Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

खूबानी के बीज पत्ती जूस और उसके फ़ायदे | Apricot fruit juice leaves seeds health skin hair benefits in hindi

Apricot fruit juice leaves seeds health skin hair benefits in hindi खूबानी एक बीज युक्त फल है. खूबानी का पेड़ ज्यादा बड़ा नहीं होता है. इसका कद 8 मीटर से 12 मीटर तक होता है. इसकी जड़ 40 सेंटीमीटर होती है. पत्तों का आकार 4 सेंटीमीटर से 9 सेंटीमीटर लम्बा और 4 से 8 सेंटीमीटर चौड़ा और अंडे के आकार के समान होता है. आमतौर पर इसका रंग पीला और नारंगी रंग का होता है, लेकिन फल का जो भाग धूप के सम्पर्क में आता है सूर्य की किरणों के प्रभाव से वह लाल रंग का हो जाता है. खूबानी फल के अंदर का बीज कड़ा होता है. यह फल पल्प युक्त होता हैं. खूबानी ठण्ड वाले स्थानों पर पाया जाता हैं. भारत में यह कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में पाया जाता है. ये मीठा और सुखा हुआ फल दोनों रूपों में प्राप्त होता है.

Apricot

खूबानी का इतिहास (Apricot history)

एप्रीकॉट अर्थात खूबानी को चाइना में शान जिंग नाम से जाना जाता है. एप्रीकॉट शब्द का जन्म अब्रेकाक शब्द से हुआ है, जो कि फ़्रांस के एब्रिकोट से आता है. इस फल का नाम अलग अलग देशो में अलग नामों से लिया जाता है. अर्जेटीना, चिली,  फ्रांस और पेरू में ‘खुबानी’ के लिए दमास्कों है. भारत में इसकी खोज 3000 ईस्वी पूर्व में हुई थी. इस फल के पेड़ को लगाने के उदेश्य के बारे में चीनी दार्शनिक चुआंग तसू के बारे में एक कहानी में बताया है कि वो अपने छात्रों को ख़ुबानी के लकड़ी से घिरे हुए मंच पर पढ़ाया करते थे, और लोगो का इलाज करने के बाद चिकित्सा फ़ीस में वो खुबानी का पेड़ लगाने की सलाह देते थे. फ़ारसी में इसे जर्द आलू कहा जाता है. तुर्की और अमेरिका में इसके पैदावार को बढ़ाने के लिए रोड के दोनों किनारों पर इसके पौधे को लगया गया है. ये वहा इतना पसंद किया जाता है कि प्रत्येक घर के पास इसका एक पेड़ आसानी से दिख जायेगा.

खूबानी फल की विशेषता (Apricot fruit features)                               

यह एक कठोर बीज युक्त फल होता है. यह पतले छिलके वाला फल है. यह चमकीला होता है. सबसे ज्यादा इसकी पैदावार उज्बेकिस्तान में और तुर्की में होती है. इसका फूल सफ़ेद और गुलाबी रंगत लिए होता है. यह चार या पांच गुच्छों में होता है. यह फल या तो एक या जोड़े में निकलता है यह फूल के ऊपर वाले भाग में होता है. इन फलों के ऊपर छोटे छोटे और मुलायम रोएं जैसा रहता है. खूबानी के आकार और रंग रूप को लेकर मतभेद है. यह नारंगी और सेब के रूप में खूब चमकीला भी हो सकता है. चमकीला जो होता है, उसको थोडा कम लाभकारी बताया गया है. इसका स्वाद मीठा, खट्टा और कड़वा तीनों तरह का होता है. जब यह कच्चे रूप में होता है तो खट्टा होता है और पकने के बाद मीठे स्वाद में बदल जाता है. यह वसा युक्त होने की वजह से गर्म प्रवृत्ति का फल है.

खुबानी में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Apricot nutrition facts)

कैलोरी की मात्रा : खुबानी में बहुत सारी कैलोरी मौजूद होती है. एक ताजे खूबानी में जोकि 35 ग्राम तक का हो सकता है उसमे पूर्ण रूप से मिलने वली कैलोरी की मात्रा 17 तक हो सकती है. हर विटामिन की इसमें मात्रा अलग होती है. जिसको नीचे प्रदर्शित किया गया है –

प्रति 35 ग्राम खुबानी में :

विटामिन सी10 मिलीग्राम
विटामिन ए1926 आई यू 
विटामिन ई0 मिलीग्राम
विटामिन के3.3 mcg
ताम्र0.03 मिलीग्राम
मैगनीज0.077 मिलीग्राम
फाइबर1.45 मिलीग्राम
पोटैशियम265 मिलीग्राम
सोडियम1 मिलीग्राम
कैल्शियम13 मिलीग्राम
मैग्नीशियम10 मिलीग्राम
फॉस्फोरस23 मिलीग्राम
जिंक0.2 मिलीग्राम
लौह तत्व0.39 मिलीग्राम

खूबानी के फ़ायदे (Apricot fruit benefits in hindi)

  • खूबानी का फल मीठा होता है जिस वजह से खूब पसंद किया जाता है. कुछ लोग इसे स्वाद के लिए खाते है तो कुछ इसके फ़ायदे के लिए इसका इस्तेमाल करते है.
  • खान पान में लापरवाही की वजह से शरीर में खून की कमी हो जाती है. खासकर महिलाएं इस समस्या से ज्यादा जूझती है. उन्हें इस फल का सेवन विशेष रूप से करना चाहिए.
  • खूबानी में मिनरल प्रचूर होता है यह शरीर में पानी की कमी को नहीं होने देता है.
  • खूबानी के फ़ायदे सिर्फ़ ताजे फलों को खाने से ही नहीं प्राप्त होते है. बल्कि यह अपने सूखे हुए रूप में भी उतना ही कारगर होता है जितना की ताजा फलों से होता है.

स्वस्थ्य के लिए (Apricot benefits for health)

  • खूबानी के फल में बहुत से विटामिन होते है जैसे बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन के, और विटामिन सी आदि. साथ ही इसमें कॉपर, मैगज़ीन, फोस्फोरस, मैग्नेशियम होने के अलावा कई तरह के फाईबर रहते है, जो आँखों की रोशनी, प्रजनन क्षमता में वृद्धि, त्वचा रोग में सहायक होने के साथ ही बहुत से रोगों का खात्मा कर देते है.
  • इसमें पाचन शक्ति को ठीक रखने की क्षमता की वजह से यह कब्ज से होने वाली बीमारी जैसे पाईल्स से बचाव करता है.
  • इसमें कैल्सियम की मात्रा होने से यह हड्डियों को भी स्वस्थ और मजबूत रखता है.
  • इसमें मौजूद पोटेशियम और सोडियम मेटाबोलिज्म लेवल को बढ़ते है.
  • खूबानी के फल से हृदय रोग होने की सम्भावना कम हो जाती है. यह बढ़ते वजन को भी कम करता है, क्योंकि यह रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रोल की मात्रा को नियंत्रित रखता है.
  • फेफड़े की बीमारी और अस्थमा की बीमारी में यह सहायक है.

त्वचा के लिए (Apricot benefits for skin)                     

  • खूबानी को त्वचा के लिए भी लाभकारी माना गया है क्योंकि इसमें विटामिन ए होने की वजह से ये त्वचा की कोशिकाओ को नवनीकृत करने में सहायक होता है.
  • खूबानी के सूखे फल से जो तेल निकलता है वो त्वचा रोग जैसे की एग्जिमा, त्वचा का रूखापन इत्यादि से बचाव करता है. इसके पचानकारी प्रभाव की वजह से त्वचा पर निकलने वाली एकने की समस्यां भी नहीं होती है. पानी इसमें भरपूर रहने की वजह से गर्मियों के दिनों में इनके सेवन से त्वचा पर ताजगी बनी रहती है.
  • सनबर्न जो धूप की वजह से त्वचा पर हल्के काले धब्बें आ जाते है उससे बचाव करता है. इसके इस्तेमाल से त्वचा के बंद पोर्स खुल जाते है. रंगत को बढ़ाने में भी ये सहायक होते है. बहुत से सौन्दर्य उत्पाद जो बाजार में उपलब्ध है उसमें इसका इस्तेमाल किया जाता है.

बालों के लिए (Apricot benefits for hair)

  • खूबानी के इस्तेमाल से बहुत सारे लाभ बालो को भी प्राप्त होते है.
  • खूबानी फल के सूखे हुए बीज से प्राप्त तेल से सिर के पोरों पर मसाज करने से उसके बंद पोर खुल जाते है. जिससे बालों में सम्पूर्ण पोषक तत्व असानी से समाहित हो जाते है. जिससे बाल मजबूत और चमकीले होते है.
  • यह बालो को मजबूत बना कर उनके बढ़ने की रफ़्तार में भी वृद्धि करता है

खुबानी के जूस और इसके पत्ते के फ़ायदे (Apricot juice and leaves benefits)

  • संक्रमण से पीड़ित, बुखार से पीड़ित रोगी के लिए खूबानी के जूस का सेवन फायदेमंद है, क्योंकि यह शारीरिक जरुरतों के लिए सभी तरह के कैलोरीज, पानी, विटामिन की आपूर्ति कर देता है, जोकि रोग को ठीक कर सकते हैं.
  • खूबानी के पत्तों को पानी में उबाल कर पीने से पेट में मौजूद अपशिष्ट पदार्थ बहार आ जाते है. इस वजह के कब्ज से होने वाली परेशानीयों से बच सकते है.
  • इसके पत्तों को पीस कर इसका लेप अगर चेहरे पर मौजूद मुहासों, झाइयो और एग्जिमा पर लगाया जाए, तो इस परेशानी से बच सकते है.
  • पत्तियों को चबाने से मुंह की दुर्गंधो से बच सकते है.

खुबानी के बीज से लाभ (Apricot seeds benefits)

  • खूबानी के बीज में वसा मौजूद होता है इसलिए यह शरीर में तैलीय पोषक तत्वों की आपूर्ति करता है.
  • इस फल में ताजे फलों की अपेक्षा इसके सूखे हुय बीज में पोटेशियम ज्यादा मात्रा में मिलता है, इसलिए इसके बीजो को औषधि बनाने में भी इस्तेमाल किया जाता है जो लाभदायक है.
  • इसके सेवन से शरीर में उर्जा का संचार होता है.

खुबानी का सेवन (Apricot intake)

खुबानी का सेवन निम्न प्रकार से किया जा सकता है-    

  • इसको धो कर और उसके उपर के नर्म और छोटे छोटे बालो को हटाकर इसको गर्म या ठंडा करके खा सकते है.
  • इसका सेवन करने के लिए इसके बीज को निकाल दिया जाता है और इसको कई प्रकार से खाया जा सकता है.
  • ताजे दही या ताजे क्रीम में इसके टुकड़े डाल करके या इसके पल्प को निकाल कर भी खाया जा सकता है.
  • इसको आग पर पका कर भी खा सकते है. चिकेन बनाने में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है.
  • अगर चाहे तो इसे कुछ दिन के लिए रख कर भी इस्तेमाल कर सकते है.
  • जैम और जूस के रूप में भी इसका सेवन किया जा सकता है.
  • इसको बादाम हरे पत्ते इत्यादि से सजा कर सलाद के तरह भी सेवन कर सकते है. बादाम के गुण व् फ़ायदे यहाँ पढ़ें.

खुबानी फल से नुकसान (Apricot side effects)               

  • इस फल को खाने में फ़ायदे के साथ साथ नुकसान भी है. सूखे फल का सेवन मधुमेह के रोगियों के लिए नुकसानदायक हो सकता है.
  • चुकि खूबानी सूखने के बाद अपने में मौजूद पानी की मात्रा का 30% तक खो देता है. इसलिए इसके सूखे फलों को खाने से पहले पानी में डुबों के कुछ देर तक छोड़ देना चाहिए.
  • एक दिन में 4 से 5 खूबानी के फल को नहीं खाना चाहिए.
  • ब्रिटीश सरकार की फ़ूड स्टैंडर एजेंसी के अनुसार खूबानी के बीज में एक ऐसा पदार्थ पाया गया है, जोकि नुकसानदायक हो सकता है.

अन्य पढ़ें –

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

One comment

  1. बहुत ही उम्दा लेख …. शानदार प्रस्तुति …. Thanks for sharing this!! 🙂 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *