ताज़ा खबर

भूमि अधिग्रहण बिल (Bhumi Zamin Adhigrahan) /Land Acquisition Bill

वर्तमान सरकार ने अपने दुसरे बड़े बिल भूमि अधिग्रहण बिल (Bhoomi /bhumi/ zamin Adhigrahan Bill 2015 )को राष्ट्रपति से विचार विमर्श करने के बाद पारित किया जो कि 1894 से चले आ रहे भूमि अधिग्रहण बिल का एक संशोधित रूप हैं |

Bhoomi  bhumi zamin Adhigrahan Bill 2015

पुराने 1894 “भूमि अधिग्रहण बिल” के अनुसार 1894 Bhoomi Bhumi Zamin Adhigrahan Bill/ Land Acquisition Bill In Hindi

“सरकार किसी भी जमीन पर अपना हक़ जता कर उसे भूमि मालिक से छीन लेती थी |इस जमीन को देश के विकास कार्यों में उपयोग किया जायेगा और इस विकास में भू मालिक हस्तक्षेप नहीं कर सकता |”

पिछले वर्ष 2013 मे “भूमि अधिग्रहण बिल” Zamin /Bhoomi Adhigrahan 2013 / land acquisition Bill 2013 In Hindi का नवीनीकरण किया गया जिसमे सुनिश्चित किया गया कि

  • भू मालिक अथवा किसानो की अनुमति के बिना उनकी भूमि पर कब्ज़ा नहीं किया जायेगा |
  • भूमि को भू मालिक अथवा किसान से ख़रीदा जायेगा जिसकी कीमत गाँव की जमीन के लिए वर्तमान कीमत से चार गुना एवम शहरी जमीन के लिए वर्तमान कीमत से दो गुना अदा की जाएगी |

परतुं सरकार के बदलने के बाद 2014 मोदी सरकार ने भूमि अधिग्रहण बिल को संशोधित किया हैं

वर्ष 2013 एवम 2015 के भूमि अधिग्रहण बिल में क्या हैं अंतर Difference Between Bhoomi Adhigrahan land acquisition 2013 1nd 2015 Bill In Hindi

SN Zamin Adhigrahan Bill 2013 Zamin Adhigrahan Bill 2015
1 अधिग्रहण से पहले सामाजिक आंकलन किया जायेगा कि इसका समाज पर क्या प्रभाव होगा वर्तमान अध्यादेश के अनुसार, राष्ट्रिय सुरक्षा, ग्रामीण विकास, उद्योगिकीकरण के लिए आंकलन जरुरी नहीं हैं |
2 व्यक्तिगत प्रोजेक्ट के लिए 80% एवम PPP के लिए 70 % लोगो की स्वीकृति अनिवार्य हैं सुरक्षा, विकास, उद्योगिकीकरण के लिए स्वीकृति अनिवार्य नहीं हैं |
3 बहुत आवश्यक होगा तब ही उपजाऊ जमीन का अधिग्रहण किया जायेगा | सुरक्षा, ग्रामीण विकास,रक्षा के लिए उपजाऊ जमीन का अधिग्रहण किया जा सकता हैं |
4 ग्रामीण जमीन के लिए चार गुना एवम शहरी जमीन के लिए दो गुना मुआवजा दिया जायेगा इसमें कोई संशोधन नहीं हैं यह इसी तरह से तय किया गया हैं |
5 अगर किन्ही कारण से पांच वर्षो में जमीन पर तय किया गया कार्य नहीं होता हैं तो जमीन को वापस कर दिया जायेगा | वर्तमान सरकार द्वारा प्रोजेक्ट शुरू करने के लिए समय सीमा का कोई बंधन नहीं हैं
6 नियमों की अव्हेलना करने वाले अधिकारियों पर उचित कार्यवाही की जाएगी | बिना अनुमति किसी भी अधिकारी पर कोई केस नहीं किया जायेगा |

2014 का भूमि अधिग्रहण बिल 2013 से एक पॉइंट को छोड़ कर सभी में भिन्न हैं और इस भूमि अधिग्रहण बिल को लेकर जनता आक्रोशित हैं जिसके लिए सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने दो दिन का अनशन तय किया हैं यह अनशन जंतर मंतर पर किया जायेगा |

फिलहाल उपरोक्त 6 नियम पढ़ने के बाद यह सोचना की यह किसानो के हित मे लिया गया फैसला हैं यह सोचना ही गलत लग रहा हैं |

भूमि अधिग्रहण बिल  2015 के नुकसान Losses Of Bhoomi (Bhumi) Adhigrahan/ land acquisition Bill 2014 In Hindi:

  • भूमि अधिग्रहण बिल 2014 के बिल के अनुसार सीधे सीधे मुआवजा देकर किसानो को जमीन से अलग कर देने की बात हैं उसे किसी भी तरह से आपत्ति जताने की अनुमति नहीं हैं |
  • यहाँ तक कि अधिकारियों के गलत रवैये के लिए उन पर केस भी नहीं किया जा सकता |
  • जमीन पर कार्य शुरू होगा या नहीं होगा कब तक होगा इस तरह से सरकार ने खुद को किसी नियम में नहीं बाँधा हैं |
  • जमीन पर सरकार की तरफ से उद्योगपति कार्य करेंगे जिससे सीधे- सीधे जाहिर होता हैं कि यह भूमि अधिग्रहण बिल 2014 अध्यादेश किसानों के हक़ में नहीं अपितु उद्योगपति के हक़ में होगा |
  • ना ना कह कर सरकार भू पतियों से सारे हक़ छीन रही हैं और अंग्रेजी हुकूमत की तरह रवैया अपना रही हैं |
  • भूमि अधिग्रहण बिल 2014 ने पूरी तरह से लोकतंत्र की परिभाषा को बदल दिया है |
  • भूमि अधिग्रहण बिल में संशोधन की आवश्यक्ता ही नहीं थी भूमि अधिग्रहण बिल 2013 हर हाल में भूमि अधिग्रहण बिल 2014 से बेहतर स्थिती मे था |

यह सभी बाते अन्ना हजारे द्वारा सरकार के विरोध में और जनता के हक़ में कही गई हैं जिसके लिए देशवासी उनके साथ हैं |

परन्तु देशवासी इस भूमि अधिग्रहण बिल से अनिभिज्ञ हैं इसे केवल वही जानता हैं जो इस भूमि अधिग्रहण से प्रभावित हैं ऐसे में कितने लोग अन्ना का साथ देते हैं यह विचारणीय हैं |

जंतरमंतर पर दिल्ली मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने अन्ना हजारे का पूरा साथ देने कहा हैं वैसे तो दिल्ली की भूमि पूरी तरह दिल्ली सरकार के हक़ में नहीं आती परन्तु केजरीवाल ने जनता को आश्वस्त किया हैं कि वो केंद्र का विरोध करेगी |

भूमि जमीन अधिग्रहण बिल का बुरा असर

किसानो के दिल और दिमाग पर भूमि अधिग्रहण बिल 2015 का बहुत बुरा असर पड़ा हैं अभी तक किसान मौसम की चपेट में था लेकिन अब वो सरकार के इस बिल के कारण हतोत्साहित महसूस कर रहा हैं |

किसान गजेन्द्र सिंह ने की आत्महत्या

जमीन बिल के खिलाफ सभी विरोधी पार्टियाँ रेलियाँ एवम भाषणबाजी कर रही हैं उसी प्रकार “आप” पार्टी की रैली में किसान गजेन्द्रसिंह ने फाँसी लगा कर आत्महत्या कर ली |

22 अप्रैल के दिन आप के सभी नेता और खुद मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल रैली को संबोधित कर रहे थे तभी एक किसान जिसका नाम गजेन्द्रसिंह था वह पेड़ पर चढ़ गया | कई नेताओ के उसे उतरने को भी कहा लेकिन वह नहीं माना थोड़ी देर बाद जब ध्यान गया तो वह फांसी लगाकर मर चूका था | जिसके बाद अन्य पार्टियों ने आप का विरोध किया केजरीवाल को ज़िम्मेदार कहा गया | मृतक का एक पत्र मिला जिसमे उसने आर्थिक परेशानी का जिक्र किया लेकिन मरने के इरादे कि कोई बात नहीं की गई|

इस तरह से कई किसान जमीन बिल को लेकर सरकार से नाराज हैं सरकार उनके हित में काम कर रही हैं या नहीं या केवल अपनी राजनीती में लगी हैं |

Bhoomi Adhigrahan Bill/ land acquisition Bill 2014 In Hindi अगर इस आर्टिकल मे साईट अथवा लेखक से कोई गलती हुई हैं तो क्षमाप्रार्थी हैं |

Bhoomi Adhigrahan Bill/ land acquisition Bill 2014 In Hindi इस विषय में जनता की क्या राय हैं लिखे |

अन्य पढ़े : 

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

38 comments

  1. Sir main ek kishan putravillage bangrod dist ratlam Madhya Pradesh ka rahne wala hu aap se ray Lena chat a hu ki meri bhumi Indian oil corporation company 1992 main adhikaran kar like gai thi jismain mere 25 kisano ke parivar aaj dar dar bhatak rahe aur unke roji roti uplabdh nahi ho pa rahi hai company humain muvavja 12000 hajar rupye 01 bige ke de rahe hai jiska aaj dinak tak humain kisi ne muvavja rashi nahi li hai aaj 24 saal se hamara cash high court main chal raha hai jiski sunvai aaj dinak tak nahi ho pai hai ab hamari halat aisi nahi ki hum cash ke paise de sake aap sabhi vinti hai 1992 ke samay kahi par kishno uchit muvavja rashi mili uski koi pratilipi ho to pls is no contect kare 09977886638 jise ki main in kishno ke liye ladai lad saku pls help me..

  2. मनोज कुमार गुप्ता

    क्या करना चाहिए? कोई जवाब हो तो दो।

  3. Bhumi ke badle garib kishan ko aam garmajarua jamin uplabdh karaya jaye Jo ki najdik se najdik ho. Yadi jamin uplabdh na ho to muawja diya jaye

  4. Present m Jo rail corridor ban RHA h uske dwara jin logo ka bhumi adhigrahan ho RHA h unhe jamin ka 04 guna milna chahie?plz suggest

  5. rajkumar lawaniya

    bhumi bill me present time ke anushar muabja dena anibaya hai

  6. Bhumi. Adhigrahan bill Mai 4 guna ka. Pravdhan kis para Mai hai ????? Aur

  7. Ramniwas sharma

    Is bii me bhuswami(land owner) ko naukari milegi ya nhi

  8. sarkar dwara banaya gaya naya bhoomi adhigrahn vidheyk janta ke adhkaron ka hanan hai yah puri tarah janta se dhokha hai

  9. SHYAMSUNDAR SHAH

    सबसे गन्दा भूमि अधिग्रहण बिल २०१५ मोदीजी का है इसमें सबसे बुरी बात है की किसान की ज़मीन को अधिग्रहित किया जायेगा और किसान को हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है अधिकारीयों को मनमाना करने का पूरा हक़ दे दिया गया है मुआवजा देकर हटाने की रणनीति खुदा करे कभी पूरी न हो नहीं तो अमीरो और उद्योगपतियों का राज हो जायेगा और गरीब तो गरीब ही रह जायेगा जिसकी ज़मीन जाये यदि योग्यता है उसके पास तो नौकरी मिले नहीं तो भूमि अधिग्रहित मत करने दो चाहे कुछ भी करना पड़े

    • मनोज कुमार गुप्ता

      बिल्कुल सही है… पर गाव के गरीब लोगों के पास कोई रास्ता भी तो नही है….

    • बिबेकानंद पटेल

      रैलवे भूमि अधिग्रहण नैकरी नहीं मिली यह भूमि मालिकों के साथ बहुत बड़ा अन्य होरहा है!

  10. agar kisan ko jamin ki kimat di jati hai to us jamin ko fir kasan ko q dena chahiye.

    • Pradeep Bulbule

      1.Agar jamin upjau hai to kisan ki bhalai jamin rakhne me hi hai aur wo paisa de bhi dete hai to kisan kab tak us paise se ghar chala payega…..
      2.How can u assure that farmer will ger stated money?

  11. kya koi ye janta hai ki kisi Farmer ko agar char guna paise na mile ho, according to Land Acquisition Bill to iske liye kya kiya jaa sakta hai.
    I belong to chhindwara district in madhya pradesh. hamari Jameen Govt. ke dwara construct kiye huye water reservoir me jaa rhi hai but govt. hme sirf 2 guna rupaye hi de rhi hai jabki hmari jameen rural area ke under aati hai.

    if anybody have any suggestion then please guide me.

  12. modi sarkar ka yeh faisla sahi nahi hai and ye sarasar tanasahi hai full majority pane ki, aur agar yeh es tarah kuch bhi logo ke khilaf faisle lenge to bas ye 5 saal ke hi mehman hai.

  13. This land acquisition bill 2015,is not beneficial for farmers and mediocrity people. Because this Bill will be bounded to farmers for his own land. If the farmer is not regular enhance the production that time ultimately the prices of grains will be hike.

  14. Er .DP VishwMarma

    we r very sad and frustated to know the policy of modi sarkar regarding the land aquisitio 2015.
    it is purely injustice with saral kisan bhai.

  15. kishano ki ristha maa bete jaisa h apni zamin se.isey kewal labh aur hani k yojnao se paripurn hokar dekhna nhi h ,hume apni soch me tabdili karni hogi jissey bekar zamin upyogvme aur upjaau zamin kisano k paas krishi kary hetu bani rahe.iske liye hume n hamari political parties ko bht soch samajh k adhyadesh banake parit karwana hoga
    Ye kewal zamin kissan ka nhi bulki krashi pradan desh bharat k astitwa ka prashn h

  16. AAP and its leader don’t want to see our country as developed. They are misguiding to people.

  17. Kisi ki baat ma koi dame nahi ha ek baar moka mila aaj tak ka Manche pa to dono sarkaro ki hawa nikal sakta ha ya tarun yadav jai hind

  18. sarkar ne aakhir apni asliyat dikha hi di ki unhe kisano se nhi udyogpattiyo se hamdardi h….
    aur kisaan iska virodh bhi nhi kr skte…
    hm sbko milkar is bhumi adhigrahan bill ka virodh krna chahiye …

  19. this rule is not side to the farmer.it should be depend upon the farmer own choice than he want to soled or not his lad.To see this land bill it is clear that the present gov take side of rich and business man.

  20. m bjp ka member hu kintu is bil se shamt nahi hu ek bar phir modi g ko is bil k bare m vichar karna aavshayk h

  21. vese to jo bandar jamin hai un pe hi jada tr jada sarkar ne vikas karna
    chahiye

  22. jin kisano ki jamin ja rahi hai un kisano ke dusri taraf jamin aur ek ghr ka admi jo bi vikas hai un pe kam pr lagana chahiye.

    jin kisano ki jamin es adhigrahan mai jayengi . un kisano ko jamin ki amount 100%hogi utni dene ki aur unke ghr ka ek membar ko kam pe lagane ka

    vikas to hona chahiye desh ka

  23. यह लढाई सत्ता और संपत्ति की है।और आज के युग में बहुजन समाज तथा किसानों के पास ज्यादातर जमीन ही उपजीविका का साधन है।जिसे छीनने का पूरा बंदोबस्त भाजपा की सरकार ने किया है।इस तरह से हम हाथ में कटोरा लिए बहुत जल्द रास्ते पे आ जायेंगे। और गरीब आदमी और गरीब तथा उद्योगपति आमिर आदमी और आमिर बनता जायेगा।यह तो किसानो के विरुद्ध सोची समज़ी साजिश है।

  24. modi sarkar east india compni ki tarj par chal rahi hai

  25. is bil main bahut kuch badlav jaruri hai jisse ak kishan berojgar bhumi heen or asamajik ho jata hai is bill per pure desh ke rajyon ki vidhan sabha ka view avam samarthan jaruri hona chahiye

  26. Kisi Kisan ki jamin agar lay li jay to Kisan usi din mar jata hai 4guna rakam bhaut kam hotihai. 10guna karna chahiya .Kisan ki bina sahmati say jamin layna galat hai .sarkar ka bil Kisan virodhi bil hai

  27. Jamin k badle Kishan ko mile paise pe kabhi koi Tex nahi laganaa chahi A ye kardo bus. Aap meri baat mantraalay pahu chaado plz

  28. bjp sarkar dwara laya gaya bhumi adhigran bill chot majhle k liye jaan lewa sabit hoga is bill se aam kishan paresan ho jayga

  29. shaikh abdulkarim

    is acha upa ka bill tha jo kisan virodhi nahi tha lekin businessmen virodhi tha
    ache din aa gaye

  30. ये बिल वास्तव में किसानो के लिए अच्छा नहीं है.
    मै हमेशा से भाजपा का पक्ष लेता हूं पर मोदी जी कैसे सहमत है इस बिल से ये समझ में नही आया

    • Shabana parveen

      भारत एक क्रषि प्रधान राज्य है, जहाँ ज्यादातर लोग क्रषि पर निर्भर हैं॥ अतः हम कह सकते हैं कि किसान बाहुल्य क्षेत्र होगा।अब जब उनके पास जमीन ही नही होगी तो खेती कहाँ करेगा और जब खेती नही करेगा तो वह जीविका कैसे चला पायेगा।यही एक कारण है किसान आत्महत्या का॥
      इस बात से स्पषट है कि यह भूमि अधिकरण बिल भी उसी प्रकार गरीब वर्ग का शोषण करेगा जैसा बिर्टिश राज मे था॥
      तो बिल में कुछ और संशोधन किए जाने चाहिए जो उनके व राज्य के लिए व सामाजिक व पर्यावरणीय द्रष्टिकोण से देश के हित मे हो॥

  31. deepak yaduvanshi

    jamin ke badle jamin dila do jamin de dege jamin mil kaha rahi hai jo ret se dete hai uska 5 guna rate se jamin mil rahi hai ghanta kharide jamin or sinchit jamin hai sinchit jamin milna bhi to chahiye kisno ki kya jan loge bjp bale

  32. kisaano ke shoshan se raashtra surakshit nahi reh paayega, modi hataao

  33. We suggest this is developing government it should not be that public make the country country make the public..government should think what is wrong what is right?**

    • यह भाजपा पार्टी पहले से ही ख़राब छबि वाली पार्टी है इसको सिर्फ अमीरों उद्योगपतियों का हित ही अच्छा लगता है इस वर्ष तो ठीक आगामी चुनाव में इनको कौन वोट देगा जो पार्टी अमीरों उद्योगपतियों का सांथ देगी भारतवासी ऐसी पार्टी का कभी समर्थन नहीं करती है और नहीं कभी करेगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *