Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

अभिनव बिंद्रा का जीवन परिचय | Abhinav Bindra Biography In Hindi

Abhinav Bindra Biography In Hindi हमारे देश भारत को प्राचीन समय में सोने की चिड़िया कहा जाता था. इसका कारण यह था कि हमारे देश में अकूत [बहुत सारी] धन – संपदा थी. परंतु ऐसा नहीं हैं कि आज हमारे पास धन नहीं हैं. हाँ ये अवश्य हैं कि आज हम प्राचीन समय जितने धन – धान्य से परिपूर्ण नहीं है. परंतु ध्यान देने वाली बात ये हैं कि चाहे प्राचीन समय हो या वर्तमान, हमारे देश में प्रतिभाओं की कभी कमी नहीं रही हैं, जैसे -: प्राचीन समय में अर्थात् यदि रामायण काल की बात करें, प्रभु श्री राम और उनके छोटे भाई लक्ष्मणजी धनुर्विद्या में निपुण थे. चलिए ये तो भगवान के अवतार थे. इसके बाद आये महाभारत काल में कुरु कुल जैसे विशाल साम्राज्य में सभी राजकुमारों द्वारा सर्वश्रेष्ठ विद्यार्जन करके निपुण राजकुमार को ही राजा घोषित किया जाता था. उस समय युधिष्ठिर भाला चलाने में, भीम और दुर्योधन गदा युद्ध में, अर्जुन और महारथी कर्ण धनुष चलाने में महारत रखते थे और अंत में यदि हम वर्तमान की बात करें, तो किसी भी क्षेत्र में देख लें, हमारे देश में सभी कलाओं के महारथी मिल जाएँगे. पढाई – लिखाई के क्षेत्र की बात करें, तो सबसे पहला नाम आपके दिमाग में हमारे भूतपूर्व राष्ट्रपति श्री ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का आता हैं. वहीँ अगर आप खेलकूद के क्षेत्र में पूछे तो कोई छोटा सा बच्चा भी आपको सचिन तेंदुलकर और एम. एस. धोनी का नाम गिना देगा. एपीजे अब्दुल कलाम जीवन परिचय एवं इतिहास को यहाँ पढ़ें.

कुछ वर्षों पूर्व जब हमारे देश की खिलाड़ी सानिया मिर्ज़ा का विवाह पाकिस्तानी खिलाड़ी से हुआ था, तो क्या आप वो संपूर्ण राष्ट्र में चलने वाले विवाद को भूल सकते हैं कि अब सानिया किस देश की ओर से खेलेंगी और तब सानिया के भारत की ओर से खेलने के जवाब ने ना केवल भारत सरकार को, खिलाड़ी संस्थाओं को, बल्कि हम सभी आम जनता को भी राहत की सांस दिलाई थी. ऐसी ही कई प्रतिभाएं हमारे देश में मौजूद हैं और इन्हीं प्रतिभाओं में से एक नाम हैं -: अभिनव बिंद्रा  का, जो कि देश के एक प्रोफेशनल शूटर हैं.

अभिनव बिंद्रा का जीवन परिचय

Abhinav Bindra Biography In Hindi

पूर्ण नाम अभिनव सिंह बिंद्रा
निक नेम अभि
पिता का नाम अर्पित बिंद्रा
माता का नाम बब्ली बिंद्रा
जन्म दिनांक 28 सितम्बर, 1982
जन्म स्थान देहरादून, भारत
निवास स्थान जिराकपुर, पंजाब, भारत
विद्यालय और यूनिवर्सिटी द दून स्कूल,

सेंट स्टीफेंस स्कूल, चंडीगढ़

यूनिवर्सिटी ऑफ़कोलोराडो बोल्डर

शिक्षा – दीक्षा बेचलर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनीस्ट्रेशन [B.B.A.]
भाई – बहन 1 बहन – दिव्या बिंद्रा
राष्ट्रीयता भारतीय
प्रसिद्धि का क्षेत्र खिलाड़ी [शूटर]
अवार्ड्स CNN-IBN इंडियन ऑफ़ द ईयर इन स्पोर्ट्स, अर्जुन अवार्ड फॉर शूटिंग [*]
पेशा प्रोफेशनल शूटर और बिज़नेसमेन

[*] अभिनव बिंद्रा द्वारा जीते गये सारे अवार्ड्स की लिस्ट नीचे दी गयी हैं.

सन 2008 में हुए, बीजिंग ओलिंपिक गेम्स में 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में गोल्ड मैडल  जीतकर भारत का नाम ग्लोबल शूटिंग मैप पर लाने वाले प्रसिद्ध भारतीय शूटर हैं – अभिनव बिंद्रा. अभिनव ऐसे पहले भारतीय रह चुके हैं, जिन्हें इंडिविजुअल ओलिंपिक गोल्ड मैडल जीतने का सम्मान प्राप्त हुआ हैं.

Abhinav Bindra

अभिनव बिंद्रा का जन्म एक संपन्न पंजाबी सिख परिवार में हुआ. वे बचपन से ही शूटिंग करना पसंद करते थे, इसीलिए उनके माता – पिता ने उनके पटियाला [पंजाब] में स्थित घर में ही एक शूटिंग रेंज की व्यवस्था कर दी और इस प्रकार यहाँ से शुरु हुआ, अभिनव के शूटर बनने का सफ़र. इस सफ़र में उनके प्रारंभिक कोच थे -: डॉ. अमित भट्टाचार्जी और लेफ्टिनेंट कर्नल ढिल्लों.

सन 1998 में हुए कामनवेल्थ गेम्स में उन्होंने भारत को रिप्रेजेंट किया था. उस समय उनकी आयु मात्र 15 वर्ष थी और साथ ही वे इस खेल प्रतिस्पर्धा के सबसे छोटे प्रतिभागी [Participant] भी थे. सन 2001 में म्युनिक [Munich] वर्ल्ड कप में जब अभिनव को ब्रोंज मैडल मिला और उन्होंने नया जूनियर वर्ल्ड रिकॉर्ड 597/600 बनाया, तब लोगों का ध्यान उन पर गया. इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और इसके बाद वे एक के बाद एक मैडल और अवार्ड जीतते चले गये. उन्होंने ‘वर्ल्ड शूटिंग चैंपियनशिप’ भी जीती. उनकी इस सफलता ने भारत के लोगों में शूटिंग के प्रति जिज्ञासा को बढ़ाया और प्रेरित भी किया, जिससे कई लोगों ने इसे अपने करियर के रूप में भी चुना हैं.

मई, 2016 में इंडियन ओलिंपिक एसोसिएशन [IOA] ने बिंद्रा को Rio 2016 ओलिंपिक गेम्स इंडियन कोंटीन्जेंट का गुडविल एम्बेसडर नियुक्त किया हैं.

अभी हाल ही में Rio 2016 समर ओलंपिक्स में बिंद्रा ने 10 मीटर एयर राइफल के फाइनल में चौथा स्थान प्राप्त किया हैं. अन्तर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस के बारे में यहाँ पढ़ें.

अभिनव बिंद्रा के महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शन [Notable International Performance] -:

  • सन 1998 में अभिनव बिंद्रा ने कुआला लुम्पुर में आयोजित कामनवेल्थ गेम्स में भाग लिया, तब उनकी आयु मात्र 15 वर्ष थी और वे सबसे कम उम्र के प्रतिभागी थे.
  • सन 2000 में हुए सिडनी ओलिंपिक में वे भारतीय कोंटीन्जेंट [Indian Contingent] के भाग रहें. परन्तु यहाँ उनका प्रदर्शन निराशाजनक रहा.
  • सन 2001 में म्युनिक वर्ल्ड कप में उन्होंने अपने पिछले प्रदर्शन को सुधारा और यहाँ उन्होंने ब्रोंज मैडल प्राप्त किया था और यहीं उन्होंने 597/600 का नया जूनियर रिकॉर्ड बनाया था. सन 2001 में हुई विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में उन्होंने कुल 6 गोल्ड मैडल जीतकर भारत को गौरवान्वित किया.
  • सन 2002 में मेनचेस्टर में आयोजित कामनवेल्थ गेम्स में अभिनव ने 10 मीटर एयर राइफल पेयर्स इवेंट में गोल्ड मैडल और 10 मीटर एयर राइफल सिंगल इवेंट में सिल्वर मैडल जीता था.
  • सन 2004 में हुए एथेंस ओलंपिक्स में उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा और उन्होंने फाइनल में 8 प्रतियोगियों [पार्टिसिपेंट] में अंतिम स्थान प्राप्त किया.
  • सन 2006 में ज़ाग्रेब, क्रोएशिया में आयोजित 2006 ISSF वर्ल्ड शूटिंग चैंपियनशिप में उन्होंने गोल्ड मैडल जीतकर इतिहास रच दिया. यह मुक़ाम पाने वाले अभिनव बिंद्रा ऐसे पहले भारतीय शूटर हैं. इसी वर्ष मेलबोर्न में हुए कामनवेल्थ गेम्स में अभिनव ने 10 मीटर एयर राइफल पेयर्स इवेंट में गोल्ड मैडल और 10 मीटर एयर राइफल सिंगल इवेंट में सिल्वर मैडल जीता था.
  • अभिनव बिंद्रा के करियर का सबसे महत्वपूर्ण क्षण वो था, जब उन्होंने बीजिंग में आयोजित 2008 ओलंपिक्स में मेन्स 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में गोल्ड मैडल जीता था. अभिनव के इस गोल्ड मैडल से भारत में 28 सालों बाद ओलिंपिक में से कोई गोल्ड मैडल जीतकर लाया गया था. इससे पूर्व सन 1980 में मास्को ओलंपिक्स में मेन्स फील्ड हॉकी टीम ने गोल्ड मैडल जीता था.
  • सन 2010 में दिल्ली, भारत में आयोजित कामनवेल्थ गेम्स में उन्होंने गगन नारंग के साथ पार्टनरशिप में 10 मीटर एयर राइफल [पेयर्स] इवेंट में गोल्ड मैडल और 10 मीटर एयर राइफल सिंगल इवेंट में एक बार फिर सिल्वर मैडल जीता था. गगन नारंग का जीवन परिचय को यहाँ पढ़ें.
  • सन 2012 में हुए लंदन ओलंपिक्स में अभिनव क्वालीफाई नहीं कर पाए थे, परन्तु सन 2014 में ग्लासगो हुए कामनवेल्थ गेम्स में एक बार फिर उन्होंने अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन किया और 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में गोल्ड मैडल जीता था.
  • अभी सन 2016 में रिओ ओलंपिक्स में मेन्स 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में उन्होंने चौथा स्थान प्राप्त किया हैं.

अभिनव बिंद्रा द्वारा जीते गये अवार्ड्स की सूचि [Awards and Recognition won by Abhinav Bindra] -:

अभिनव बिंद्रा ने अपने शूटिंग करियर में किस वर्ष कौन – कौन से और कितने अवार्ड जीते, इसका सूचिवार विवरण निम्नानुसार हैं -:

क्रमांक वर्ष अवार्ड
1. 2000 अर्जुन अवार्ड
2. 2001 राजीव गाँधी खेल रत्न अवार्ड [यह भारत का सबसे बड़ा खेल अवार्ड हैं.]
3. 2009 पद्म भूषण
4. 2011 इंडियन टेरीटोरियल आर्मी द्वारा दिया गया Honorary Lieutenant Colonel अवार्ड.

सन 2008 में ओलिंपिक गोल्ड मैडल जीतने के लिए विभिन्न संस्थाओं से मिली पुरस्कार राशि [List of Awards for 2008 Olympics Gold Medal] -:

क्रमांक पुरस्कार देने वाली संस्था का नाम पुरस्कार स्वरुप दी गयी धनराशि
1. मित्तल चैंपियनशिप ट्रस्ट द्वारा रूपये 15 मिलियन
2. केंद्र सरकार द्वारा रूपये 5 मिलियन
3. हरियाणा राज्य सरकार द्वारा रूपये 2.5 मिलियन
4. भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड द्वारा रूपये 2.5 मिलियन
5. स्टील मिनिस्ट्री ऑफ़ इंडिया द्वारा रूपये 1.5 मिलियन
6. बिहार राज्य सरकार द्वारा रूपये 1.1 मिलियन और पटना के इंडोर स्टेडियम का नाम अभिनव बिंद्रा के नाम पर रखने की घोषणा की.
7. कर्नाटक राज्य सरकार द्वारा रूपये 1 मिलियन
8. गोल्ड्स जिम के चेयरमेन एस. अमोलक सिंह गखाल द्वारा रूपये 1 मिलियन
9. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री द्वारा रूपये 1 मिलियन
10. उड़ीसा राज्य सरकार द्वारा रूपये 5 लाख
11. तमिलनाडु सरकार द्वारा रूपये 5 लाख
12. छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा रूपये 1 लाख
13. मध्य प्रदेश राज्य सरकार द्वारा रूपये 1 लाख
14. भारतीय रेलवे मंत्रालय द्वारा फ्री लाइफटाइम रेलवे पास
15. केरल राज्य सरकार द्वारा गोल्ड मैडल
16. पुणे मुन्सिपल कारपोरेशन द्वारा रूपये 1.5 मिलियन

अभिनव बिंद्रा का मैडल रिकॉर्ड [Medal record of  Abhinav Bindra] -:

अभिनव बिंद्रा ने विभिन्न खेल महोत्सवों में भारत को रिप्रेजेंट करते हुए कब और कौनसे मैडल जीते, उनका विवरण निम्नानुसार हैं -:

क्रमांक वर्ष और खेल का स्थान प्रतियोगिता जीता गया मैडल
ओलिंपिक गेम्स
1. 2008 बीजिंग 10 मीटर एयर राइफल गोल्ड मैडल
ISSF वर्ल्ड शूटिंग चैंपियनशिप
2. 2006 ज़ाग्रेब 10 मीटर एयर राइफल गोल्ड मैडल
कामनवेल्थ गेम्स
3. 2002 मेनचेस्टर 10 मीटर एयर राइफल [पेयर्स] गोल्ड मैडल
4. 2006 मेलबोर्न 10 मीटर एयर राइफल [पेयर्स] गोल्ड मैडल
5. 2010 दिल्ली 10 मीटर एयर राइफल [पेयर्स] गोल्ड मैडल
6. 2014 ग्लासग्लो 10 मीटर एयर राइफल गोल्ड मैडल
7. 2002 मेनचेस्टर 10 मीटर एयर राइफल [सिंगल्स] सिल्वर मैडल
8. 2010 दिल्ली 10 मीटर एयर राइफल सिल्वर मैडल
9. 2006 मेलबोर्न 10 मीटर एयर राइफल [सिंगल्स] ब्रोंज मैडल
एशियन गेम्स
10. 2010 Guangzhou 10 मीटर एयर राइफल [टीम] सिल्वर मैडल
11. 2014 Incheon 10 मीटर एयर राइफल [टीम] ब्रोंज मैडल
12. 2014 Incheon मेन्स 10 मीटर एयर राइफल ब्रोंज मैडल

व्यावसायिक करियर [Business Career] -:

अभिनव बिंद्रा ने यूनिवर्सिटी ऑफ़ कोलोराडो से B.B.A. की डिग्री प्राप्त की हैं. वे अभिनव फ्यूचरिस्टिक के CEO हैं, जो भारत की Walther Arms की एकमात्र डिस्ट्रीब्यूटर हैं. अभिनव के सैमसंग, BSNL और सहारा ग्रुप के साथ स्पोंसरशिप टाई – अप्स हैं. वे स्टेट-रन स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड के ब्रांड एम्बेसेडर भी हैं और वर्ष 2010 से वे फेडरेशन ऑफ़ इंडियन चेम्बर्स ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री [FICCI] स्पोर्ट्स कमिटी के सदस्य भी हैं.

पर्सनल लाइफ [Personal Life] -:

सन 2011 में अभिनव बिंद्रा की आत्मकथा [ऑटोबायोग्राफी] –A Shot At History : My Obsessive Journey To Olympic Goldको HarperSports ने प्रकाशित किया था, अभिनव ने इसे स्पोर्ट्स राइटर रोहित बृजनाथ के साथ मिलकर लिखा हैं. जिसे 27 अक्टूबर, 2011 को यूनियन स्पोर्ट्स मिनिस्टर श्री अजय माकन द्वारा दिल्ली में आयोजित समारोह में रिलीज़ किया गया. अभिनव की इस पुस्तक को काफी अच्छे रिव्यु मिले थे.

अभिनव बिंद्रा का शूटिंग करियर हमें और हमारे देश को भविष्य में और भी अधिक गौरवान्वित करेगा, इसकी हम आशा करते हैं और उन्हें इसके लिए शुभकामनायें प्रेषित करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *