और उनकी पढ़ाई के प्रति लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के लक्ष्य से बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ योजना को शुरू करा गया था. साल 2015 में इस योजना की चलाया गया था. इस योजना के जरिए लड़कियों के परिवार वालों को उन्हें शिक्षित करने के लिए प्रोत्सहित किया जाता है. 

  1. कार्य महिला छात्रावास योजना (Working Women’s Hostel)

जो महिलाएं अपने परिवार से दूर रहकर कार्य कर रही हैं उन महिलाओं के लिए इस योजना को शुरू किया गया है. इस योजना के अंतर्गत कोई भी कामकाजी महिला को रहने की सुविधा सरकार द्वारा मुहैया कराई जाती है. महिला बिना किसी डर के सरकार द्वारा खोले गए इन छात्रावास में रहकर अपनी नौकरी जारी रख सकती हैं.

  1. महिला हेल्पलाइन योजना (Women helpline scheme)

साल 2015 में शुरू की गई इस योजना को हिंसा से प्रभावित महिलाओं के लिए बनाया गया है. इस योजना की मदद से घरेलू हिंसा से प्रभावित कोई भी महिला 24 घंटे टोल-फ्री टेलीकॉम सेवा पर फोन कर मदद मांग सकती है. कोई भी महिला कभी भी 181 नंबर पर फोन कर किसी भी प्रकार की सहायता पुलिस से ले सकती है. 

  1. राजीव गांधी राष्ट्रीय आंगनवाड़ी योजना (rajiv gandhi national creche scheme)

ऑफिसों में काम करने वाली माताओं के लिए इस योजना को चलाया गया है. अक्सर कामकाजी महिलाएं अपने बच्चों को लेकर परेशान रहती हैं. इस योजना के जरिए कामकाजी महिलाएं अपने बच्चों को नर्सरी में छोड़ सकती हैं. जहां पर उनके बच्चों की देखभाल की जाएगी. वहीं शाम को अपना काम खत्म करके महिलाएं अपने बच्चों को वापस अपने साथ घर ले जा सकती हैं. देखभाल की सुविधा के अलावा इन नर्सरियों में बच्चों को बेहतर पोषण, प्रतिरक्षण सुविधाओं, सोने के लिए सुविधा और इत्यादि सुविधा प्रदान की जाती हैं.

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (what is International Women’s Day)

दुनियाभर में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए बहुत सारे कामों एवं योजनाओं को लागू किया जा रहा है. वहीं आठ मार्च के दिन को महिलाओं के लिए अर्पित किया हुआ है. इस दिन दुनिया के हर कोने में महिलाओं के लिए कई कार्यक्रमों का संचालन किया जाता है. इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के नाम से मनाए जाता है. वहीं हर देश में विशेष रूप आयोजित किए जान वाले कार्यक्रमों के जरिए महिलाओं के विकास पर जोर दिया जाता है.

2018 के अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का विषय (2018 women’s day theme)

आठ मार्च के दिन के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा हर साल एक थीम यानी विषय को चुना जाता है. इस साल के लिए ‘प्रेस फॉर प्रोग्रेस’ विषय का चयन किया गया है. वहीं नीचे पिछले छह सालों में इस दिन के लिए जिन विषयों का चयन किया जा चुका है, उनके बारे में जानकारी दी गई है, जो कि इस प्रकार है-

साल विषय
2017 इस साल के लिए वूमन इन चेंनजिंग वर्ल्ड ऑफ वर्कप्लेनट 50-50 बाय 2030’ विषय का चयन किया गया था. इस विषय का मतलब था कि आने वाले सालों में हर क्षेत्र में महिलाएं भी पुरुष के समान कार्य करती नजर आएंगी.
साल 2016 साल 2016 के लिए जिस विषय का चयन किया गया था वो प्लेनट 50-50 बाय 2030-सेट इट अप फॉर जेंडर इक्वेलिटी था. इस विषय को लेकर दुनियाभर में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था. जिसमें महिलाओं को समानता देना पर जोर दिया गया था
साल 2015 इम्पावरिंग वूमन, इम्पॉवरिंग हुय्मेनटी: पिक्चर इटविषय का चयन संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस साल के लिए किया गया था. इस विषय के जरिए दुनिया भर की महिलाओं के सशक्तिकरण की बात कही गई थी.
साल 2014 इक्वलिटी फॉर वूमेन इज प्रोग्रेस फॉर ऑलइस विषय की मदद से दुनिया भर के लोगों को समाज में महिला को समानता और समान अधिकार देनी का बात कही गई थी. इस विषय के मुताबिक अगर महिलाओं को समान अधिकार दिए जाते हैं, तो उससे हम लोगों की ही तरक्की होगी.
साल 2013 ए प्रॉमिस इज ए प्रॉमिस: टाइम फॉर एक्शन टू एंड वायलेंस अगेन्स्ट वूमेनविषय दुनिया भर में घरेलू हिंसा का सामना कर रही महिला के लिए रखा गया था. इस विषय की मदद से घरेलू हिंसा का प्रति लोगों को जागरूक करने की कोशिश की गई थी.
साल 2012 साल 2012 के लिए जो विषय रखा गया था वो ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाना, गरीबी और भुखमरी का अंतथा. इस विषय की मदद से ग्रामीण महिला के शिक्षित होने पर जोर दिया गया था.

निष्कर्ष– (women empowerment conclusion)

आप लोगों ने महिला आयोग और महिला की सहायता के लिए बनाए गए कई संगठनों के बारे में सुना होगा. लेकिन क्या आप ने कभी पुरुष के लिए बनाए गए किसी संगठन के बारे में सुना है. जो कि उनकी मदद के लिए बनाया गया हो. महिलाओं के लिए बनाए गए संगठनों की आखिर हमें क्यों जरूरत पड़ती है? क्यों हमारे देश की महिला इतनी ताकतवर नहीं है कि वो अपने आप ही हर चीज से निपट सकें.

वहीं जब हमारे देश की महिलाएं शिक्षित हो जाएंगी. अभी हम कहे सकते हैं कि हमारे देश में महिलाओं के हालात बेहतर होते जा रहे हैं. जिस तरह पुरुषों को किसी भी मदद की जरूरत नहीं होती है. ठीक उसी तरह एक ऐसा दिन भी आएगा जब महिलाओं को भी किसी भी चीज का हल निकालने के लिए किसी पर निर्भर नहीं रहना होगा. और उस दिन महिलाओं के सशक्तिकरण का देखा गया ये सपना सच हो सकेगा.

अन्य पढ़े:

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *