Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Short Story In Hindi

अकबर बीरबल की कहानियाँ (Akbar Birbal Short Moral Story In Hindi)

अकबर बीरबल की कहानियाँ एवं मजेदार किस्से बहुत ही प्रचलित रहे हैं. खासतौर पर इनकी शैली के कारण, क्यूंकि इनकी शैली में हँसी ठिठोली के साथ-साथ  ज्ञान भी मिलता हैं  जो कि किसी भी कहानी का मुख्य उद्देश्य माना जाता हैं. अकबर बीरबल बुद्धिमता की कहानियाँ कई सालों से हमारे देश का हिस्सा हैं. इसलिये इनके किस्सों पर कई टीवी सिरियल भी बनाये गए हैं, जो काफी लोकप्रिय थे.बीरबल की चतुराई इन कहानियों का मुख्य श्रंगार  होती थी, जो आज भी रोचक लगती हैं.

कहानियाँ हमेशा ही जीवन में शिक्षा देती हैं अतः हमेशा ज्ञानवर्धक कहानियाँ पढ़ते रहना चाहिये. ऐसी ही एक कहानी नीचे दी जा रही हैं जो छोटे बड़े सभी को जीवन का एक महत्वपूर्ण उपदेश रही हैं.अकबर बीरबल की कहानियों के समूह से एक नयी कहानी “गलत आदत”.

Akbar Birbal Story

गलत आदत

एक बार अकबर गहन सोच में थे, ऐसा लग रहा था परेशान हैं, तब एक दरबारी ने उनसे उनकी परेशानी का कारण पूछा.  तब अकबर ने बताया उनके बेटे सलीम को अंगूठा चूसने की एक गंभीर गलत आदत पड़ गई हैं. जैसे- जैसे वे बड़े होते जा रहे हैं, इस आदत की वजह से हम सभी परेशान हैं लेकिन शहजादे जिद्दी हैं और किसी की नहीं सुनते. तब उस दरबारी ने अकबर को एक संत के विषय में बताया, उसने कहा कि एक संत हैं कहते हैं कि उनसे जो एक बार बात कर लेता हैं वो उनकी हर बात सुनता हैं और अपनी सारी बुराई त्याग देता हैं.

उसकी बाते सुन अकबर को अपनी परेशानी का हल उस संत में दिखाई दिया और अकबर ने उस संत को दरबार में लाने का आदेश दे दिया. कुछ समय बाद संत को दरबार में बुलाया गया, उनका आदर सत्कार किया गया. तब संत ने लाने का कारण पूछा. अकबर ने उन्हे सलीम की अंगूठा चूसने की आदत के बारे में बताया और कुछ उपाय करने कहा.

अकबर और सभी दरबारी टकटकी लगाये संत को देखने लगे, कि वो क्या उपाय करता हैं, लेकिन संत कुछ देर सोचने के बाद बोला उसे एक हफ्ते का समय चाहिए और ऐसा कहकर वो बिना सलीम से मिले चला गया. उस समय दरबार में महान बीरबल भी मौजूद थे. 

एक हफ्ते बाद संत आया और उसने सबसे पहले सलीम को बुलाया और उससे बहुत देर बाते की और उन्हे खेल- खेल में यह सिखाया, कि अंगूठा चूसना सेहत के लिए हानिकारक हैं, इसलिए उन्हे ऐसा नहीं करना चाहिए और सलीम को बात समझ आ गई और उन्होने सबके बीच कभी अंगूठा ना चूसने की कसम खाई.

संत ने जो बाते सलीम को समझाई वो सभी आम बाते थी, वो चाहता तो यह बात उसी दिन दरबार में कह सकता हैं, लेकिन उसने हफ्ते का समय लिया. यह बात अकबर और दरबारियों को हजम नहीं हुई और उन्होने इसे दरबार की तौहीन माना और अकबर से संत को सजा देने की मांग कर डाली. अकबर भी दरबारियों की बात से सहमत थे और उन्होने भी सजा देना तय किया, लेकिन जैसे कि वे हर फैसले के पहले बीरबल का मशवहरा लेते थे, उन्होने इस बार भी बीरबल की तरफ देखा और पूछा कि आज तुम इतने खामोश क्यूँ हो ? क्या तुम्हें नहीं लगता इस संत को सजा मिलनी चाहिये?

तब बीरबल अपने अंदाज में खड़ा होता हैं, दरबार के बीच जाकर कहता हैं कि जहाँपनाह में बिलकुल उल्टा सोच रहा हूँ इसलिए खामोश हूँ. सभा में हल्ला मचने लगता हैं सभी को आश्चर्य हैं कि उल्टा मतलब क्या ? तब बीरबल कहता हैं मेरे हिसाब से ये संत महान हैं, हमे इनसे सीख लेनी चाहिये और गुरु मानकर इनका आशीर्वाद लेना चाहिये और इनके साथ हुई गुस्ताखी की माफी भी मांगनी चाहिये. यह सुनकर सभी को गुस्सा आ जाता हैं और दरबार में कोहराम मच जाता हैं. तब अकबर गुस्से में बीरबल से कहता हैं, गुस्ताख़ बीरबल तुम हम सभी की तौहीन कर रहे हो, कि हम इस संत से माफी मांगे.

तब बीरबल कहता हैं – जहाँपनाह गुस्ताख़ की नाफ़रमानी को माफ करे, लेकिन मेरे मुताबिक यही न्यायसंगत हैं. अकबर कहता हैं बीरबल अपनी बात को साबित करो.

तब बीरबल बताता हैं – जिस दिन संत पहली बार दरबार आए थे और आप उनसे शहजादे की बात कर रहे थे, तब इनके हाथों में चुने की एक डिबिया थी, जिससे निरंतर चुना निकाल कर वे खा रहे थे, लेकिन आज उनके हाथ में कोई डिबिया नहीं हैं, क्यूंकि जब आप उनसे शहजादे की गलत आदत की बता कर रहे थे, तब ही उन्हे अपनी गलत आदत का अहसास हुआ और उन्होने एक हफ्ते का समय  खुद को सुधारने के लिए मांगा और अपने आपको सुधारकर उन्होने आज सलीम को ज्ञान दिया. ऐसे लोग बहुत कम होते हैं जो पहले खुद की कमी को देखे और उसे सुधारे, इसलिए मेरे हिसाब से ये एक महान संत हैं. सभी को बात समझ आती हैं और सभी संत से माफी मांग उनसे आशीर्वाद लेते हैं.

इस कहानी से क्या शिक्षा मिलती हैं –

दोस्तों कहानी से हमे दो शिक्षा मिलती हैं

पहली – किसी को ज्ञान देने अथवा सीख देने से पहले अपने अंतरकरण में अवश्य झाँके, कि क्या आप खुद उस ज्ञान के दायरे में जीवन जीते हैं, क्या आप में वे सभी गुण हैं जिसका ज्ञान आप दूसरों को दे रहे हैं, अगर नहीं हैं तो पहले खुद को सुधारे फिर दूसरों को ज्ञान दे. और अगर आप खुद सुधर नहीं सकते तो दूसरों को ज्ञान देने का आपका कोई हक नहीं बनता.

दूसरी शिक्षा यह मिलती हैं कि दरबार में बिना विचार किये सभी संत को दोषी कहने लगते हैं. हमेशा जो दिखाई देता हैं सत्य नहीं होता, हर करनी के पीछे कोई न कोई कारण होता हैं इसलिये एकदम से नकारात्मक भाव नहीं लाना चाहिये. हमेशा परिस्थिती का अवलोकन करना चाहिये, क्यूंकि जो दिखाई देता हैं वास्तव में सत्य वो हो ये जरूरी नहीं हैं. अपनी राय कायम करने से पहले सच जानना जरूरी हैं. इसलिये बीरबल ने कहा था उसका निर्णय न्याय संगत हैं.

पौराणिक कहानियाँ हमे धार्मिक ज्ञान देती हैं जो हमारे जीवन में काम तो आती ही हैं, साथ ही हमारा सामान्य ज्ञान बढ़ाती हैं. सलीम अनारकली की प्रेम कथा एवं जोधा- अकबर की प्रेम कथा दोनों ही लोकप्रिय विषय रहे हैं, जो कि कई फिल्मों एवं टीवी धारावाहिक के रूप में दर्शकों तक पहुंचाये गये हैं.

अन्य पढ़े :

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

5 comments

  1. wow nice story

  2. Very Nice Story.

  3. खालिद त्यागी

    Thanks a lot…..
    For this usefull
    knowledge

  4. very good stories and i like it.

  5. Wa wa bhut acha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *