स्वदेशी एल्युमीनियम रैक वाली मालगाड़ी [Aluminium Freight Train Rake]

0

स्वदेशी एल्युमीनियम रैक वाली मालगाड़ी [Aluminium Freight Train Rake, india first aluminium freight train, train features, route]

वंदे भारत के बाद अब भारतीय रेल ने एक और बड़ा कदम आगे बढ़ाया है। रेलमंत्री ने देश की पहली स्वदेशी एल्युमीनियम रैक वाली मालगाड़ी को भुवनेश्वर से रवाना किया है। आपको बता दें कि, ये मालगाड़ी हल्की होने के कारण काफी माल ले जा सकती है। रेलवे की तरफ से जो जानकारी प्राप्त हुई है उसके मुताबिक, इसे बेस्को लिमिटेड वैगन डिवीजन और एल्युमिनियम कंपनी ने हिंडाल्को के साथ मिलकर तैयार किया है। इसको कई सुविधाओं से लेस बनाया गया है। जिसकी जानकारी हम आपको आगे देगे। इसमें क्या लगाया है और कैसे इसे बनाया गया है।

Aluminium Freight Train Rake

स्वदेशी एल्युमीनियम रैक वाली मालगाड़ी [Aluminium Freight Train Rake]

180 टन अतिरिक्त पेलोड ले जाने में सक्षम

राष्ट्रीय ट्रांसपोर्ट ने कहा कि, मौजूदा स्टील की तुलना में इसमे जिस स्टील का इस्तेमाल किया गया है वो काफी हल्का है। जिसके कारण इसके चलने की गति भी बढ़ जाएगी और बिजली की खपत भी कम होगी। ये पारंपरिक रेक पर प्रति ट्रिप 180 टन पेलोड ले जा सकती है। इसी के साथ इसमें जंग ना लगने के कारण इसके रख रखाव में भी खर्चा कम आएगा।

निकेल और कैडमियम पर होगा कम खर्च

इसके लिए लॉक बोल्ट का इस्तेमाल किया जाएगा। जिसके कारण इसमें किसी तरह की कोई वेल्डिंग नहीं की जाएगी। इस ट्रेन में लगे बोल्ट कम से कम दस साल तक आराम से चलेगे। एक अधिकारी ने बताया कि, एल्यूमिनियम वैगनों के प्रसार से आयात कम लगेगा। जिससे ये घरेलू एल्यूमिनियम उघोग के लिए बेहतर साबित होगा।

सामान्य ट्रेनों के मुकाबले सबसे कम लागत में तैयार होगी ट्रेन

इसमें सामान्य ट्रेनों के मुकाबले कम लागत का इस्तेमाल किया गया है। इसी के साथ इसमें लगने वाले पुरजे भी भारत में तैयार किए गए हैं। जिससे इसके सामान की आयात में भी कमी देखी गई है। जिससे इसकी रीसेल वैल्यू 80 प्रतिशत हो गई है।

आठ से 10 टन कार्बन में आएगी कमी

इस ट्रेन के तैयार होने से इसके रेक में आठ से 10 टन कार्बन की कमी देखी गई है। इसके मुताबित तकरीबन 14,500 टन की कमी आ जाएगी। इसके कारण क्षरण रोधी वैगन में कम उर्जा खपत होती हुई नजर आई है। आपको बता दें कि, इसकी एक खास बात ये भी है कि इसको रिसाइकिल भी किया जा सकता है। इसी को ध्यान में रखते हुए इसे तैयार किया गया है।

भारतीय रेलवे हो रही है अपग्रेड

इस बात से कोई दो राहे नहीं है कि, भारतीय रेलवे अभी धीरे-धीरे अपग्रेड होती जा रही है। जिसके कारण उनकी सर्विस में भी काफी सुधार आ रहा है। पहले वंदे भारत एक्सप्रेस जिसे भारत में तैयार किया गया। अब एल्यूमीनियम से तैयार होने वाली मालगाड़ी। रेलवे ने कहा कि, काफी समय से इसको तैयार करने के लिए प्लानिंग की जा रही थी। लेकिन अब जाकर इसको पूरी तरह से तैयार किया गया है। इससे ये तो साबित हो जाता है कि, भारत अब और ज्यादा विकसित होता जा रहा है।

FAQ

Q- किस तरह की मालगाड़ी तैयार की जा रही है?

Ans- एल्यूमीनियम से बनाई हुई मालगाड़ी तैयार की जा रही है।

Q- मालगाड़ी तैयार करने का फायदा?

Ans- इसमें लागत कम लगेगी और माल ज्यादा से ज्यादा पहुंच जाएगा।

Q- मालगाड़ी के लिए एल्यूमीनियम कहां से आया?

Ans- बेस्को लिमिटेड वैगन डिवीजन और एल्युमिनियम कंपनी हिंडाल्को से लिया गया एल्यूमीनियम।

Q- मालगाड़ी को क्या रिसाइकिल भी किया जा सकता है?

Ans- जी हां, इसे रिसाइकिल भी किया जा सकता है।

Q- मालगाड़ी में कितने टन कार्बन की कमी देखी जाएगी?

Ans- इसमें करीबन 10 टन की कमी देखी जाएगी।

Other Links-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here