ताज़ा खबर

मुफ्त में मोबाइल मिलेगा अब भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के अंतर्गत

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना राजस्थान, मुफ्त मोबाइल  (Bhamashah Digital Parivar Yojana Rajasthan in Hindi, Free Mobile Phone, Application Form, Check beneficiary list)

गरीब परिवारों के लिए शुरू की गई योजनाओं का लाभ उन तक पहुँचाने के लिए राजस्थान सरकार ने भामाशाह योजना की शुरुआत की थी. इसके माध्यम से लाभार्थियों को दी जाने वाली राशि का लाभ उन्हें सीधे बैंक खाते में प्राप्त होता है. इसके चलते हालही में एक और योजना राज्य के गरीब परिवारों के लिए शुरू की गई है. इसमें उन्हें राजस्थान सरकार द्वारा मोबाइल फोन एवं इंटरनेट के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी. यह राजस्थान सरकार का प्रधानमंत्री डिजिटल प्रोग्राम के लिए दिया गया एक योगदान है.

Bhamashah Digital Parivar Yojana

लांच की जानकारी (Launch Details)

1. योजना का नाम भामाशाह डिजिटल परिवार योजना राजस्थान
2. योजना का लांच 4 सितंबर
3. योजना की शुरुआत मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा
4. योजना की घोषणा जयपुर में अमरूदों का बाग में आयोजित मुख्यमंत्री – लाभार्थी – जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान
5. योजना के लाभार्थी राज्य के गरीब परिवार

विशेषताएं (Features)

  • लाभार्थियों को दी जाने वाली वित्तीय सहायता :- इस योजना के सभी लाभार्थियों को दी जाने वाली वित्तीय सहायता 1000 रूपये हैं, जोकि मोबाइल फोन और इंटरनेट कनेक्टिविटी के लिए उपयोग किये जाएंगे.
  • भामाशाह डिजिटल परिवार योजना कैंप :- इस योजना में कैंप का भी आयोजन किया जायेगा, जोकि राज्य के जिला शासन प्रबंधक द्वारा आयोजित होंगे. इस कैंप में कई मोबाइल फोन बनाने वाली एवं बेचने वाली टेलिकॉम कंपनियां हिस्सा लेंगी और अपने स्मार्ट फोन एवं इंटरनेट के पैकेज बेचेंगी. यहाँ से लाभार्थी फोन खरीद सकेंगे. हालाँकि लाभार्थी फोन कहीं और से भी खरीद सकते हैं.

किस्तें :- इस योजना में वित्तीय सहायता 2 किस्तों में प्रदान की जायेगी. जोकि इस प्रकार है –

  1. पहली क़िस्त :- इस योजना में दी जाने वाली पहली क़िस्त 500 रूपये की होगी. यह परिवार की उस महिला को प्रदान की जाएगी, जोकि भामाशाह के तहत परिवार की मुखिया हो. इस राशि से स्मार्ट फोन खरीदने में मदद मिलेगी. और यह राशि लाभार्थी के बैंक खाते में जमा की जाएगी.
  2. दूसरी क़िस्त :- योजना की दूसरी क़िस्त के लिए, लाभार्थी को अपना स्मार्ट फोन खरीदने के बाद उसमें राज्य सरकार के ई – मित्र, भामाशाह वॉलेट, राजस्थान संपर्क, राज मेल आदि में से कोई भी एक एप डाउनलोड करना होगा. ये सभी एप स्मार्ट फोन के रजिस्ट्रेशन की विशेषता है. एक बार उनका स्मार्ट फोन रजिस्टर्ड हो जाये, उसके बाद दूसरी क़िस्त के पैसे भी उनके खाते में जमा हो जायेंगे.

नोट :- रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर परिवार के किसी एक सदस्य के नाम से होना चाहिए.

पात्रता एवं आवश्यक दस्तावेज (Eligibility Criteria and Required Documents)

  • आवासीय योग्यता :- यह योजना राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपने राज्य के गरीब परिवारों के लिए शुरू की है, इसलिए इसका लाभ केवल राजस्थान निवासियों को ही प्राप्त होगा. इसके लिए उन्हें अपनी आवासीय योग्यता के लिए प्रमाण पत्र जमा करना होगा.
  • भामाशाह कार्ड धारक :- इस योजना में दिए जाने वाले पैसे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत राशन का लाभ उठाने वाले यानि भामाशाह योजना से जुड़े परिवारों को प्रदान किये जायेंगे. इसमें लाभार्थी के पास उनका भामाशाह परिवार कार्ड होना आवश्यक है.
  • बैंक खाते :- इस योजना में दी जाने वाली राशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में जमा की जानी है. यह लाभार्थी के उस खाते में जमा की जाएगी, जोकि भामाशाह से लिंक किया हुआ हो. इसके लिए उन्हें बैंक खाते की जानकारी प्रदान करने की आवश्यकता होगी.
  • NFSA  कार्ड धारक – NFSA लिस्ट में अगर आपका नाम है मतलब अगर आपको 2 रूपए किलो गेंहूं मिलता है तो आपके खाते में इस योजना के अंतर्गत 1000 आएंगें।

प्रतिभागियों को मोबाईल मिलेगा या नहीं? (Whether applicant will get the mobile or not?)

  • यदि किसी व्यक्ति के पास पहले से एंड्राइड का सेट और उसमे इंटरनेट का कनेक्शन हैं तो उन्हें इस प्रोजेक्ट के लिए एप्लाई करने की जरूरत नहीं हैं.
  • व्यक्ति को कोई भी मोबाइल शॉप और कैंप चुनने का अधिकार हैं,जहाँ से वो मोबाइल फ़ोन ले सकते हैं,लेकिन सभी अभ्यर्थियों को ये सुनिश्चित करना होगा कि उनके नाम इन स्टोर्स या कैंप में उनके नाम रजिस्टर्ड हो. यदि सही तरीके से रजिस्ट्रेशन नहीं हो रखा होगा तो उन्हें सरकार की तरफ से मिलने वाले 1000 रूपये का लाभ नहीं मिलेगा.
  • ऐसा कोई नियम नहीं हैं कि अभ्यर्थी के पास जिओ का कनेक्शन ही हो, ग्राहक अपनी इच्छा से कोई भी कनेक्शन चुन सकते हैं. वास्तव में जिओ के इंटरनेट का प्रदर्शन हर जगह अच्छा नही होता, इसलिए यदि आप किसी ऐसे स्थान पर रहते हैं जहां पर जिओ का कनेक्शन वीक हैं तो आप कोई और सर्विस प्रोवाइडर चुन सकते हैं. इससे आपको आर्थिक सहायता मिलने में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाएँगी.

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के तहत नाम कैसे चेक करें ? (How to Check Name Under Bhamashah Digital Parivar Yojana)

  • सभी लोग इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए सक्षम नहीं होंगे. इस योजना के इच्छुक उम्मीदवार यह जाँच सकते हैं कि उनका नाम एनएफएसए (NFSA) में है या नहीं. इससे यह सुनिश्चित होगा कि उनके बैंक खाते में पैसे आयेंगें या नहीं.
  • उम्मीदवार इस योजना की अधिकारिक वेबसाइट में लॉगिंग करके यह जाँच सकते हैं.
  • इसके लिए, उन्हें गूगल सर्च टैब में ‘Foodraj’ टाइप करना होगा. जैसे ही वे इंटर बटन पर क्लिक करेंगे, उनकी स्क्रीन पर राजस्थान के खाद्य विभाग के लिए अधिकारिक लिंक आयेगी.
  • फिर सभी इच्छुक उम्मीदवारों को उस लिंक पर क्लिक करना होगा, इससे वे राजस्थान खाद्य विभाग की अधिकारिक वेबसाइट पर पहुँच जायेंगे. Direct link – http://food.raj.nic.in/
  • जैसे ही इस वेबसाइट का होम पेज खुलेगा, वे अपनी स्क्रीन के दाई ओर कई विकल्प देख सकते हैं.
  • इन विकल्पों में से एक ‘खाद्य सुरक्षा योजना एनएफएसए रिपोर्ट’ होगा और इस विकल्प के साथ एक छोटा सा एरो भी होगा. उम्मीदवारों को उस एरो पर क्लिक करना होगा.
  • इसके बाद इसके अंदर भी कुछ विकल्प होंगे. यदि उम्मीदवार अपना नाम एनएफएसए सूची (NFSA list) के तहत देखना चाहता है, तो उसे इन विकल्पों में से तीसरे नंबर का विकल्प चुनना होगा जिसमें ‘रिपोर्ट ऑफ एनएफएसए एंड नॉन एनएफएसए बेनेफीसिअरी’ लिखा हुआ होगा.
  • इसके बाद उनकी स्क्रीन पर एक और पेज खुलेगा. यहाँ उम्मीदवारों को अपने सम्बंधित जिले, गाँव पंचायत समिति और क्षेत्र का चुनाव करना होगा.
  • फिर यह सरकार द्वारा चलाई जा रही उन सभी दुकानों को हाईलाइट करने के लिए साईट को ट्रिगर करेगा, जो बीपीएल परिवारों को गेंहू बेचते हैं.
  • उम्मीदवारों को उस दूकान के नाम पर क्लिक करना होगा जहाँ से वे राशन खरीदते हैं.
  • इसके बाद उनकी स्क्रीन पर एनएफएसए और गैर एनएफएसए दोनों ही लाभार्थियों के नाम और पते की सूची खुल जाएगी.
  • उम्मीदवार इस सूची में अपना नाम एवं पता चेक कर सकते हैं. यदि इस सूची में उम्मीदवार का नाम और उसकी जानकारी नहीं दी गई है, तो वह भामाशाह डिजिटल परिवार योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर सकेगा.

पहली इन्सटॉलमेंट कैसे प्राप्त करें? (How to claim the first installment?)

  1. इस योजना के अंतर्गत पहली इंस्टॉलमेंट में 500 रूपये देना राजस्थान सरकार की ये जिम्मेदारी हैं, इस राशि को प्राप्त करने के लिए योग्य परिवारों को कोई भी एप्लीकेशन नहीं भरना होगा.
  2. परिवार की मुख्य महिला जिसके पास भामाशाह कार्ड हो उसके अकाउंट में कैश राशि डिपोजिट करवा दी जाएगी,इसके लिए ये आवश्यक हैं कि बैंक अकाउंट कार्ड के साथ लिंक हो.
  3. यदि लाभार्थी किसी अन्य बैंक अकाउंट में फंड प्राप्त करना चाहता हैं तो उस अकाउंट का भामाशाह कार्ड के साथ लिंक होना जरुरी हैं. व्यक्ति के पास ये कार्ड ना होने की स्थिति में उन्हें आर्थिक सहायता मिलने की संभावना भी कम हो जाएगी.
  4. यदि कोई व्यक्ति अपना बैंक अकाउंट भामाशाह कार्ड के साथ लिंक करवाना चाहता हैं तो वो भामाशाह एप्लीकेशन से ऐसा कर सकता हैं.
  5. यह प्रक्रिया भामाशाह डिजिटल परिवार योजना कैंप में भी पूरी की जा सकती हैं. राज्य सरकार ऐसे कैंप ग्रामीण क्षेत्रों में भी लगाएगी,जहां पर अभ्यर्थी अपने अकाउंट लिंक करवा सकते हैं और अन्य जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं.
  6. लोग इन कैंप से अपना स्मार्ट मोबाइल फ़ोन भी खरीद सकते हैं और इंटरनेट कनेक्शन भी प्राप्त कर सकते हैं.

दूसरी इन्सटॉलमेंट कैसे प्राप्त करे? (How to claim the second installment?)

  • राज्य सरकार द्वारा कुछ एप्लीकेशन जैसे भामाशाह वॉलेट, ई-मित्र एप्लीकेशन,राज मेल और राजस्थान सम्पर्क लांच की गयी हैं.
  • लाभार्थी को दूसरी इन्सटॉलमेंट प्राप्त करने के लिए अपने फ़ोन में इन सभी एप्लीकेशन में से कोई एक डाउनलोड करनी होगी.
  • इन एप्लीकेशन की सहायता से लाभार्थी अपने नये फ़ोन नम्बर रजिस्टर करवा सकेंगे.
  • जैसे ही अभ्यर्थी इन एप्लीकेशन की सहायता से अपना नया फ़ोन नंबर रजिस्टर करवाएंगे तो उनके रजिस्टर्ड बैंक अकाउंट में दूसरी इन्सटॉलमेंट ट्रांसफर हो जाएगी.
  • दूसरी इन्सटॉलमेंट भी 500 रूपये की होगी, लाभार्थी को अपने परिवार के किसी सदस्य का मोबाइल नंबर रजिस्टर करवाना होगा.
  • यदि मोबाइल नंबर किसी और के नाम से रजिस्टर हैं तो इन्सटॉलमेंट बैंक अकाउंट में ट्रांसफर नही होगी. इस योजना के क्रियान्वयन से डिजिटल जागरूकता आएगी और इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन में भी तेजी आएगी.

इस परिवार योजना के तहत प्रदान किये गये मोबाइल फोन के माध्यम से लाभार्थी सभी विभिन्न सरकारी योजनाओं से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने में सक्षम होंगे. इससे उन्हें होने वाली परेशानियों को कम करने में थोड़ी मदद मिलेगी. और यह राज्य के लोगों को डिजिटल तकनीक की ओर अग्रसर करने के लिए उठाया गया एक कदम है.

Other Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *