आधार कार्ड क्या हैं (डाउनलोड, स्टेटस चेक, अपडेट) Aadhar Card Download , update status check kaise kare

0

आधार कार्ड डाउनलोड App,आधार कार्ड क्या हैं (डाउनलोड, स्टेटस चेक, अपडेट) Aadhar Card Download , update status check kaise kare

जब आधार कार्ड को लोगों के लिए लागू किया गया था तब शायद ही किसी को इस बात की जानकारी थी कि एक दिन यह भारतीयों के लिए इतना महत्वपूर्ण दस्तावेज बन जाएगा कि इसके बिना उनके कई काम अटक जाएंगे। आज आधार कार्ड भारतीय सरकार के द्वारा लागू किया गया एक विशिष्ट पहचान प्रमाण पत्र बन गया है। भारत देश में हर व्यक्ति को आधार कार्ड बनवाना आवश्यक है। इस आर्टिकल में हम “आधार कार्ड क्या है” कैसे बनाएं? इत्यादि  आधार कार्ड से जुड़ी पूरी जानकारी इस लेख में प्राप्त करेंगे।

Table of Contents

आधार कार्ड 2022 जानकारी

जारीकर्ता भारत सरकार
मन्त्रालय:  इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत
वैध:  भारत में
दस्तावेज का प्रकार: पहचान पत्र
शुरू:  जनवरी 2009; 13 साल पहले
बजट:  ₹11,366 करोड़
धारक:  1.253 (अरब)
वेबसाइट:  uidai.gov.in

आधार कार्ड क्या है?

इसे विशेष आईडेंटिफिकेशन कार्ड कहा जाता है, जिसमें कुल 12 अंक होते हैं। हर आधार कार्ड पर जो 12 अंक छपे हुए होते हैं वह अलग-अलग होते हैं। आधार कार्ड हमारे भारतीय नागरिक होने का पक्का सबूत होता है। आधार कार्ड को भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के द्वारा जारी किया जाता है। अंग्रेजी में इसे यूनीक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया कहा जाता है।

पहली बार आधार कार्ड को साल 2009 में सेंट्रल गवर्नमेंट के द्वारा जरूरी पहचान पत्र के तौर पर संपूर्ण भारत में लागू किया गया था। आधार कार्ड के निर्माण हेतु सरकार के द्वारा ऑनलाइन पोर्टल लांच किए गए हैं। 

इसके साथ ही नजदीकी जन सेवा केंद्र अथवा नगरपालिका सेंटर से भी आधार कार्ड बनवाया जा सकता है। आधार कार्ड के साथ पैन कार्ड, बैंक अकाउंट, फोन नंबर जैसी चीजों को लिंक करने से हमें कई सरकारी सुविधाओं का फायदा लेने में आसानी होती है।

आधार कार्ड कैसे बनाएं?

आधार कार्ड बनवाने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करें।

1: सबसे पहले यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

विजिट वेबसाइट: Aadhaar Website

2: अब Book An Appointment वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

3: अब जो नया पेज ओपन हुआ है उसमें अपने शहर की लोकेशन का सिलेक्शन करें और उसके बाद Proceed to book appointment ऑप्शन पर क्लिक कर दें।

4: अब जो नया पेज ओपन होगा, उसमें न्यू आधार वाले ऑप्शन को सिलेक्ट करें।

5: अब निश्चित जगह में फोन नंबर डालकर कैप्चा कोड को भरें और जेनरेट ओटीपी बटन पर क्लिक करें।

6: अब फोन नंबर पर जो ओटीपी आया है उसे निश्चित जगह में डालें और वेरीफाई ओटीपी बटन पर क्लिक करें।

7; अब स्क्रीन पर जो नया पेज ओपन हुआ है,‌ उसमें राज्य, शहर, आधार सेवा केंद्र का सिलेक्शन करें और नेक्स्ट बटन दबाएं।

8: अब आपको अपने बच्चे की जानकारी भरनी है। जैसे कि पूरा नाम, जेंडर, जन्म तिथि प्रमाण पत्र, ईमेल, इसके बाद एड्रेस भरना है। सभी जानकारी भरने के बाद नेक्स्ट बटन दबाएं।

​9: अब आपको अप्वाइंटमेंट डेट और टाइम का सिलेक्शन करना है और नेक्स्ट बटन दबानी है।

10: अब जो इंफॉर्मेशन आपने पहले भरी थी वही स्क्रीन पर आ जाएंगी। इसके बाद आपको सबमिट बटन दबानी है।

11: अब आपकी स्क्रीन पर पॉपअप ओपन होगा। उसमें जो भी चीजें गलत होगी उसे एडिट करने के लिए आपको एडिट वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

12: अगर सभी जानकारी सही है तो आपको ओके बटन दबानी है।

13: अब आपको एप्लीकेशन फॉर्म वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है। 

14: अब आपको उस एप्लीकेशन फॉर्म का प्रिंट आउट निकाल लेना है।

15: अब आपको प्रिंटआउट लेकर के जिस आधार सेवा केंद्र का आपने सिलेक्शन किया था वहां पर निश्चित तारीख को और निश्चित समय पर जाना है।

16: आधार सेवा केंद्र में जाने के बाद आपको एप्लीकेशन फॉर्म और जरूरी दस्तावेज को आधार सेवा केंद्र के कर्मचारी को देना है।

17: अब कर्मचारी के द्वारा आपकी रिक्वेस्ट के हिसाब से आगे की प्रक्रिया की जाएगी।

इस प्रकार से 10 से 15 दिनों के अंदर आपका आधार कार्ड बन जाएगा।

आधार कार्ड अपडेट कैसे करें?

आप आधार कार्ड में जिन चीजों को अपडेट करना चाहते हैं उन्हें अपडेट करवाने के लिए आपको अपने जरूरी दस्तावेज लेकर के नजदीकी आधार कार्ड सेंटर अथवा जनसेवा सेंटर या फिर नगरपालिका के ऑफिस में जाना है और वहां पर आपको एप्लीकेशन फॉर्म को प्राप्त करके उस एप्लीकेशन फॉर्म में यह बताना है कि आप आधार कार्ड में क्या अपडेट करना चाहते हैं। इसके बाद आपको जरूरी दस्तावेज को साथ में अटैच करके जमा कर देना है। इस प्रकार थोड़े ही दिनों के भीतर आप के आधार कार्ड में अपडेशन कर दिया जाएगा।

आधार कार्ड में फोटो अपडेट कैसे करें?

आधार कार्ड में फोटो अपडेट करने की प्रक्रिया नीचे दर्शाई गई है।

1: आपको सबसे पहले यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है और वहां से नामांकन फॉर्म को डाउनलोड कर लेना है और उसका प्रिंट आउट निकाल लेना है।

2: अब आपको नामांकन फॉर्म के अंदर सभी जानकारियों को निश्चित जगह में दर्ज करना है।

3: अब आपको फॉर्म को ले जाकर के आधार सेंटर में जमा करना है।

4: इसके पश्चात कर्मचारी के द्वारा बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन के जरिए फॉर्म के अंदर भरी गई सभी जानकारियों का वेरिफिकेशन किया जाएगा।

5: अब कर्मचारी के द्वारा आपकी फोटो क्लिक की जाएगी।

6: अब कर्मचारी फोटो बदलने के लिए ₹25 और जीएसटी का भुगतान करने के लिए आपसे कहेगा।

इस प्रकार से थोड़े ही दिनों के भीतर आपके आधार कार्ड की फोटो अपडेट हो जाएगी।

आधार कार्ड में फोन नंबर अपडेट कैसे करें?

जब आप आधार कार्ड बनवाते हैं तो उसी समय आपसे आपका फोन नंबर मांगा जाता है और उसे आप के आधार कार्ड के साथ लिंक कर दिया जाता है। इसके अलावा आधार कार्ड के फोन नंबर को अगर आप चेंज करना चाहते हैं अथवा अपडेट करना चाहते हैं तो नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन आपको करना है।

1: आपको सीधा घर के पास में मौजूद आधार नामांकन सेंटर पर जाना है।

2: सेंटर से आपको आधार एनरोलमेंट फॉर्म प्राप्त करके उसे पूरा भरना है और फॉर्म के अंदर आपको अपना फोन नंबर लिखना है।

3: अब आपको जरूरी दस्तावेज अटैच करके फॉर्म को अधिकारी के पास जमा करना है।

4: अब आपको अपना बायोमेट्रिक देना है और अपनी इंफॉर्मेशन को वेरीफाई करना है।

5: अब आपको ₹50 की पेमेंट आधार सेंटर के कर्मचारी को करनी है।

इतनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद आधार सेंटर के कर्मचारी के द्वारा ऑनलाइन डेटाबेस में आपके फोन नंबर को अपडेट कर दिया जाएगा। ऐसा होने में तकरीबन 15 दिन से 1 महीने का समय लग सकता है।

आधार कार्ड में एड्रेस कैसे बदलें?

आधार कार्ड में दर्ज एड्रेस को चेंज करने के लिए नीचे प्रक्रिया बताई गई है।

1: किसी भी ब्राउज़र में यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट को ओपन करें।

2: वेबसाइट के होम पेज पर आपको दाहिने साइड लॉगिन वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

3: इसके बाद आपको निश्चित जगह में आधार नंबर और कैप्चा कोड को डालना है।

4: अब आपको सेंड ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

5: अब जो ओटीपी आपको मिला है उसे इंटर ओटीपी वाले बॉक्स में डालने के बाद आपको लोगिन बटन पर क्लिक करना है।

6: अब आपको सर्विस वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है। इसके बाद आपको अपडेट आधार ऑनलाइन वाले ऑप्शन का सिलेक्शन करना है।

7: अब आपकी स्क्रीन पर कुछ इंस्ट्रक्शन ओपन होंगे। उन्हें बिना पढ़े आपको नीचे की साइड जो Proceed to update Aadhar वाला जो ऑप्शन दिखाई दे रहा है उस पर क्लिक करना है।

8: अब आपकी स्क्रीन पर एक लिस्ट आएगी जिसमें नीचे दी गई चीजों को आप अपडेट कर सकते हैं।• Language (भाषा)• Name (नाम)• Date Of Birth (जन्मतिथि )• Gender (लिंग)• Address (पता)

9: अपना एड्रेस अपडेट करने के लिए हमें एड्रेस वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है और उसके बाद प्रोसीड टू अपडेट आधार वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

10: अब नए ओपन हुए पेज में आधार कार्ड में वर्तमान एड्रेस आपको दिखाई देगा।

11: अब आपको स्क्रोल डाउन करके थोड़ा सा नीचे आना है और Deatailsto be Updated वाले ऑप्शन में केयर ऑफ के नीचे आपको पिता/पति का नाम डालना है।

12: अब अपना हाउस /बिल्डिंग /अप्पार्टमेन्ट नाम डालें ,अपने स्ट्रीट ,लैंडमार्क ,पिनकोड डालें अपने गांव ,राज्य ,जिला सभी को भरें।

13: अब आपको पता अपडेट करने के लिए किसी दस्तावेज को अपलोड करना है।

14: दस्तावेज अपलोड करने के बाद नेक्स्ट बटन दबानी है।

15: अब आपने जो एड्रेस दिया होगा वह आपको अपनी स्क्रीन पर दिखाई देगा। अगर आप कुछ और शामिल करना चाहते हैं तो आपको एडिट ऑप्शन पर क्लिक करना है।

16: जानकारियों को एडिट करने के बाद आपको टर्म एंड कंडीशन वाले बॉक्स पर क्लिक करना है और नेक्स्ट बटन दबानी है।

17: अब आपकी स्क्रीन पर पेमेंट पेज ओपन होगा। उसमें आपको ₹50 की पेमेंट करनी है। इसके लिए आपको टर्म एंड कंडीशन पर क्लिक करके मेक पेमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

18: अब आपको पेमेंट जरिए का सिलेक्शन करना है और पेमेंट कर देनी है।

19: पेमेंट करने के बाद आपको डाउनलोड एक्नॉलेजमेंट के बटन पर क्लिक करना है।

20: अब आपके आधार कार्ड में एड्रेस को अपडेट करने की रिक्वेस्ट दर्ज हो चुकी है साथ ही आपको यूआरएन नंबर भी प्राप्त हो जाएगा जिसका इस्तेमाल करके आप एप्लीकेशन के स्टेटस को जान सकेंगे।

इस प्रकार से 15 दिनों के भीतर आधार कार्ड में आपका एड्रेस बदल जाएगा।

मोबाइल पर आधार कार्ड कैसे देखें?

आसानी से आप अपने मोबाइल पर आधार कार्ड दे सकते हैं। इसके लिए नीचे हमने आपको तरीका बताया हुआ है।

1: आधार कार्ड को मोबाइल में देखने के लिए आपको गूगल क्रोम ब्राउज़र में आधार कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट को ओपन करने के बाद Retrieve Lost UID/EID वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

2: अब अगले स्टेप में आपको अपना पूरा नाम निश्चित जगह में दर्ज करना है। उसके बाद फोन नंबर डालना है और सिक्योरिटी कोड को डालने के बाद आपको सेंड वन टाइम पासवर्ड वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

3: अब आपको फोन नंबर पर जो ओटीपी प्राप्त हुआ है उसे इंटर ओटीपी वाले बॉक्स में डालने के बाद वेरीफाई ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

4: ओटीपी वेरीफाई होने के बाद आपको अपने आधार कार्ड का नंबर अपने फोन नंबर पर प्राप्त हो जाएगा।

इस प्रकार से आप मोबाइल से आधार कार्ड के नंबर को देख सकते हैं।

आधार कार्ड डीएक्टिवेट क्यों होता है?

निम्न कारणों की वजह से आपका आधार कार्ड कैंसिल हो सकता है।

• अगर कोई व्यक्ति एक से अधिक आधार नंबर रखता है तो उसका आधार कार्ड डिएक्टिवेट कर दिया जाता है। ऐसी स्तिथि में जो आधार नंबर पहले जारी हुआ होगा वह जारी रहेगा और बाकी के सभी आधार नंबर कैंसिल होंगे।

• आधार बनाते समय अगर सही बायोमैट्रिक डाटा नहीं जनरेट हुआ होगा तो इसकी वजह से भी आधार कार्ड डीएक्टिवेट हो जाता है।

• अगर आप जवान हैं परंतु 5 साल के कम उम्र के बच्चे के तौर पर आपका आधार कार्ड बन गया है तो यह आधार कार्ड डिएक्टिवेट होने का कारण होता है।

• अगर आपका आधार कार्ड नंबर फर्जी तरीके से जनरेट हुआ है तो इसकी वजह से भी आधार कार्ड डीएक्टिवेट होगा।

• आधार बनाते समय अगर तत्कालीन फोटो के जगह पर पुरानी फोटो का इस्तेमाल किया है तो इससे भी आधार कार्ड कैंसिल होगा।

• अगर आपने कोई दस्तावेज फर्जी दिया है तो इसकी वजह से भी आधार कार्ड कैंसिल होगा।

‌डीएक्टिवेट आधार कार्ड को एक्टिवेट कैसे करें?

अगर आपका आधार कार्ड कैंसिल हो गया है तो उसे एक्टिवेट करने के लिए निम्न प्रक्रिया का पालन करें।

1: आपको अपनी जन्मतिथि का प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र के साथ विभिन्न दस्तावेज लेकर के घर के पास में स्थित आधार नामांकन सेंटर पर जाना है।

2: अब आपको अपडेट फॉर्म हासिल करना है और उसमें जानकारियों को भर के सभी दस्तावेज को अटैच कर देना है।

3: अब आपका बायोमैट्रिक वेरिफिकेशन आधार सेंटर के कर्मचारियों के द्वारा किया जाएगा और आपके बायोमेट्रिक को पहले से ही दर्ज बायोमेट्रिक के साथ मिलाया जाएगा।

4: बायोमेट्रिक का मिलन हो जाने के बाद यूआईडीएआई की परमिशन से एक बार फिर से आधार संख्या एक्टिवेट हो जाएगी।

इस प्रकार से डीएक्टिवेट आधार कार्ड को एक्टिवेट करवा सकते हैं। इसके लिए आपको ₹25 देने पड़ेंगे।

आधार कार्ड स्टेटस कैसे चेक करें?

आधार कार्ड के स्टेटस को जानने के लिए नीचे आपको तरीका बताया गया है।

1: आधार कार्ड स्टेटस जानने के लिए यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करें।

2: वेबसाइट पर जाने के बाद माय आधार टैब के अंतर्गत चेक आधार स्टेटस वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

3: अब निश्चित जगह में अपनी इनरोलमेंट आईडी डालें जो कि 14 अंकों की होती है।

4: अब कैप्चा कोड को दर्ज करें और चेक स्टेटस वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

5: अब आपका आधार कार्ड जेनरेट हो गया है।

अब आप चाहे तो वेबसाइट से इसे डाउनलोड कर सकते हैं। अगर आपके आधार कार्ड के साथ आपका फोन नंबर लिंक है तो आप अपने मोबाइल पर भी इसे डाउनलोड कर सकते हैं।

आधार कार्ड के फायदे क्या है?

आइए जानते हैं भारत में आधार कार्ड से कौन-कौन से फायदे होते हैं।

• आधार कार्ड हमारे भारतीय नागरिक होने का सबूत है। यह बहुत ही महत्वपूर्ण पहचान पत्र है। इसमें हमारी उंगलियों के निशान और आंखों की पुतलियों की जानकारी होती है, साथ ही आधार कार्ड पर क्यूआर कोड भी होता है जिसे स्कैन करके हम यह जान सकते हैं कि आधार कार्ड सही है अथवा गलत।

• प्राइवेट और गवर्नमेंट वेरिफिकेशन की प्रोसेस में आधार कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि आधार कार्ड में हमारे रहने का एड्रेस होता है। इसके अलावा फाइनेंसियल आवश्यकता को पूरा करने के लिए होम लोन या फिर पर्सनल लोन के लिए जब हम आवेदन करते हैं तो आधार कार्ड को हम मुख्य एड्रेस के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं।

• गवर्नमेंट योजनाओं की सब्सिडी लेने के लिए आधार के साथ बैंक अकाउंट को जोड़ना जरूरी है। आधार कार्ड को बैंक अकाउंट के साथ लिंक करके आप अटल पेंशन योजना, केरोसिन सब्सिडी, स्कूल सब्सिडी, फूड सब्सिडी और अन्य योजनाओं का फायदा प्राप्त कर सकते हैं।

• बैंक में करंट अथवा सेविंग अकाउंट ओपन करवाने के लिए आप आधार कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं। जनधन खाते के लिए भी आधार कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है।

• टैक्स भरने वाले लोगों को आधार को पैन के साथ लिंक करना जरूरी है।

• नया गैस कनेक्शन लेने के लिए आधार कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है साथ ही गैस की सब्सिडी भी तभी मिलेगी जब व्यक्ति का आधार कार्ड बैंक अकाउंट के साथ लिंक होगा।

• इसके जरिए आप SEBI के द्वारा जरूरी म्यूचल फंड इन्वेस्टमेंट के लिए ई-केवाईसी करवा सकते हैं।

आधार कार्ड बनवाने का उद्देश्य 

आधार कार्ड यूआइडीएआइ योजना आयोग का ही एक भाग है और इसका मुख्य उद्देश्य देश में रहने वाले हर व्यक्ति को एक यूनिक आइडेंटिटी कार्ड उपलब्ध करवाना है।

आधार कार्ड को बनवाने का फोर्मेट

आधार कार्ड बनवाने के लिए व्यक्ति को वोटर आईडी,ड्राइविंग लाइसेंस, बिजली बिल जैसे दस्तावेज जमा करने के अलावा बायोमेट्रिक इंफॉर्मेशन जैसे कि फिंगरप्रिंट और आंखों के रेटिना को भी सबमिट करना होता है।

इसके बाद एक आईडेंटिफिकेशन नंबर व्यक्ति को उपलब्ध करवाया जाता है जो इस बात की गवाही देता है कि व्यक्ति भारत देश का निवासी है। आधार कार्ड बायोमैट्रिक में दी गई सारी इनफार्मेशन यूआईडीएआई एजेंसी के पास होती है।

आधार कार्ड के लिए आवश्यक दस्तावेज

आधार कार्ड बनाने के लिए नीचे दिए हुए दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ती है।

• आयु प्रमाण पत्र

• परिचय पत्र

• आवासीय प्रमाण पत्र

• विवाह प्रमाण पत्र

• पासपोर्ट

• ड्राइविंग लाइसेंस

• सरकार द्वारा जारी परिचय पत्र

• जन्म प्रमाण पत्र

• SSCL प्रमाण पत्र

• पैन कार्ड

• वोटर कार्ड

आधार कार्ड की विशेषताएँ

आधार कार्ड की मुख्य विशेषताएं निम्नानुसार है।

• आधार कार्ड में व्यक्ति का नाम, पता, जन्मतिथि, पिता का नाम जैसी जानकारियां एक ही कार्ड में प्रिंट होती हैं।• 5 साल से कम उम्र के बच्चों का भी आधार कार्ड बन जाता है।

• आधार कार्ड को पूरे भारत देश में स्वीकार किया जाता है।

• आधार कार्ड के द्वारा मोबाइल, एलपीजी कनेक्शन, ट्रेन यात्रा, बैंक अकाउंट जैसे कोई भी फायदे लिए जा सकते हैं।• आधार कार्ड से सरकार को भी सरकारी योजनाओं को देने में आसानी होगी।• आधार कार्ड में अपडेशन आसानी से किया जा सकता है।

• हर व्यक्ति को एक पर्सनल यूनिक आईडी नंबर दिया जाता है और जनसांख्यिकी तथा बायोमेट्रिक इंफॉर्मेशन इकट्ठी की जाती है।

आधार कार्ड की उपयोगिता 

आधार कार्ड की उपयोगिता निम्नानुसार है।

हर व्यक्ति को अलग-अलग यूनीक आईडेंटिफिकेशन नंबर जारी किया जाता है। आधार कार्ड का इस्तेमाल बैंक अकाउंट को ओपन करने के लिए किया जा सकता है। सिम कार्ड लेने के लिए भी इसका इस्तेमाल होता है। नया गैस कनेक्शन लेने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पासपोर्ट बनाने के लिए अथवा आवेदन करने के लिए आधार कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं।

पैन कार्ड में भी इसे इस्तेमाल में लिया जा सकता है। ट्रेन टिकट बुकिंग, हवाई जहाज के टिकट की बुकिंग भी इसके द्वारा कर सकते हैं। आधार कार्ड को ड्राइविंग लाइसेंस,  पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, राशन कार्ड, टिकट बुकिंग, इपीएफ चेक और सिम के साथ लिंक कर सकते हैं।

आधार कार्ड का वर्तमान के समय में बहुत महत्व हो गया है। इसके मुख्य उपयोग निम्नानुसार हैं।

• यह हमारे भारतीय नागरिक होने का पहचान प्रमाण पत्र है। इस प्रकार आप अपनी पहचान साबित करने के लिए आधार कार्ड को उपयोग में ले सकते हैं।

• आधार कार्ड के द्वारा सरकार को यह पता चलता है कि कौन सा व्यक्ति सरकार की सब्सिडी वाली योजनाओं का लाभ प्राप्त करने का हकदार है अथवा नहीं।

• आधार कार्ड के द्वारा गैस कनेक्शन लेने पर व्यक्ति को सब्सिडी की रकम उसके बैंक अकाउंट में मिलती है।

• आधार कार्ड के द्वारा आसानी से फोन कनेक्शन या फिर लैंडलाइन कनेक्शन लिया जा सकता है। इसका इस्तेमाल केवाईसी करवाने के लिए भी कर सकते हैं।

• आधार कार्ड संख्या से कनेक्टेड बैंक खाते के द्वारा अगर आप गवर्नमेंट की योजना का फायदा लेने के योग्य है और आपको मॉनेटरी एडवांस को प्राप्त करने की जरूरत है तो आप इसे अपने लिंक किए हुए बैंक अकाउंट में जल्द ही ट्रांसफर कर सकते हैं।

• आधार कार्ड किसी भी व्यक्ति के लिए जिंदगी भर वैलिड होता है।

आधार नंबर क्या है?

आधार संख्या टोटल 12 अंकों की संख्या होती है और जिन लोगों को आधार कार्ड का अलॉटमेंट दिया जाता है उन सभी लोगों के आधार कार्ड पर जो 12अंकों की संख्या होती है वह अलग अलग होती है। अगर भारत में 80 करोड लोगों को आधार कार्ड जारी हुआ है तो 80 करोड लोगों के आधार कार्ड का नंबर अलग अलग होगा।

आधार संख्या का फोर्मेट

किसी व्यक्ति को जब आधार संख्या दी जाती है तो उसे 12 अंकों का नंबर प्रदान किया जाता है। इस प्रकार से आधार कार्ड नंबर टोटल 12 अंकों का होता है। एक व्यक्ति के नाम पर जब आधार कार्ड जारी होता है तो उसके आधार कार्ड के नंबर को नहीं बदला जा सकता है। इसके अलावा वो अपना एड्रेस,नाम, अपना फोन नंबर चेंज करवा सकता है अथवा अपडेट करवा सकता है।

आधार कार्ड में मौजूद जानकारी

किसी व्यक्ति के आधार कार्ड में निम्न जानकारियां शामिल होती हैं।

• व्यक्ति का नाम

• आधार संख्या

• नामांकन संख्या

• एक फोटो

• रिकॉर्ड के अनुसार व्यक्ति का पता

• व्यक्ति की जन्मतिथि

• व्यक्ति का लिंग

• एक बार कोड जो आधार संख्या का प्रतिनिधित्व करता है.

• आधार कार्ड और आधार संख्या 

कई लोग आधार को सिर्फ एक कार्ड समझते हैं परंतु वास्तविकता यह है कि आधार के साथ मुख्य चीज कार्ड नहीं बल्कि आधार की संख्या है और आधार संख्या ही किसी भी व्यक्ति के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। 

अगर आपको अपने आधार कार्ड का नंबर पता है तो आपको दूसरी जानकारी को याद रखने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है। आधार कार्ड के नंबर के द्वारा आप कहीं से भी अपने आधार कार्ड को निकलवा सकते हैं अथवा आधार कार्ड को डाउनलोड कर सकते हैं या फिर उसके प्रिंटआउट को निकाल सकते हैं अथवा स्टेटस चेक कर सकते हैं।

मास्क्ड आधार कार्ड क्या है?

यूआईडीएआई के द्वारा आपके द्वारा डाउनलोड किए गए ई आधार में अपने आधार नंबर को हाइड करने के लिए इस सुविधा को ऑफर किया जाता है। इसे नकाबपोश आधार कार्ड भी कहा जाता है। इस प्रकार के आधार कार्ड में पहले के 8 अंक नहीं दिखाई देते हैं। उसकी जगह पर बस ××××××× दिखाई देता है और आखिरी के 8 अंक दिखाई देते हैं। 

इस प्रकार का आधार कार्ड अगर गुम हो जाता है तो भी यह सुरक्षित रहेगा। इस आधार कार्ड में आधार कार्ड के सभी 12 अंक नहीं होते हैं। इसमें क्यूआर कोड होता है जिसमें सिर्फ कार्ड धारक की डेमोग्राफिक इंफॉर्मेशन और फोटो होगी परंतु आधार नंबर नहीं होगा।

मास्क्ड आधार कार्ड डाउनलोड कैसे करें?

मास्क्ड आधार कार्ड डाउनलोडिंग का तरीका नीचे प्रस्तुत किया गया है।

1: इस आधार कार्ड को डाउनलोड करने के लिए आपको यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है और उसके पश्चात माय आधार वाले ऑप्शन पर चले जाना है।

2: अब आपको dropdown-menu से डाउनलोड आधार वाले ऑप्शन का सिलेक्शन करना है।

3: अब आपको निश्चित जगह में 12 अंकों का आधार नंबर अथवा वर्चुअल आईडी अथवा इनरोलमेंट नंबर को दर्ज करना है।

4: अब आपको मस्कड आधार वाले ऑप्शन का सिलेक्शन करना है।

5: अब आपको कैप्चा कोड भरकर कैप्चा कोड को वेरीफाई कर लेना है।

6: अब आपको सेंड ओटीपी वाले बटन पर क्लिक करना है।

7: अब जो ओटीपी प्राप्त हुआ है उसे इंटर ओटोपी वाले बॉक्स में डालना है और वेरीफाई ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

इस प्रकार से आप मस्कड आधार कार्ड को डाउनलोड कर सकते हैं।

ई आधार कार्ड क्या है?

आपके हाथ में जो फिजिकल फॉर्मेट में आधार कार्ड मौजूद है उसी का जो इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट है उसे ही ई आधार कार्ड कहा जाता है। इसका इस्तेमाल भी आप उसी प्रकार से कर सकते हैं जिस प्रकार आप फिजिकल फॉर्मेट वाले आधार कार्ड का इस्तेमाल करते हैं।

ई आधार कार्ड में आपकी बायोमेट्रिक जानकारी, जनसांख्यिकी जानकारी, आधार संख्या, फोटो और सामान्य जानकारी जैसे कि नाम, जन्मतिथि, इत्यादि दर्ज होती है।

ई आधार कार्ड डाउनलोड कैसे करे?

आधार कार्ड नंबर के द्वारा ई आधार कार्ड डाउनलोड करने की प्रक्रिया नीचे बताई गई है।

1: आपको सबसे पहले uidai की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर चले जाना है।

2: होम पेज पर आपको डाउनलोड आधार वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

3: अब आपकी स्क्रीन पर अगला पेज ओपन होगा। उसमें आई हैव वाले ऑप्शन में आधार नंबर के ऑप्शन पर आपको क्लिक करना है।

4: अब आपको निश्चित जगह में 12 अंकों के आधार कार्ड नंबर को डालना है।

5: अब आपको कैप्चा कोड डालना है और सेंड ओटीपी बटन दबानी है।

6: अब जो ओटीपी आपको प्राप्त हुई है उसे ओटीपी बॉक्स में डालें।

7: अब वेरीफाई एंड डाउनलोड वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

इतनी प्रक्रिया करने के बाद आपका ई आधार कार्ड डाउनलोड हो जाएगा।

आधार ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

एम आधार एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को स्टेप बाय स्टेप फॉलो करें।

1: यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाएं और माय आधार वाले टैब पर क्लिक करें।

2: अगर आप एंड्रॉयड स्मार्टफोन चलाते हैं तो आपको m-aadhaar फॉर एंड्राइड के लिंक पर क्लिक करना है और अगर आप आईफोन यूजर हैं तो आपको एम आधार एप लिंक फॉर आईओएस के लिंक पर क्लिक करना है।

3: अब आपको इंस्टॉल की बटन पर क्लिक करना है।

अब थोड़ी देर के बाद एम आधार एप्लीकेशन आपके मोबाइल में डाउनलोड हो जाएगी।

आधार नंबर वेरीफाई करने की प्रक्रिया

नीचे आधार नंबर वेरीफाई कैसे करते हैं, के बारे में आपको जानकारी दी गई है।

1: आपको सबसे पहले यूआईडीएआई की ऑफिशियल वेबसाइट के होम पेज पर चले जाना है और माय आधार के टैब पर क्लिक करना है।

2: अब आप को वेरीफाई एन आधार नंबर के लिंक पर क्लिक करना है।

3: अब आपकी स्क्रीन पर एक नया पेज ओपन होगा। उसमें आपको निश्चित जगह में आधार नंबर और कैप्चा कोड को डालना है।

4: अब आपको प्रोसीड टू वेरीफाई बटन पर क्लिक करना है।

इस प्रकार आप अपना आधार कार्ड वेरीफाई कर पाएंगे।

ईमेल/फोन नंबर वेरीफाई करने की प्रक्रिया

ईमेल/फोन नंबर आधार कार्ड में वेरीफाई करने का तरीका नीचे बताया गया है।

1: यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद माय आधार वाले टैब पर क्लिक करें और वेरीफाई ईमेल/मोबाइल नंबर के लिंक पर क्लिक करें।

2: अब निश्चित जगह में आधार नंबर और संपर्क विवरण दर्ज करें।

3: अब कैप्चा कोड डालें और सेंड ओटीपी बटन दबाएं।

4: अब ओटीपी को इंटर ओटीपी बॉक्स में डालें।

इस तरह से आप फोन नंबर और ईमेल आईडी को वेरीफाई कर सकेंगे।

आधार/बैंक लिंकिंग स्टेटस चेक करने की प्रक्रिया

आधार कार्ड बैंक अकाउंट के साथ लिंक हुआ है या नहीं, इसे जानने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: सबसे पहले आपको यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद माय आधार वाले टैब पर क्लिक करना है।

2: अब आपको चेक आधार/बैंक लिंकिंग स्टेटस वाला ऑप्शन मिलेगा  उस पर आपको क्लिक करना है।

3: अब आपको निश्चित जगह में अपना आधार नंबर या फिर वर्चुअल आईडी दर्ज करनी है।

4: अब आपको कैप्चा कोड डालना है और सेंड ओटीपी बटन दबानी है।

5: अब जो ओटीपी प्राप्त हुआ है, उसे ओटीपी बॉक्स में डालना है।

इस प्रकार आप आधार/बैंक लिंकिंग स्टेटस चेक कर सकते हैं।

एनरोलमेंट सेंटर लोकेट करने की प्रक्रिया

अपने घर के पास में मौजूद नजदीकी इनरोलमेंट सेंटर के बारे में जानने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: सबसे पहले आपको आधार कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाना है।

2: वहां पर आपको माय आधार टैब के अंतर्गत लोकेट एन एनरोलमेंट सेंटर का लिंक मिलेगा, उस पर क्लिक करना है।

3: अब आपको सर्च कैटेगरी का सिलेक्शन करना है। इसके अंतर्गत आपको स्टेट, पिन कोड और सर्च बॉक्स का सिलेक्शन करना है।

4: अब आपको सर्च कैटेगरी के हिसाब से इंफॉर्मेशन को दर्ज करना है।

5: अब आपको लोकेट ए सेंटर वाला जो लिंक दिखाई दे रहा है उस पर क्लिक करना है।

इतनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद आपको घर के पास में मौजूद आधार कार्ड सेंटर की जानकारी मिलेगी।

अपॉइंटमेंट बुक करने की प्रक्रिया

आधार कार्ड सेंटर पर अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप को फॉलो करें।

1: यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद माय आधार वाले ऑप्शन पर क्लिक करें और उसके बाद बुक एन अपॉइंटमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

2: अब आपकी स्क्रीन पर जो पेज ओपन हुआ है उसमें आपको लोकेशन का सिलेक्शन करना है।

3: अब आपको प्रोसीड टू बुक अप्वाइंटमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

4: अब आपको निर्धारित जगह में अपने फोन नंबर और कैप्चा कोड को डालने के बाद जेनरेट ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

5: अब आपको ओटीपी को इंटर ओटोपी वाले बॉक्स में डालना है।

इस प्रकार से आप अपॉइंटमेंट बुक कर सकेंगे।

आधार पीवीसी कार्ड ऑर्डर करने की प्रक्रिया

आधार पीवीसी कार्ड को आर्डर करने की प्रक्रिया नीचे बताई गई है।

1: पीवीसी कार्ड ऑर्डर करने के लिए आधार कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद आपको जो माय आधार वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, उस पर क्लिक करना है और उसके बाद ऑर्डर आधार पीवीसी कार्ड के ऑप्शन पर क्लिक करना है।

2: अब लॉगिन वाले ऑप्शन पर आपको क्लिक करना है।

3: अब जो जानकारी मांगी जा रही है उसे लॉगइन वाले फॉर्म में आपको दर्ज करनी है।

4: अब आपको आर्डर पीवीसी कार्ड के ऑप्शन पर क्लिक करना है।

इस प्रकार आप आधार पीवीसी कार्ड ऑर्डर कर सकेंगे।

आधार पीवीसी कार्ड स्टेटस चेक करने की प्रक्रिया

पीवीसी कार्ड के लिए अप्लाई करने के बाद पीवीसी कार्ड के स्टेटस को चेक करने के लिए नीचे दी गई विधि को आप को फॉलो करना है।

1: सर्वप्रथम यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाएं और तत्पश्चात माय आधार के ऑप्शन पर क्लिक करें और उसके बाद चेक आधार पीवीसी कार्ड स्टेटस के ऑप्शन पर क्लिक करें।

2: अब आपकी स्क्रीन पर जो नया पेज ओपन हुआ है वहां पर निर्धारित जगह में आधार नंबर को डाले और उसके बाद निश्चित जगह में सिक्योरिटी कोड को डालें।

3: अब सेंड ओटीपी ऑप्शन को दबाने के बाद जो ओटीपी मिला है उसे ओटीपी बॉक्स में डालें।

4: अब आपको चेक स्टेटस वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

अब आधार पीवीसी कार्ड स्टेटस आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगा।

वर्चुअल आईडी जनरेट करने की प्रक्रिया

वर्चुअल आईडी बनाने का तरीका नीचे आपके सामने प्रस्तुत किया गया है।

1: ‌ वर्चुअल आईडी क्रिएट करने हेतु यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद माई आधार के ऑप्शन पर क्लिक करें और उसके बाद वर्चुअल आईडी जेनरेटर के ऑप्शन पर क्लिक करें।

2: अब आपकी स्क्रीन पर जो पेज ओपन हुआ है उसमें निश्चित जगह में आधार नंबर और कैप्चा कोड को डालें।

3: अब आपको सेंड ओटीपी वाली बटन को दबाना है और जो ओटीपी आपको मिलेगा उसे आपको इंटर ओटीपी बॉक्स में डालने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक करना है।

4इस प्रकार आप वर्चुअल आईडी जेनरेट कर सकेंगे।

केवाईसी करने की प्रक्रिया

ईकेवाईसी करवाने के लिए नीचे तरीका आपके सामने प्रस्तुत किया गया है।

1: ईकेवाईसी करवाने के लिए यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद माय आधार के ऑप्शन पर क्लिक करें और उसके पश्चात आधार पेपरलेस ऑफलाइन e-kyc के ऑप्शन पर क्लिक करें।

2: अब स्क्रीन पर ओपन हुए पेज में आधार नंबर अथवा वर्चुअल आईडी को डालें।

3: अब निश्चित जगह में कैप्चा कोल्ड को डालें।

4: अब सेंड ओटीपी बटन पर क्लिक करें।

5: अब जो ओटीपी मिला है उसे ओडीपी बॉक्स में डालें अब सबमिट बटन को दबा दें।

इस प्रकार आप ईकेवाईसी कर सकेंगे।

बायोमेट्रिक को लॉक या फिर अनलॉक करने की प्रक्रिया

आधार कार्ड के बायोमैट्रिक को लोक और अनलॉक करने की प्रक्रिया नीचे बताई गई है।

1: आधार कार्ड बायोमैट्रिक लॉक अथवा अनलॉक करने के लिए आधार कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

2: आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर आपको माय आधार का ऑप्शन मिलेगा, उस पर क्लिक कर दें।

3: अब आपको लॉक/अनलॉक बायोमैट्रिक्स के ऑप्शन पर क्लिक करना है।

4: अब आपकी स्क्रीन पर नया पेज आएगा, उसमें डिक्लेरेशन पर आपको टिक मार्क करना है।

5: अब आपको लॉक/अनलॉक बायोमैट्रिक के ऑप्शन पर क्लिक करना है।

6: अब निश्चित जगह में आधार अथवा वर्चुअल आईडी डालना है और उसके बाद कैप्चा कोड को डालना है।

7: अब सेंड ओटीपी वाले ऑप्शन को दबाएं और जो ओटीपी मिला है उसे इंटर ओटीपी बॉक्स में डालें।

8: अब आपको सबमिट वाली बटन पर क्लिक कर देना है।

इस प्रकार आप बायोमेट्रिक को लॉक या फिर अनलॉक कर सकेंगे।

आधार कार्ड कौन जारी करता है?

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण अर्थात UI इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आता है। साल 2009 में आधार की स्टार्टिंग हुई थी और इसमें टोटल 12 अंकों का यूनिक नंबर होता है जिसे आधार कहा जाता है, जो कि भारत के सभी लोगों के लिए जरूरी है।

12 अंकों के आधार नंबर के साथ ही व्यक्ति के बायोमेट्रिक की जानकारी जैसे कि एक फोटो, उसके 10 फिंगर प्रिंट, दो आइरिश स्कैन, आधार में होते हैं जोकि सेंट्रल डेटाबेस में सुरक्षित होता है। आधार कार्ड जारी करने का काम भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण करती है।

बाल आधार कार्ड क्या है?

सरकार के द्वारा जिन बच्चों की उम्र 5 साल से कम है उनके लिए भी 12 अंकों का आधार कार्ड जारी करने का काम किया जा रहा है। इस प्रकार 5 साल से कम उम्र के बच्चों का जो आधार कार्ड बनता है उसे बाल आधार कार्ड कहा जाता है जोकि नीले रंग का होता है। 

इसीलिए इसे ब्लू आधार कार्ड भी कहते हैं। इसे बच्चे के बर्थ सर्टिफिकेट के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। बाल आधार कार्ड 5 साल या फिर 5 साल के कम उम्र के बच्चे के लिए ही बनता है। 5 साल पूरा होने के बाद यह इनवैलिड हो जाता है।

बाल आधार कार्ड कैसे बनवाएं?

बाल आधार कार्ड बनवाने के लिए माता-पिता को अपने बच्चे को लेकर के नजदीकी आधार कार्ड सेंटर में जाना है और उसके बाद नीचे दी गई प्रक्रिया से गुजरना है।

1: आधार कार्ड सेंटर में जाने के बाद बच्चे का जो आधार कार्ड है, उसे उसके माता-पिता के आधार कार्ड के साथ लिंक किया जाएगा। इस प्रक्रिया में बच्चे का बायोमेट्रिक नहीं लिया जाएगा।

2: बाल आधार कार्ड के लिए ऑनलाइन अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए आपको यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आधार रजिस्ट्रेशन वाले लिंक पर क्लिक करना है।

3: अब बच्चे से संबंधित जो जानकारी मांगी जा रही है उसे आपको दर्ज करना है। जैसे कि बच्चे का नाम, पेरेंट्स का मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी।

4: जानकारी को भरने के बाद आपको अप्वाइंटमेंट फिक्स्ड बटन पर क्लिक करना है।

अब आप अपनी सुविधा के हिसाब से टाइम और स्लॉट की बुकिंग कर सकते हैं।

आधार कार्ड हेल्पलाइन नंबर

सरकार के द्वारा आधार कार्ड से संबंधित इंफॉर्मेशन के लिए या फिर किसी भी प्रकार की प्रॉब्लम के लिए टोल फ्री नंबर भी जारी किया गया है। वह टोल फ्री नंबर 1947 है। इस टोल फ्री नंबर पर आप संपर्क स्थापित करके अपनी समस्या का समाधान प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप किसी भी प्रकार की समस्या की जानकारी लिखित में देना चाहते हैं तो आप 

emailhelp@uidai.gov.in मेल आईडी पर ईमेल कर सकते हैं।

आधार कार्ड संपर्क कार्यालय

यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (UIDAI),

प्लानिंग कमीशन,

गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया (GoI),

३ फ्लोर, टावर II, जीवन भारती बिल्डिंग,

कन्नौघ्ट सर्कस,

नई दिल्ली – 110001.

आधार को बैंक अकाउंट से लिंक करने की प्रक्रिया

आप बैंक में जाकर के आधार कार्ड से बैंक अकाउंट को लिंक करने के लिए एप्लीकेशन फॉर्म भरकर बैंक में जमा कर सकते हैं। इस प्रकार बैंक अकाउंट से आधार कार्ड लिंक हो जाएगा। इसके अलावा इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा आधार कार्ड से बैंक अकाउंट लिंक करने के लिए नीचे दी गई प्रोसेस को फॉलो करें।

1: जिस बैंक की इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल आप करते हैं उस बैंक की इंटरनेट बैंकिंग में आपको लॉगइन करना है।

2: लॉगिन हो जाने के बाद आपको होम पेज पर मैन्युबार में आधार लिंक वाला ऑप्शन दिखाई देगा, उस पर क्लिक करना है।

3: अब आपको आधार बैंक लिंक वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

4: अब आपकी स्क्रीन पर आधार लिंक करने का ऑप्शन आएगा, उसमें आपको निश्चित जगह में अपने आधार कार्ड के नंबर को डालना है।

5: आधार नंबर डालने के बाद आपको सेंड ओटीपी वाली बटन पर क्लिक करना है।

6: अब जो ओटीपी आपके फोन नंबर पर मिला है उसे आपको निश्चित जगह में डालना है और उसके बाद वेरीफाई ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

7: ओटीपी का वेरिफिकेशन हो जाने के बाद आपका आधार बैंक लिंक रिक्वेस्ट सबमिट हो जाएगा।

8: अब 24 से 48 घंटे के अंदर बैंक के द्वारा वेरिफिकेशन करने के पश्चात आप के आधार कार्ड को बैंक अकाउंट के साथ लिंक कर दिया जाएगा।

आधार को पैन कार्ड के साथ लिंक करने की प्रक्रिया

पैन कार्ड के साथ आधार कार्ड को लिंक करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन आपको करना है।

1: सबसे पहले आपको पैन कार्ड के साथ आधार कार्ड को लिंक करने के लिए इनकम टैक्स की ई फाइलिंग वेबसाइट पर जाना है।

2: अब आपको वेबसाइट के होम पेज पर बाएं तरफ लिंक आधार का ऑप्शन प्राप्त होगा, आपको उसके ऊपर क्लिक कर देना है।

3: अब आपकी स्क्रीन पर जानकारियों को दर्ज करने का ऑप्शन आएगा। उसमें आपको निश्चित जगह में सभी जानकारियों को दर्ज करना है।

4: अब आपको स्क्रीन पर जहां पर पैन नंबर, आधार नंबर भरने के लिए कहा जा रहा है वहां पर आपको पैन नंबर और आधार कार्ड का नंबर डालना है।

5: सभी जानकारियों को भर लेने के बाद आपको कैप्चा कोड को दर्ज करना है।

6: अब आपको नीचे जो लिंक आधार वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, उस पर क्लिक कर देना है।

इतनी प्रक्रिया जब आपके द्वारा कर ली जाएगी तो आपके आधार कार्ड के साथ पैन कार्ड लिंक हो जाएगा।

आधार कार्ड को गैस कनेक्शन के साथ लिंक करने की प्रक्रिया 

अगर आपके नाम पर गैस कनेक्शन है और आप गैस कनेक्शन की सब्सिडी अपने अकाउंट में पाना चाहते हैं तो अपने आधार कार्ड को आपको गैस कनेक्शन के साथ लिंक करना पड़ेगा। इसकी प्रक्रिया नीचे दर्शाई गई है।

1: सबसे पहले आपको नजदीकी गैस सिलेंडर डिस्ट्रीब्यूटर ऑफिस में जाना है।

2: ऑफिस में जाने के बाद आपको एलपीजी लिंकिंग फॉर्म को प्राप्त करना है।

3: अब आपको फार्म के अंदर कंपनी का नाम, वितरक का नाम, उपभोक्ता नंबर, एलपीजी आईडी, एलपीजी उपभोक्ता का नाम, पंजीकृत फोन नंबर जैसी जानकारियों को निश्चित जगह में दर्ज करना है।

4: अब आपको एप्लीकेशन फॉर्म के साथ फिजिकल फॉर्मेट में पहचान का प्रमाण पत्र और एड्रेस का प्रमाण पत्र अटैच करना है।

5: अब आपको तैयार एप्लीकेशन फॉर्म को ऑफिस में ही जमा कर देना है।

6: अब ऑफिस के कर्मचारी के द्वारा आपके आधार कार्ड के साथ एलपीजी कनेक्शन को लिंक कर दिया जाएगा और इसकी सूचना आपको एसएमएस के जरिए अपने फोन नंबर पर भी प्राप्त हो जाएगी।

इस प्रकार से आधार कार्ड से एलपीजी कनेक्शन को लिंक कर सकते हैं।

पीवीसी आधार कार्ड क्या है?

यूआईडीएआई की जानकारी के अनुसार यह एक ऐसी सर्विस है जो आधार कार्ड धारक को सिर्फ ₹50 की फीस देकर के अपने आधार की जानकारी को पीवीसी कार्ड पर प्रिंट करवाने की सुविधा देती है। जिन लोगों के पास रजिस्टर्ड फोन नंबर नहीं है वह दूसरे किसी भी फोन नंबर से पीवीसी आधार कार्ड को ऑर्डर कर सकते हैं। यह आधार कार्ड प्लास्टिक का होता है जिसके खराब होने की संभावना बहुत ही कम होती है।

एनरोलमेंट नंबर द्वारा ई आधार कार्ड डाउनलोड करने की प्रक्रिया

एनरोलमेंट नंबर के द्वारा ई आधार कार्ड डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: आपको सबसे पहले तो यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाना है और उसके पश्चात डाउनलोड आधार वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

2: अब आपकी स्क्रीन पर नया पेज ओपन होगा, उसमें आपको एनरोलमेंट आईडी वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

3: अब आपको निश्चित जगह में 14 अंकों का एनरोलमेंट आईडी नंबर और 14 अंकों के समय और तारीख के नंबर को डालना है।

4: अब आपको निश्चित जगह में पिन कोड, कैप्चा कोड डालना है और उसके बाद सेंड ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

5: अब जो ओटीपी मिला है उसे इंटर ओटीपी बॉक्स में डालें और वेरीफाई एंड डाउनलोड बटन पर क्लिक करें।

इतनी प्रक्रिया करने के बाद आपका ई आधार कार्ड डाउनलोड हो जाएगा।

वर्चुअल आईडी के द्वारा ई आधार कार्ड डाउनलोड करने की प्रक्रिया

वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल करके ई आधार कार्ड डाउनलोड कैसे करते हैं, इसके बारे में आपको बताया गया है।

1: आपको यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है और उसके बाद होम पेज पर दिखाई दे रहे डाउनलोड आधार वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है। ऐसा करने पर आपकी स्क्रीन पर नया पेज ओपन होगा।

2: उस पेज में आपको वर्चुअल आईडी वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है और उसके बाद 16 अंकों का वर्चुअल नंबर निश्चित जगह में डालना है।

3: अब आपको कैप्चा कोड डालना है और सेंड ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

4: अब जो ओटीपी मिला है उसे इंटर ओटीपी बॉक्स में डालना है।

5: अब टेक ए क्विक सर्वे कंप्लीट करना है और सबसे आखरी में वेरीफाई एंड डाउनलोड वाली बटन पर क्लिक करना है।

इतनी प्रक्रिया करने पर वर्चुअल आईडी के द्वारा आधार कार्ड डाउनलोड हो जाएगा।

खोई ईआईडी/ यूआईडी प्राप्त करने की प्रक्रिया

जो ईआईडी अथवा यूआईडी खो गई है उसे जानने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: आपको सीधा किसी भी ब्राउज़र में यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट को खोलने के बाद होम पेज पर जो माय आधार वाला टैब दिखाई दे रहा है, उस पर क्लिक करना है।

2: अब आपको खोया ईआईडी/यूआईडी प्राप्त करें के लिंक पर क्लिक करना होगा।

3: अब आपको निश्चित जगह में अपना नाम, फोन नंबर, ईमेल एड्रेस और कैप्चा कोड को दर्ज करना है।

4: अब सेंड ओटीपी बटन पर क्लिक करना है।

5: अब जो ओटीपी मिला है उसे निश्चित जगह में डालना है।

इस प्रकार से संबंधित इंफॉर्मेशन आपके स्क्रीन पर आ जाएगी।

आधार अपडेट हिस्ट्री देखने की प्रक्रिया

आधार कार्ड के अपडेशन हिस्ट्री को देखने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: आधार कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं और उसके बाद माय आधार वाले ऑप्शन पर क्लिक करके आधार अपडेट हिस्ट्री वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

2: अब निर्धारित जगह में आधार नंबर अथवा वर्चुअल आईडी में से किसी एक को एंटर करें और उसके बाद कैप्चा कोड को भी इंटर करें।

3: अब सेंड ओटीपी बटन को दबाएं।

4: अब जो ओटीपी प्राप्त हुआ है उसे ओटीपी

बॉक्स में डालें।

इस प्रकार से संबंधित जानकारी आपके डिवाइस की स्क्रीन पर आएगी।

आधार ऑथेंटिकेशन हिस्ट्री देखने की प्रक्रिया

आधार ऑथेंटिकेशन हिस्ट्री देखने का तरीका नीचे आपके साथ शेयर किया गया है।

1: आधार ऑथेंटिकेशन हिस्ट्री देखने के लिए यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाएं और उसके बाद माय आधार विकल्प के अंतर्गत आधार ऑथेंटिकेशन हिस्ट्री के ऑप्शन पर क्लिक करें।

2: अब आधार नंबर अथवा वर्चुअल आईडी में से किसी एक का सिलेक्शन करें।

3: अब आधार नंबर/ वर्चुअल आईडी और कैप्चा कोड को निश्चित जगह में दर्ज करें और सेंड ओटीपी बटन पर क्लिक करें।

4: अब जो ओटीपी मिला हुआ है उसे ओटीपी बॉक्स में डालें।

5: अब सबमिट बटन को दबा दें।

आधार ऑथेंटिकेशन हिस्ट्री आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

कंप्लेंट फाइल करने की प्रक्रिया

अपनी शिकायत को दर्ज करवाने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: शिकायत दर्ज करवाने के लिए यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद कांटेक्ट एंड सपोर्ट वाले ऑप्शन पर क्लिक करें और उसके बाद फाइल ए कंप्लेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

2: अब आपकी स्क्रीन पर जो नया पेज ओपन हुआ है उसमें आपको निश्चित जगह में एनरोलमेंट आईडी, कांटेक्ट डिटेल्स को डालना है।

3: अब सबमिट बटन को दबा देना है।

इस प्रकार आप कंप्लेंट फाइल कर सकेंगे।

कंप्लेंट स्टेटस चेक करने की प्रक्रिया

दर्ज करवाई गई शिकायत का स्टेटस क्या है, इसके बारे में जानने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: सबसे पहले यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

2: वेबसाइट पर जाने के बाद वेबसाइट के होम पेज पर जो कांटेक्ट एंड सपोर्ट वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, उस पर क्लिक कर दें।

3: अब चेक कंप्लेंट स्टेटस वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

4: अब जो नया पेज आया है, उसमें शिकायत आईडी और कैप्चा कोड को दर्ज करें।

5: अब चेक स्टेटस वाले ऑप्शन को क्लिक कर दें।

इस प्रकार आप कंप्लेंट स्टेटस चेक कर सकेंगे।

फीडबैक देने की प्रक्रिया

यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट पर फीडबैक देने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।

1: सबसे पहले यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर चले जाएं।

2: होम पेज पर जाने के बाद कांटेक्ट एंड सपोर्ट वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

3: अब फीडबैक वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।

4: अब आपकी स्क्रीन पर फीडबैक फॉर्म ओपन हो करके आएगा, उसमें मांगी गई सभी जानकारी जैसे कि आपका नाम, फोन नंबर, ईमेल आईडी को दर्ज करें।

5: अब सबमिट बटन को दबा दें।

इस प्रकार आप फीडबैक दे सकेंगे।

आधार अधिनियम 2016 क्या है?

आधार अधिनियम 2016 इस बात को दर्शाता है कि आधार रजिस्ट्रेशन और वेरिफिकेशन के लिए यूआईडीएआई संस्था जिम्मेदार है क्योंकि इसी संस्था के द्वारा व्यक्ति के आधार कार्ड के नंबर को जारी किया जाता है साथ ही व्यक्ति की सारी जानकारियों का वेरिफिकेशन भी किया जाता। है व्यक्ति की आइडेंटिटी इंफॉर्मेशन और प्रमाणीकरण रिकॉर्ड सभी के लिए यूआईडीएआई जिम्मेदार हैं।

यूआईडीएआई की संगठनात्मक संरचना

UIDAI का हेड क्वार्टर हमारे देश के नई दिल्ली में मौजूद है और कुल 8क्षेत्रीय कार्यालय इसके पूरे देश भर में है तथा 2 डाटा सेंटर हैं जिनमें एक डाटा सेंटर कर्नाटक के बेंगलुरु में है और दूसरा हरियाणा के गुरुग्राम में है।

आधार कार्ड में URN  नंबर क्या है?

किसी व्यक्ति के द्वारा जब आधार में इंफॉर्मेशन को अपडेट करवाने के लिए या फिर सही करवाने के लिए ऑनलाइन अप्लाई किया जाता है तो एप्लीकेशन के सफलतापूर्वक जमा होने के बाद व्यक्ति को एक अपडेट रिक्वेस्ट नंबर मिलता है जिसे की यूआरएन नंबर कहा जाता है। इसके द्वारा जानकारी बदलने की प्रोसेस को ट्रैक किया जा सकता है।

डुप्लिकेट आधार कार्ड कैसे प्राप्त करें?

डुप्लीकेट आधार कार्ड प्राप्त करने के लिए आप 1800-180-1947 टोल फ्री नंबर पर कॉल कर सकते हैं और आईवीआर का पालन कर सकते हैं। इसके अलावा आप यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट से आधार कार्ड डाउनलोड करके उसका प्रिंट निकाल सकते हैं और उसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

आधार कार्ड खो जाए तो क्या करें?

ओरिजिनल आधार कार्ड खो जाने की अवस्था में आप यूआईडीएआई की आधिकारिक वेबसाइट से उसे डाउनलोड कर सकते हैं और उसका प्रिंट आउट निकाल कर के सामान्य आधार कार्ड की तरह ही उसका इस्तेमाल कर सकते हैं। आप अपना आधार कार्ड यूआईडीएआई के वेबसाइट पर आधार कार्ड में अंकित नाम, ईमेल अथवा फोन नंबर के द्वारा सर्च कर सकते हैं और डाउनलोड कर सकते हैं अथवा आप चाहें तो अपने स्मार्टफोन में एम आधार एप्लीकेशन को इंस्टॉल कर सकते हैं।

आधार कार्ड को राशन कार्ड से लिंक करने की प्रक्रिया 

राशन कार्ड को आधार कार्ड के साथ लिंक करने के लिए नीचे प्रक्रिया दर्शाई गई है।

1: आपको सबसे पहले नजदीकी मौजूद राशन की दुकान पर जाना है।

2: अब आपको अपनी खुद की और अपने परिवार के लोगों के आधार की सेल्फ अटेस्टेड कॉपी देनी है।

3: अब आपको यह बताना है कि आपका बैंक अकाउंट आधार कार्ड के साथ लिंक नहीं है।

4: अब आपको बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन के लिए फिंगरप्रिंट देना है।

इस प्रकार से आगे की प्रक्रिया करते हुए राशन कार्ड के साथ आधार कार्ड लिंक हो जाएगा।

आधार कार्ड को इपीएफ अकाउंट से लिंक करने की प्रक्रिया 

नीचे आपको हमने इस बात की इंफॉर्मेशन दी है कि कैसे आप इपीएफ अकाउंट को आधार कार्ड के साथ लिंक कर सकते हैं।

1: आपको सबसे पहले किसी भी ब्राउज़र में इपीएफ मेंबर पोर्टल पर जाना है और अपना पंजीकरण करवाना है।

2: अब आपको अपने अकाउंट में लॉगिन हो जाना है।

3: अब आपको केवाईसी सेक्शन में जाकर के आधार की जानकारी को शामिल करना है।

4: अब आपको फॉर्म को जमा कर देना है।

5: अब आपकी रिक्वेस्ट पेंडिंग केवाईसी में दिखाई देगी।

6: एक बार जब ईपीएफओ से मंजूरी मिल जाएगी तो आपको रिक्वेस्ट एक्सेप्ट केवाईसी में दिखाई देगी।

इस प्रकार से आप इपीएफ अकाउंट के साथ आधार कार्ड को लिंक कर सकते हैं।

आधार कार्ड को वोटर आईडी से लिंक करने की प्रक्रिया

वोटर आईडी के साथ आधार कार्ड को लिंक करने की प्रक्रिया के लिए आपको नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करना है।

1: आपको सबसे पहले राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है और उसके पश्चात आपको अप्लाई ऑनलाइन वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

2: अब आपको निश्चित जगह में अपना राज्य, जिला, व्यक्तिगत इंफॉर्मेशन जैसे कि नाम, जन्मतिथि और पिता का नाम दर्ज करना है।

3: सभी जानकारियों को भरने के बाद आपको सर्च बटन पर क्लिक करना है।

4: अब आपको आधार संख्या नहीं वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

5: अब एक पॉपअप आपकी स्क्रीन पर आएगा उसमें निश्चित जगह में आपको आधार कार्ड, आधार नंबर, वोटर आईडी नंबर, पंजीकृत फोन नंबर और ईमेल पता भरने के लिए कहा गया होगा।

6: इन सभी जानकारियों को आप को भरना है।

7: सभी जानकारियों को भरने के बाद सबमिट बटन दबानी है।

इस प्रकार से आप आधार कार्ड को वोटर आईडी के साथ लिंक कर सकते हैं।

FAQ:

Q: आधार कार्ड किसके द्वारा जारी किया जाता है?

A. ANS: यूआईडीएआई 

Q: यूआईडीएआई का हेल्पलाइन नंबर क्या है?

A. ANS: 1947

Q: आधार कार्ड की शुरुआत कब हुई थी?

ANS: साल 2009 

Q: आधार कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट क्या है?

ANS: uidai.gov.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here