Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

अप्रैल फूल दिवस इतिहास, शायरी, जोक्स | April Fool Day History Facts, Shayari, Jokes Quotes In Hindi

अप्रैल फूल दिवस इतिहास तथ्य, शायरी जोक्स, मजाक उद्धरण किताबें.(अप्रैल फूल कैसे बनाए) (ऑनलाइन आइडियाज,वाट्सएप,फेसबुक) (April Fool’s Day History Facts Prank Shayari, Jokes Quotes Books in hindi (HOW to make April Fool) [Online Ideas Whatsapp Facebook]

पूरी दुनिया के लोग इस दिन को मनाते हैं, जिसका कोई भी उपयुक्त कारण नहीं है. कुछ देशों में इस दिन अवकाश भी होता हैं जबकि अन्य देशों के लिए  यह कैलेंडर की एक सामान्य दिनांक हैं. यह दिन है अप्रैल फूल का दिन. इसे मुर्ख दिवस के नाम से भी जाना जाता हैं. पूरी दुनिया में इस दिन लोगों को किसी का मजाक बनाने की छूट होती हैं. ये प्रेंक्स और मजाक किसी को भी हानि पहुचाने वाले नहीं होते. इस तरह के मजाक का शिकार बनने वाले अप्रैल फूल कहलाते हैं. वे पूरे मामले में चुटकी भर नमक डाल देते हैं जिससे प्रैंक करने वाले और अन्य लोगों के चेहरे पर मुस्कान आ जाती हैं. व इन प्रसिद्द पंक्तियाँ कहते हैं “अप्रैल फूल बनाया,तो तुमको गुस्सा आया, इसमें मेरा क्या कसूर, ज़माने का कसूर, जिसने दस्तूर बनाया, अप्रैल फूल बनाया ”. अप्रैल फूल एक वार्षिक उत्सव हैं जिसे 1 अप्रैल को मनाया जाता हैं. 

अप्रैल फूल दिवस की उत्पति (April Fool’s day Origin)

हालांकि इसकी उत्पति के आस पास बहुत सी कहानियां घुमती हैं, लेकिन अभी तक इस बारे में सही जानकारी नहीं हैं कि यह त्यौहार पहली बार कब मनाया गया था,या इसका क्या कारण था. कुछ का कहना हैं कि इसका सम्बंध फ्रेंच कैलेंडर में होने वाले परिवर्तन से हैं,जबकि अन्य का मानना हैं कि इसका इंग्लैंड के राजा रिचर्ड द्वितीय की बोहेमिया के ऐनी से सगाई से सम्बंध हैं. फिर भी कुछ का मत हैं कि इसका सम्बन्ध हिलारिया से है.ये सभी मत दर्शाते हैं कि इस दिन के बारे में कोई ठोस पारम्परिक सबूत नहीं हैं.

 अप्रैल फूल दिवस का इतिहास (April fool’s day History)

फ्रेंच कैलेंडर में परिवर्तन – फ्रांस में लोग ग्रेगोरियन कैलेंडर से पहले जूलियन कैलेंडर का अनुसरण करते थे,फ़्रांस के शासकों और चर्च ने इसे 1582 में बंद किया था. पुराने कैलेंडर के अनुसार 1 अप्रैल को नया साल मानते थे,नए कैलेंडर से ये तारीख 1 जनवरी हो गई. लेकिन जो इस परिवर्तन के प्रति सजग नहीं थे उन्होंने 1 अप्रैल को ही नया साल मनाना ज़ारी रखा,उन्हें मुर्ख समझा गया. अन्य लोगो ने उनका मजाक बनाया और उनकी पीठ पर पेपर फिश लगा दी.

प्रकृति के सौन्दर्य को उत्सव के रूप में मनाना– सामान्यत: “बसंत विषुव” को सर्दी की समाप्ति और बसंत ऋतू का आगमन माना जाता है. यह समय रंग-बिरंगे फूलों के खिलने का मौसम था. इस कारण कुछ संस्कृतियों में लोगों ने इसे परिवर्तन के रूप में चिन्हित किया और प्राकृतिक सौन्दर्य का उत्सव मनाने लगे.

हिलारिया त्यौहार से सम्बंध– प्राचीन काल में रोम में रहने वाले लोग अत्तिस देवता की पूजा करते थे. इस समारोह के दौरान जिसे हिलारिया कहा जाता था,लोग अजीब पहनावा रखते थे और उत्सव में मास्क पहनना आवश्यक था. इस कारण लोग स्वांग रच सकते थे. इस कारण इतिहासकारों और विद्वानों ने अप्रैल फूल की उत्पति को इस उत्सव  से जोड़ना शुरू कर दिया.

कैंटरबरी टेल्स के अनुसार– कैंटरबरी टेल्स 1508 में प्रकाशित हुआ था,जिसने अप्रैल फूल डे के आईडिया को प्रसिद्धि दिलाई. एक थ्योरी के अनुसार यह दिन प्रिंटिंग में आने वाली त्रुटी के कारण अस्तित्व में आया था. अन्य थ्योरी जो इस टेल्स में दी गई हैं. उस चौंटेक्लीर पर प्रकाश डालती हैं जो की घमंडी मुर्गा था जिसे लोमड़ी ने आसानी से मुर्ख बना दिया था,

फिश ऑफ़ अप्रैल इन फ्रांस एलॉयडी’अमेर्वेल फ्रांस के कवि थे, 1508 में अप्रैल फूल का आईडिया प्रसिद्द हुआ. यह “पोइस्सोन डी’अवरिल” कहलाया और इसे फिश ऑफ़ अप्रैल के रूप में अनुवादित किया गया. अप्रैल के पहले दिन बडे ऑफिसों में अपने मुर्ख नौकर को कोई गैर-जरुरी काम करने को भेजा जाता हैं.

नीदरलैंड में इतिहास-1570 के दौरान नीदरलैंड पर ड्यूक अल्वारेज़ डे टोलेडो का शासन था. वह स्पेनिश मूल के थे और 1572 में होने वाले भयंकर युद्ध में थे,जिसमे राजा हार गए. इस कारण ये कहा जाता हैं की इस क्षेत्र में कि 1 अप्रैल को अल्वारेज़ ने अपन चश्मे खो दिए थे.

april fool history shayari jokes In Hindi

दिन के लिए आईडिया (Ideas for the Day in hindi)

सहकर्मियों के लिए खाली गिफ्ट बॉक्स– एक खाली डिब्बे को अच्छे से रैप कर दे,और इसे सहकर्मी के आने से पहले उसकी टेबल पर रख दे. व्यक्ति बॉक्स को देखकर खुश हो जाएगा, और जब आप अप्रैल फूल चिल्लाएंगे तो वो फूल बन जाएगा.

अपने पार्टनर के मोजों को आधा सिल दे आप अपने पति या पत्नी के मोजों को बीच में से सिल सकते हैं.वो कितनी भी कोशिश करे,वो इसे पहन नहीं सकेंगे.

अपने पडोसी के प्लाट को सेल पर रख दे इसके लिए आपको सूर्योदय से पहले उठाना होगा और एक फेक “ फॉर सेल” की तख्ती बनानी होगी इस,पडोसी के प्लाट पर लटका दे. यदि कोई खरीददार आते हैं तो ये प्रैंक के अनुभव को और अच्छा कर देंगे.

बच्चो के सिरेल नाश्ते को फ्रिज कर दे एक अन्य हानि-रहित प्रैंक ये हो की सुबह के सिरेल को फ्रिज में जमा दे. दूध जम जाएगा,जब आपका बच्चा इसमें चम्मच डालेगा तब स्तब्ध हो जाएगा.

जेल ओ जूस को परोसे– अपने दोस्तों को घर बुलाये और फिर उन्हें ग्लास में जूस डाले.ग्लास में जूस नहीं केवल जेल ओ होगा.

अप्रैल फूल दिवस पर किताबे ( Books on April’s fool day)

अप्रैल फूल और अप्रैल फिश: टूवार्डस अ थ्योरी ऑफ़ रिचुअल प्रैंक्स- यह किताब प्रसिद्द लेखक अलन ड्यूडेंस ने 1988 में लिखी थी. इस किताब में लेखक ने इस दिन की उत्पति से सम्बन्धित पर प्रकाश डालने की कोशिश की हैं. उन्होंने बहुत से मतों से इस मुद्दे को गहराई से समझाया हैं

अप्रैल फूल डे– ब्र्यस कोर्टने ने यह नावेल लिखा था,और यह 1993 में प्रकाशित हुआ था. यह नावेल उनके पुत्र डेमोन कोर्टने के जीवन पर आधारीत था. वह प्राण-घातक बिमारी हेमोफिलिया से ग्रस्त था. रक्त चढाने एक दौरान उसे एचआईवी पॉजिटिव रक्त चढ़ा दिया गया. इस कारण उसकी 1 अप्रैल 1991 को मृत्यु हो गई. शुरुवात में डेमोन ने अपनी भावनायेँ लिखने का प्रयास किया लेकिन जब वह एसा नहीं कर सके तो उसने अपने बेटे को किये गये वादे (उसकी जगह किताब लिखना) के कारण किताब लिखने का फैसला किया, नावेल में लेखक ने डेमोन के चरित्र,प्यार और दोस्ती के बारे में उसके विचार और एचआईवी का उपचार कैसे करे इसके बारे में लिखने का फैसला किया.

दी गार्जियन बुक ऑफ़ अप्रैल फूल डेयह किताब मार्टिन वैनराइट द्वारा लिखी गई थी और 2007 में प्रकाशित हुई थी. इस किताब में पाठक विगत वर्षों में  हुए घटना क्रमों के बारे में बताया हैं,और कैसे मीडिया इसे फैला रहा हैं,ये भी बताया हैं. इसके अलावा इससे प्रसिद्ध प्रेंक्स,जोक्स और ट्रिक्स की जानकारी भी हासिल की जा सकती हैं.

पता नहीं क्या कारण हैं,लेकिन साल-दर साल इस दिन की ख्याति फैलती जा रही हैं. हालांकि ये अभी तक किसी भी देश में आधिकारिक अवकाश के रूप में घोषित नहीं हुआ है,लोग अपने दोस्तों,परिवार के साथ  कुछ मासूम प्रैंक्स करने के लिए समय निकाल ही लेते हैं,और दिन का आनन्द लेते हैं.

अप्रैल फूल डे उद्धरण (April Fool’s day Quotes)

  1. यदि आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ प्रगाढ़ सम्बंध बनाना चाहते हैं तो ये सबसे अच्छा तरीका हैं कि उनके साथ हानि-रहित जोक्स शेयर करे.
  2. एक छोटा सा मजाक कभी कोई क्षति नहीं करता,बल्कि यह सबके चेहरे पर मुस्कान लाकर मानसिक दूरियों को कम कर सकता हैं.
  3. लोगों के साथ पुराने घावो को भरने और प्रैंक करने के लिए के लिए अप्रैल फूल का दिन सबसे अच्छा दिन हैं जिससे दोस्ती का हाथ भी बढाया जा सकता हैं.
  4. यदि आप सोचते हैं कि आप अन्य से होशियार हैं तो प्रैंक करने वालो से अपनी इज्जत बचाने के लिए आवश्यक एहतियात बरते.
  5. इंसानों को एक दुसरे पर विश्वास करने की जरुरत हैं.लेकिन किसी को अप्रैल फूल डे के दिन किसी पर भी विशवास नहीं करना चाहिए,आपका सबसे करीबी मित्र भी आपको फूल बना सकता हैं
  6. एक यूनिक प्रैंक बनाये जो की सीरियस दिन को मजाकिया और दिलचस्प बना देगा.
  7. यदि आपके पास किसी का मजाक बनाने की शक्ति हैं,तब तुम्हे किसी और के प्रैंक करने पर खिलाड़ी के समान भूमिका निभानी चाहिए
  8. अप्रैल फूल के दिन सीरियस बात करना कम करना चाहिए, लोग आपका विशवास नहीं करेंगे और इसे प्रैंक समझेंगे.
  9. आपको अपने स्नेही-जानो से प्रैंक करने के लिए 1 अप्रैल का इंतज़ार करने की जरूरत नहीं हैं.आपको सिर्फ इतना चाहिए कि आपके पास ऐसा प्लान हो जो उन्हें मुर्ख बना सके जिससे उनके चेहरे पर मुस्कान आ जाए.
  10. यदि आपको प्रैंक करना आता हैं तो कोई भी दिन अप्रैल फूल डे ही हैं.

अप्रैल फूल डे / मुर्खता दिवस  शायरी  जोक्स  (April Fool Day SMS Jokes Shayari)

आज मुझे एश्वर्या राय का ख़त मिला
लिखा था मुझे हीरो के लिए चुना गया
यारो मेरी तो लॉटरी निकल पड़ी
मेने पहली मुंबई की ट्रेन पकड़ी
गया मैं फिलम हाउस
वहाँ बैठा था एक माउस
उसे मैंने कथा सुनाई
उसने जोरो से आवाज लगाई
भाई रे भाई बकरा फस गया
और मुझे बिगेस्ट अप्रैल फूल का ख़िताब दिया गया   

___________________________
दिल में दर्द
दर्द में यादें
यादों में बिता कल
जो पुकारे तुझे हर पल
वो कमसिन सी कली तू
वो खिलखिलाती फुलजड़ी तू
जब भी ख्वाब में आती हैं
माँ कसम चुड़ेल भी सुंदर लगने लगती हैं  😀 

april fool day sms jokes in hindi 2 

जब तूफान में बादल फटा तो मुझे कुछ याद आया
जब मंदिर का घंटा बजा तो मुझे कुछ याद आया
अरे यूँ दिमाग पर ज़ोर ना लगाओ दोस्तों
अप्रैल फूल की याद में सबसे पहले तेरा नाम याद आया

april fool day sms jokes in hindi

आज कल दिल्ली में नया कोहराम छाया हैं
दिल्ली की सरकार आप के नाम पैगाम आया हैं
यूँ इस कदर बेवकूफ ना बनाओ दोस्तों
कह दो अभी भी वक्त हैं वरना अप्रैल फूल फिर लौट कर आया हैं

april fool day sms jokes in hindi 3

जगह जगह यही शौर हैं
“आप” को जिसने वोट दिया
वो IIN का ढोर हैं
बुरा ना मानो लोगो
अब तो महामूर्ख का ही दौर हैं

april fool day sms jokes in hindi

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

One comment

  1. Please keep going these posts, they help tons.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *