सरकार खरीफ फसलों की बिजाई के लिए कृषि उपकरणों पर दे रही 50 % अनुदान, 30 जून के पहले करें आवेदन

हरियाणा कृषि उपकरण पर 50 % तक की सब्सिडी, ऑनलाइन आवेदन, दसतावेज, पात्रता, लास्ट डेट

हरियाणा सरकार ने किसानों के हित में एक बड़ा फैसला लिया है. अप्रैल से अब तक कोरोना काल में किसानों के हित में बड़े फैसले हुए है, इसी के चलते सरकार ने अब मेरा पानी, मेरी विरासत योजना को आगे बढ़ाते हुए, इसके एक अहम बात को जोड़ा है. अब किसानों को कृषि उपकरण पर सरकार सब्सिडी भी देगी. कौन कौन पात्र होगा, कितनी सब्सिडी मिलेगी, यह सभी बातों को जानने के लिए अंत तक आर्टिकल को पढ़ें.

agricultural-equipment-kharif-season-haryana-subsidy-hindi

नाम

मेरा पानी, मेरी विरासत योजना

कृषि उपकरण पर सब्सिडी

कहाँ शुरू हुई

हरियाणा

विभाग

कृषि एवं किसान विकास कल्याण

अनुदान

अधिकतम 50%

लाभार्थी

किसान

पोर्टल

agriharyanacrm.com

टोल फ्री नंबर

1800-180-1551

किसान ट्रैक्टर योजना के अंतर्गत सरकार दे रही है ट्रैक्टर खरीदने के लिए 500000 रूपए, आवेदन के लिए यहाँ क्लिक करें.

कृषि उपकरण पर सब्सिडी –

  • सरकार ने मई में मेरा पानी मेरी विरासत योजना की घोषणा की थी, जिसके अतर्गत पानी की बचत के लिए विशेष योजना चलाई गई. सरकार ने बोला कि अगर किसान धान की खेती को छोड़ किसी और अनाज की खेती करते है तो उन्हें सरकार 7000 रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशी दी जाएगी.
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को दुसरे फसल लगाने की ओर प्रोत्साहित करना है. जैसा कि आप जानते है धान की खेती में अत्यधिक पानी की आवश्यकता होती है. जल सरक्षण को सरकार ने ये अहम् फैसला लिया है.
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के प्रति किसानों को आकर्षित करने और प्रेरित करने के लिए सरकार एक और मुहीम चलाई है. अब खरीफ के सीजन में बुआई (बिजाई) के समय सरकार कृषि उपकरण खरीदने पर किसानों को 50% तक की सब्सिडी या अनुदान देगी.
  • सरकार ने बोला है कि अनुसूचित जाति, लघु सीमान्त किसान को कृषि उपकरण के लिए 50% तक का अनुदान मिलेगा.
  • अगर आवेदन महिला के नाम पर होता है तो भी कृषि उपकरण पर 50% सब्सिडी सरकार वहन करेगी.
  • इसके अलावा सभी बड़े किसानों को 40% तक का अनुदान सुविधा सरकार देगी.
  • किसान इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए 30 जून तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते है.
  • किसान न्युमेटिक प्लान्टर, मल्टीक्रॉप मेज प्लान्टर, रेज्ड बैड प्लान्टर आदि मशीनों के अनुदान के लिए आवेदन कर सकते है.
  • यह योजना पहले आओ पहले पाओ के आधार पर चलेगी. जो पहले आवेदन करेगा उसे पहले लाभ मिलने के ज्यादा चांस है.

हरियाणा में ऑनलाइन घर बैठे बैंक स्लॉट बुक एवं  कैश डिलीवरी हो रही है, अपना नाम दर्ज करने के लिए यहाँ क्लिक करें.

जरुरी दस्तावेज –

  • मशीन का बिल
  • ई वे बिल
  • स्वयं घोषणा पत्र
  • मशीन के साथ किसान की फोटो
  • आवेदन प्राथना पत्र
  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • ट्रेक्टर की आरसी
  • बैंक पासबुक की कॉपी
  • जमीन की रिपोर्ट
  • हल्फनामा

हरियाणा सरकार दे रही कैंसर व किडनी रोग से पीड़ित नागरिकों को 2,250 रुपए प्रति माह, आवेदन के लिए यहाँ क्लिक करें.

कृषि उपकरण पर सब्सिडी के लिए आवेदन प्रक्रिया –

  • खरीफ की बजाई के लिए कृषि उपकरण पर अनुदान प्राप्त करने के लिए किसानों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा.
  • सबसे पहले आपको आधिकारिक साईट पर जाना होगा. यहाँ आपको पोर्टल में स्वयं घोषणा पत्र विकल्प दिखा देगा, इसे डाउनलोड करें.
  • इस फॉर्म का प्रिंट निकालकर सारी जानकारी अच्छे से भर लें.
  • अब पोर्टल में आपको सब्सिडी के लिए आवेदन का विकल्प दिखाई देगा, इस पर क्लिक करें, जिसके बाद एक नया पेज पर फॉर्म खुल जायेगा.
  • कृषि यंत्रो से संबंधित योजनाओ में आवेदन करने के लिए यह फॉर्म आपको भरना होगा. यहाँ आपको आधार कार्ड नंबर, रजिस्ट्रेशन नंबर, आवेदन का वितरण जैसे जिला, खंड, गांव, अपनी सारी जानकारी देगी होगी. साथ ही भूमि से जुडी जानकारी, बैंक की जानकारी, उपकरण, ट्रेक्टर की जानकारी सभी कुछ सही सही डालना होगा.
  • फिर आपको उपर दिए गए सभी दस्तावेज की सॉफ्ट कॉपी भी फॉर्म के साथ संलग्न करनी होगी.
  • सब कुछ अच्छे से जांचने के बाद फॉर्म को सबमिट कर दें, अधिकारी आपके फॉर्म की करीबी से जांच करेंगें. अगर आपके फॉर्म में सब कुछ सही रहा तो आपका फॉर्म एक्सेप्ट हो जायेगा और अनुदान राशी सीधे आपके खाते में आ जाएगी.

किसानों को दूसरी फसल की खेती के प्रति उत्साहित करने के लिए सरकार ने यह बड़ा कदम उठाया है. इससे किसान विभिन्न प्रकार की फसल उगाकर सरकार की जल संरक्षण मुहीम का हिस्सा बन सकेंगें. हरियाणा में कई ऐसे जिला है, जहाँ जल स्तर बहुत कम है, ऐसे में अगर वहां धान की खेती होती है तो इससे पानी की खपत बहुत अधिक होती है. कई बार पानी उचित मात्रा में न मिल पाने पर किसानों की पूरी फसल बर्बाद हो जाती है, साथ उनका समय, मेहनत एवं पैसे भी बर्बाद हो जाये है. सरकार ने इन्ही सभी समस्याओं के समाधान के लिए यह योजना तैयार की है.

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *